GLIBS
30-04-2020
भखारा क्षेत्र के किसानों के लिए नीलम चंद्राकर ने मांगा मुआवजा

धमतरी। बेमौसम बारिश का भखारा क्षेत्र में जमकर कहर बरपा,जिससे किसानों को नुकसान उठाना पड़ा। पूर्व जिला पंचायत सदस्य नीलम चंद्राकर ने इस समस्या की ओर प्रशासन का ध्यान दिलाते हुए मुआवजा देने की मांग की है। नीलम चंद्राकर ने बताया कि कुछ दिनों पहले क्षेत्र में हुई आकस्मिक वर्षा और ओलावृष्टि से क्षेत्र के कृषकों को भारी क्षति हुई है। किसानों के धान, चना, लाखड़ी सहित सब्जी की खेती को नुकसान हुआ है। कुरुद विधानसभा मे भखारा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम कोर्रा, इर्रा,गातापार, बोरझरा, हंचलपुर, रामपुर, कोपेडीह, गाड़ाडीह, सिलघट, जुगदेही, तरागोंदी, भेण्डरा, लोहारपथरा, चरोटा, पचपेड़ी में भी प्रकृति का यह प्रकोप भारी मात्रा में हुआ है। इससे क्षेत्र के किसानों को बड़ी मात्रा में नुकसान हुआ है। इनकी 70 से 80 प्रतिशत फसल का नुकसान हुआ है। इससे वर्तमान मे किसानों की आर्थिक स्थिति डगमगा गयी, साथ ही आगामी कृषि कार्य करने के लिए भी उनके समक्ष आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। इस आकस्मिक आपदा के कारण किसानों के बीज का भी लागत मूल्य नहीं मिल पा रहा है। वैसे भी कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉक डाऊन के कारण पहले ही किसानों एवं मजदूरों की आर्थिक स्थिति खराब हो चुकी है। ऊपर से बारिश के कहर ने किसानों की कमर तोड़ने का काम किया है, आसमानी आफत से किसान तभी उभर सकते है जब शासन से राहत मिले, इसलिए जल्द नुकसान का आकलन कर मुआवजा प्रदान किया जाना चाहिए। नीलम चंद्राकर की मांग पर कलेक्टर ने आश्वस्त किया है कि जल्द ही सर्वे कार्य कराकर रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

 

30-03-2020
लॉकडाउन के कारण फसल नहीं काट पा रहे किसान, मध्यप्रदेश के एक गांव पहुंचा हाथियों का दल, जमकर मचाई तबाही

रायपुर/बिलासपुर। छत्तीसगढ़ की सीमा लांघकर मध्यप्रदेश पहुंचे हाथियों के दल ने बीते दिन वन परिक्षेत्र पश्चिम करंजिया में जमकर तबाही मचाई। सैकड़ों किसानों के गेंहू को रौंद दिया है। हालांकि रेंज का अमला हाथियों को वापस छत्तीसगढ़ में खदेड़ने की कश्मकश में जुटा हुआ है। मामले की सूचना अचानकमार टाइगर रिजर्व को दे दी गई है। हाथियों का दल 5 दिन पहले बेलगहना वन परिक्षेत्र से घुसा है। पहले दो दिन तो वन परिक्षेत्र के जंगल में जमे रहे। अब लगातार स्थान बदल रहे हैं। स्थान बदलने के साथ थोड़े उग्र भी हो रहे हैं। शनिवार को जहां खुड़िया रेंज के झिरिया में फसल तबाह कर दिया तो वहीं रात में अचानकमार टाइगर रिजर्व लौट गए। रात में हाथियों ने रास्ता बदल दिया और छत्तीसगढ़ से बाहर मध्यप्रदेश पहुंच गए। रविवार सुबह 12 हाथियों का यह दल वन परिक्षेत्र पश्चिम करंजिया में पहुंच गया। बोईरहा गांव में जब हाथियों ने आतंक मचाना शुरू किया तब वन अमले को सूचना मिली। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण लॉकडाउन है, जिसकी वजह से किसान फसल भी नहीं काट पा रहे हैं। हाथियों की अचानक धमक से बोईरहा समेत आसपास के गांव में दहशत है। छत्तीसगढ़ व मध्यप्रदेश की सीमा के गांवों का भी यही हाल है।

25-03-2020
VIDEO: लॉकडाउन में गांजा पीने निकले युवकों की पुलिस ने की जमकर पिटाई

महासमुंद। पूरे देश में इन दिनों लॉकडाउन चल रहा है, लेकिन कुछ लोगों को इस बात की जैसे परवाह ही नहीं है। प्रशासन और पुलिस के बार-बार चेतावनी देने के बावजूद कुछ लोगों को यह बात समझ नहीं आ रही है। ऐसे ही लोगों को पुलिस ने समझाने के लिए अब एक्शन मोड में आ गई है। मंगलवार शाम को पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी को सूचना मिली की कुछ युवक मचेवा के पास पहुंच कर पार्टी कर रहे है। सूचना मिलते ही पुलिस तत्काल उस स्थान पर पहुंची तो पुलिस वाहन देख युवक अपने मोटर साइकिल छोडक़र ही मौके से भाग निकले, लेकिन उस में से तीन युवकों को पुलिस ने पकड़ा। पुलिस ने युवकों के पास से पीने के लिए रखे गांजा, चिलम और सिगरेट के पैकेट बरामद किए और तीनों युवकों के थाने लाकर जमकर पिटाई की। बाकी के बचे युवकों की तलाश पुलिस कर रही है। इसके साथ ही प्रशासन ने यह भी आदेश जारी कर दिया है कि सुबह साढ़े 9 से 5 बजे तक आवश्यक वस्तु जैसे राशन दुकान, खाने पीने की दुकानों को खोलने की अनुमति दी है। सब्जी बाजार और दुध को सुबह 6 बजे से साढ़े न बजे तक खोलने की अनुमति दी गई है। इसके वावजूद भी कोई नियमों का उल्लंघन करता है तो उस दुकानदार का लायसेंश रद्द किये जाने की कार्रवाई की जायेगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804