GLIBS
01-12-2019
ड्रोन के खतरों से ऐसे निपटगी बीएसएफ, महानिदेशक ने किया खुलासा

नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान के बीच पिछले काफी दिनों से चले आ रहे तनाव को देखते हुए सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक वीके जौहरी ने बताया कि सुरक्षा बल भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ड्रोन के खतरे से निपटने के लिए तकनीकी समाधान पर काम कर रहा है। जौहरी ने बताया कि बल ने पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ लगती 6,386 किलोमीटर लंबी सीमाओं की रक्षा करने के लिए नई प्रौद्योगिकी और खुफिया तंत्र का इस्तेमाल कर रणनीतिक क्षमताओं का विस्तार किया है। यहां बीएसएफ के एक शिविर में सुरक्षा बल के 55वें स्थापना दिवस समारोह में जौहरी ने कहा कि हाल के समय में कश्मीर में नियंत्रण रेखा और पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा काफी संवेदनशील हो गई हैं। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से पाकिस्तान से लगी पश्चिमी सीमा पर ड्रोन से जुड़ी गतिविधियों की खबरें मिली हैं और इससे निपटने के लिए तकनीकी हल पर काम हो रहा है तथा महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं। बता दें कि बीएसएफ  की स्थापना एक दिसंबर 1965 को हुई थी। आंतरिक सुरक्षा के अलावा बीएसएफ का मुख्य काम भारत-पाकिस्तान सीमा क्षेत्र की निगरानी करना है। 

 

01-12-2019
राहुल बजाज ने कहा- यूपीए-2 के समय हम सरकार की आलोचना कर सकते थे, अमित शाह ने  दिया यह जवाब

नई दिल्ली। उद्योगपति राहुल बजाज ने राजधानी दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि देश में एक डर का माहौल है। यूपीए-2 के समय हम सरकार की खुलकर आलोचना कर सकते थे। इस कार्यक्रम में गृह मंत्री अमित शाह, रेल मंत्री पीयूष गोयल और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मौजूद थीं। राहुल बजाज द्वारा की गई टिप्पणी का गृह मंत्री शाह ने जवाब दिया। अमित शाह ने कहा कि अगर ऐसा है तो हमें स्थिति सुधारने का प्रयास करना होगा। इस दौरान शाह ने प्रज्ञा ठाकुर द्वारा नाथूराम गोडसे के संबंध में की गई टिप्पणी की निंदा भी की। शाह ने कहा कि राजनाथ सिंह पहले ही प्रज्ञा के बयान की निंदा कर चुके हैं।

अमित शाह ने कहा कि सरकार की अगर आलोचना होती है तो इसे मेरिट के आधार पर उसे पारदर्शी तरीके से बेहतर किया जाएगा। कश्मीर के मुद्दे पर अमित शाह ने कहा कि हम अपील करते हैं कि आप कश्मीर के वास्तविक हालात का जायजा करने के लिए यहां का दौरा कीजिए। आप अपने परिवार के साथ कश्मीर जाइए आपको घाटी के सही हालात का अंदाजा लग जाएगा। शाह ने कहा कि देश के गृहमंत्री के तौर पर मैं लोगों से अपील करता हूं कि आप कश्मीर जाएं, आप देखेंगे कि हालात वहां पर सामान्य हैं।
उद्योगपति राहुल बजाज ने कहा कि हमारे कोई भी उद्योगपति मित्र इस विषय पर बात नहीं करेंगे, लेकिन हमें एक वातावरण बनाना होगा। मैं गलत हो सकता हूं। मुझे शायद कुछ चीजें नहीं बोलनी चाहिए। मगर यूपीए-2 के समय हम किसी की भी खुलकर आलोचना कर सकते थे। राहुल बजाज ने आगे कहा कि आपकी सरकार अच्छा काम कर रही है। इससे बावजूद हम खुलेतौर पर आपकी आलोचना नहीं कर सकते हैं।

 

24-11-2019
कश्मीर में आतंकियों की खैर नहीं, होंगे पूरी तरह सफाया

नई दिल्ली। कश्मीर में आतंकियों से निपटने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए तीनों सेना के विशेष बल को तैनात करने का निर्णय लिया है। थल सेना, नौसेना और वायु सेना के विशेष बल कश्मीर घाटी में आतंकवादियों का सफाया करने के लिए संयुक्त रूप से तैनात किए जा रहे हैं। इस अभियान में तीनों सेनाओं की सबसे अच्छी इकाई- आर्मी के पैरा-स्पेशल फोर्सेज, नेवी के मरीन कमांडोज यानी मार्कोस और एयर फोर्स के गरुड़ स्पेशल फोर्स को तैनात किया जा रहा है। तीनों सेना के विशेष बल संयुक्त रूप से आंतकियों के खिलाफ अभियान चलाएंगे। रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ सूत्रों के मुताबिक इनकी तैनाती रक्षा मंत्रालय द्वारा गठित नई आम्र्ड फोर्सेस स्पेशल ऑपरेशन डिवीजन के तहत की गई है। तीनों सेना के संयुक्त विशेष दल पहले से ही आर्मी पैरा (विशेष बल) के रूप में काम कर रहे हैं। इन्हें श्रीनगर के पास आतंकियों के गढ़ माने जानेवाले इलाके में तैनात किया गया है। हालांकि, नौ सेना के मार्कोस कमांडों की और वायु सेना के गरुड़ कमांडों की एक छोटी टीम कश्मीर घाटी में काम कर रही है। लेकिन पहली बार तीनों सेना की संयुक्त टीम को तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि जल्द मार्कोस और गरुड़ को आतंक-रोधी अभियान में तैनात किया जाएगा। नौसेना के मार्कोस कमांडों को जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में स्थित वुलर झील इलाके में जबकि वायुसेना के गरुड़ लोलाब और हाजीन इलाके में तैनात किए गए हैं।

18-11-2019
शीतकालीन सत्र: लोकसभा में हुआ फारुक अब्दुल्ला की रिहाई को लेकर हंगामा 

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र में आज सोमवार को सत्र की शुरुआत के साथ ही विपक्ष ने सरकार पर नेशनल कांफ्रेंस नेता के फारुक अब्दुल्ला की गैरमौजूदगी को लेकर जमकर निशाना साधा। बता दें कि फारुक अब्दुल्ला जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 को खत्म किए जाने के बाद से ही नजरबंद हैं। लोकसभा में टीएमसी के सांसद सौगत राय ने कहा कि डॉ.फारुक अब्दुल्ला यहां पर नहीं हैं। उन्होंने कहा कि या तो सरकार को निर्देश दीजिए कि उन्हें रिहा किया जाए या फिर गृहमंत्री सदन में बयान में दें। सदन में सौगत राय के बयान के बाद तमाम विपक्षी दलों के नेताओं ने फारुक अब्दुल्ला को लेकर हंगामा करना शुरू कर दिया। कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और डीएमके ने जमकर नारेबाजी करनी शुरू की। सदन में इन दलों के नेताओं ने विपक्ष पर हमला बंद करो, फारुक अब्दुल्ला को रिहा करे का नारा लगाना शुरू कर दिया। ये तमाम सांसद लगातार मांग करते रहे कि फारुक अब्दुल्ला को रिहा किया जाए। 

लोकसभा के स्पीकर ने विपक्ष को शांत करने की कोशिश करते हुए कहा कि मैं सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार हूं। आप लोग अपनी सीटों पर जाइए, यह सदन नारेबाजी के लिए नहीं है बल्कि चर्चा और बहस के लिए है। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कश्मीर के हालात पर सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने सरकार के उस फैसले की भी निंदा की जिसके तहत यूरोपीय यूनियन के सांसदो को कश्मीर का दौरा करने दिया। चौधरी ने अब्दुल्ला को नजरबंद किए जाने को अत्याचार बताया। चौधरी ने कहा कि आज 108 दिन हो गए और फारुक अब्दुल्ला अभी भी नजरबंद हैं। ये क्या जुल्म हो रहा है, उन्हें संसद में लाना चाहिए, यह उनका संवैधानिक अधिकार है। वहीं डीएमके नेता टीआर बालू ने कहा कि फारुक अब्दुल्ला को नजरबंद किया जाना गैर कानूनी है, उन्होंने लोकसभा स्पीकर से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की।

12-11-2019
कश्मीर में विदेशी आतंकियों का खात्मा, स्थानीय कर रहे वारदात

जम्मू। कश्मीर में अब आतंकवाद स्थानीय आतंकियों पर टिक गया है। विदेशी आतंकियों का एक तरह से कश्मीर से सफाया हो चुका है। पुलवामा, बांदीपोरा, कुपवाड़ा, शोपियां और अनंतनाग जिलों में इक्का दुक्का विदेशी आतंकी हो सकते हैं। लेकिन सूत्रों का कहना है कि अब कश्मीर में 200 के आसपास ही आतंकी बचे हैं, जो स्थानीय हैं। यह भी आपस में रिश्तेदार हैं। जानकारी के अनुसार कश्मीर में सक्रिय स्थानीय आतंकियों में औसत हर चार आतंकी आपस में रिश्तेदार हैं। इसलिए इनकी मूवमेंट भी आसान हो रही है। कहीं ने कहीं इनको पनाह मिल जाती है। वह रिश्तेदारी का लाभ उठाकर अपनी गतिविधियां चला रहे हैं। कश्मीर में इन आतंकियों का कमान देने वाले भी नहीं है। तमाम आतंकी कमांडर मारे जा चुके हैं। विदेशी आतंकी भी नहीं है। कश्मीर में सक्रिय आतंकियों की गिनती अब 30 फीसदी तक रह गई है। भारतीय सेना इन आतंकियों को आतंकवाद का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में लाने का प्रयास कर रही है। कुछ ही दिन पहले सेना की तरफ  से दावा किया गया था कि पिछले कुछ महीनों में 50 स्थानीय आतंकी आतंकवाद का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में आ गए हैं।  एक सैन्य अफसर ने कहा कि स्थानीय आतंकी आपस में रिश्तेदार हैं। इनके सवाईव करने का मुख्य कारण ही यहीं है।

31-10-2019
बदल जाएगा कश्मीर कल से स्वर्ग बन जायेगा, कश्मीरी लड़कियों से शादी करके भारतीय नहीं बन पाएंगे पाकी

कश्मीर कल से पूरी तरह बदल जाएगा। कल से कश्मीर दो हिस्सों में बंट जाएगा जम्मू और कश्मीर व लद्दाख। दोनों ही जगह कल से लेफ्टिनेंट गवर्नर काम करना शुरू कर देंगे और बहुत से नए कानून लागू हो जाएंगे। सबसे बड़ी बात हिंदी वहां की पहली भाषा होगी। अब तक वहां उर्दू अधिकृत भाषा थी। नरेंद्र मोदी सरकार ने 370 हटाने के साथ ही वहां आधार जैसे कानून लागू करने की दिशा में पहला कदम उठा दिया था। अब वहां एक झंडा होगा और एक संविधान। नरेंद्र मोदी की सरकार का यह कदम हालांकि विपक्ष को नहीं भाया था लेकिन आम कश्मीरी अब तक इससे सहमत ही नजर आता है। घाटी में चल रही पाकिस्तान की नापाक हरकतों पर भी अब पूरी तरह नकेल कसी जा सकेगी। और कश्मीर के अलगाववादी की भट्टी पर रोटी सेकने वाले नेताओं की सुविधाओं का भी खात्मा हो सकेगा। कश्मीर की तकदीर अब बदल जाएगी। अब कश्मीर स्वर्ग बनने की ओर अपने कदम बढ़ाएगा। और वहां की जमीन पर हिंदुस्तान का कोई भी आदमी अपना हक जता सकेगा। सारे नए कानून के लागू होते ही कश्मीर हिंदुस्तान की मुख्यधारा में लौट आएगा।

20-10-2019
पाकिस्तान ने इस वजह से भारतीय उप उच्चायुक्त को किया तलब

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा आतंकवादी शिविरों पर तोप से गोले दागने के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने रविवार को भारतीय उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया को तलब किया। भारतीय सेना ने पाकिस्तान की हरकतों का जवाब देते हुए पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के अंदर स्थित आतंकवादी शिविरों पर हमले शुरू किए हैं। भारतीय सेना की यह कार्रवाई पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को भारतीय सीमा क्षेत्र में घुसपैठ कराने की कोशिश के बाद की जा रही है। वहीं भारतीय सेना ने आतंकी कैंपों को निशाना बनाने के लिए आर्टिलरी गन का इस्तेमाल किया है। भारतीय सेना ने यह कार्रवाई तंगधार सेक्टर में पाक द्वारा संघर्षविराम उल्लंघन कर आतंकियों को घुसपैठ कराने की नापाक कोशिश के बाद उठाया गया है। जिसमें कई आतंकवादियों के मारे जाने की भी सूचना मिल रही है। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर स्थित नीलम घाटी इलाके में भारतीय सेना ने आतंकियों के चार आतंकवादी शिविरों को निशाना बनाया और नष्ट कर दिया। बताया जा रहा कि भारतीय सेना की इस कार्रवाई में पाकिस्तान को काफी नुकसान हुआ है। पाकिस्तान के 4-5 सैनिक मारे गए हैं और कई घायल हुए हैं।

14-10-2019
रक्षा मंत्री का आरोप, कांग्रेस नेता इंग्लैंड जाकर कश्मीर का कर रहे अंतरराष्ट्रीयकरण

मुंबई। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने महाराष्ट्र में चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। ठाणे में जनसभा को संबोधित करते हुए राजनाथ ने कहा कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आए और उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अनौपचारिक बैठक की। उन्होंने कहा कि  पीएम मोदी ने जिनपिंग के साथ कश्मीर पर चर्चा नहीं की। आपके नेता इंग्लैंड जाते हैं, हमारे कश्मीर के आंतरिक मामले का अंतरराष्ट्रीयकरण करने का साहस करते हैं और आप इसकी निंदा भी नहीं कर रहे हैं। राजनाथ ने आगे कहा कि दुनिया मानती है कि भारत अब कमजोर देश नहीं है। भारत ऐसा देश नहीं है जो अपने घुटनों पर खड़े होकर किसी से बात करे। भारत आज अपने पैरों पर खड़े होकर और पूरी ताकत से बात करने की स्थिति में है। अनुच्छेद 370 पर कांग्रेस द्वारा सवाल उठाए जाने पर राजनाथ सिंह ने कहा कि कांग्रेस पांच साल से हमारे प्रधानमंत्री के खिलाफ आरोप लगा रही है, फिर भी हमारी पार्टी सुपरसोनिक स्पीड से ऊपर जा रही है और कांग्रेस सुपरसोनिक स्पीड से नीचे आ रही है।

 

 

09-10-2019
छात्र नेता शेहला रशीद ने छोड़ी चुनावी राजनीति

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी की पूर्व छात्रा और नेता शेहला रशीद ने चुनावी राजनीति को बॉय बॉय बोल दिया है। शाह फैसल की पार्टी जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट ज्वाइन करने वाली शेहला रशीद का कहना है कि वह वह कश्मीरियों के साथ हो रहे बर्ताव को बर्दाश्त नहीं कर सकती हैं। शेहला रशीद ने कहा कि केंद्र सरकार अब दुनिया को चुनाव कराकर दिखाना चाहेगी कि अभी भी कश्मीर में लोकतंत्र है, लेकिन जो चल रहा है वह लोकतंत्र नहीं, उसकी हत्या है।
शेहला ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा था, कश्मीर में प्रतिबंध हटाने के लिए भारत पर अंतर्राष्ट्रीय दबाव है। ऐसे में सरकार चुनाव कराकर यह दिखाना चाहती है कि अभी भी लोकतंत्र जिंदा है। हालांकि जो चल रहा है वो लोकतंत्र नहीं है बल्कि लोकतंत्र की हत्या है। यह कठपुतली नेताओं को स्थापित करने की योजना है। शेहला ने लिखा कि इंसाफ की लड़ाई सच बोलने से ज्यादा भी कुछ मांगती है। मुझ पर सच बोलने के लिए देशद्रोह का आरोप लगा। लेकिन यह मुझे सच बोलने से विचलित नहीं कर सकता। जहां जरूरत होगी मैं अपनी आवाज बुलंद करती रहूंगी। गौरतलब है कि शेहला राशिद के खिलाफ जम्मू कश्मीर में कथित मानवाधिकार उल्लंघन के बारे में उनके बयान को लेकर उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया था।

 

25-09-2019
सीएम बघेल के बयान से झलक रही राष्ट्रहित को सबसे ऊपर रखने वाली विचारधारा : त्रिवेदी

रायपुर। कश्मीर मामले में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान का स्वागत कांग्रेस ने किया है। प्रदेश कांग्रेस महामंत्री और कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान से स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस के लिए देशहित दलगत हितों से ज्यादा महत्वपूर्ण है। अंतरराष्ट्रीय मंचों पर देशहित के सवाल में कांग्रेस सरकार के साथ खड़े होने की बात को स्पष्ट करके प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज दिल्ली रवाना होने के पूर्व माना विमानतल पर पत्रकारों के साथ चर्चा करते हुए एक बड़ा महत्वपूर्ण बयान दिया है। आजादी की लड़ाई के दिनों से कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने देश हित में अपना सब कुछ कुर्बान किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान से वही देश भक्त और राष्ट्रहित को सबसे ऊपर रखने वाली विचारधारा झलकती है। त्रिवेदी ने कहा कि देशहित के मसले पर कांग्रेस सरकार के साथ खड़ी है, वह अलग विषय है कि मोदी सरकार देश उत्पन्न आर्थिक हालात बेरोजगारी और अराजकता को रोकने में विफल हो चुकी है।  मोदी वन और मोदी दो के चुनाव में किए वादों को पूरा करने में नकारा साबित हो चुकी है और मोदी सरकार की विफलताओं को छुपाने के लिए मोदी और भाजपा के नेता कांग्रेस पर दोषारोपण कर जनता का ध्यान हटाना चाहते हैं, लेकिन सच्चाई यही है कांग्रेस देश हित के समय सरकार के साथ खड़ी हुई है और मोदी सरकार को अपनी सरकार की विफलताओं को छुपाने के बजाय सहजता से स्वीकार कर विपक्ष के अनुभव का लाभ लेना चाहिए। त्रिवेदी ने कहा कि राय मशविरा कर देश के गिरते आर्थिक स्थिति को संभाल लेने  व्यापार-व्यवसाय के शटर डाउन होते परिस्थितियों को रोकने रोजगारमूलक कार्यों को प्राथमिकता से चालू करने सहित अंतरराष्ट्रीय मसलों पर भी राय मशविरा करनी चाहिए। देश हित में अनुभवी लोगों का राय मशविरा करने से परहेज करने वाली मोदी सरकार को अपनी ओछी मानसिकता राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता और मनमानी करने की आदत को सुधारना चाहिए। कांग्रेस किसी व्यक्ति का विरोध नहीं करती है बल्कि उन विचारधाराओं का विरोध करती है जो देश के सामाजिक समरसता, एकता अखंडता को खंडित कर और देश के विकास में बाधा उत्पन्न कर रही है देशहित के मसलों में हमेशा कांग्रेस देश के फैसलों का स्वागत किया है।

23-09-2019
सीएम या तो अंजान बन रहे हैं या पाकिस्तान परस्त : भाजपा 

रायपुर। भाजपा सांसद संतोष पाण्डेय ने प्रेस के समक्ष सीएम भुपेश बघेल के दिये कश्मीर संबंधी बयान पर घोर आश्चर्य व्यक्त किया है। पाण्डेय ने कहा कि मुख्यमंत्री कांग्रेस की शुरू से घोषित नीति की तरह ही पाकिस्तान परस्ती पर अमादा हैं। उन्होंने कहा कि यह भी हो सकता है कि भूपेश की महत्वाकांक्षा अब राहुल गांधी से आगे निकलने की हो और वे चाहते हो कि उनका बयान भी अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान कोट करे। 
सांसद संतोष पाण्डेय ने कहा कि कश्मीर में जो कुछ भी हुआ है वह कश्मीरियों और लद्दाखियों के व्यापक हित को देखते हुए किया गया है। लद्दाख से लेकर ह्यूस्टन (अमेरिका) तक जिस तरह कश्मीरी मूल के लोगों ने मोदी सरकार के फैसले का स्वागत किया है वह अपने आपमें अभूतपूर्व है। पाण्डेय ने कहा कि आश्चर्य तो इस बात पर भी हो रही है कि लोगों को भरोसे में नहीं लेने की बात उस कांग्रेस के नेता द्वारा कही जा रही है, जिनकी पार्टी ने चोरी-चोरी, चुपके-चुपके, राष्ट्रपति से हस्ताक्षर कराकर कश्मीर में 35ए ला दिया था, एक उसी कानून के कारण जम्मू-कश्मीर की महिलाओं को दशकों तक जो दंश झेलना पड़ा उसकी कोई सीमा नहीं। सांसद संतोष पाण्डेय ने कहा कि जिस काम के लिए जनादेश मिला है बेहतर हो भूपेश बघेल उसी में अपनी उर्जा खपाएं।

16-09-2019
एक साल में एयर इंडिया को 8,400 करोड़ का घाटा

नई दिल्ली। लंबे समय से पैसों की कमी से जूझ रही और कर्ज के बोझ में दबी एयर इंडिया को वित्त वर्ष 2018-19 में 8 हजार 400 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। ज्यादा ऑपरेटिंग कॉस्ट और फॉरेन एक्सचेंज लॉस के चलते कंपनी को भारी घाटा उठाना पड़ा है। एयर इंडिया को एक साल में जितना घाटा हुआ है उतने में तो एक नई एयरलाइंस शुरू की जा सकती है। गौरतलब है कि देश में सफलता से चल रही एयरलाइंस स्पाइसजेट का मार्केट कैपिटल महज 7,892 करोड़ रुपये ही है यानी 8,000 करोड़ रुपये से कम पूंजी में ही इस एयरलाइंस को खरीदा जा सकता है। वित्त वर्ष 2018-19 में एयर इंडिया की कुल आय 26,400 करोड़ रुपये रही। इस दौरान कंपनी को 4,600 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस उठाना पड़ा है। बढ़ते तेल के दाम और पाकिस्तान के भारतीय विमानों के लिए एयरस्पेस बंद करने के बाद कंपनी को रोज 3 से 4 करोड़ रुपये का घाटा उठाना पड़ रहा है। कंपनी के एक वरिष्ठ अधि‍कारी ने बताया कि जून की तिमाही में सिर्फ पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने की वजह से एयर इंडिया को 175 से 200 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस हुआ है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2 जुलाई तक एयर इंडिया को पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने से 491 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने पहले फरवरी में बालाकोट स्ट्राइक के बाद अपने एयरस्पेस बंद कर दिए थे, इसे जुलाई में खोल दिया गया था। उसके बाद कश्मीर से जुड़े धारा 370 को भारत सरकार द्वारा खत्म करने के बाद बने माहौल में पाकिस्तान ने फिर अगस्त अंत में अपने एयरस्पेस बंद कर दिए। इस दौरान निजी एयरलाइंस स्पाइसजेट, इंडिगो और गोएयर को क्रमश: 30.73 करोड़ रुपये, 25.1 करोड़ रुपये और 2.1 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। इसके बावजूद अधिकारियों को उम्मीद इस वित्त वर्ष यानी 2019-20 के अंत तक कर्ज में डूबी एअर इंडिया फिर से फायदे में आ जाएगी। उनका कहना है कि यदि ईंधन की कीमतें अब और न बढ़ें और विदेशी मुद्रा में ज्यादा उतार-चढ़ाव न आए तो एअर इंडिया को इस साल 700 से 800 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग प्रॉफिट हो सकता है। उनके मुताबिक एयर इंडिया में लोड फैक्टर यानी सीट ऑक्यूपेंसी या यात्रियों की संख्या में सुधार हो रहा है। एयर इंडिया फिलहाल 41 इंटरनेशनल और 72 घरेलू गंतव्यों तक अपनी उड़ानों का संचालन करती है। एअर इंडिया पिछले कई साल से भारी घाटे का सामना कर रही है और कर्ज में डूबी हुई है। विनिवेश के द्वारा इसकी सेहत को ठीक करने की तैयारी की जा रही है। एयर इंडिया पर कुल 58 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है और इसे चुकाने के लिए एयरलाइंस को सालाना 4,000 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। एयरलाइंस को सुधारने के लिए कई तरह से प्रयास किए जा रहे हैं। एक स्पेशल परपज व्हीकल एयर इंडिया एसेट्स होल्डिंग लिमिटेड की स्थापना की गई है और अगले कुछ हफ्तों में 22 हजार करोड़ रुपये के बॉन्ड जारी करने की तैयारी की जा रही है। 7 हजार करोड़ रुपये का ऐसा पहला बॉन्ड 16 सितंबर को जारी किया जा सकता है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804