GLIBS
07-12-2019
नरपशुओं के खिलाफ फूटा आक्रोश, बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी को भीड़ ने पीटा

बिलासपुर। बिलासपुर के सरकंडा गांव में 8 साल की बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। कोर्ट में पेश करने के बाद जैसे ही पुलिस आरोपी को जेल दाखिल करने के लिए ले जा रही थी तभी पहले से घात लगाकर इन्तजार में खड़ी भीड़ उस पर टूट पड़ी। वकील सहित महिलाएं, परिजनों और आम लोगों ने उसकी पिटाई शुरू कर दी। पुलिस ने जैसे-तैसे आरोपी को भीड़ से छुड़ाया। बता दें कि सरकंडा में 2 दिन पहले 8 वर्षीया बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी भोलाराम साहू को पुलिस ने गुरुवार की रात को कवर्धा जिले के सरैया से गिरफ्तार किया। वह अपने रिश्तेदार के घर में छिपा था। पुलिस ने उसे दोपहर में सीधे कोर्ट में पेश किया। इधर जैसे ही इस बात का पता लोगों को चला तो वे गेट के बाहर आकर जमा हो गए और पेशी के बाद जेल ले जाते समय उस पर टूट पड़े।

05-12-2019
11 पेटी मध्यप्रदेश की गोवा और 5 पेटी इंपीरियल ब्लू शराब के साथ दो आरोपी गिरफ्तार

कांकेर। नये पुलिस कप्तान भोजराम पटेल द्वारा पदभार ग्रहण करते ही पुलिस विभाग में सक्रियता देखी जा रही है व जिलेभर में बढ़ते अपराधों के मद्देनजर समस्त थाना एवं चौकी प्रभारियों को विशेष दिशानिर्देश दिए जा रहे है जिसके चलते पुलिस विभाग को गुरूवार को बड़ी सफलता मिली है। मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई की ग्राम मुड़पार में ज्ञानेश सरोज और अमर सरोज द्वारा भारी मात्रा में अवैध रूप से देशी एवं मध्यप्रदेश की अंग्रेजी शराब रखकर बिक्री की जा रही है। सूचना पर पुलिस विभाग द्वारा आरोपी के मकान में दबिश दी गई जहां से तलाशी के दौरान 11 पेटी गोवा जिसमें एमपी की शील लगी हुई है अंग्रेजी शराब कुल 550 नग 180ml सीलबंद 99 लीटर कीमत 66 हजार तथा आरोपी अमर सरोज के कब्जे से उसके मकान से पांच पेटी इंपीरियल ब्लू 240 नग 180 ml में कुल 43.200 लीटर कीमत 50400 दोनों आरोपी से 142.4 लीटर अंग्रेजी शराब कीमत 1 लाख 16 हजार 400 रुपये जब्त कर दोनों आरोपी को न्याययिक रिमांड जेल भेज दिया गया है। विदित हो कि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कीर्तन राठौर के दिशा निर्देश अनुसार अनुविभागीय पुलिस अधिकारी तस्लीम आरिफ एवं निरीक्षक मोरध्वज देशमुख के नेतृत्व में थाना कांकेर क्षेत्र में अवैध रूप से शराब बिक्री करने वालों की धरपकड़ के लिए विशेष टीम गठित की गई है। इसमें उपनिरीक्षक, नितिन तिवारी, उपनिरीक्षक विमल वट्टी, उप निरीक्षक अजय साहू जयराम यादव, प्रेम सिंह, महावीर मिश्रा, शक्ति सिंह, अरविंद सिंह,अभिषेक दुबे,रमेश ध्रुव, सचिन शोरी, कमला शोरी शामिल है।

02-12-2019
रायगढ़ पुलिस ने पकड़ा 20 टन अवैध कोयला, आरोपी भेजे गए जेल

रायगढ़। रायगढ़ पुलिस ने नाकाबंदी कर 20 टन कोयला जब्त कर आरोपियों को जेल भेज दिया है। जानकारी के अनुसार पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि ओडि़शा क्षेत्र से अवैध कोयला का परिवहन किया जा रहा है जिसमें हाईवा गाड़ी प्रयुक्त किया जा रहा है। पुलिस कप्तान संतोष सिंह से निर्देश प्राप्त कर चक्रधर नगर थाना प्रभारी विवेक पाटले ने 10 चक्का हाईवा क्रमांक सीजी 22 पी 4584 को इंदिरा विहार के आगे हमीरपुर मार्ग पर नाकाबंदी करते हुए पकड़ा। हाईवा में 20 टन कोयला लोड था। पकड़े गए गाड़ी मालिक धरमराज सिंह पिता दालप्रताप सिंह निवासी बृजराज नगर ओडि़शा और ड्राइवर विरु कुमार गिरी के खिलाफ  धारा 41(1-4)/379  व (विकास एवं विनियमन) अधिनियम 1957 धारा (21)4 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है व आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। साथ ही पुलिस की विवेचना जारी है।

 

01-12-2019
गांजा तस्कर गिरफ्तार, 4 किलो से अधिक गांजा जब्त

रायपुर। गांजा तस्करी के सूचना पर मंदिर हसौद पुलिस ने छेरीखेड़ी पुलिया के पास घेराबंदी करके दलदल सिवनी एकता चौक मोवा निवासी नागेश्वरी निर्मलकर को प्लास्टिक की बोरी में 4 किलो 5 सौ ग्राम मादक पदार्थ गांजा के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी को पुलिस ने नार्कोटिक्स 20 बी के तहत गांजा तस्करी करने के जुर्म में कानूनी कार्यवाही कर जेल भेज दिया है।

 

01-12-2019
मध्यप्रदेश हनीट्रैप मामला : पुलिस ने पांच स्थानों पर एक साथ मारा छापा

इंदौर। हनीट्रैप मामले में पुलिस ने शनिवार देर रात एक मीडिया हाउस और उससे जुड़े संस्थानों और निवास पर छापा मारा कार्रवाई की। बीती देर रात पुलिस और जिला प्रशासन के अमले ने एक साथ गीता भवन और साउथ तुकोगंज स्थित दो होटलों, न्यू पलासिया स्थित रेस्त्रां, प्रेस कॉम्प्लेक्स स्थित मीडिया हाउस, कनाड़िया रोड स्थित एक निवास पर एक साथ छापा मारा। छापेमारी के बाद पुलिस ने अखबार के दफ्तर को सील कर दिया है। पुलिस ने बताया कि यह छापेमारी सोनी के तमाम ठिकानों पर की गई है, जोकि एक सांध्य दैनिक का संपादक हैं। उनपर हनी ट्रैपिंग का आरोप है, जिसके चलते इंदौर के उनके ठिकाने पर छापेमारी की गई है।

बता दें कि सोनी के पास तमाम नेताओं के महिलाओं के साथ आपत्तिजनक वीडियो थे, जोकि फिलहाल जेल में बंद हैं। उच्च अधिकारियों के निर्देश के बाद यह छापेमारी की गई है। पुलिस सूत्रों के अनुसार यह छापेमारी उन तमाम वीडियो को जब्त करने के लिए किया गया है,जिसे हनी ट्रैपिंग के लिए बनाया गया था। बता दें कि इन तमाम वीडियो के सामने आने के बाद विपक्ष ने जमकर इसपर हंगामा खड़ा किया था। यह मामला उस वक्त सामने आया था जब इंदौर म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के इंजीनियर ने दो महिलाओं के खिलाफ ब्लैकमेलिंक का आरोप लगाया था। इंजीनियर ने आरोप लगाया था कि कुछ महिलाएं उसे आपत्तिजनक वीडियो दिखाकर उन्हें ब्लैकमेल कर रही हैं। बाद में इंजीनियर को आईएमसी से सस्पेंड कर दिया गया था।

30-11-2019
नवजात की 28 हड्डियां तोड़ कलयुगी पिता ने ली जान, अब हुई आजीवन कारावास की सजा

नई दिल्ली। एक पिता ने अपने नवजात बेटे को इतना जोर से झकझोरा कि उसकी 28 हड्डियां टूट गई। घटना के कुछ रोज बाद इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई। जांच के दौरान पुलिस को आरोपी पिता की ऑनलाइन सर्च हिस्ट्री मिली। पिता ने सर्च किया था- 'मैंने अपने बच्चे को बहुत जोर से पकड़ा जिससे उसके शरीर पर निशान हो गए.' 'क्या आपने कभी अपने बच्चे को रोने के दौरान दुर्घटनावश चोट पहुंचाई है।' ये मामला ब्रिटेन के केन्ट का है। एक स्थानीय अदालत ने 29 नवंबर को दोषी पिता ली वर्नन (21) को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। उन्हें कम से कम 16 साल जेल में रहना होगा।

पिता ने पिछले साल जुलाई में अपने बच्चे के सिर में गंभीर चोट पहुंचाई थी। घटना के बाद लंदन के हॉस्पिटल में बच्चे की मौत हो गई थी। पिता ने खुद इमर्जेंसी सर्विस के लिए कॉल किया था। इमरजेंसी सर्विस के एजेंट्स से पिता ने कहा कि उन्हें नहीं पता, बच्चे की ऐसी हालत कैसे हुई। बाद में पुलिस पूछताछ में पिता के दिए बयान और मेडिकल रिपोर्ट्स की बातें अलग-अलग कहानी कह रहे थे। डॉक्टरों के मुताबिक, हॉस्पिटल लाने के दिन से पहले भी कम से कम दो मौकों पर बच्चे को चोट पहुंचाई गई थी। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह भावनात्मक रूप से गहरा और काफी जटिल केस था। लेकिन मेडिकल एक्सपर्ट्स की मदद से पुलिस जांच पूरी कर सकी। प्रॉसेक्यूटर ने कोर्ट से पिता को सख्त सजा देने की मांग की थी ताकि वह दोबारा किसी बच्चे को चोट न पहुंचा सके।

 

28-11-2019
16 साल बाद पाकिस्तान की जेल से लौटा बेटा, माँ ने कहा - शुक्र है अल्लाह दा

नई दिल्ली। शुक्र है अल्लाह दा, देर नाल ही सही पर मेरा पुत्त घर मुड़ आया। कुछ ऐसा ही कहना था मालेरकोटला के मोहल्ला चाने लौहारां में रहने वाली 80 वर्षीय सदीकन का, जो 16 साल से अपने बेटे के घर वापस आने की राह देख रही थी। पिछले करीब 16 साल से पाकिस्तान की जेल कोटलखपत में बंद मालेरकोटला के मोहल्लाचाने लौहारां के रहने वाले गुलाम फरीद बुधवार को सही सलामत घर लौट आया। अपने बेटे के इंतजार में माता सदीकन का रो-रोकर बुरा हाल था। बुधवार को अपने बेटे से मिलकर उसकी आंखों में चमक साफ दिखाई दे रही थी। बातचीत करते हुए गुलाम फरीद ने बताया कि वह 2003 में अपने रिश्तेदारों को मिलने के लिए पाकिस्तान गया था। लेकिन वहां उसका पासपोर्ट एक्सपायर हो गया और पाकिस्तान सरकार ने 13 साल के लिए जेल भेज दिया। इस दौरान उसका अपने घर वालों के साथ कोई संपर्क नहीं हुआ। ऐसे में उसे लगने लगा कि शायद वह अपने घर कभी जिंदा नहीं लौट पाएगा। लेकिन अमृतसर से सांसद गुरजीत सिंह औजला और मालेरकोटला के कांग्रेस के पूर्व ब्लाक अध्यक्ष बेअंत किंगर के प्रयास से वह अपने परिवार से मिल पाया।

गुलाम फरीद की माता सदीकन ने अपने पुत्र की घर वापसी पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें तो ऐसा लगता था कि शायद उसका पुत्र इस दुनिया में है ही नहीं, लेकिन जैसे ही पता चला कि वह पाकिस्तान जेल में बंद है तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना न रहा। उसने कहा कि पहले उसे पुत्र की जुदाई में भूख नहीं लगती थी और अब पुत्र के मिलने की खुशी में उसकी भूख मर गई है। कांग्रेस नेता बेअंत किंगर ने बताया कि उन्हें जब केस के बारे में पता लगा तो उन्होंने अमृतसर से सांसद गुरजीत सिंह औजला के साथ संपर्क किया, जिन्होंने उनकी बैठक विदेश मंत्रालय के साथ कराई और मामले का समाधान हो पाया। उन्होंने बताया कि गुलाम की सभी सरकारी कार्रवाई पूरी होने के बाद उसे पाकिस्तान सरकार की तरफ से 5 अगस्त 2019 को जीरो लाइन पर हिंद सरकार को सौंपने के लिए लाया गया था, लेकिन बदकिस्मती से उस दिन कश्मीर में से धारा 370 हटाए जाने के कारण गुलाम फरीद को दोबारा पाकिस्तान वापस कर दिया गया। गुलाम फरीद की घर वापसी की सूचना मिलते ही उसके रिश्तेदारों, दोस्तों और मोहल्ला निवासियों का उसके घर तांता लगा था। 

27-11-2019
बालिका के साथ की अश्लील हरकत, युवक को उम्रकैद

दुर्ग। मासूम के साथ छेड़छाड़ करने के आरोपी को अदालत द्वारा जीवन भर जेल में रहने की सजा सुनाई गई है। यह फैसला न्यायाधीश शुभ्रा पचौरी की अदालत ने सुनाया। अदालत ने अपराध घटित होने की घटना के 6 माह की अवधि में ही अपना फैसला दे दिया। प्रकरण में अभियोजन पक्ष की ओर से अति. लोक अभियोजक कमल वर्मा ने पैरवी की थी। घटना खुर्सीपार थाना क्षेत्र में 15 मई 2019 की रात घटित हुई थी। मासूम बालिका अपने पड़ोस में टीवी देखने गई थी। इस दौरान वहां पर मौजूद जयराज कश्यप ने उसके साथ अश्लील छेडछाड़ कर दी थी। इसकी जानकारी मासूम ने घर आकर अपनी मां को दी। युवक के घर से बाहर निकलने पर मासूम ने उसे पहचान लिया। इस पर मासूम की मां द्वारा सवाल जवाब किए जाने पर युवक ने हरकत किए जाने से इंकार करने के साथ ही माफी भी मांगी। इसके बाद वह मौके से फरार हो गया। 16 मई को इस मामले की शिकायत के आधार पर पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण को विचार के लिए न्यायालय के समक्ष पेश किया था। प्रकरण पर विचार के बाद न्यायाधीश शुभ्रा पचौरी ने अबोध बालिका के साथ अश्लील हरकत करने का आरोपी को दोषी पाया। न्यायाधीश ने अभियुक्त को दफा 376 (क) (ख) के तहत जीवन भर कारावास में रखे जाने का फैसला सुनाया है। इसके अलावा उसे 10 हजार रुपए के अर्थदंड से भी दंडि़त किया गया है।

27-11-2019
अवैध गांजा की बिक्री करते युवक को पुलिस ने पकड़ा, भेजा जेल

दुर्ग। गांजा की अवैध बिक्री करने और संग्रहित कर रखने के आरोपी के खिलाफ पुलिस द्वारा कार्रवाई की गई है। आरोपी कब्जें से 1 किलो 200 ग्राम गांजा बरामद किया गया है। इस मामले में पुलिस ने आरोपी को अवैध रुप से गांजा का संग्रहण करने और उसे बचने के आरोप में अपने कब्जे में ले लिया। आरोपी के खिलाफ नारकोटिक्स एक्ट की धारा 20 (ख) तथा 27 (क) के तहत कार्रवाी कर जेल भेज दिया है। मामला मोहन नगर थाना क्षेत्र का है। सोमवार की देर रात शंकरनगर क्षेत्र में अवैध रूप से गांजा बेचे की सूचना पुलिस को मिली थी। सूचना के आधार पर पुलिस एएसआई किरेन्द्र सिंह ने स्टाफ के साथ पतासाजी प्रारंभ की थी। पतासाजी के दौरान शंकर नगर निवासी अभिषेक महादेवा (24 वर्ष) पुलिस के हत्थे गांजा की बिक्री करते चढ़ गया। पूछताछ में आरोपी की निशानदेही पर उसके कब्जे से प्लॉस्टिक के थैले में छुपा कर रखा गया 1 किलो 200 ग्राम गांजा भी बरामद किया। बरामद गांजा की कीमत 10 हजार रुपए बताई गई है। इसके अलावा आरोपी के कब्जे से गांजा बेच कर हासिल की गई रकम भी पुलिस ने जब्त की है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई कर जेल भेज दिया है।

25-11-2019
11 सुत्रीय मांगों को लेकर सैकड़ों किसानोंं ने दी प्रतीकात्मक गिरफ्तारी

महासमुंद। सोमवार को संयुक्त किसानो मोर्चा ने किसानों के 11 सुत्रीय मांगों को लेकर एक दिवसीय जेल भरों आंदोलन किया। किसान मोर्चा के बैनर तले किसानों ने स्थानीय लोहिया चौक में एक सभा का आयोजन कर रैली कि शक्ल में अनुविभागीय कार्यालय पहुंचे और वहां छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम अपने 11 सुत्रीय मांगों का ज्ञापन तहसीलदार को सौंप कर प्रतिकात्मक गिरफ्तारी दी। इस दौरान सैकड़ों किसान महिला पुरूष शामिल थे।छत्तीसगढ़ संयुक्त किसान मोर्चो ने छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार और केन्द्र सरकार को जमकर कोषा है। किसानों ने मांग करते हुए कहा है कि किसानों के धान खरीदी के लिए कानून बनना चाहिए। वहीं किसानों का कहना है कि सौंदा पत्रक के माध्यम से धान खरीदी समाप्त की जाये। किसानों का कहना है कि केन्द्र सरकार ने धान का समर्थन मूल्य 1835 रुपए तय कर रखा है। वहीं छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों के धान का समर्थन मूल्य 2500 सौ रुपए कर रखा है।

किसानों का कहना है कि केन्द्र द्वारा समर्थन मूल्य का दाम किसानों को नहीं मिलता है, वहीं राज्य सरकार के समर्थन मूल्य का बाजार नहीं है। किसानों का कहना है कि सरकार किसानों के लिए कानून बनाये और 12 माह किसानों का धान समर्थन मूल्य पर धान मंडी में ख़रीदा जाए। किसानों का कहना है कि सरकार अपना राजस्व के मुनाफे के लिए गली-गली शराब भेज रही है, उसी तरह किसानों का धान समर्थन मूल्य में ले और किसानों को लाभ दे। जो व्यापारी किसानों का धान समर्थन मूल्य में नहीं खरीदता उसका लाइसेंक रद्द किया जाये। किसानों ने छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार से मांग करते हुए कहा है कि पिछले सरकार ने जो किसानों को बोनस देने का वादा किया, वह 2 साल को बोनस किसानों के खाते में जल्द डाले। इसके अलावा छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने जनता से जो वादा किया था शराबबंदी का उसे तत्काल पूरा करते हुए पूरे प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी करे और धान, गेहूं की तरह किसानों का दलहन-तिलहन भी समर्थन मूल्य में खरीदी करे।

24-11-2019
बेघर और घूमने वाले मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों की मदद अब पुलिस भी करेगी

रायपुर। बेघर और सड़कों पर बेवजह घूमने वाले मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों को परिजनों तक पहुँचाने की और उनका उपचार करने की ज़िम्मेदारी अब पुलिस विभाग की भी होगी। इसका प्रावधान मेंटल हेल्थकेयर एक्ट, 2017 में है। इस प्रावधान को बेहतर तरीके से क्रियान्वित करने के लिए गृह विभाग ने पत्र जारी कर प्रदेश के सभी थानेदारों को निर्देशित करते हुए इस अधिनियम की धारा 100 का पालन करने के लिए निर्देशित किया है। गृह विभाग से जारी पत्र में कहा गया है मेंटल हेल्थ केयर 2017 की धारा 100 के तहत थाना प्रभारियों का कर्तव्य है कि वह अपने थाना क्षेत्र के अंतर्गत मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति के आश्रय और उपचार का ज़िम्मा अब उनपर भी है। घूमते हुए पाए जाने पर ऐसे रोगियों को सुरक्षा में लिया जाए लेकिन उन्हें किसी भी परिस्थिति में पुलिस लॉकअप या जेल में नहीं रखा जा सकता है|

ऐसे मानसिक रोगी बेघर या भटके हुए हैं ऐसे मामलों में पुलिस थाना में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की जाएगी और उनके परिजनों के संबंध में पता साजी की जाएगी। परिजनों के मिलने पर उनको इस व्यक्ति के बारे में जानकारी दी जाएगी और ऐसे व्यक्तियों को उचित उपचार के स्पर्श क्लीनीक में या शासकीय अस्पतालों में ले जाया जाएगा। पत्र में कहा गया है उपचार के दौरान अगर यह पाया जाता है की मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति को अस्पताल में रखने की आवश्यकता नहीं है, तो उस व्यक्ति को उसके परिजनों को सौंप दिया जाए। अगर मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति बेघर होने की स्थिति में उन्हें शासन द्वारा संचालित देखभाल या आश्रय केंद्र भेज दिया जाए ।

मेंटल हेल्थ केयर 2017 की धारा 100का उल्लंघन करने पर सज़ा एवं जुर्माना का प्रावधान है जिसके प्रवाधानों के निर्देशानुसार कार्रवाई करके अधिकारियों  को की गई कार्रवाई से अवगत कराना सुनिश्चित किया जाएगा। राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के उपसंचालक डॉ. महेंद्र सिंह ने कहा राज्य स्तरीय  मानसिकस्वास्थ्य चिकित्सालय, सेंद्री बिलासपुर में स्थापित है। साथ ही 27 जिलों के जिला चिकित्सालय में स्पर्श क्लिनिक के माध्यम से मानसिक स्वास्थ्य से पीडित मरीज़ों को सुविधाएं प्रदान की जा रही है। पुलिस विभाग के द्वारा घुमंतू मानसिक रोगियों को अगर वह लेकर आते हैं तो उन्हें बेहतर सुविधाएं प्रदान करने में सहयोग दिया जाएगा।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804