GLIBS
15-11-2019
मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना से अब मिलेगी 20 लाख तक इलाज की सुविधा

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य के सभी नागरिकों को बेहतर एवं गुणवत्तापूर्ण उपचार सुविधा प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज निवास कार्यालय में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में दो नई स्वास्थ्य योजना को शुरू करने का निर्णय लिया गया है। डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना तथा मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना के नाम से जानी जाएगी।  डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजनांतर्गत आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में शामिल परिवार के साथ ही नई योजना में सभी प्राथमिकता एवं अंत्योदय राशन कार्डधारी परिवारों को शामिल किया गया है, जिनकी संख्या लगभग 56 लाख परिवार है जिन्हें 5 लाख रूपए तक स्वास्थ्य बीमा सुविधा मिलेगी। अन्य राशन कार्डधारी परिवारों को 50 हजार रूपए तक इलाज की सुविधा मिलेगी। इस योजना अंतर्गत राज्य में प्रचलित अन्य स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने वाली समस्त योजनाएं आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना, मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना, मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना एवं राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (चिरायु) योजना इस नई योजना में समाविष्ट हो जाएंगी। 

  इसी तरह संजीवनी सहायता कोष का विस्तार करते हुए दुर्लभ बीमारियों के इलाज हेतु मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना प्रारम्भ करने का निर्णय लिया गया हैं। इसमें प्रकरण अनुसार एवं मुख्यमंत्री के अनुमोदन के उपरांत अधिकतम 20 लाख रूपए तक के इलाज की सुविधा प्रदान की जाएगी। छत्तीसगढ़ देश में ऐसा पहला राज्य है जो इतनी बड़ी राशि अपने राज्य के नागरिकों के इलाज हेतु प्रदान करेगा। इसी तरह अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर (एम्स) को नवा रायपुर, अटल नगर में निःशुल्क भूमि आबंटन का निर्णय लिया गया। इस भूमि पर मरीजों को उच्च गुणवत्ता का उपचार रियायती दरों पर उपलब्ध हो तथा विभिन्न बीमारियों पर अनुसंधान करने हेतु स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, आउटरिच सेंटर, आंकोलोजी यूनिट, रिसर्च सेंटर एण्ड सेंटर आफ एक्सीलेंट की स्थापना की जाएगी। इस हेतु नया रायपुर डेव्लपमेंट अथॉरिटी (एनआरडीए) द्वारा ग्राम उपरवाड़ा में रकबा 204771.12 वर्गमीटर भूमि निःशुल्क आबंटित किया जाएगा। भूमि के संबंध में एम्स रायपुर से किए जाने वाले एमओयू प्रारूप का भी अनुमोदन मंत्रिपरिषद की बैठक में किया गया।

30-10-2019
एम्स में की जाएगी नर्सिंग ऑफिसर के 372 पदों पर भर्ती, डिप्लोमा होल्डर भी कर सकते हैं आवेदन

रायपुर। ऋषिकेश स्थित एम्स सीधी भर्ती के आधार पर नर्सिंग ऑफिसर (स्टाफ  नर्स ग्रेड-2) के 372 पदों पर भर्ती कर रहा है। इसके लिए अभ्यर्थी सिर्फ ऑनलाइन आवेदन ही कर सकते हैं। इन पदों पर नर्सिंग डिप्लोमा होल्डर भी आवेदन कर सकते हैं। अभ्यर्थी आवेदन के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन  9-11-2019 से प्रारंभ कर सकते हैं। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 24-12-2019 है। परीक्षा की तारीख, परीक्षा केंद्र व अन्य जानकारियां एम्स  ऋषिकेश की वेबसाइट पर उपलब्ध करा दी जाएगी। इसके लिए जो योग्यता निर्धारित की गई है उसके अनुसार इंडियन नर्सिंग काउंसिल से संबद्ध किसी भी इंस्टीट्यूट व यूनिवर्सिटी से बीएससी (ऑनर्स) नर्सिंग/बीएससी नर्सिंगया इंडियन नर्सिंग  काउंसिल से संबद्ध किसी भी इंस्टीट्यूट व यूनिवर्सिटी से बीएससी (पोस्ट सर्टिफिकेट)/पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग या राज्य या इंडियन नर्सिंग काउंसिल में नर्स के तौर पर पंजीकृत या फिर इंडियन नर्सिंग काउंसिल से संबद्ध किसी भी इंस्टीट्यूट/बोर्ड या काउंसिल से जनरल नर्सिंग में डिप्लोमा अथवा राज्य या इंडियन नर्सिंग काउंसिल में नर्स या मिडवाइफ  के तौर पर पंजीकृत अभ्यर्थी एप्लाई कर सकते हैं। इसके अलावा एजुकेशनल क्ववालिफिकेशन के बाद कम से कम 50 बेड के अस्पताल में दो साल कार्य करने का अनुभव भी वांछित है। इन पदों के लिए आयुसीमा 21 से 30 वर्ष (एससी, एसटी कैंडिडेट के लिए आयुसीमा में 5 वर्ष व ओबीसी कैंडिडेट के लिए तीन वर्ष की छूट)निर्धारित की गई है। 

 

19-10-2019
सुपेबेडॉ पहुंची एम्स के डाक्टरों की टीम, गांव का किया भ्रमण..  

गरियाबंद । सुपेबेडॉ लगातार हो रही मौतों के बाद जागे प्रशासन ने शनिवार को वहां एम्स के डॉक्टरों की टीम भेजी है। एम्स के डायरेक्टर डॉ. नागरकर के नेतृत्व में पहुंची टीम ने पहले गांव में शिविर लगाया, जिसमें लगभग 25 मरीजों ने अपना इलाज कराया,जिनमें से लगभग 15 कितनी पीड़ित थे। इसके बाद टीम के सभी डॉक्टर गांव की गली गली घूमे। मरीजों के घर जाकर उनके पुराने रिकॉर्ड देखें और उन्हें डॉक्टरी सलाह दी। गांववालों को एम्स पहुंचकर इलाज कराने के लिए मनाया इन डॉक्टरों का कहना था कि नए लोगों को किडनी की बीमारी नहीं हो रही है, जिन्हें हो गई है उनमें नियंत्रित रखने का प्रयास किया जा रहा है। टीम के डॉक्टरों ने बताया कि गांव की गलियां घर इनका रहन-सहन खान-पान देखने के उद्देश्य से उन्होंने गांव में भ्रमण किया। मरीजों के घर के कई जरूरी बातें पूछी, जिसमें यह निकल कर आया कि जीवन स्तर में काफी सुधार की जरूरत हैं। बीमारी के कारण पूछे जाने पर टीम ने कहा कि कोई एक कारण अकेला जिम्मेदार नहीं लगता वैसे फ्लोराइड मुख्य कारण हो सकता है।

 

19-10-2019
एम्स और डीकेएस अस्पताल के विशेषज्ञ रवाना हुए सूपेबेड़ा, किडनी मरीजों की करेंगे जांच

 

गरियाबंद। किडनी बीमारी से प्रभावित क्षेत्र सूपेबेडा में एक दिवसीय जांच शिविर लगाने के लिए एम्स और डीकेएस अस्पताल के किडनी विशेषज्ञ व अन्य विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम सूपेबेडा के लिए रवाना हो गयी है। शिविर में विशेषज्ञ चिकित्सक क्रॉनिकल किडनी डिसीज की विशेष जांच करेंगे। डॉक्टरों ने कहा कि पहले पूरी जांच करने के बाद ही मरीजों का इलाज किया जाएगा। इस जांच शिविर के लिए सूपेबेडा में प्रशासनिक स्टार पर सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी है और मरीजों को एकत्र किया जा रहा है।

18-10-2019
अब घूमकर नहीं जाना पड़ेगा एम्स, सांसद और महापौर ने किया नई सड़क का भूमिपूजन

रायपुर। सांसद सुनील सोनी तथा महापौर  प्रमोद दुबे ने आज सरोना रेल्वे स्टेशन से एम्स जाने के लिये सड़क का भूमिपूजन किया। अब तक सरोना स्टेशन से उतरकर टाटीबंध होकर एम्स जाना पड़ता था। नई सड़क बन जाने से मात्र साढ़े 300 मीटर का रास्ता ही तय करना होगा। इस नई सड़क का आज भूमिपूजन किया गया। यहां रेल्वे स्टेशन से उतरकर एम्स जाने के लिये करीब 300 लोग आते हैं। वहीं करीब 100 कर्मचारी भी उतरते हैं। उन्हें एम्स जाने के लिये टाटीबंध चौक से होकर लंबा रास्ता तय करना पड़ता है। आज भूमिपूजन के अवसर पर सांसद सोनी ने कहा कि नई सड़क बन जाने से लोगो को एम्स जाने में आसानी होगी। महापौर दुबे ने अधिकारियों को निर्देषिशत करते हुए कहा कि सड़क का निर्माण का जल्द से जल्द कर लिया जाये। उन्होंने कहा कि इसी तरह के अन्य एप्रोच रोड जिनसे नागरिकों को सुविधा मिलेगी उनका भी निर्माण जल्द से जल्द किया जाये। कार्यक्रम के दौरान निगम उपनेता प्रतिपक्ष रमेश सिंह ठाकुर, जोन 8 अध्यक्ष सोमन लाल ठाकुर, पार्षद प्रतिनिधि सुनील चद्राकर, एम्स के डायरेक्टर  नितिन नागरकर, जोन 8 के जोन कमिश्नर प्रवीण सिंह गहलोत, कार्यपालन अभियंता राकेश गुप्ता सहित बड़ी संख्या में गणमान्यजन उपस्थित थे।

02-10-2019
सुपेबेड़ा में इलाज की हर सुविधा उपलब्ध कराएगी सरकार :  मंत्री सिंहदेव

रायपुर। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव आज गरियाबंद जिले के सुपेबेड़ा पहुंचकर किडनी की बीमारी से जूझ रहे ग्रामीणों से मिले। उन्होंने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि सरकार सुपेबेड़ा के लोगों को इलाज की सभी सुविधाएं उपलब्ध कराएगी। स्वास्थ्य मंत्री के साथ संचालक, स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़ और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) रायपुर के डायरेक्टर डॉ. नितिन नागरकर भी किडनी की बीमारी से प्रभावित ग्रामीणों से मिलने पहुंचे थे। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने स्थानीय निवासियों को रायपुर आकर एम्स में उपचार कराने की अपील की।  स्वास्थ्य मंत्री ने सुपेबेड़ा के पीडि़त लोगों के लिए देवभोग में स्थापित डायलिसिस सुविधा और डायलिसिस मशीन का उपयोग नहीं होने पर चिंता जाहिर की। सिंहदेव ने कहा कि प्रभावित लोग उपचार के लिए सीधे सरकारी अस्पताल पहुंचें। सिंहदेव ने कहा कि गांव में हर सप्ताह दो बार मोबाइल मेडिकल यूनिट की सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने ग्रामीणों से चर्चा के दौरान भरोसा दिलाया कि बीमारी के संबंध में जांच रिपोर्ट की जानकारी स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों ने सुपेबेड़ा की बीमारी को आनुवांशिक और जमीन के अन्दर पानी मे फ्लोराइड की मात्रा अधिक होना पाया है। उन्होंने लोगों से फ्लोराइडयुक्त पानी का उपयोग नहीं करने की अपील की। एम्स रायपुर के डायरेक्टर डॉ. नितिन नागरकर ने किडनी पीडि़तों के इलाज के लिए एम्स में उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी दी। उन्होंने लोगों को वहां आकर इलाज कराने कहा। पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव से चर्चा के दौरान ग्रामीणों ने उन्हें अपनी विभिन्न मांगों से अवगत कराया। ग्रामीणों की मांग पर सिंहदेव ने वहां के उप स्वास्थ्य केन्द्र को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में उन्नयन और एक नियमित चिकित्सक की नियुक्ति की बात कही। उन्होंने डायलिसिस के लिए एक विशेषज्ञ चिकित्सक की पदस्थापना, तेलनदी का पानी गांव तक पंहुचाने और बेलार नाला व तेलनदी में पुल निर्माण की मांगों को जल्द पूर्ण करने का आश्वासन दिया। उन्होंने गरियाबंद के पुलिस अधीक्षक को सुपेबेड़ा और आसपास के क्षेत्रों में  शराब पाउच की बिक्री रोकने के निर्देश दिए। सिंहदेव ने ग्रामीणों की मांग पर सुपेबेड़ा में नया पंचायत भवन बनाने की घोषणा की। गरियाबंद के कलेक्टर श्याम धावड़े, पुलिस अधीक्षक एमआर आहिरे और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आरके खूंटे सहित पंचायत, ग्रामीण विकास एवं स्वास्थ्य विभाग के अनेक अधिकारी ग्रामीणों से चर्चा के दौरान मौजूद थे।

 

 

23-09-2019
तिहाड़ पहुंचे सोनिया और मनमोहन, कार्ति चिदंबरम भी साथ

नई दिल्ली। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कार्ति चिदंबरम पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम से मिलने के लिए तिहाड़ पहुंचे है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदंबरम 2007 के आईएनएक्स मीडिया मामले में सीबीआई और ईडी की जांच का सामना कर रहे हैं। उन्हें राउज एवेन्यू अदालत ने फिलहाल न्यायिक हिरासत में भेजा हुआ है। विशेष सीबीआई अदालत ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत तीन अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दी है। इससे पहले गुरुवार को उनकी 14 दिन की न्यायिक हिरासत की अवधि खत्म हो गई थी। जिसके बाद उनके वकील सिब्बल ने चिदंबरम के लिए एम्स में नियमित तौर पर मेडिकल जांच और उनके लिए तिहाड़ में पर्याप्त पूरक आहार की व्यवस्था भी मुहैया कराने की अपील की थी।

चिदंबरम की ओर से एक और वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने अदालत में कहा था कि जेल में चिदंबरम के सेल के बाहर एक कुर्सी थी लेकिन उसे अब हटा दिया गया है। इस कारण उन्हें बेड पर ही बैठना पड़ता है। उन्हें सोने के लिए तकिया भी नहीं दिया गया है। इससे उन्हें काफी दिक्कत हो रही है।  वहीं सिब्बल ने कहा था कि उन्हें एम्स में जांच कराने की अनुमति दी जाए। जिसपर न्यायधीश मेहता ने कहा था, ‘किसी भी कैदी की सेहत की चिंता होनी चाहिए। कानून में जो भी स्वीकार्य हो, जेल अधिकारियों को वह करना चाहिए।’ सीबीआई ने 2007 में आईएनएक्स मीडिया को 305 करोड़ के विदेशी निवेश के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की अनुमति देने में अनियमितता का केस दर्ज किया था। उस समय चिदंबरम केंद्रीय वित्त मंत्री थे। इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था।

20-09-2019
एम्स में रोबोट ने की सर्जरी, 5 करोड़ की लागत से बना है मॉड्यूलर ओटी

नई दिल्ली। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में पहली बार रोबोट से रीढ़ की सर्जरी की गई है। एम्स के ऑर्थोपेडिक विभाग में मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर (ओटी) में यह सर्जरी की गई। 5 करोड़ की लागत से मॉड्यूलर ओटी विकसित किया गया है। इसमें सीटी स्कैन, ओ-आर्म मशीन लगी है। ओ-आर्म मशीन का फायदा यह है कि सर्जरी के वक्त जरूरत पड़ने पर 360 डिग्री पर भी एक्सरे किया जा सकता है। इसके अलावा सीटी स्कैन मशीन से सर्जरी के दौरान हड्डियों की सही स्थिति देखी जा सकती है। इससे सर्जरी के दौरान मरीजों को परेशानी कम होगी। इसके अलावा ओटी में सर्जरी के लिए खास तरह के टेबल लगाए गए हैं। इसमें मरीज किसी भी पोजीशन में हो, उसकी आराम से सर्जरी की जा सकेगी।

 

14-09-2019
भाजपा का सेवा सप्ताह शुरू, अमित शाह ने एम्स में बच्चों को बांटे फल, लगाई झाड़ू

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को भारतीय जनता पार्टी ने सेवा सप्ताह के रूप में मनाने का फैसला किया है। शनिवार को केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा सेवा सप्ताह की औपचारिक शुरुआत की। अमित शाह पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ एम्स पहुंचे। अमित शाह ने यहां मरीजों का हाल चाल जाना और उन्हें फल बांटे। अमित शाह और जेपी नड्डा ने इस मौके पर एम्स में स्वच्छता अभियान में भाग लिया। उनके साथ पूर्वी दिल्ली से भाजपा के सांसद और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर भी मौजूद थे। अमित शाह ने इस मौके पर कहा कि भाजपा सेवा सप्ताह, इस एक सप्ताह, करोड़ों कार्यकर्ता अलग-अलग जगह पर सफाई कार्यक्रम, वृक्षारोपण कर, श्रमदान कर सेवा सप्ताह मनाएगी। भाजपा 14 सितंबर से 20 सितंबर तक सेवा सप्ताह मनाएगी। गौरतलब है कि 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन है। भाजपा ने सेवा सप्ताह के दौरा  'स्वच्छता ही सेवा, सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्ति, जल संरक्षण और संवर्धन' के संकल्प को जन-जन तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। 

 

11-09-2019
उन्नाव गैंगरेप केस : बयान दर्ज करने के लिए एम्स में लगी अदालत

नई दिल्ली। उन्नाव बलात्कार मामले में एम्स में बुधवार को अस्थायी अदालत लगाई गई। बलात्कार पीड़िता के बयान दर्ज करने के लिए जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा एम्स पहुंच गए हैं। मामले के एक प्रमुख आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को इसके लिए एम्स लाया गया। उसके साथ सह-आरोपी शशि सिंह को भी लाया गया है। भाजपा सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर चुकी है। न्यायाधीश ने एम्स के जयप्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर में एक अस्थायी अदालत स्थापित करने के निर्देश दिए थे, जहां महिला को 28 जुलाई को एक दुर्घटना के बाद भर्ती कराया गया था। उच्च न्यायालय ने इस मामले में शुक्रवार को अनुमति दी थी। उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को प्रशासनिक पक्ष से इस आशय की एक अधिसूचना जारी की, जिसमें कहा गया कि मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश शर्मा पीड़िता के बयान दर्ज करेंगे। महिला ने 2017 में सेंगर पर उसके साथ कथित तौर पर बलात्कार करने का आरोप लगाया था। घटना के वक्त वह नाबालिग थी। 28 जुलाई को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में हुए सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हुई पीड़िता फिलहाल जीवन के लिए जूझ रही है। उस दुर्घटना में उसकी मौसी और चाची दोनों की मौत हो गई थी। हादसे में उनका वकील भी घायल हो गया था।

02-09-2019
उन्नाव गैंगरेप पीडि़ता का सीबीआई अधिकारियों ने लिया बयान 

उन्नाव। उत्तर प्रदेश के उन्नाव गैंगरेप के मामले में सीबीआई ने दुष्कर्म पीडि़ता का सड़क दुर्घटना मामले में बयान दर्ज किया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हुई उन्नाव बलात्कार पीडि़ता को लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी से विमान के जरिये इलाज के लिए दिल्ली लाकर एम्स में भर्ती कराया गया था। अधिकारियों ने बताया कि उसकी हालत में सुधार है और उसे वार्ड में ले जाया गया है। उन्होंने बताया कि हालत में सुधार के बाद सीबीआई ने पीडि़ता का बयान दर्ज किया। यह बयान सड़क दुर्घटना मामले में दर्ज किया गया जिसमें उसकी दो रिश्तेदार की मौत हो गई और वह तथा उसका वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

उन्नाव की रहने वाली पीडि़ता का आरोप है कि उत्तर प्रदेश के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने 2017 में उसके साथ बलात्कार किया था। तब वह अवयस्क थी। सेंगर भाजपा से पिछले माह निष्कासित किए जा चुके हैं। पीडि़ता के चाचा ने सड़क दुर्घटना में सेंगर के करीबियों का हाथ होने का आरोप लगाया है। अधिकारियों ने बताया कि पीडि़ता के वकील की हालत अभी भी गंभीर है और वह आईसीयू में हैं जिसकी वजह से उनका बयान दर्ज नहीं किया जा सका है। गौरतलब है कि 28 जुलाई को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में एक ट्रक ने पीडि़ता की कार को जोरदार टक्कर मार दी थी, जिसमें उसके दो संबंधियों की मौत हो गई थी और उसका वकील घायल हो गया था। सुप्रीम कोर्ट ने आज सीबीआई को ट्रायल रिपोर्ट देने को कहा है। इस मामले में अगली सुनवाई 6 सितंबर को होगी।

19-08-2019
लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर भी जेटली की हालत नाजुक, कुशलक्षेम जानने एम्स पहुंचे लालकृष्ण आडवाणी

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता अरुण जेटली की सेहत का हालचाल जानने पार्टी के वरिष्ठतम नेता एवं पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी सोमवार को अखिल भारतीय आयुर्विग्यान संस्थान (एम्स) पहुंचे। अरुण जेटली को अस्वस्थ होने पर नौ अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था। उनकी हालत अत्यंत नाजुक बताई जा रही है। सामाजिक कल्याण मंत्री थावरचंद गहलोत के अलावा भी कई अन्य नेता जेटली का हाल जानने एम्स पहुंचे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार को जेटली का कुशलक्षेम जानने एम्स गए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के अलावा कई अन्य केंद्रीय मंत्री भी पिछले दिनों जेटली का हाल जानने एम्स गए थे। बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी भाजपा नेता का हाल जानने एम्स आये थे।


 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804