GLIBS
24-05-2020
राजधानी में दुकान खुलने के नियमों में शासन ने किया बदलाव, आदेश जारी

रायपुर। राजधानी में दुकानों को खोलने के संबंध में जिला प्रशासन की ओर से नया शेड्यूल जारी किया गया है। इसके साथ ही शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक रात्रि कर्फ्यू जारी रहेगा। रायपुर की ज्यादातर दुकानों को शाम 6 बजे तक खुलने की अनुमति है। मेडिकल संबंधित सभी व्यवसाय और शहर की सीमा से बाहर पेट्रोल पम्प 24 घंटे खुले रहेंगे।

 

 

 

23-05-2020
बलौदा बाजार के गांव दुर्ग में मिले थे 2 कोरोना पॉजिटिव, दुर्ग जिले से कोई संबंध नहीं

दुर्ग। छत्तीसगढ़ प्रदेश में 40 कोरोना पॉजिटिव केस के संबंध में दुर्ग जिले से 2 पॉजिटिव केस की जानकारी पूरी तरह भ्रामक व गलत है। इस आशय की जानकारी देते हुए जिलाधीश अंकित आनंद ने बताया कि दुर्ग से किसी भी व्यक्ति का आज की स्थिति में कोरोना पॉजिटिव का कोई भी मामला सामने नहीं आया है। दुर्ग में जो दो पॉजिटिव की संख्या बताई जा रही है। उसकी वास्तविक जानकारी यह है कि बालौदाबाजार जिले के अंतर्गत दुर्ग नाम से एक गाँव है, जिसमें दो पॉजिटिव केस पाए गए हैं।

22-05-2020
कोरोना महामारी के संबंध में गलत बयानी कर विक्रम उसेंडी भय फैला रहे : कांग्रेस

रायपुर। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी की ओर से राज्य सरकार पर कोरोना की जानकारियां छुपाने के आरोप पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के सदस्य सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि भाजपाध्यक्ष का बयान आपत्तिजनक है। कोरोना जैसी महामारी के संबंध में लोगों की मौत की झूठी बयानबाजी कर विक्रम उसेंडी राज्य की जनता में भय पैदा कर रहे हैं। शुक्ला ने कहा कि ईश्वर का धन्यवाद है प्रदेश में कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई है। शुक्ला ने कहा है कि क्वारेंटाइन सेंटरों में दीगर कारणों से हुई मौत को कोरोना से जोड़ कर गैर जिम्मेदाराना बयान के लिए भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के खिलाफ कार्यवाही करें। किसी व्यक्ति की संदिग्ध मौत की जांच की प्रक्रिया को कोरोना से जोड़ कर बयान देने के पहले उसेंडी को मामले और प्रक्रिया की पूरी जानकारी लेनी चाहिए थी। कोरोना के संबंध में कोई भी अधिकृत जानकारी बिना केंद्रीय संस्था भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद(आईसीएमआर) के परीक्षण और सहमति के बाद ही सार्वजनिक की जाती है। कोरोना के संबंध में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय प्रतिदिन शाम को प्रेस कांफ्रेंस कर देश भर के हालात का विस्तृत ब्यौरा देता है। राज्य सरकार की ओर से कोरोना महामारी के संबंध में कोई भी जानकारी छुपाने का न तो कोई प्रश्न है और न ही कोई कारण।

 

10-05-2020
लालूप्रसाद यादव और राबड़ी देवी ने नीतीश सरकार पर बोला हमला, मांगा 15 साल का हिसाब

पटना। लॉक डाउन के दौरान आप्रवासी बिहारियों की घर वापसी के लिए ट्रनों के किराया और उनके बिहार से पलायन के मुद्दे गर्मा गया है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्‍नी पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी ने राज्‍य की नीतीश सरकार पर हमला बोला है। लालू ने अपने ट्वीट में नीतीश कुमार की सरकार के 15 साल का हिसाब मांगा है। वहीं, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने उन्हें उनके कार्यकाल की याद दिलाई है। उधर, राबडी देवी ने कहा है कि सरकारी खजाने में जमा गरीबों के पैसे गरीबों पर खर्च करने में परेशानी है, लेकिन चेहरा चमकाने में विज्ञापन पर करोड़ों खर्च किए जा सकते हैं।

बिहार के हर दूसरे घर से पलायन क्‍यों हुआ?

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बिहार सरकार पर हमला बोलते हुए अपने ट्वीट में कहा है कि बिहार सरकार अपना नैतिक, प्राकृतिक, आर्थिक, तार्किक, मानसिक, शारीरिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, व्यावहारिक, न्यायिक, जनतांत्रिक और संवैधानिक चरित्र एवं संतुलन खो चुकी है।
इसके पहले एक अन्‍य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि बिहार को बिहार और बिहारवासियों के हितों के लिए खूंटा गाड़ कर लड़ने वाली सरकार चाहिए। कदम-कदम पर लड़खड़ाने वाली खोखली, ढकोसली, विश्वासघाती, कुर्सीवादी और पलटीमार सरकार नहीं चाहिए। लालू ने आगे लिखा कि नीतीश कुमार व सुशील मोदी बताएं कि उनके 15 वर्षों के राज में बिहार के हर दूसरे घर से पलायन क्‍यों हुआ?

फेयर एंड लवली खरीदते वक्‍त नहीं क्यों सोचते?

पूर्व मुख्‍यमंत्री राबडी देवी ने भी ट्वीट कर कहा है कि नीतीश सरकार द्वारा विज्ञापन पर खर्च के संबंध में मीडिया की एक खबर का हवाला देते हुए लिखा कि सरकारी खजाने में जमा गरीबों का पैसा गरीबों पर खर्च करने में बिहार सरकार को इतना जोर पड़ रहा है, माने अपने बाप-दादा की जायदाद बेचकर खर्च कर रहे हैं। राबडी देवी ने आगे हमला तेज करते हुए कहा है कि चेहरा चमकाने के लिए 500 करोड़ की विज्ञापन रूपी फेयर एंड लवली खरीदते वक्‍त नहीं क्यों सोचते? बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने पिछले पांच सालों में विज्ञापन पर पैसे पानी की तरह बहाए हैं।

सुशील मोदी ने दिया जवाब, लालूप्रसाद यादव को याद दिया कार्यकाल

ऐसे में लालू प्रसाद यादव के द्वारा सवाल पूछे जाने पर सूबे के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा है कि उन्हें यदि अपना राजकाल याद नहीं है तो कम से कम प्रकाश झा की दो फिल्में गंगाजल और अपहरण को देखना चाहिए। उनको याद आ जाएगा कि उनके समय बिहार में किस तरह से सत्ता चलती थी? सुशील मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि लालू-राबडी राज में जहां जातीय नरसंहार और नक्सली उग्रवाद के चलते खेती-किसानी चौपट हुई। वहीं हत्या, लूट और उद्यमियों-व्यवसायियों से फिरौती वसूलने के लिए अपहरण की बढती घटनाओं के चलते व्यापार ठप पड़ गया था। राजद काल के बिहार में न अच्छी सड़क थी, न पर्याप्त बिजली। विकास ठप था। स्कूली शिक्षा चरवाहा विद्यालय के स्तर पर आ गई थी और राजनीतिक पसंद के लोगों को कुलपति बनाकर  विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता नष्ट कर दी गई थी।  

 

09-05-2020
अजीत जोगी की सांस की नली से डॉक्टर ने निकाला गंगा इमली का बीज, दिमाग में सूजन

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य के संबंध में डॉ. सुनील खेमका ने मेडिकल बुलेटिन जारी की है। उन्होंने बताया कि अजीत जोगी के सांस की नली में गंगा इमली का बीज फंस गया था जिसे निकाल लिया गया है। उन्होंने कहा कि आज शनिवार शाम अजीत जोगी के दिमाग का सीटी स्कैन किया गया है। इसमें उनके मस्तिष्क में सेरिब्रल एडिमा (दिमाग में सूजन) पायी गई है। फिलहाल उनका हृदय सामान्य हो गया है। अभी अजीत जोगी वेंटीलेटर पर हैं और उनकी स्थिति अत्यंत गंभीर बनी हुई है। आने वाले 48 से 72 घंटे अजीत जोगी के लिए बेहद अहम है।

30-04-2020
घर वालों को बच्चों के आहार के संबंध में कर रहे काउंसिलिंग, पोषण आहार खाकर सुपोषित हो रहे बच्चे

दुर्ग। मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के अंतर्गत हर आंगनबाड़ी में कुपोषित बच्चों का चिन्हांकन कर इनके पोषण पर विशेष ध्यान रखा जा रहा है। इसमें यह विशेष ध्यान दिया जा रहा है कि बच्चे पौष्टिक आहार समय पर लें। साथ ही इसके लिए अभिभावकों की भी विशेष रूप से काउंसिलिंग की जा रही है। परियोजना अधिकारी जेके साव ने बताया कि इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा गृह भेंट के माध्यम से विशेष प्रयास किया जा रहा है।  साव ने इसका उदाहरण देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अन्तर्गत परिक्षेत्र सिकोला के ग्राम तुलसी के आंगनबाड़ी केन्द्र तुलसी 3 में दर्ज निशा नामक बच्ची दर्ज है। निशा की माता का नाम कुंती एवं पिता का नाम संतोष है। जिसकी जन्मतिथि 26 सितंबर 2015  है। यह बच्ची मध्यम कुपोषित की अवस्था में योजना अन्तर्गत पंजीकृत की गई।

सितंबर माह में निशा का वजन 12.09 एवं उंचाई 99 से.मी. था। यह बच्ची नियमित रूप से आंगनबाड़ी आती है, केन्द्र में दिए जाने वाले पोषण आहार का नाश्ता, गर्म भोजन का सेवन लगातार कर रही है तथा साथ में अतिरिक्त रूप से दिए जाने वाले मूंगफली, सोया चिक्की, फल का भी लाभ ले रही है। समय-समय पर कार्यकर्ता द्वारा गृह भ्रमण देकर पालकों को समझाईश दी जा रही है। साव ने बताया कि पालक बैठक चर्चा में निशा के पालकों से चर्चा की गई तथा बाहर के आहार को बंद कर घर का बना पौष्टिक खाना खिलाने संबंधी सलाह दी जाती रही। कुपोषित बच्ची को नियमित फल, सब्जी तथा दूध, रेडी टू फूड से बने व्यंजन खिलाने संबंधी प्रदर्शन पालकों को बताया गया। जिससे पालकों में व्यवहार परिवर्तन होने लगा। बच्ची ने घर पर शाम का खाना भी शुरू किया फलस्वरूप बच्ची की सेहत में सुधार आया। कार्यकर्ता एवं मेरे द्वारा पौष्टिक लडडू का सेवन भी बच्ची ने नियमित रूप से किया फलतः वजन जनवरी माह में 13.450 कि.ग्रा. हो गया और निशा वर्तमान में सामान्य श्रेणी में आ गई है।

 

25-04-2020
 खनिजों के खनन के राज्यीय,अन्तर्राज्यीय परिवहन के संबंध में निर्देश जारी

 कोरिया। कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण एवं रोकथाम के लिए किए गए लॉकडाउन के दौरान खनिजों के नियमित खनन एवं खनिजों से परिष्कृत उत्पादों के राज्यीय एवं अन्तर्राज्यीय परिवहन के संबंध में राज्य शासन के खनिज संसाधन विभाग द्वारा सभी खनिजों के उत्पादन एवं परिवहन बनाये रखने के लिए पत्र जारी कर विस्तृत दिशा-निर्देश दिए हैं। यह निर्देश भारत सरकार के गृह मंत्रालय एवं खान तथा इस्पात मंत्रालय द्वारा प्राप्त गाइड लाइन के परिपालन में जारी किये गये हैं। इसके साथ ही भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा विभिन्नय निर्माण गतिविधियों का प्रारंभ किये जाने के आदेश भी जारी किये गये हैं। राज्य शासन के खनिज संसाधन विभाग द्वारा जारी पत्र में बताया गया है कि सभी खनिजों, उनके परिष्कृत उत्पादों यथा स्पंज आयरन, फेरो एलायस, आयरन ओर पैलेट्स एवं स्टील आदि के उत्पादन किये जाने हेतु अन्य आवश्यक खनिजों जैसे आयरन ओर, कोयला, चूनापत्थर, डोलोमाईट, मैंगनीज, कोमोईट आदि कच्चे पदार्थों की नियमित मांग एवं आपूर्ति बनाये रखने हेतु खनन संबंधी समस्त कियाकलापों तथा खनिज उत्पादों के परिवहन में संलग्न वाहनों, ट्रांसपोर्टरों, लोडरों, उत्पादनकर्ता, डीलर, रीटेलर को राज्य के भीतर एवं अन्तर्राज्यीय मार्गों पर नियमित परिवहन एवं आवागमन के लिए समुचित कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा गया है। इसके साथ ही भारत सरकार से प्राप्त पत्र के संदर्भ में उल्लेखित निर्माण कार्यों को किये जाने के लिए आवश्यकतानुसार गौण खनिजों की भी आपूर्ति बनाये रखने के लिए इन खनिजों का खनन, परिवहन एवं अनुशांगिक सभी क्रियाकलापों को गतिशील बनाये रखने के लिए उचित कार्यवाही के निर्देश खनिज संसाधन विभाग द्वारा दिए गए हैं।  

 

23-04-2020
महामारी के संबंध में जानकारी साझा करना अनिवार्य, स्वास्थ्य विभाग-निगम की हुई समन्वय बैठक 

रायपुर। क्षेत्र में पीलिया और महामारी नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के साथ समन्वय बैठक गुरुवार को निगम सभागार में हुई।  बैठक में कमिश्नर नगर निगम सौरभ कुमार, संभागीय संयुक्त संचालक डॉ सुभाष सुभाष पांडे, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मीरा बघेल सिविल सर्जन डॉ. रवि तिवारी, उपायुक्त एवं समस्त जोन आयुक्त स्वास्थ्य विभाग एवं नगर निगम के अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में पीलिया डेंगू और अन्य महामारी पर चर्चा की गई और महत्वपूर्ण निर्णय  लिए गए।

23-04-2020
विधायक देवेंद्र यादव ने पेयजल आपूर्ति के संबंध में अधिकारियों से ली जानकारी

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई के महापौर देवेंद्र यादव ने गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेयजल आपूर्ति से संबंधित जानकारी अधिकारियों से ली और व्यवस्था दुरुस्त रखने के निर्देश दिए। यादव ने सभी जोन के जोन आयुक्त एवं जल विभाग के अधिकारी से चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे वार्ड क्षेत्र जहां पर पानी की समस्या अधिक रहती है। उन क्षेत्रों पर पेयजल सुविधा मुहैया कराने योजनाबद्ध तरीके से कार्य करें और जहां पर पानी टैंकर भेजा जा रहा है उस जगह पर लोगों द्वारा सोशल डिस्टेंस का पालन कराने के लिए बेहतर प्रयास किए जाएं। उन्होंने कहा कि जल कार्य के लंबित कार्यों को जल्द ही पूर्ण कर लिया जाए। जोनवार समीक्षा लेते हुए पाइपलाइन वितरण तथा जिन टंकियों को दो समय पानी दिया जा रहा है। उनके भराव की स्थिति के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली गई।

अधीक्षण अभियंता सत्येंद्र सिंह ने बताया कि नई टंकियों की कनेक्टिविटी का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है, जल प्रदाय के लिए आवश्यक पहलुओं को ध्यान में रखकर कार्य किया जा रहा है। गौरतलब है कि 66 एमएलडी फिल्टर प्लांट में विद्युत आपूर्ति के लिए सब स्टेशन स्थापित किया जा चुका है, जिसमें दो लोवर ट्रांसफार्मर और दो हायर ट्रांसफार्मर लगाया गया। पैनल में विद्युत आपूर्ति के लिए केवल एक लोवर ट्रांसफार्मर एवं दो हायर ट्रांसफार्मर की आवश्यकता होती है। दोनो ट्रांसफार्मर से 6 मोटर पंप को कनेक्ट किया जाएगा। एक लोअर ट्रांसफार्मर को स्टैंडबाई मॉड पर रखा जाएगा। किसी प्रकार से खराब होने की स्थिति में इसका उपयोग किया जा सकेगा। वर्तमान में 77 एमएलडी जल शोधन संयंत्र से जल प्रदाय किया जा रहा है। और जहां पर भी पाइपलाइन लीकेज की समस्या है। उसे दुरुस्त करने का कार्य जोन स्तर पर किया जा रहा है पीलिया से बचाव के लिए जल शोधन संयंत्र के पानी की टेस्टिंग दिन में तीन बार की जा रही है।

 

17-04-2020
कलेक्टर ने आवश्यक वस्तुओं से संबंधित उद्योगों के संबंध में अधिकारियों से किया विचार-विमर्श


राजनांदगाव। कलेक्टर  जयप्रकाश मौर्य ने निकट भविष्य में आवश्यक वस्तुओं के उत्पादन से संबंधित उद्योगों को शुरू करने के राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के परिप्रेक्ष्य में आज संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक लेकर जरूरी विचार-विमर्श किया। बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तनुजा सलाम, एसडीएम राजनांदगांव मुकेश रावटे, महाप्रबंधक जिला उद्योग एवं व्यापर केन्द्र राजनांदगांव जे. मेश्राम, श्रम पदाधिकारी अनिल कुजूर, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत कुर्रे, जिला पंचायत और जिला कार्यालय में स्थापित कॉल सेन्टरों के प्रभारी अधिकारी और अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।कलेक्टर ने बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए आवश्यक सेवाओं जैसे खाद्य प्रसंस्करण, चिकित्सा संबंधित आवश्यक दवाओं एवं उपकरणों से संबंधित औद्योगिक ईकाईयों को शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। इस तरह की ईकाईयों को शुरू करते समय वहां के कामगारों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए समुचित उपाय करना पड़ेगा।

जिलाधीश ने कहा कि जरूरी उद्योगों को शुरू करने के लिए कार्ययोजना बनाने तथा केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों का परिपालन सुनिश्चित करने के लिए सीईओ जिला पंचायत की अध्यक्षता में कमेटी बनाई जाएगी। इसमें संबंधित क्षेत्र के एसडीएम, श्रम विभाग, उद्योग तथा हेल्थ एण्ड सेफ्टी विभाग के अधिकारी शामिल रहेंगे। समिति पर शासन की गाइड लाइन का पालन कराने की जिम्मेदारी होगी। उन्होंने जरूरी सामग्री से संबंधित उद्योगों के प्रतिनिधियों की कार्यशाला आयोजित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने कहा जो श्रमिक एक बार काम करने अंदर जाएंगे वे 28 दिन तक वहीं रहेंगे। श्रमिकों के लिए भोजन और आवास की व्यवस्था परिसर में ही होगी। दूसरे राज्यों और अन्य जिलों के ऐसे श्रमिक,जो लॉकडाउन में राजनांदगांव जिले में फंस गए हैं, उन्हें इन औद्योगिक ईकाईयों में रखने के लिए कार्रवाई की जाए।

 

17-04-2020
अजीत जोगी ने भूपेश बघेल को लिखा पत्र, महुआ फुल खरीदी के संबंध में कही बात, श्रमिकों की सौंपी सूची

रायपुर। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अजीत जोगी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है। पत्र के माध्यम से जोगी ने राज्य शासन की ओर से निर्धारित किए गए महुआ फुल खरीदी की दर 17 रुपए प्रति किलोग्राम से बढ़ाकर 40 रुपए प्रति किलोग्राम करने की मांग की है। पूर्व मुख्यमंत्री जोगी ने लॉक डाउन के कारण महुआ फुल खरीदी के संबंध में मुख्यमंत्री बघेल को प्रदेश की स्थिति से अवगत कराया है।

साथ ही कहा कि इस वर्ष मौसम अनुकूल नहीं होने के कारण राज्य में महुआ का संग्रहण एक तिहाई से भी कम रहने का अनुमान है। इसी तरह अजीत जोगी ने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अवगत कराया कि विगत कई दिनों से लॉक डाउन के कारण छत्तीसगढ़ से प्रदेश के बाहर मजदूरी करने गए छत्तीसगढ़वासी फंसे हुए हैं। श्रमिक लगातार अजीत जोगी से फोन के माध्यम से संपर्क में है। सभी की जानकारी अजीत जोगी ने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को दी है। बाहर फंसे उक्त श्रमिकों की समस्या का निराकरण करने अजीत जोगी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आग्रह किया है। पत्र देखने के लिए यहां क्लिक करें...

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804