GLIBS
18-10-2020
बस्तर संभाग के होनहार बच्चे गांव में डॉक्टर बनकर करेंगे सेवा,विशेष कोचिंग से मिली नीट परीक्षा में सफलता

रायपुर। प्रदेश के बस्तर संभाग के होनहार बच्चे अब खुद डॉक्टर बनकर लोगों की सेवा करेंगे। छत्तीसगढ सरकार की ओर से प्रतिभावान बच्चों को अखिल भारतीय मेडिकल प्रवेश परीक्षा के लिए विशेष कोचिंग की व्यवस्था की गई है। प्रयास विद्यालयों और जिला प्रशासन की पहल पर ऐसे बच्चों की प्रतिभा निखारने के प्रयासों को अच्छी सफलता मिल रही है। नारायणपुर जिले के ताड़ोपाल में रहने वाले हेमंत ने बताया कि वह लघु सीमांत परिवार से ताल्लुक रखते हैं। गांव के अस्पताल में चिकित्सक के अभाव को देखकर खुद डॉक्टर बनने की ठानी और अपने दूसरे प्रयास में सफलता मिली। राज्य शासन की  प्रयास आवासीय विद्यालय गरीब जरुरतमंद और होनहार विद्यार्थियों को सही दिशा  प्रदान कर उनका उनका  तकदीर सुधारने में अत्यंत कारगर साबित हो रही है। इस योजना के अंतर्गत मिले उच्च स्तरीय अध्ययन अध्यापन की सुविधा, परिवेश और प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए मिले प्रशिक्षण के कारण अनेक होनहारों  के सपनों को पंख मिल रहा है।
जगदलपुर विकासखंड के कुम्हरावंड ग्राम पंचायत के पल्लीगांव में रहने वाले शिक्षक लखन कश्यप के पुत्र लुप्तेश्वर ने भी इस बार नीट की परीक्षा में सफलता प्राप्त कर पूरे घर में खुशियां भर दी हैं। लुप्तेश्वर ने अपनी इस सफलता का श्रेय प्रयास आवासीय विद्यालय और इस योजना को दिया है। लुप्तेश्वर चिकित्सक बनकर गरीबों एवम जरुरतमंदों की सेवा करना चाहतें है।

बीजापुर जिले में जिला प्रशासन और एनएमडीसी के सहयोग से संचालित कार्यक्रम छुू लो आसमान कार्यक्रम के तहत कृषक परिवारों के 5 बच्चों ने देश की सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट को क्वालीफाई कर अपनी मेहनत और लगन को साबित कर दिया है। ये सभी बच्चे साधनों की कमी और दूरस्थ इलाके से होने के वाबजूद इस सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा में सफलता हासिल कर अन्य बच्चों के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गये हैं। परीक्षा में अजय कलमूम, सुरेश मड़कम, सीमा भगत, शुनू झाड़ी और हरीश एगड़े ने नीट प्रवेश परीक्षा में सफलता हासिल की है। देश की सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट क्वालीफाई करने वाले इन बच्चों में उसूर ब्लॉक अंतर्गत कोत्तागुडम निवासी सुरेश मड़कम के पिता का स्वर्गवास हो चुका है। सुरेश ने बताया कि माता शांति सहित दो बड़े भाई संतोष और अर्जुन खेती-किसानी कर उसे पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करते हैं। सुरेश भी 12वीं में 60 प्रतिशत अंक हासिल कर अपने भाईयों के सपने को साकार करने कृतसंकल्पित है। अजय ने बताया कि उसके माता-पिता रामेश्वरी और सोमारू खेती-किसानी कर उसे पढ़ाई करवा रहे हैं, अजय को भरोसा है कि उसे मेडिकल कॉलेज में अवश्य प्रवेश मिलेगी। बीजापुर निवासी सीमा भगत ने बताया कि पिता का स्वर्गवास हो चुका है और बड़े भाई अर्जुन भगत उसकी पढ़ाई पर ध्यान दे रहे हैं। एक छोटा भाई प्रीतम बीएससी द्वितीय वर्ष की पढ़ाई कर रहा है। सीमा ने बताया कि माता बृहस्पति भगत गृहणी हैं और उसकी पढ़ाई पर सतत ध्यान देती हैं। बीजापुर के ही रहने वाले हरीश एगड़े और बीजापुर ब्लाक के पापनपाल निवासी शीनू झाड़ी ने भी देश की मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट क्वालीफाई केर जिले का नाम रौशन किया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804