GLIBS
17-09-2020
चीन मामले में कांग्रेस पूरी तरह से सेना के साथ : एके एंटनी

नई दिल्ली। राज्यसभा में विपक्षी नेताओं को अपनी बात कहने का मौका मिला। राजनाथ के संबोधन के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, एके एंटनी और आनंद शर्मा ने सदन में अपनी बात कही। गुलाम नबी आजाद बोले कि देश की संप्रभुता के मसले पर सभी एकजुट हैं। मैंने दो बार सियाचिन का दौरा किया है, चुशूल में भी सैनिकों के साथ बोटिंग की है। गुलाम नबी ने बताया कि उन्होंने और राजीव गांधी ने चुशूल के बंकरों में रात गुजारी थी। हम सरकार के साथ खड़े हैं और हमें अप्रैल से पहले की स्थिति पर सीमा पर वापस जाना चाहिए। पूर्व मंत्री एके एंटनी ने भी सदन में अपनी बात कही और बोले कि कांग्रेस इस मामले में पूरी तरह से सेना के साथ है। इस दौरान उन्होंने एक क्लेरीफिकेशन मांगा और कहा कि रक्षा मंत्री ने कहा कि संप्रुभता की रक्षा करने में अप्रैल से पहले की स्थिति फिर से स्थापित करना शामिल है।

 

17-09-2020
चीन ने की एलएसी की यथास्थिति बदलने की कोशिश : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली। संसद के मानसून सत्र के चौथे दिन राज्यसभा में भारत-चीन सीमा विवाद पर बोलते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन ने एलएसी की यथास्थिति बदलने की कोशिश की है। रक्षा मंत्री ने कहा कि चीन पर भारत बड़ा और कड़ा कदम उठाने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, “सदन इस बात से अवगत है कि भारत और चीन सीमा का प्रश्न अभी तक अनसुलझा है। भारत और चीन की बाउंड्री का कस्टमरी और ट्रेडिशनल अलाइनमेंट चीन नहीं मानता है। यह सीमा रेखा अच्छे से स्थापित भौगोलिक सिद्धांतों पर आधारित है।” रक्षा मंत्री ने कहा,“चीन मानता है कि बाउंड्री अभी भी औपचारिक तरीके से निर्धारित नहीं है। उसका मानना है कि हिस्टोरिक्ल जुरिस्डिक्शन के आधार पर जो ट्रेडिश्नल कस्टमरी लाइन है उसके बारे में दोनों देशों की अलग व्याख्या है। 1950-60 के दशक में इस पर बातचीत हो रही थी पर कोई समाधान नहीं निकला।

” राजनाथ सिंह ने आगे कहा, “सदन को जानकारी है कि पिछले कई दशकों में चीन ने बड़े पैमाने पर इन्फ्रास्ट्रक्चर एक्टिविटी शुरू की है, जिससे बॉर्डर एरिया में उनकी तैनाती की क्षमता बढ़ी है। इसके जबाव में हमारी सरकार ने भी बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास का बजट बढ़ाया है, जो पहले से लगभग दोगुना हुआ है।” राजनाथ सिंह ने कहा, “यह सच है कि हम लद्दाख में एक चुनौती के दौर से गुजर रहे हैं लेकिन साथ ही मुझे भरोसा है कि हमारा देश और हमारे वीर जवान इस चुनौती पर खरे उतरेंगे। मैं इस सदन से अनुरोध करता हूं कि हम एक ध्वनि से अपनी सेनाओं की बहादुरी और उनके अदम्य साहस के प्रति सम्मान प्रदर्शित करें। इस सदन से दिया गया, एकता और पूर्ण विश्वास का संदेश, पूरे देश और पूरे विश्व में गूंजेगा, और हमारे जवान, जो कि चीनी सेनाओं से आंख से आंख मिलाकर अडिग खड़े हैं, उनमें एक नए मनोबल, ऊर्जा व उत्साह का संचार होगा।”

 

15-09-2020
संसद में एयरक्राफ्ट संशोधन बिल 2020 पास, यात्रियों की सुरक्षा में कोताही बरतने पर लगेगा 1 करोड़ का जुर्माना

नई दिल्ली। राज्यसभा से एयरक्राफ्ट संशोधन बिल 2020 पास हो गया है। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि इस बिल से भारत में नागरिक उड्डयन क्षेत्र में तीन विनियामक निकायों, नागरिक उड्डयन महानिदेशालय, नागरिक उड्डयन सुरक्षा कार्यालय और विमान दुर्घटना जांच कार्यालय को और ज्यादा असरदार बनाया जा सकेगा। हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि इस बिल से देश में विमान संचालन की सुरक्षा का स्तर बढ़ाने में मदद मिलेगी। यह विधेयक विमान अधिनियम 1934 में संशोधन करेगा और इससे जुर्माने की राशि की अधिकतम सीमा को बढ़ाया जाएगा। अभी अधिकमत जुर्माना सीमा 10 लाख रुपये है, जिसे विधेयक में बढ़ाकर एक करोड़ रुपये कर दिया गया है।

इसके अलावा हथियार, गोला बारूद या खतरनाक वस्तुएं ले जाने या विमान की सुरक्षा को किसी भी तरह से खतरे में डालने का दोषी पाए जाने पर सजा के अलावा विधेयक में जुर्माने की राशि दस लाख रुपये थी। एयरक्राफ्ट बिल में संशोधन करके जुर्माने की राशि को दस लाख रुपये से बढ़ाकर एक करोड़ रुपये कर दिया गया है। एयरक्राफ्ट संशोधन बिल का कांग्रेस सांसद केसी वेणुगोपाल ने विरोध किया, उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस पीपीपी मॉडल से हवाई अड्डे को विकसित करने के नाम पर कई तरह के घोटाले किए जा सकते हैं। वहीं बीजेपी सांसद जीवीएल नरसिम्हा राव बिल का बचाव किया। जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा कि इस बिल में भारत के विमानन क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाया जा सकता है, क्योंकि इससे यात्रियों के आवागमन में भारी वृद्धि हुई है।

 

 

14-09-2020
राज्यसभा के उप सभापति निर्वाचित जनता दल यूनाइटेड के हरिवंश प्रसाद

नई दिल्ली। जनता दल यूनाइटेड (जद यू) के नेता हरिवंश प्रसाद को सर्वसम्मित से राज्यसभा का उप सभापति निर्वाचित घोषित किया गया। हरिवंश दोबारा सदन के उपसभापति चुने गए हैं। उनका कार्यकाल हाल ही में समाप्त हुआ था। सभापति एम.वेंकैया नायडू ने सदन को बताया कि उप सभापति के चुनाव के लिए उन्हें दो उम्मीदवारों के पक्ष में प्रस्ताव मिले हैं। जद यू के हरिवंश को उप सभापति निर्वाचित करने के लिए भारतीय जनता पार्टी के जगत प्रकाश नड्डा ने प्रस्ताव पेश किया है और सदन के नेता थावरचंद गेहलोत ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने राष्ट्रीय जनता दल के मनोज झा को उप सभापति निर्वाचित करने का प्रस्ताव किया है। कांग्रेस के आनंद शर्मा ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया। द्रमुक के तिरूचि शिवा और समाजवादी पार्टी के जावेद अली ने भी मनोज झा के समर्थन में प्रस्ताव किया। नायडू ने कहा कि वह पहले हरिवंश से संबंधित प्रस्ताव को सदन के सामने रखते हैं। इस प्रस्ताव को बहुमत से समर्थन मिलने की घोषणा करते हुए नायडू ने उन्हें निर्वाचित घोषित किया। इसके बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेता हरिवंश को उनके स्थान तक ले गये। सदन में मौजूद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, नायडू, आजाद, तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और सपा के रामगोपाल यादव ने हरिवंश को बधाई देते हुए सदन में उनके योगदान का उल्लेख किया।

 

16-08-2020
संसद में दिखेगा कोरोना वायरस का असर,बैठक व्यवस्था में होगा बदलाव,की गईं खास तैयारियां

नई दिल्ली। कोविड-19 के मद्देनजर पहली बार कई तरह की कवायदों के साथ संसद के मॉनसून सत्र के लिए तैयारियां की जा रही हैं। संक्रमण से बचाव के लिए लोकसभा और राज्यसभा में बैठने की व्यवस्था में भी बदलाव किया जा रहा है। उचित दूरी का पालन करते हुए सदस्यों के बैठने के लिए दोनों चैंबरों और दीर्घाओं का इस्तेमाल होगा। अधिकारियों ने इस बारे में बताया। अगस्त के अंतिम सप्ताह या सितंबर के आरंभ में मॉनसून सत्र की शुरुआत होने की संभावना है।
राज्यसभा सचिवालय के मुताबिक सत्र के दौरान ऊपरी सदन के सदस्यों को दोनों चैंबर और दीर्घाओं में बैठाया जाएगा। भारतीय संसद के इतिहास में पहली बार इस तरह की व्यवस्था होगी जहां 60 सदस्य चैंबर में बैठेंगे और 51 सदस्य राज्यसभा की दीर्घाओं में बैठेंगे। इसके अलावा बाकी 132 सदस्य लोकसभा के चैंबर में बैठेंगे। लोकसभा सचिवालय भी सदस्यों के बैठने के लिए इसी तरह की व्यवस्था कर रहा है।

दीर्घाओं से भागीदारी के लिए पहली बार बड़े डिस्प्ले वाली स्क्रीन और कंसोल लगाए जाएंगे। दोनों सदनों के बीच विशेष तार बिछाए जाएंगे और कुर्सियों के बीच पॉलीकार्बोनेट शीट की व्यवस्था होगी। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू और लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला ने 17 जुलाई को बैठक कर सत्र चलाने के लिए विभिन्न विकल्पों पर विचार-विमर्श करने के बाद दोनों सदनों के चैंबरों और दीर्घाओं का इस्तेमाल करने का फैसला किया।
नायडू ने अधिकारियों को अगस्त के तीसरे सप्ताह तक सत्र के लिए तैयारियां पूरी कर लेने का निर्देश दिया था, ताकि इस व्यवस्था का मुआयना हो जाए और इसे अंतिम रूप दिया जा सके। राज्यसभा सचिवालय भी इस काम के लिए पिछले दो सप्ताह से लगातार काम कर रहा है।

सूत्रों ने बताया कि आम तौर पर दोनों सदनों में एक साथ बैठकें होती हैं लेकिन इस बार असाधारण परिस्थिति के कारण एक सदन सुबह के समय बैठेगा और दूसरे की कार्यवाही शाम में होगी। कोरोना वायरस महामारी के कारण संसद के बजट सत्र की अवधि में कटौती कर दी गयी थी और 23 मार्च को दोनों सदनों को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया था। परिपाटी के तहत अंतिम सत्र से छह महीने के अंत के पहले संसद का सत्र आहूत होता है।
अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 का प्रसार रोकने के लिए सामाजिक दूरी के नियमों के पालन के साथ पहली बार सदन में बैठने की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने बताया कि विभिन्न दलों को संख्या के आधार पर राज्यसभा के चैंबर और दीर्घाओं में सीट आवंटित किए जाएंगे और बाकी सदस्यों को सत्तारूढ़ दलों और अन्य के लिए दो खंड में लोकसभा के चैंबर में बैठाया जाएगा। राज्यसभा चैंबर के भीतर प्रधानमंत्री, सदन के नेता, विपक्ष के नेता और अन्य दलों के नेताओं के लिए सीटें चिन्हित की जाएंगी। पूर्व प्रधानमंत्री-मनमोहन सिंह और एचडी देवेगौड़ा के साथ ही केंद्रीय मंत्रियों और राज्यसभा सदस्य-रामविलास पासवान और रामदास आठवले के लिए भी सदन के चैंबर में चिन्हित सीटें होंगी। अन्य मंत्रियों को सत्तारूढ़ सदस्यों के लिए तय सीटों पर बैठाया जाएगा।

 

22-07-2020
ज्योतिरादित्य, प्रियंका चतुर्वेदी सहित 45 नवनिर्वाचित सदस्यों ने ली राज्यसभा में शपथ

नई दिल्ली। राज्यसभा के नवनिर्वाचित सदस्य सदन के चेंबर में शपथ ली। राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सदस्यों को चेंबर में शपथ दिलाई। अधिकारियों ने कहा कि यह पहला मौका है, जब अंतर सत्र की अवधि में सदस्य सदन के चेंबर में शपथ ली, ताकि कोविड-19 के मद्देनजर सामाजिक दूरी के मानकों का पालन किया जा सके। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश, राकांपा प्रमुख शरद पवार, मप्र के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे समेत आज 45 राज्यसभा सांसदों ने शपथ ली है। शपथ समारोह के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया। शपथग्रहण आमतौर पर या तो सत्र के दौरान होता है अथवा जब संसद सत्र नहीं होता है तब राज्यसभा के सभापति के चेम्बर में होता है। राज्यसभा के लिए हाल के चुनाव में 20 राज्यों से 61 सदस्य निर्वाचित हुए हैं। हालांकि आज 45 सदस्य ही शपथ ले पाएं। इसमें पहली बार 36 सदस्य चुन कर आए हैं। उच्च सदन के नवनिर्वाचित 61 सदस्यों में से 45 को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू ने बुधवार को उच्च सदन के नवनिर्वाचित 61 सदस्यों में से 45 को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। कोविड-19 महामारी के कारण अंतर सत्र के दौरान शपथ ग्रहण समारोह राज्यसभा के चेंबर में आयोजित किया गया। इस अवसर पर उपराष्ट्रपति एवं उच्च सदन के सभापति वेंकैया नायडू ने कहा, ‘देश के विधि निर्माता के रूप में आपका चुनाव हुआ है। अपने दायित्व के निर्वहन में आप सुनिश्चित करें कि सदन में आपका आचरण नियमों के अनुकूल हो, स्थापित मानदंडों के अनुरूप हो और सदन के बाहर आपका आचरण नैतिकता के मानदंडों के अनुसार हो।’

उन्होंने कहा कि तत्काल लाभ के लिए सदन में बाधा-व्यवधान डालने के प्रलोभन में न पड़ें बल्कि जनता की दृष्टि में इस सदन का सम्मान बढ़ाने के प्रति सदैव सचेत रहें। कानून का शासन लागू हो यही देश का विधान है। और इसकी शुरुआत आप ही से होती है, जब आप सदन के नियमों और प्रथाओं का पालन करते हैं। शपथ ग्रहण करने वाले सदस्यों में 36 सदस्य ऐसे हैं जो पहली बार राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ले रहे हैं। भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पहली बार राज्यसभा में दिखेंगे। 2019 लोकसभा चुनाव गुना से हारने के बाद वह कुछ माह पहले ही कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। इस बार वह भाजपा सांसद के रूप में दिखेंगे। राज्यसभा के चुने सदस्यों में बीजेपी के 17, कांग्रेस के 9, जेडीयू के 3, बीजद और वाईएसआर कांग्रेस के चार-चार, अन्नाद्रमुक और द्रमुक ने तीन-तीन, एनसीपी, आरजेडी और टीआरएस ने दो-दो और शेष सीटें अन्य ने जीतीं। इन नए सदस्यों में से 43 पहली बार चुने गए हैं बाकी सदस्यों ने दोबारा राज्यसभा में वापसी की है।

 

26-06-2020
छाया वर्मा का संसद रत्न पुरस्कार के लिए चयन, 10 सांसदों का होगा सम्मान

रायपुर। प्रदेश के लिए गौरव की बात है कि राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा का चयन संसद रत्न पुरस्कार के लिए हुआ है। 2 राज्यसभा और 8 लोकसभा सदस्यों को सत्रहवीं लोकसभा के प्रथम वर्ष के दौरान, उनके प्रदर्शन के आधार पर विभिन्न श्रेणियों के तहत चयन किया गया है। प्राइम प्वाइंट फाउंडेशन पूर्व राष्ट्रपति स्व.एपीजे अब्दुल कलाम के सुझाव के बाद 2010 से संसद रत्न पुरस्कार के साथ लोकसभा में शीर्ष प्रदर्शन करने वाले सांसदों को सम्मानित कर रहा है। संसद रत्न पुरस्कार 2020 के लिए नामित सांसदों में राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा, विशम्भर प्रसाद निषाद और लोकसभा सदस्य सुप्रिया सुले, सुभाष रामराव भामरे, हीना गावित, अमोल रामसिंग कोल्हे, शशि थरूर, निशिकांत दुबे, अजय मिश्रा, राममोहन नायडू है। राज्यसभा के वर्तमान सांसदों को सम्मानित करने की इस श्रेणी को इस साल शुरू किया गया है।

प्राइम प्वाइंट फाउंडेशन के अनुसार भर्तृहरि महताब,सुप्रिया सुले और श्रीरंग अप्पा बार्ने को 16वीं लोकसभा में निरंतर गुणात्मक प्रदर्शन के लिए प्रतिष्ठित संसद महारत्न पुरस्कार प्राप्त होगा। यह पुरस्कार पांच साल में एक बार दिया जाता है। पुरस्कार पाने वालों का चयन संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल की अध्यक्षता में आयोजित तीन सदस्यीय निर्णायक मंडली की ओर से किया गया। अन्य दो सांसद एनके प्रेमचंद्रन और श्रीरंग अप्पा बार्ने हैं। तीनों जूरी सदस्य पिछली लोकसभा में संसद रत्न पुरस्कारों के उत्कृष्ट सांसद और प्राप्तकर्ता रहे हैं। मेघवाल के अनुसार नागरिक समाज से सांसदों की मान्यता और प्रदर्शन समीक्षा से लोकतंत्र को मजबूत करने में मदद मिलती है।

20-06-2020
मध्यप्रदेश: भाजपा विधायक कोरोना पॉजिटिव, राज्यसभा चुनाव के दौरान मिले थे बड़े नेताओं से

भोपाल। मध्यप्रदेश के नीमच जिले की जावद विधानसभा सीट से भाजपा विधायक ओमप्रकाश सखलेचा कि रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आने की खबर है। सखलेचा ने शुक्रवार को राज्यसभा के लिए हुए मतदान में हिस्सा लिया था। सखलेचा की कोरोना पाजिटिव रिपोर्ट आने के बाद भाजपा संगठन, विधायकों और विधानसभा में हड़कंप मच गया है। उनके सीधे संपर्क में आये 3 विधायकों ने अपना कोविड-19 टेस्ट करवाया है। बता दें कि इससे पूर्व मध्यप्रदेश में कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। सखलेचा ने शुक्रवार को राज्यसभा के लिए हुए मतदान में हिस्सा लिया था। इसके पूर्व वे भाजपा विधायक दल की बैठकों में भी शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर, भाजपा के प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुदधे सहित भाजपा के विधायकों और मंत्रियों से भी मुलाकात की थी।

अब उनके संपर्क में आने वाले विधायकों का टेस्ट किया जा रहा है। अब तक तीन विधायक ने राजधानी के जेपी अस्पताल में टेस्ट कराया है। विधायक सकलेचा की जो हिस्ट्री सामने आई है, उसके अनुसार जावद में इनके घर के पास एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद विधायक अपने परिवार  के साथ फार्म हाउस में रहने चले गए थे। फार्म हाउस में रहने के दौरान ये लोगों से मिलते रहे। इसके बाद 16 जून को भोपाल आ गए। यहां वह राज्यसभा चुनावों को लेकर लगातार भाजपा नेताओं और विधायकों  से मिलते रहे। बता दें कि कांग्रेस के कालापीपल से विधायक और प्रदेश युवक कांग्रेस के अध्यक्ष कुणाल चौधरी पहले से ही कोरोना संक्रमित है, उनका भोपाल में  इलाज चल रहा है। वह शुक्रवार को विधान सभा में राज्यसभा के लिए पीपीई किट पहनकर मतदान करने भी गए थे। 

 

20-06-2020
राज्यसभा की 19 सीटों पर हुए चुनाव में किसे मिली जीत, पढ़े पूरी खबर...

नई दिल्ली। देश के आठ राज्यों की 19 राज्यसभा सीटों पर शुक्रवार को वोटिंग हुई। सभी सीटों के परिणाम भी सामने आ गए हैं। राज्यसभा सासंद के इस चुनाव में कुछ राज्यों में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली। बीजेपी को जहां गुजरात में तीन और मध्य प्रदेश में दो सीटें मिलीं, वहीं कांग्रेस ने राजस्थान में दो और गुजरात-मध्य प्रदेश में एक-एक सीट पर कामयाबी हासिल की।

मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह ने हासिल किए सबसे ज्यादा वोट

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह को मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा वोट मिले। उन्होंने 57 वोटों के साथ पहला स्थान प्राप्त किया। वहीं कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को 56 और बीजेपी के सुमेर सिंद सोलंकी को 55 वोट मिले। हालांकि, चुनाव में क्रास वोटिंग भी हुई। बीजेपी के विधायक गोपीलाल जाटव ने अपनी पार्टी के प्रत्याशी की जगह कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय को वोट दिया।

जानें क्या रहा गुजरात का हाल

गुजरात की चार राज्यसभा सीटों पर हुए चुनाव में बीजेपी को बड़ी कामयाबी मिली। बीजेपी प्रत्याशी अभय भारद्वाज, रमिलाबेन बारा और नरहरी अमीन को यहां जीते मिली। वहीं कांग्रेस के शक्ति सिंह गोहिल भी राज्यसभा सांसद के लिए चुने गए।

मणिपुर में बीजोपी को मिली कामयाबी

मणिपुर की एकमात्र सीट पर हुए चुनाव में बीजेपी को कामयाबी मिली। हालांकि, यहां कांग्रेस और बीजेपी के बीच कड़ी टक्कर हुई। बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने बताया कि मणिपुर में बीजेपी प्रत्याशी को 28 और कांग्रेस प्रत्याशी को 24 वोट मिले। यहां बीजेपी के लेसेम्बा सनाजओबा को जीत मिली।

झारखंड से दीपक प्रकाश और मेघालय से डॉ.खरलुखी को मिली जीत
मेघालय में नेशनल पीपुल्स पार्टी के उम्मीदवार ने जीत हासिल की। यहां डॉ. डब्ल्यू.आर. खरलुखी ने जीत हासिल की। वहीं झारखंड में दो सीटों पर हुए चुनाव में एक सीट पर बीजेपी और एक सीट पर जेएमएम को जीत मिली। यहां बीजेपी से दीपक प्रकाश और जेएमएम से शिबू सोरेन राज्यसभा के लिए चुने गए।

आंध्र प्रदेश की चारों सीटों पर वाईएसआर का कब्जा

आंध्र प्रदेश में राज्यसभा की सभी चारों सीटों पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों को जीत हासिल हुई। इसमें दिग्गज नेता परिमल नथवानी ने भी शानदार जीत दर्ज की।

राजस्थान में कांग्रेस को मिली बड़ी कामयाबी

राजस्थान में राज्यसभा की तीन सीटों पर चुनाव हुए। यहां बीजेपी को एक और कांग्रेस को दो सीटों पर जीत मिली। कांग्रेस से केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी राज्यसभा के लिए चुने गए। वहीं बीजेपी से राजेंद्र गहलोत को जीत मिली।

वानलालवेना ने मिजोरम में हासिल की जीत

मिजोरम की इकलौती सीट पर राज्यसभा के लिए के लिए मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के वानलालवेना ने जीत हासिल की। वानलालवेना को 39 में से 27 वोट मिले।

19-06-2020
झारखंड:  झामुमो के शिबू सोरेन और भाजपा के दीपक प्रकाश पहुंचे राज्यसभा

रांची। झारखंड की दो राज्यसभा सीटों के लिए हुए चुनाव में शिबू सोरेन और दीपक प्रकाश ने जीत दर्ज कर ली है। भारतीय जनता पार्टी के दीपक प्रकाश को सबसे ज्यादा 31 वोट मिले। वहीं, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के शिबू सोरेन को 30 और कांग्रेस के प्रत्याशी शहजादा अनवर को 18 वोट मिले। यहां विधानसभा भवन में शुक्रवार को सुबह 9 बजे से 2:30 बजे के बीच राज्य के सभी 79 विधायकों ने मतदान में हिस्सा लिया था।सुबह 9 बजे से शुरू होकर मतदान शाम 4 बजे तक चलना था, लेकिन 2:30 बजे ही सभी 79 विधायकों ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया। 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में फिलहाल 79 सदस्य हैं, क्योंकि दो सीटें रिक्त हैं।झारखंड राज्य की दो राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव मैदान में सत्ताधारी झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष शिबू सोरेन के अलावा मुख्य विपक्षी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश एवं कांग्रेस के शहजादा अनवर उम्मीदवार थे। राज्य की दोनों सीटें निर्दलीय परिमल नाथवानी एवं राष्ट्रीय जनता दल के प्रेमचंद्र गुप्ता का कार्यकाल पूरा होने से रिक्त हुई है।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804