GLIBS
21-12-2020
कलेक्टर ने दिए स्वास्थ्य अधिकारियों को वैक्सीन के भंडारण के लिए तैयारी के निर्देश

रायपुर/सूरजपुर। कलेक्टर रणबीर शर्मा की अध्यक्षता में कोविड-19 वैक्सीन की तैयारियों को लेकर जिला टास्क फोर्स (टीकाकरण) की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में हुई। इसमें कोविड-19 वैक्सीन की तैयारियों को लेकर विस्तृत चर्चा की गई। बैठक में कलेक्टर ने जिले के समस्त कोल्ड चैन पॉइंट,जहां उक्त टीकों का भण्डारण किया जायेगा वहां पर जिला टीकाकरण टीम को निरीक्षण कर पाई जाने वाली कमियों को दूर करने का निर्देश दिये। मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी को कोविड-19 वैक्सीन आने से पहले जिले स्तर पर वैक्सीन के भण्डारण के लिए समस्त व्यापक तैयारियां करने के निर्देश दिये गये। जिला स्तर पर इस संबंध में साप्ताहिक बैठक का आयोजन करने के निर्देश दिए। बैठक में प्रभारी नोडल अधिकारी कोविड-19 वैक्सीन पुष्पेन्द्र शर्मा,मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.आरएस सिंह,सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डॉ.शशि तिर्की, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.अजय मरकाम तथा अन्य सदस्य उपस्थित रहे।

 

13-11-2020
अवैध पटाखें के भंडारण पर तीन आरोपियों के ख़िलाफ़ की गई कार्रवाई

जगदलपुर। कोतवाली पुलिस की अवैध पटाखा बेचने वालों के ख़िलाफ़ लगातार कार्यवाही जारी है। इसी कड़ी में शुक्रवार को कोतवाली पुलिस ने तीन लोगों,जो अवैध पटाखा बेचने की तैयारी में थे को धर दबोचा। कोतवाली थाना प्रभारी एमन साहू ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि कुछ लोगों ने बड़ी मात्रा में अवैध पटाखों का भंडारण कर रखा है। सूचना के आधार पर थाना प्रभारी ने एक टीम बनाते हुए बताई गई जगह पर दबिश देकर तीन आरोपियों को गिरफ़्तार किया। इनके पास से दस कार्टन पटाखें,जिसकी कीमत एक लाख रुपये के लगभग है,जब्त की। तीनों आरोपियों के विरुद्ध विस्फोटक अधिनियम 1984 के तहत मामला दर्ज किया है।

 

23-10-2020
प्याज की अनियंत्रित कीमतों पर काबू करने केंद्र सरकार ने लागू किए नियम,विक्रेताओं के लिए की भंडारण सीमा तय

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने प्याज की जमाखोरी रोकने तथा इसके मूल्य को नियंत्रित करने के लिए तुरंत प्रभाव से भंडारण सीमा निर्धारित कर दी है। उपभोक्ता मामलों की सचिव लीमा नंदन ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्याज के थोक विक्रेताओं के लिए भंडारण सीमा 25 टन और खुदरा विक्रेताओं के लिए यह सीमा दो टन निर्धारित की गई है। उन्होंने कहा कि पिछले डेढ माह से प्याज की कीमतें बढ रही थी। भंडारण सीमा निर्धारित किये जाने से प्याज की जमाखोरी करने वाले के साथ आवश्यक कार्रवाई की जा सकेगी। उल्लेखनीय है कि कुछ स्थानों पर प्याज का खुदरा मूल्य करीब 70 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि प्याज के मूल्य को नियंत्रित करने के लिए इसका निर्यात रोक दिया गया और इसका आयात करने का निर्णय लिया गया है। इसके साथ ही प्याज के एक लाख टन के बफर स्टाक से राज्यों को उनकी मांग के हिसाब से इसकी आपूर्ति की जा रही है। राज्यों को 25 रुपये प्रति किलो के हिसाब से प्याज दिया जा रहा है। बफर स्टाक में अब भी करीब 25 हजार टन प्याज बेचा है। केरल और असम को बफर स्टाक से प्याज की आपूर्ति की गई है। इसके अलावा तमिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश और तेलंगना ने भी प्याज की मांग की है। उन्होंने बताया कि इस बार भारी वर्षा से कुछ स्थानों में प्याज की खरीफ फसल को नुकसान हुआ है जबकि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में प्याज की पैदावार में कमी आयी है। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में 43 लाख टन प्याज उत्पादन का अनुमान था जो घटकर 37 लाख टन हो गया है। उपभोक्ता मामलों की सचिव ने कहा कि पिछले दस साल के दौरान प्याज का उत्पादन 150 लाख टन से बढकर 261 लाख टन हो गया है। वर्ष 2019-20 के दौरान रिकार्ड 261 लाख टन प्याज का उत्पादन हुआ था। इस वर्ष करीब 15 लाख टन प्याज का निर्यात किया गया है । अब एमएमटीसी और कुछ निजी कम्पनियां प्याज आयात करने की प्रक्रिया में है।

22-10-2020
प्याज की उपलब्धता व बाजार भाव की निगरानी के लिए कलेक्टरों को चिट्ठी लिखी भूपेश बघेल ने

रायपुर। भूपेश बघेल के निर्देशानुसार प्याज की उपलब्धता व बाजार भाव की निगरानी के लिए सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किया गया। राज्य शासन के खाद्य नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण विभाग से सभी जिला कलेक्टरों को उनके जिले में प्याज की उपलब्धता तथा खुदरा बाजार मूल्य की निगरानी व पर्यवेक्षण के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। जिला कलेक्टरों को जारी निर्देश में कहा गया है कि राज्य स्तरीय प्राईस मॉनिटरिंग सेल में जिलों से आवश्यक वस्तुओं के बाजार भाव के विश्लेषण से स्पष्ट हुआ है कि विगत 1 माह में प्याज के खुदरा बाजार मूल्य में अप्रत्याशित वृद्धि परिलक्षित हो रही है। सभी जिला कलेक्टर जिले में प्याज की उपलब्धता तथा खुदरा बाजार मूल्य की निगरानी एवं पर्यवेक्षण के लिए सतत कार्यवाही सुनिश्चित करें। खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग से जारी निर्देशों में कहा गया है कि प्याज के थोक व खुदरा व्यापारियों की तत्काल बैठक लेकर जिले में प्याज की उपलब्धता एवं मांग का आंकलन कर आवश्यकता अनुसार प्याज की आपूर्ति सुनिश्चित की जाए।

जिला स्तर पर प्याज की दैनिक आवक एवं खपत की नियमित समीक्षा की जाए। अन्य राज्यों से प्याज के आयात, परिवहन एवं भंडारण संबंधी कोई समस्या हो तो इसका तत्काल निराकरण किया जाए। थोक व्यापारियों के विक्रय स्थल पर प्रतिदिन प्याज का उपलब्ध स्टॉक एवं थोक विक्रय मूल्य की जानकारी अनिवार्य रूप से प्रदर्शित कराई जाए। कलेक्टरों को कहा गया है कि जिले में उपलब्ध प्याज के थोक एवं खुदरा बाजार भाव का प्रचार-प्रसार किया जाए, ताकि आम लोगों को इस संबंध में जानकारी उपलब्ध हो सके और खुदरा व्यापारी अनावश्यक अधिक मूल्य पर प्याज का विक्रय न कर सकें। इसके अतिरिक्त आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम 2020 की धारा 3 (क) के प्रावधानों के अंतर्गत कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत स्टाक लिमिट की आवश्यकता होने पर राज्य शासन को प्रस्ताव प्रेषित किया जाए। निर्देशों में यह भी स्पष्ट किया  है कि उपरोक्तानुसार कार्यवाही सुसंगत अधिनियमों के अंतर्गत सुनिश्चित की जाए।

11-05-2020
जिले में नमक की कमी नहीं, 2077 क्विंटल नमक का भंडारण, अफवाहों पर ध्यान न दें: कलेक्टर

धमतरी। जिले में वर्तमान में कुल 2077 क्विंटल नमक का भंडारण है तथा आगामी दो-तीन दिनों में नमक के अतिरिक्त स्टाॅक की आवक सुनिश्चित की जाएगी। कलेक्टर रजत बंसल ने यह स्पष्ट करते हुए बताया कि जिले में इस समय कुल 2077.63 क्विंटल नमक का भंडारण है, जिसमें 1926.63 क्विंटल नमक जिले में स्थित सहकारी क्षेत्र के वेयर हाउसों में तथा 151 क्विंटल नमक जिले की पांच निजी फर्मों में भण्डारित है। उन्होंने बताया कि जिले में नमक की किसी तरह की कमी नहीं है तथा चिल्हर राशन व्यापारियों से अपील करते हुए कहा है कि वे किसी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान नहीं दें व उचित एवं निर्धारित मूल्य पर ही इसका विक्रय करना सुनिश्चित करें। इसी प्रकार उपभोक्ताओं से भी उचित दाम पर ही नमक खरीदने की अपील की है। उन्होंने बताया कि नमक की कमी के संबंध में मिली शिकायत पर संज्ञान लेते हुए संयुक्त जांच दलों को शहर के प्रतिष्ठानों में दबिश देने के निर्देश दिए गए। अधिक मूल्य पर नमक बेचने वाले शहर के दो दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनसे जुर्माना वसूला गया, साथ ही भविष्य में ऐसा कृत्य नहीं करने की समझाइश भी दी गई। उल्लेखनीय है कि कोविड-19 वायरस के संभावित संक्रमण को लेकर जिले में लाॅक डाउन प्रभावी है। ऐसे में आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध ढंग से आपूर्ति सुनिश्चित करने लगातार प्रशासन द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं।

22-04-2020
किसानों के घर जाकर कृषि विभाग के अधि​कारियों ने बांटे बीज

कोरिया। कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देश अनुसार आपदा की घड़ी में जिले के किसानों की समस्या को समझते हुए कृषि विभाग के अधिकारियों ने स्वयं कृषकों के घर जाकर खरीफ फसल 2020 के लिए बीज उपलब्ध कराने का निर्णय लिया। उपसंचालक कृषि विभाग ने बताया कि किसानों की सुविधा के लिए कृषि विभाग के अधिकारियों ने कृषकों से मिलकर उन्हें बीज वितरण किया। इसमें उड़द 10 क्विंटल, मूंग 4 क्विंटल एवं मक्का 10 क्विंटल शामिल है। इस दौरान सोशल डिस्टेसिंग का पालन भी सुनिश्चित किया गया। लॉक डाउन के दौरान कृषि कार्यों के लिए प्रतिबंधों से मिली छूट के अंतर्गत जिले में कृषि कार्य के लिए उर्वरक का भी भंडारण कर लिया गया, जिसमें यूरिया 4 हजार 990 मीट्रीक टन, डी.ए.पी. 2200 मीट्रीक टन, एच.पी.के 1100 मीट्रीक टन, एवं अन्य प्रकार के 255 मीट्रीक टन उर्वरक का भंडारण पूर्ण कर लिया गया है। इस प्रकार कुल 8 हजार 545 मीट्रीक टन उर्वरक का भंडारण जिले में किया गया है। इसके साथ ही इस वर्ष 3 हजार 196 मीट्रीक टन उर्वरक का विक्रय किया गया है। सोशल डिस्टेंसिग का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जा रहा है।

14-02-2020
अवैध धान का परिवहन करते 295 बोरी जब्त

रायपुर। प्रदेश में अवैध धान परिवहन और भंडारण पर निरंतर कार्यवाही की जा रही है। जांजगीर चांपा और गरियाबंद जिले में अवैध धान परिवहन करते पाए जाने पर 295 बोरी धान जब्त किया गया है। जांजगीर चांपा जिले के धान खरीदी सतर्कता दल द्वारा शुक्रवार को जैजैपुर में बिना नंबर वालेे वाहन में 165 बोरी अवैध धान का परिवहन करते पाए जाने पर उसे जब्त कर मंडी अधिनियम के तहत कार्यवाही की गई। सतर्कता दल ने वाहन चालक से धान के बारे में पूछताछ की और संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर धान को जप्त कर मंडी निरीक्षक के सुपुर्द किया गया। इसी प्रकार गरियाबंद जिले मे भी 130 बोरी धान जब्त किया गया है। गरियाबंद जिल पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा विभिन्न धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण के दौरान धान उपार्जन केन्द्र परसुली में 130 कट्टा धान जब्त कर समिति प्रबंधक के सुपुर्द किया गया। निरीक्षण के दौरान बारदाना स्टाक पंजी में 28 जनवरी 2020 तक ही एंट्री होना पाया गया। बोरे में समिति का सील भी नहीं लगी थी। एक किसान के नाम से 60 क्विंटल का टोकन कटा था, जबकि बेचने के लिए कोई दूसरा किसान 130 कट्टा धान लेकर उपार्जन केन्द्र में पहुंचा था। संदेह के आधार पर मौके पर पंचनामा तैयार कर धान जप्त कर समिति प्रबंधक के सुपुर्द किया गया।

27-12-2019
बारिश ने खोली प्रशासन की व्यवस्थाओं की पोल, खुले आसमान के नीचे पड़ा है साढ़े 13 लाख क्विंटल धान

जांजगीर-चांपा। जिले में दिन भर हुई बारिश ने धान खरीदी में व्यवस्थाओं की पोल खोल कर रख दी है। जहां कई लाख कविंटल धान खुले में रखे है वही खरीदी केंद्रों में ठीक से केप कवर की व्यवस्था भी नही हो पाई है। धान खरीदी केंद्रों में लगभग 13 लाख 50 हजार क्विंटल धान जाम पड़ा हुआ है जो कि भीगने के कगार पर पहुंच गया है। ज्यादातर खरीदी केंद्रों में केप कवर की पर्याप्त व्यवस्था नही थी जिसकी वजह से धान भीगते रहे। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अब तक 22 लाख क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है जिसमे से उठाव के लिए 10 लाख क्विंटल का डीओ जारी किया गया है। अब  08 लाख क्विंटल धान का  उठाव हो सका है। इस लिहाज से लगभग 13 लाख 50 हजार क्विंटल धान बारिश के दौरान खुले में रखा हुआ है। इस धान की अनुमानित कीमत 2 अरब 47 करोड़ 72 लाख से भी ज्यादा है। जो कि धान खरीदी की अव्यवस्था को दर्शाने काफी ळे गौरतलब है की जांजगीर-चाम्पा जिले में 209 धान खरीदी केन्द्रों के माध्यम 8 लाख टन धान खरीदी का लक्ष्य रखा गया है जिसके लिए 1 लाख 73 हजार किसानों से खरीदी जारी है। वहीं सभी जगहों में अवैध परिवहन और भंडारण पे कार्यवाही तो लगातार की जा रही है लेकिन किसानो की मेहनत से उगाये धान के राख रखाव व बचाव के लिए प्रशासन को कड़े कदम उठाने पड़ेंगे।

30-11-2019
कलेक्टर ने किया धान खरीदी केंद्र प्रभारियों और कम्प्यूटर ऑपरेटरों का तबादला

जांजगीर चांपा। कलेक्टर जनक पाठक ने धान खरीदी के एक दिन पहले बड़ी कार्यवाही की है। इससे जिले में हड़कंप मचा गया है। कलेक्टर ने धान खरीदी शुरू होने के एक दिन पहले जिले के सभी धान खरीदी केंद्र के प्रभारी और कंप्यूटर ऑपरेटरों के तबादले की लिस्ट जारी की। कलेक्टर के इस आदेश के बाद पूरे जिले में हड़कंप सा मच गया है। दरअसल जिले में रकबे की कुछ गलत एंट्री होने के बाद से प्रशासन ने यह निर्णय लिया। बता दें कि 1 दिसंबर से प्रदेश के सभी धान खरीदी केंद्रों में खरीदी शुरू होनी है। इसे लेकर कलेक्टर ने व्यवस्था बनाने के निर्देश भी जारी किए हैं। वर्षो से केंद्र प्रभारी और ऑपरेटर एक ही जगह जमे हुए थे। सिस्टम को सुधारने के लिए कलेक्टर जनक पाठक के द्वारा उठाया गया यह कदम कहीं ना कहीं कारगर साबित हो सकता है। वहीं शासन के आदेश के बाद से अब तक जिले में लगातार अवैध धान के परिवहन और भंडारण पर कार्यवाही की जा रही है। जिले के कई व्यापारियों के गोदाम और दुकानों में दबिश देकर कई हजार क्विंटल अवैध धान और चावल आदि जब्त किए।  

देखिए ​सूची...

 

 

25-11-2019
एग्रो इंडस्ट्री मेें दबिश, 3122 क्विंटल अवैध धान जब्त 

जशपुरनगर। जिले में धान के अवैध भंडारण एवं परिवहन की रोकथाम के लिए कलेक्टर निलेश कुमार महादेव क्षीर सागर के मार्गदर्शन में संचालित अभियान को सोमवार को बड़ी सफलता मिली है। जिले के कांसाबेल ब्लाक के लमडाढ़ स्थित एग्रो इंडस्ट्री में अवैध रुप से भंडारित 3122.54 क्विंटल धान जब्त किया गया है। यहां यह उल्लेखनीय है कि जिले में अन्य राज्यों से धान की आवक की रोकथाम और कोचियों एवं बिचौलियों पर नियंत्रण के लिए व्यापक रूप से जांच पड़ताल का अभियान बीते 1 सप्ताह से संचालित है। जशपुर जिले में अब तक 6000 क्विंटल से अधिक अवैध धान पकड़ा गया है। जिले में अन्य राज्य से धान न आने पाये इसके लिए सीमावर्ती इलाके में 12 चेकपोस्ट बनाए गए हैं। इन चेकपोस्ट पर 24 घंटे निगरानी रखी जा रही हैं।

21-11-2019
प्रदेश में धान के अवैध परिवहन और भंडारण पर कार्रवाई जारी

रायपुर। प्रदेश में धान के अवैध परिवहन और भण्डारण के खिलाफ निरंतर कार्रवाई किया जा रहा है। बस्तर जिले के मारकेल में आज बड़ी कार्यवाही की गई और वहां के बाबा राइस मिल में बिना कागजात के अवैध रूप से रखा हुआ 7 हजार बोरा धान जब्त कर लिया गया। इस मिल को अब सील कर दिया गया है। राजस्व एवं खाद्य विभाग के अधिकारियों के संयुक्त टीम द्वारा 19 से 21 नवम्बर तक  8 हजार 688 बोरा धान जप्त किया जा चुका है। जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में बाहर के धान के अवैध आवक को रोकने के लिए चार जांच चौकियां बनायी गई है। प्रत्येक जांच चौकी में दस-दस कर्मचारियों द्वारा चौबीसों घंटे निगरानी की जा रही है।  

इसी प्रकार धान के अवैध संग्रहण एवं परिवहन अभियान के दौरान बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के बिलाईगढ़ में भी बड़़ी सफलता मिली है। एसडीएम के नेतृत्व में जांच दल ने 400 क्विंटल अवैध धान बरामद किये है। बसना मार्ग पर गश्त के दौरान वेयर हाऊस के निकट एक बड़ी ट्रक खड़ी मिली। ट्रक क्रमांक सीजी 04 जेबी 6519 में लगभग 500 बोरी लगभग 200 क्विंटल धान भरा मिला । जांच दल ने ट्रक को धान सहित जब्त कर लिया है। जांजगीर-चांपा जिले के धान खरीदी सतर्कता दल द्वारा कृषि उपज मण्डी आमनदुला के अंतर्गत 6 राइसमिलों का औचक निरीक्षण कर अवैध धान, चांवल, भण्डारण के विरूद्ध कार्यवाही की गई। इन राइसमीलों में 3 हजार 639 क्विंटल धान 619 क्विंटल चांवल और 421 क्विंटल कनकी जब्ती की कार्यवाही की गई। कोरिया जिले में अवैध धान परिवहन एवं भंडारण को रोकने के लिए लगातार चल रही कार्यवाही के दौरान आज भरतपुर के ग्राम सिरखोला में लक्ष्मी प्रसाद पाठक के गोदाम में छापेमारी के दौरान 80 क्विंटल अवैध भंडारित धान जब्त किया गया। इसी तरह बैकुण्ठपुर के ग्राम पंचायत महोरा में संजय साहू के गोदाम में अवैध धान भंडारण के संबंध में जांच की गई और 100 बोरी अवैध धान भंडारण पाया गया, उक्त धान को जांच दल द्वारा जप्त कर लिया गया है। ग्राम पंचायत आमापारा में अंचल प्रजापति के दुकान में 50 बोरी अवैध धान भंडारण पाया गया, जिसे जब्त कर लिया गया है। 

26-09-2019
एक महीने में तीन गुना बढ़ी प्याज की कीमत

जगदलपुर। करीब एक माह में प्याज के दाम तीन गुना बढ़ने से लोग परेशान है। एक महीना पहले प्याज बीस रुपये किलो में बिक रहा था और आज 60 रुपये किलो के भाव में प्याज बाजार में बिक रहा है। इससे प्याज का भंडारण कर रखने वाले व्यापारी मालामाल हो गए हैं। विगत एक वर्ष पहले बाजार में प्याज का दाम 80 रुपये किलो तक पहुंचा था जिसके चलते वर्तमान में प्याज के बढ़ते दाम को देखकर लोगों को पिछले वर्ष की तरह ही इस वर्ष भी प्याज के दाम आसमान छूने का अनुमान लगा रहे हैं। बाजार में लगातार बढ़ रहे प्याज के दाम से लोग परेशान हैं और प्याज का उपयोग भी कम करने लगे हैं। वर्तमान में बाजार में जिस गति से प्याज के दामो में वृद्धि हो रही है यदि उसी गति से बढ़ती रही तो आगामी एक-दो हफ्ते के अंदर 80 रुपये किलो तक पहुंच सकती है। 

विजय पचौरी की रिपोर्ट 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804