GLIBS
24-01-2021
धान संग्रहण केंद्र में काम करने वाले युवक की धान के स्टेक से गिरने से मौत

जांजगीर-चाम्पा। धान संग्रहण केन्द्र में धान के स्टेक के उपर हमाली का काम कर रहे युवक की मौत नीचे गिरने से हो गई। युवक का नाम भुपेन्द्र राठौर था और वह  कन्हाईबंद का रहने वाला था। युवक ठेकेदार के अंडर में रह कर हमाली का काम करता था। जांजगीर थाना क्षेत्र के खोखराभाठा धान खरीदी केन्द्र में धान का स्टेक लगाने के युवक उपर चढ़ा हुआ था। पैर फिसलने की वजह से नीचे गिर गया। युवक के नीचे गिरने के बाद मौके पर ही मौत हो गई।  आसपास के काम करने वाले अन्य और साथियों ने युवक को हास्पिटल पहुंचाया,जहां डॉक्टरांे ने युवक की मौत की पुष्टि कर दी है। सूचना पर जांजगीर पुलिस मौके पर पहुंचकर परिजनो को सूचना दी। पुलिस ने युवक के शव को पंचनामा बना कर जिला चिकित्सालय पीएम के लिए भेज गया है।

 

 

24-01-2021
धान से भरे ट्रक की चोरी करने वाला आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। विगत दिनों धरसींवा विधानसभा क्षेत्र में धान से भरे ट्रक के चोरी का मामला सामने आया था। पुलिस विभाग ने इस मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। 20-21 की रात को ट्रक वाहन और उसमें भरे 750 कट्टा धान की चोरी की घटना को अंजाम दिया गया था। बता दे कि व्यवसायी अमित कुमार गोयल ने रिपोर्ट दर्ज कराया था कि उसके श्री खाटू श्याम राइस मिल से धान समेत एक ट्रक चोरी हुई है। अपराध दर्ज होने के बाद पुलिस ने आस पास के क्षेत्र के सीसीटीवी खंगाले। पुलिस को आरोपी के बारे में जानकारी प्राप्त हुई जिसके आधार पर रायपुर डीडी नगर निवासी मधु सागर जो प्रार्थी के रिश्तेदार का ट्रक चालाक है को पकड़कर पूछताछ की गई। पूछताछ में मधु ने ट्रक और उसमें भरे धान को चोरी करना स्वीकार किया।

24-01-2021
मुख्यमंत्री के बयान पर नेता प्रतिपक्ष ने किया पलटवार, बोले- रमन सिंह को...

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह पर किए गए तीखे हमले पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने पलटवार किया है। कौशिक ने कहा कि जो भी पंजीयन हुए हैं वे सभी किसान हैं। सरकार को अपने वादे पर खरा उतरना चाहिए। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि कांग्रेस ना बताए कौन किसान है और कौन नहीं, किसान को मालूम है कब सिर में और कमर में गमछा बांधा जाता है। यह बात रमन सिंह को भी अच्छे से मालूम है। न्याय योजना की पूरी राशि आज तक नहीं दी है। रमन सरकार में भी सभी को बोनस मिला था, लेकिन हमने किसी को नहीं कहा कि बोनस ना लें, धान बेचने वाले भाजपा नेताओं की सूची जारी करना ओछी राजनीति है।

22-01-2021
जिले में अब तक 7,79,590 मैट्रिक टन धान उपार्जन, 95.6 प्रतिशत किसानों ने बेचा धान

जांजगीर-चांपा। राज्य सरकार के निर्देशानुसार खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में जांजगीर-चांपा जिले में अबतक 7,79,590 मेट्रिक टन धान का उपार्जन किया गया है। कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्गदर्शन में जिले समर्थन मूल्य पर धान की सुब्यवस्थित खरीदी की जा रही है। अब तक जिले में 1,78,417 अर्थात 95.6 प्रतिशत किसानों ने धान बेचा है। शेष किसानों से धान उपार्जन की प्रक्रिया सतत जारी है। किसानों द्वारा बेचे गए धान  के एवज में 1,456 करोड़ रुपए का भुगतान किया जा चुका है। कलेक्टर के निर्देशानुसार उपार्जन केंद्रवार और जिला स्तर पर मॉनिटरिंग के लिए जिम्मेदारी अधिकारियों को सौंपी गई है।  खरीदे गए धान की सुरक्षा के संबंध में भी निर्देश जारी कर ड्रेनेज सिस्टम,कवर कैप और डबल लेयर तिरपाल की व्यवस्था करने कहा गया है। खरीदे गए धान के उठाव के उठाव पर भी सतत निगरानी रखी जा रही है। मिलर्स द्वारा अब तक 341249 मेट्रिक टन धान का उठाव किया गया है।  उपार्जन केंद्रों से 1,72,869 मेट्रिक टन धान संग्रहण केंद्रों को प्रदाय किया गया है।
उल्लेखनीय है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर धान विक्रय के लिए जिले में कुल 1,88,425 किसानों का पंजीयन किया गया, जो गतवर्ष पंजीकृत कृषक संख्या 1,73,239 की तुलना में लगभग 15,186 अधिक है। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन के लिए जिले में कुल 2,20,302.96 हेक्टेयर धान के रकबे का पंजीयन किया गया है, जो गतवर्ष पंजीकृत रकबे 2,19,606.90 हेक्टेयर रकबे की तुलना में लगभग 696.06 हेक्टेयर अधिक है। इस वर्ष गिरदावरी के माध्यम से जिले में लगभग 20,226 नवीन किसानों के 14,059.06 हेक्टेयर नवीन रकबे का भी पंजीयन किया गया है।

 

22-01-2021
बारदाने की कमी के कारण किसान नहीं बेच पा रहे धान,व्यवस्था होने पर ही टोकन देने की बात

महासमुंद। धान खरीदी को अब 8 दिन ही बचे हैं, लेकिन धान संग्रहण केन्द्रों में अब भी बारदाने की समस्या बरकरार है। सैकड़ों किसानों के अब तक धान नहीं बिके हैं। किसान बारदाना नहीं होने की वजह से कई समितियों में धान नहीं बेच पा रहें हैं। मिलरों की ओर से समितियों को दिया गया बारदाना इतना खराब है कि उसका उपयोग किसान नहीं कर पा रहे हैं। बेलसोढ़ा के किसानों का कहना है कि फटे पुराने बारदानों में ही छांट-छांट कर अपने धान बेचने के लिए सिलाई कर धान बेच रहे हैं। कुछ किसान धान बेचने के लिए बाजार से बारदाना खरीदकर धान बेच रहे हैं। किसानों ने बताया कि 35 रुपए की लागत से किसान बारदाना बाजार से खरीद रहे हैं, जिसके एवज में किसानों को 15 रुपए बारदाने का कीमत दी जा रही है। बेलसोढ़ा धान संग्रहण केन्द्र पहुंचे लगभग दो दर्जन किसानों ने जानकारी दी है कि बारदाने की वजह से वह सुबह से अब तक समिति के प्रबंधन का चक्कर काट रहे हैं, लेकिन धान बेचने टोकन नहीं कट पा रहा है। 
किसान पुनीत राम चंद्राकर नेकहा कि वे छोटे किसान हैं,सिर्फ 58 कट्टा धान है, जिसे वे अब तक बेच नहीं पाए हैं।

समिति के अधिकारियों का कहना है कि बारदाना नहीं है, इसलिए टोकन नहीं मिलेगा। व्यवस्था होगी तब टोकन उपलब्ध कराया जाएगा। कई और किसानों ने भी इसी तरह की शिकायत बताई है। बेलसोढ़ा धान संग्रहण केन्द्र के प्रबंधक ने बताया कि समिति को 2 लाख कट्टा धान खरीदना है और अब तक 1 लाख 40 हजार कट्टा धान की खरीदी हुई है। अब भी 60 हजार कट्टा लगभग खरीदना बाकी है। समिति प्रबंधन ने यह भी जानकारी दी है कि प्रतिदिन लगभग 6 हजार कट्टा धान की खरीदी शुरूआत में की जा रही थी, लेकिन बारदाने की समस्या के कारण 6 हजार कट्टा धान की खरीदी नहीं हो पा रही है। आगामी 8 दिनों में 6 हजार कट्टा धान भी खरीदा जाएगा। तब भी 60 हजार कट्टा धान की खरीदी मुश्किल लग रही है। बता दें कि महासमुंद शहर से लगा ग्राम बेलसोढ़ा धान संग्रहण केन्द्र में  5 गांव के किसान अपना धान बेचेंगे। इस धान संग्रहण केन्द्र में बेससोढ़ा, नांदगांव, मुढ़ेना, घोड़ारी और साराडीह के किसान धान बेच रहे हैं। 1 दिसंबर से धान की खरीदी शुरू हुई है तब से लेकर अब तक समितियों में बारदाने के लाले पड़े हैं।

20-01-2021
प्रदेश में 19 जनवरी तक 80.37 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,18.93 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 19 जनवरी तक 80 लाख 37 हजार 473 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 18 लाख 93 हजार 436 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा है। राज्य के मिलरों को 27 लाख 34 हजार 188 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। मिलरों ने अब तक 24 लाख 40 हजार 154 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि 19 जनवरी तक राज्य के बस्तर जिले में एक लाख 11 हजार 764 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 53 हजार 327, दंतेवाड़ा जिले में 12 हजार 553, कांकेर जिले में 2 लाख 50 हजार 864, कोण्डागांव जिले में एक लाख 18 हजार 692 , नारायणपुर जिले में 16 हजार 419, सुकमा जिले में 31 हजार 797 , बिलासपुर जिले में 4 लाख 14 हजार 879 , गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 61 हजार 124, जांजगीर-चांपा जिले में 7 लाख 49 हजार 610, कोरबा जिले में 1 लाख 8 हजार 18 , मुंगेली जिले में 3 लाख 31 हजार 827 मीट्रिक टन खरीदी की गई है। इसी तरह रायगढ़ जिले में 4 लाख 73 हजार 174 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 4 लाख 77 हजार 531, बेमेतरा जिले में 5 लाख 53 हजार 288, दुर्ग जिले में 3 लाख 65 हजार 557 , कवर्धा जिले में 3 लाख 75 हजार 702, राजनांदगांव जिले में 6 लाख 69 हजार 636, बलौदाबाजार जिले में 5 लाख 67 हजार 285 , धमतरी जिले में 3 लाख 88 हजार 966 , गरियाबंद जिले में 2 लाख 81 हजार 436, महासमुंद जिले में 5 लाख 87 हजार 749, रायपुर जिले में 4 लाख 46 हजार 75 , बलरामपुर जिले में 1 लाख 26 हजार 229 , जशपुर जिले में 93 हजार 926 , कोरिया जिले में 98 हजार 102, सरगुजा जिले में 1 लाख 25 हजार 115 और सूरजपुर जिले में 1 लाख 46 हजार 425 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

 

 

19-01-2021
पैरा व धान से छत्तीसगढ़ महतारी का चित्र बनाने वाली वर्षा वर्मा का नाम गोल्डन बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज

रायपुर।  पैरा व धान से छत्तीसगढ़ महतारी की बेहद खुबसूरत तस्वीर बनाई थी मन्दिर हसौद की कुमारी वर्षा वर्मा ने। उनकी कला को हर किसी ने सराहा और धीरे धीरे उनकी कला विश्व स्तर पर सराही गई। नतीजन उनका नाम गोल्डन बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज हो गया। उन्हें अपनी कला के सम्मान स्वरूप मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया के सामने प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। वर्षा ने पैरा व धान के माध्यम से 10 अप्रैल 2020 को छत्तीसगढ़ महतारी की खूबसूरत तस्वीर बनाई थी। वर्षा की इस तस्वीर को न सिर्फ प्रशंसा मिली, इस उपलब्धि पर विश्व स्तर पर भी सम्मान मिला और गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में भी नाम दर्ज हो गया। गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड के अधिकृत संवाददाता सोनल राजेश शर्मा के द्वारा मंत्री डॉ. डहरिया के समक्ष उनके सरकारी कार्यालय में कु. वर्षा को प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। इस अवसर पर मंत्री डॉ. डहरिया ने वर्षा के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि वर्षा ने विश्व स्तर पर मंदिर हसौद ही नहीं छत्तीसगढ़ का गौरव बढ़ाने का काम किया है। उन्होंने ने छत्तीसगढ़ महतारी को पैरा आर्ट के माध्यम से जिस तरह से प्रस्तुत किया है वह सचमुच तारीफ के काबिल है। उन्होंने वर्षा और मौके पर उपस्थित उनकी माता श्रीमती सीमा वर्मा सहित परिजनों को इस उपलब्धि पर बधाई भी दी। वर्षा ने बताया कि वह डिग्री गर्ल्स कालेज में बीएससी कम्पयूटर साइंस की छात्रा है और 2013 से पैरा आर्ट के माध्यम से अलग-अलग महापुरुषों एवं अन्य आकृति बना चुकी है।

18-01-2021
छत्तीसगढ़ में 18 जनवरी तक 78.50 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,18.62 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 18 जनवरी तक 78 लाख 50 हजार 249 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 18 लाख 62 हजार 507 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को 27 लाख 34 हजार 188 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। इसके विरुद्ध मिलरों ने अब तक 23 लाख 81 हजार मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है।
राज्य के बस्तर जिले में एक लाख 8 हजार 294 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 52 हजार 546 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 12 हजार 127 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 2 लाख 44 हजार 662 मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में एक लाख 15 हजार 917 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 15 हजार 890 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 30 हजार 802 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 4 लाख 7 हजार 769 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 59 हजार 974 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 7 लाख 36 हजार 121 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में एक लाख 4 हजार 590 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 3 लाख 24 हजार 841 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।
इसी तरह रायगढ़ जिले में 4 लाख 62 हजार 645 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 4 लाख 68 हजार 84 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 5 लाख 42 हजार 655 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 3 लाख 57 हजार 693 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 3 लाख 69 हजार 531 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 6 लाख 52 हजार 965 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 5 लाख 49 हजार 764 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 3 लाख 80 हजार 736 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 2 लाख 75 हजार 40 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 5 लाख 68 हजार 85 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 4 लाख 35 हजार 689 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में एक लाख 22 हजार 128 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 90 हजार 859 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 95 हजार 882 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में एक लाख 22 हजार 128 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में एक लाख 42 हजार 608 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

 

16-01-2021
धान खरीदी के लिए बारदाने की व्यवस्था,फरवरी का खाद्यान्न वितरण माह जनवरी में ही करने आदेश जारी

रायपुर। राज्य शासन की ओर से धान खरीदी के लिए बारदानों की संभावित कमी की पूर्ति के लिए पीडीएस के बारदानों से खरीदी करने की अनुमति दी गई है। अतिरिक्त बारदानों की प्रतिपूर्ति के लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत माह फरवरी 2021 के खाद्यान्न का आवंटन और वितरण माह जनवरी में ही करने की अनुमति प्रदान की गई है। राज्य के सभी जिलों के खाद्य नियंत्रक एवं खाद्य अधिकारियों से खाद्यान्न वितरण के बाद पीडीएस के बारदानों को धान खरीदी के लिए उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं।छत्तीसगढ़ राज्य सरकारी विपणन संघ मर्यादित नवा रायपुर की ओर से आज आदेश जारी कर राज्य के समस्त जिला विपणन अधिकारियों को खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में धान उपार्जन के लिए बारदाना उपयोग के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। आदेश के अनुसार राज्य में धान खरीदी के लिए भारत सरकार से नए जूट बारदानों की बहुत कम आपूर्ति को ध्यान में रखते हुए किसानों के पुराने जूट बारदानों में भी धान खरीदी की अनुमति दी गई है। अब तक हुई धान खरीदी में उपयोग किए गए बारदानों की समीक्षा करने पर यह पाया गया है कि प्राय: समितियों में मिलर, एचडीपीई, पीपी व अन्य किश्म के बारदाने उपलब्ध होने के बावजूद किसान बारदाने में खरीदी की जा रही है। आगामी सप्ताह की धान खरीदी में उपलब्ध एचडीपीई, पीपी व एक भर्ती एचडीई, पीपी बारदानों का शत-प्रतिशत उपयोग किया जाए। आगामी सप्ताह के अंत में किसी भी जिले में नए एचडीपीई, पीपी के बारदाने समितियों, गोदामों में शेष नहीं होने चाहिए। मिलरों से प्राप्त होने वाले पुराने बारदानों की लक्ष्य के अनुसार पूर्ति कराएं। मिलरों से 2 लाख 69 गठान बारदाना प्राप्त करने का लक्ष्य है। इसके खिलाफ अब तक एक लाख 42 हजार 360 गठान बारदाने मिलरों से प्राप्त हुए हैं और 60 हजार 110 गठान बारदाना लेना शेष हैं। आदेश में यह भी कहा गया है कि राज्य के सभी जिलों की सभी समितियों को धान उपार्जन के लिए उपलब्ध मिलर व एचडीपीई, पीपी बारदानों का उपयोग उनके द्वारा नहीं किया जाता है, तो उनके पास इन शेष बारदानों की वापसी नहीं किया जाएगा और शेष बारदानों की राशि की कटौती संबंधित समितियों से की जाएगी। किसानों के द्वारा अब तक उपलब्ध कराए जा चुके पुराने जूट बारदानों के भुगतान के संबंध में निर्धारित प्रक्रिया अनुसार प्रस्ताव देने के भी निर्देश दिए गए हैं, ताकि किसानों को निर्धारित दर पर अविलम्ब भुगतान भुगतान किया जा सके।

14-01-2021
छत्तीसगढ़ में अब तक 73.56 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी, 17.77 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 14 जनवरी 2021 तक 73 लाख 56 हजार 305 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 17 लाख 77 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को 24 लाख 55 हजार 727 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। मिलरों ने अब तक 20 लाख 86 हजार 352 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया है। खरीफ वर्ष 2020-21 में 14 जनवरी तक राज्य के बस्तर जिले में 99 हजार 212 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 48 हजार 856 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 10 हजार 928 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 2 लाख 28 हजार 764 मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में एक लाख 8 हजार 305 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 14 हजार 608 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 28 हजार 663 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 3 लाख 85 हजार 827 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 56 हजार 221 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 6 लाख 98 हजार 279 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 95 हजार 863 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 3 लाख 4 हजार 937 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

 इसी तरह रायगढ़ जिले में 4 लाख 36 हजार 282 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 4 लाख 43 हजार 39 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 5 लाख 13 हजार 182 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 3 लाख 37 हजार 950 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 3 लाख 52 हजार 630 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 6 लाख 11 हजार 452 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 5 लाख 6 हजार 480 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 3 लाख 57 हजार 846 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 2 लाख 59 हजार 506 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 5 लाख 15 हजार 908 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 4 लाख 9 हजार 601 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में एक लाख 14 हजार 608 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 83 हजार 537 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 88 हजार 817 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में एक लाख 14 हजार 100 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में एक लाख 31 हजार 202 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।  

 

14-01-2021
मुख्यमंत्री एनएसयूआई के एकत्रित किए गए धान को दिल्ली रवाना करेंगे

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शुक्रवार को एनएसयूआई की ओर से एकत्रित किए गए धान को दिल्ली रवाना करेंगे। एनएसयूआई प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा ने बताया कि एनएसयूआई की ओर से 5 जनवरी से जारी मुहिम "एक रुपए, एक पैली देकर बढ़ाएं किसानों का मान" का अंतिम कार्यक्रम 15 जनवरी को सुबह होगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने निवास से हरी झंडी दिखाकर एकत्रित किए गए धान को दिल्ली रवाना करेंगे। कार्यक्रम में प्रदेश के मंत्री और एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा सहित अन्य पदाधिकारी मुख्यमंत्री निवास में मौजूद रहेंगे।

 

13-01-2021
छत्तीसगढ़ में 13 जनवरी तक 71.48 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,17.38 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 13 जनवरी तक 71 लाख 48 हजार 349 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 17 लाख 38 हजार 231 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा है। राज्य के मिलरों को 23 लाख 49 हजार 271 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। मिलरों ने अब तक 20 लाख 17 हजार 49 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। खरीफ वर्ष 2020-21 में 13 जनवरी तक राज्य के बस्तर जिले में 94 हजार 950 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 47 हजार 177 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 10 हजार 474 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 2 लाख 22 हजार 40 मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में एक लाख 4 हजार 927 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 14 हजार 77 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 27 हजार 741 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 3 लाख 75 हजार 766 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 54 हजार 784 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 6 लाख 87 हजार 142 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 91 हजार 989 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 2 लाख 96 हजार 497 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

इसी तरह रायगढ़ जिले में 4 लाख 27 हजार 53 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 4 लाख 30 हजार 985 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 4 लाख 99 हजार 33 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 3 लाख 29 हजार 93 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 3 लाख 44 हजार 712 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 5 लाख 93 हजार 379 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 4 लाख 88 हजार 389 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 3 लाख 46 हजार 806 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 2 लाख 52 हजार 687 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 4 लाख 96 हजार 329 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 3 लाख 98 हजार 687 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में एक लाख 10 हजार 408 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 80 हजार 639 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 85 हजार 856 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में एक लाख 10 हजार 166 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में एक लाख 26 हजार 558 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।  

Advertise, Call Now - +91 76111 07804