GLIBS
27-05-2020
देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1.50 लाख के पार, 4337 की मौत

नई दिल्ली। देश में पिछले दो दिन में संक्रमण के नये मामलों की संख्या में आंशिक कमी और लगभग 4000 लोगाें के रोगमुक्त होने से जहां थोड़ी राहत मिली है, वहीं पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 6387 नये मामले सामने आने से देश में इससे प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या 1.50 लाख के पार पहुंच गई है। भारत इस संक्रमण से प्रभावित होने के मामले में दुनिया भर में 10वें स्थान पर है। पिछले 24 घंटों के दौरान देश के विभिन्न हिस्सों में इस संक्रमण के 6387 नये मामले दर्ज किये गये हैं तथा 170 लोगों ने जान गंवाई है। वहीं इस अवधि में 3935 लोग ठीक भी हुए हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार देश के विभिन्न राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश में अब तक इससे 151767 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 4337 लोगों की मौत हुई है।.

 देश में फिलहाल कोरोना के कुल 83004 सक्रिय मामले हैं। इससे एक दिन पहले 6535, सोमवार को 6977 और रविवार तथा शनिवार को क्रमश: 6767 और 6654 नये मामले सामने आये थे। महाराष्ट्र इस महामारी से देश में सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। इस राज्य में कोरोना ने बहुत कहर बरपाया है। महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में 2091 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद राज्य में अब तक इससे प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 54758 हो गई है। राज्य में इस जानलेवा विषाणु से अब तक 1792 लोगों की मौत हुई है तथा 16954 इसके संक्रमण से ठीक हुए हैं।

26-05-2020
भूपेश बघेल ने 28 जिलों को दिए 24.50 करोड़ रुपए, मुख्यमंत्री सहायता कोष से राशि जारी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के सभी जिलों को कुल 24 करोड़ 50 लाख रुपए की राशि जारी की है। यह राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से संबंधित जिले के खाते में जमा कर दी गई है। इस राशि का उपयोग नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम के लिए किया जाएगा। मुख्यमंत्री सचिवालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार रायपुर, बलौदाबाजार, राजनांदगांव, कबीरधाम और बिलासपुर जिले को 2-2 करोड़ रुपए, मुंगेली जिले को 1.50 करोड़ रुपए, बस्तर, कोरिया, बलरामपुर-रामानुजगंज और सूरजपुर जिले को 1-1 करोड़ रुपए, गरियाबंद, धमतरी, महासमुंद, दुर्ग, बालोद, बेमेतरा, कोंडगांव, कांकेर, दंतेवाड़ा, सुकमा, नारायणपुर, बीजापुर, कोरबा, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, जशपुर, सरगुजा और गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले को 50-50 लाख रुपए की राशि आबंटित की गई है। इसके पहले मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्रदेश के 11 जिलों को 20-20 लाख रुपए कुल 2 करोड़ 20 लाख रुपए, सभी 28 जिलों को 25-25 लाख रुपए कुल 7 करोड़ और प्रदेश के सभी 146 विकासखंडों को 10-10 लाख रुपए कुल 14 करोड़ 60 लाख रुपए की राशि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी की जा चुकी है।

 

25-05-2020
छत्तीसगढ़ में अब तक 55 हजार से अधिक सैंपलों की जांच, रोजाना 3000 से ज्यादा  

रायपुर। कोविड-19 पर नियंत्रण के लिए जांच और इलाज की छत्तीसगढ़ में पुख्ता व्यवस्था की गई है। कोरोना वायरस संक्रमितों की पहचान के लिए जांच का दायरा लगातार बढ़ाया जा रहा है। प्रदेश में स्थापित चार लैबों एम्स, रायपुर के डॉ. भीमराव अंबेडकर स्मृति चिकित्सालय तथा जगदलपुर व रायगढ़ मेडिकल कॉलेज के माध्यम से रोज तीन हजार से अधिक सैंपलों की जांच हो रही है। आरटीपीसीआर जांच के लिए इन चारों लैब में पर्याप्त मात्रा में किट उपलब्ध हैं। रायपुर के लालपुर स्थित लैब में भी ट्रू-नॉट विधि से सैंपलों की जांच की जा रही है। प्रदेश में अब तक 55 हजार से अधिक कोविड-19 संभावितों के सैंपल की जांच हो चुकी है। राजनांदगांव, बिलासपुर और अंबिकापुर के शासकीय मेडिकल कॉलेजों में भी कोरोना वायरस जांच के लिए आईसीएमआर के मानकों के अनुरूप बीएसएल-2 लैब की स्थापना का काम जोरों पर हैं। प्रदेश में कोविड-19 से निपटने की तैयारियां जनवरी माह से ही शुरू कर दी गई थीं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से रायपुर एयरपोर्ट पर विदेश और संक्रमित क्षेत्रों से लौटने वालों की निगरानी फरवरी से ही प्रारंभ कर दी गई थी। वर्तमान में बड़ी संख्या में लौट रहे प्रवासी मजदूरों की स्टेशन में ही आरडी किट से जांचकर क्वारेंटाइन सेंटर्स में भेजा जा रहा है।

क्वारेंटाइन सेंटर्स में श्रमिकों की सेहत की जांचकर कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण वालों के आरटीपीसीआर जांच के लिए सैंपल लिए जा रहे हैं। अभी तक 15 हजार से अधिक प्रवासियों के सैंपलों की आरटीपीसीआर जांच की जा चुकी है। क्वारेंटाइन सेंटर्स में प्रवासी श्रमिकों के लिए पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। किसी भी व्यक्ति की कोरोना संक्रमण से मृत्यु नहीं हुई है। कोविड-19 के इलाज के लिए प्रदेश में विशेषीकृत अस्पतालों की स्थापना के साथ ही मौजूदा अस्पतालों का सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है। विशेषीकृत अस्पतालों में इसके इलाज के लिए 1760 और अन्य अस्पतालों में 1586 बिस्तरों की व्यवस्था है। प्रदेश के 115 आइसोलेशन सेंटर्स में भी 5515 बिस्तर हैं, जहां कोविड-19 का उपचार किया जा सकता है। इस तरह कुल 8801 बिस्तरों पर अभी इलाज की व्यवस्था है। आवश्यकता पड़ने पर निजी अस्पतालों का भी अधिग्रहण कर इलाज की तैयारी है। राज्य के विभिन्न कोविड अस्पतालों में इलाजरत मरीज पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं। अब तक 67 लोग इलाज के बाद बिलकुल स्वस्थ हो चुके हैं। अलग-अलग अस्पतालों में अभी 186 मरीजों का उपचार चल रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोविड-19 के मद्देनजर स्वास्थ्य सेवाओं की मजबूती के लिए सभी जिलों को 25-25 लाख रुपए और प्रत्येक विकासखंड को दस-दस लाख रुपए मुख्यमंत्री राहत कोष से जारी किए हैं। प्रवासी श्रमिकों के लिए गांवों में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर्स की व्यवस्था राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा जिलों को जारी आपदा राहत निधि तथा ग्राम पंचायतों को दिए गए चौदहवें वित्त आयोग व मूलभूत की राशि से की जा रही है। प्रदेश में अभी 18 हजार 833 क्वारेंटाइन सेंटर्स हैं जिनकी कुल क्षमता छह लाख 90 हजार 922 है। वर्तमान में इन सेंटरों में एक लाख 72 हजार लोग रखे गए हैं। कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए अभी 47 हजार से अधिक लोग होम-क्वारेंटाइन में हैं।

25-05-2020
दिल्‍ली से बेंगलुरु पहुंचे केंद्रीय मंत्री गौड़ा, विपक्ष ने लगाया नियम तोड़ने का आरोप

 नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर विभिन्न राज्यों के विरोध के बीच सोमवार को देश में दो महीने के बाद घरेलू यात्री विमान सेवाएं फिर से शुरू कर दी गईं। केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने भी दिल्‍ली से बेंगलुरु की यात्री की। हालांकि उन्‍हें यह यात्रा महंगी पड़ गई और अब उन्‍हें विपक्ष के हमले का सामना करना पड़ा। विपक्ष ने उनके ऊपर लॉक डाउन के नियमों का उल्‍लंघन का आरोप लगाया है।विपक्ष ने आरोप लगाया है कि मंत्री सदानंद गौड़ा बेंगलुरु पहुंचने के साथ आवश्‍यक क्‍वारेंटाइन  में नहीं रहे। जब गौड़ से इस बारे में मीडिया वालों से सवाल पूछा तो उन्‍होंने कहा, कुछ खास पदों पर काम कर रहे खास लोगों को क्‍वारेंटिन के दिशा निर्देशों से छूट दी गई है। जैसे अगर डॉक्टर, नर्स और जरूरी दवाओं की सप्लाई करने वालों को क्‍वारेंटिन कर दिया जाएगा तो क्या हम कोरोना को रोक पाएंगे। उन्‍होंने आगे कहा, मैं एक मंत्री हूं और फार्माक्यूटिकल मंत्रालय को संभाल रहा हूं। मेरा फर्ज है ये सुनिश्चित करना कि देश के हर कोने में दवाइयों की पूरी सप्लाई हो। दरअसल विमान सेवा आरंभ किये जाने के बाद राज्‍य और केंद्र सरकार की ओर से यात्रा को लेकर गाइडलाइन जारी किया गया है, जिसमें एक क्‍वारेंटिन भी है। यात्रियों को अपने गंतव्‍य में पहुंचने के साथ खुद को क्‍वारेंटिन भी रखना होगा या राज्‍य की ओर से जो गाइडलाइन जारी किया गया है उसका पालन करना होगा।कर्नाटक सरकार ने भी इसको लेकर गाइडलाइन जारी की है, जिसके अनुसार, जो लोग कोविड-19 से अधिक प्रभावित राज्यों-महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, तमिलनाडु, राजस्थान और मध्यप्रदेश से आएंगे उन्हें सात दिन के लिए संस्थागत पृथक केंद्र में रहना होगा,जिसका खर्च यात्रियों को उठाना होगा।

25-05-2020
बतौर ऐहतियात सिम्स के डॉक्टर, वार्ड ब्वॉय और नर्सिंग स्टॉफ क्वारेंटाइन

रायपुर/बिलासपुर। कोविड-19 के संक्रमण से संदिग्ध प्रवासी श्रमिकों के इलाज से जुड़े सिम्स के 15 वार्ड ब्वॉय और 23 डॉक्टर्स सहित नर्सिंग स्टॉफ को क्वारेंटाइन किया गया है। ऐहतियातन के तौर पर यह किया गया है। 15 वार्ड ब्वॉय एवं आया को सदर बाजार स्थित जगदीश राज में क्वारेंटाइन किया गया है। वहीं 23 नर्सिंग स्टाफ को बस स्टैंड से शिव टॉकीज से सेंट्रल पाइंट में क्वारेंटाइन किया गया है।

23-05-2020
भूपेश बघेल ने नागरिक उड्यन राज्य मंत्री को लिखा पत्र, कहा घरेलू उड़ान से संक्रमण फैलने की संभावना से इंकार नहीं

रायपुर। देश में घरेलू उड़ान शुरु करने के फैसले पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी को पत्र लिखा है। भूपेश बघेल ने पत्र में लिखा है कि घरेलू उड़ान शुरू करने से संक्रमण फैलने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। कोविड-19 महामारी के रोकथाम तथा संक्रमण से बचाव की दृष्टि से नागरिक उड्यन मंत्रालय को प्रभावी उपायों और दिशा निर्देशों के अंतर्गत ही उड़ान की शुरुआत करनी चाहिए। राज्यों को प्रत्येक उड़ान की जानकारी और यात्रियों का विस्तृत विवरण उपलब्ध कराया जाना चाहिए। हवाई यात्रा करने वालों को 14 दिन क्वारेंटाइन केवल राज्य सरकार की ओर से संचालित और पेड क्वारेंटाइन पर रहना अनिवार्य किया जाए। उन्होंने कहा कि टिकट बुक करते समय ही इसकी जानकारी यात्रियों को दी जाए।बघेल ने पत्र में लिखा है कि गृह मंत्रालय भारत सरकार की ओर से जारी दिशा निर्देशों के अंतर्गत 18 मई से प्रारंभ लॉक डाउन फेज-4 की अवधि में उड़ानों को प्रतिबंधित किया गया है। विगत कुछ दिनों से देश में कोविड-19 से संक्रमितों की संख्या में तेजी देखी गई है। ऐसी स्थिति में उड़ान शुरू करने से संक्रमण फैलने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। राज्यों को प्रत्येक उड़ानों की जानकारी उपलब्ध कराई जाए, जिसमें उस राज्य में आने वाले यात्रियों का विस्तृत विवरण सम्मिलित हो। हवाई यात्रा करने वाले सभी यात्रियों की 14 दिन क्वारेंटाइन (केवल राज्य सरकार की ओर से संचालित और पेड क्वारेंटाइन) पर रहने को अनिवार्य किया जाए। क्वारेंटाइन संबंधी शर्त और अनिवार्यता की जानकारी यात्रियों को टिकट बुक करने के समय ही प्रदान की जाए ताकि वे नियमों से भलीभांति परिचित रहें।

 

   

 

23-05-2020
चीन में कोरोना वायरस के बिना लक्षण वाले 28 नए मामले सामने आए

नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के 28 ऐसे नए मामले सामने आए हैं, जिनमें संक्रमित व्यक्तियों में बीमारी के लक्षण नहीं दिख रहे हैं। इनमें से अधिकतर मामले वुहान में सामने आए हैं। इसके अलावा देश में संक्रमण का कोई ऐसा नया मामला सामने नहीं आया, जिसमें बीमारी के लक्षण दिख रहे हों। स्वास्थ्य अधिकारियों ने शनिवार को यह पुष्टि की। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि अभी तक 370 ऐसे संक्रमित लोगों को पृथक-वास में रखा गया है, जिनमें बीमारी के लक्षण दिखाई नहीं दे रहे हैं। इन लोगों में 26 लोग विदेश से आए हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को कोविड-19 संक्रमण के ऐसे किसी मामले की पुष्टि नहीं हुई, जिसमें बीमारी के लक्षण दिख रहे हों। उन्होंने बताया कि देश में बिना लक्षण वाले संक्रमण के 28 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें से अधिकतर मामले वुहान के हैं।

स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि प्रांत में कुल 295 संक्रमित लोगों को चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है, जिनमें संक्रमण के लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। स्थानीय स्वास्थ्य प्राधिकारी यह सुनिश्चित करने के लिए वुहान की एक करोड़ 12 लाख की आबादी की जांच करा रहे हैं कि यह संक्रमण दोबारा जोर न पकड़ सके। बता दें कि दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से लगातार जूझ रही है। इस वायरस से मरने वालों की संख्या तीन लाख 40 हजार से ज्यादा हो गई है और संक्रमितों की संख्या 53 लाख से ज्यादा हो गई है। जबकि 21 लाख 58 हजार से ज्यादा लोगों ने कोरोना को मात दी है। दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित देश अमेरिका में मृतकों की संख्या 97 हजार को पार कर गई है और 16 लाख 45 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं।

22-05-2020
जशपुर के 57671 घरों का हुआ सर्वे, 1.89 लाख लोगों में नहीं मिले कोरोना के लक्षण

रायपुर/जशपुर। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए कलेक्टर के निर्देश पर जिले में विदेशों और अन्य राज्यों से लौटे व्यक्तियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। जशपुर के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के 57671 घरों का सर्वे किया गया है और 1 लाख 89 हजार 388 लोगों के सर्वे में किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं मिले। जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.पी.सुथार और डीपीएम गनपत कुमार नायक ने बताया कि मार्च के बाद विदेश से कुल 44 यात्री आए हैं। सभी के होम आईसोलेशन और क्वारेंटाइन में रहने के 28 दिन पूरे हो चुके हैं। इन सभी के घरों के आसपास के 50-50 घरों को मिलाकर कुल 2915 घरों में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा घर-घर जाकर 10 हजार 297 लोगों का सर्वे कर जांच की गई है। इनमें किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस बीमारी के लक्षण नहीं पाए गए है।डीपीएम नायक ने बताया कि जशपुर में अब तक 57671 घरों का सर्वे पूर्ण हो गया है। जिले में 1 मार्च के बाद 3541 व्यक्ति अन्य राज्य और जिलों से लौटकर आए हैं। इन सभी की क्वारेंटाइन अवधि पूर्ण हो गई हैै। इन सभी व्यक्तियों के परिवार एवं उनके इर्द-गिर्द रहने वाले 50-50 घरों के कुल 57 हजार 671 घरों में जाकर एक्टिव सर्विलेंस की टीम ने 1 लाख 89 हजार 388 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया है। इनमें से किसी भी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण के लक्षण, अथवा सांस लेने में तकलीफ,सर्दी-बुखार इत्यादि के लक्षण नहीं मिले हैं। सीएमएचओ जशपुर सुथार ने बताया कि जिले में एक्टिव सर्विलेंस की ओर से की गई जांच में किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण नहीं पाए गए हैं।

 

 

22-05-2020
रायपुर रेल मंडल के टिकट काउंटर सेकेंड हॉफ में खुलेंगे शाम साढ़े 6 तक, रेलवे ने बताया कारण..

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के स्टेशनों के आरक्षण केंद्रों पर द्वितीय पाली में आरक्षित टिकट काउंटर दोपहर 2:00 बजे से शाम 06:30 बजे तक ही खोले जाएंगे। यात्रियों की सुविधा के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के स्टेशनों पर आरक्षण केंद्रों के टिकट काउंटर से 22 मई से खोल दिए गए हैं। यात्री टिकट बनाने भी पहुंच रहे हैं। रेलवे के मुताबिक कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए रात में जारी कर्फ्यू के कारण आरक्षण केंद्रों पर द्वितीय पारी में आरक्षित टिकट काउंटर दोपहर 2:00 बजे से शाम 06:30 बजे तक ही खोले जाएंगे।

21-05-2020
घर बैठे रोजगार पंजीयन का नवीनीकरण अब वाट्सएप्प के माध्यम से

कोरबा। कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए जिला रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन केन्द्र, कोरबा द्वारा रोजगार सहायता के इच्छुक अभ्यर्थियों का पंजीयन नवीनीकरण का कार्य अब वाट्सएप्प के माध्यम से प्राप्त दस्तावेज के आधार पर किया जायेगा।जिला रोजगार अधिकारी जेपी खाण्डे ने बताया है कि अब युवाओं को लॉक-डाउन की अवधि में कार्यालय आने की आवश्यकता नहीं है।वे रोजगार पंजीयन के नवीनीकरण के लिए वाट्सएप्प नंबर 9109308593 पर अपने रोजगार पंजीयन कार्ड को भेजकर नवीनीकरण करा सकते हैं। इसके एक हफ्ते बाद अभ्यर्थी रोजगार कार्यालय से ओरिजनल रोजगार पंजीयन कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। लॉक-डाउन की अवधि में कार्यालय की ओर से युवाओं के लिए यह सुविधा प्रारंभ की गई है। जिन आवेदकों को कैरियर कांउंसिलिंग एवं मार्गदर्शन की जरूरत हो वे जिला रोजगार अधिकारी के वाट्सएप नंबर 9109308593 पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804