GLIBS
18-10-2020
Video: डोंगरगढ़ में इस बार नहीं लगेगा मेला, ट्रेनों का स्टापेज भी बंद

राजनांदगांव। नवरात्रि पर डोंगरगढ़ में मेला नहीं लगेगा। ट्रेनों के स्टापेज पर रोक लगा दी गई है। माँ बम्लेश्वरी माई के दरबार में हर साल नवरात्रि पर बड़े पैमाने पर मेला लगता ​है। लेकिन इस बार कोरोना संकट काल के कारण रोक लगा दी गई हैं। इस बार नवरात्रि के दौरान डोंगरगढ़ में ट्रेनों का विशेष स्टापेज नहीं होगा। दर्शनार्थियों को बम्लेश्वरी मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा। वहीं डोंगरगढ़ के लिए बिलासपुर से चलने वाली स्पेशल ट्रेनें भी नहीं चलेंगी।

कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने बिलासपुर, रायपुर, जांजगीर चांपा, कोरबा और रागयढ़ के कलेक्टरों को पत्र लिखकर सूचित कर दिया है। उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि कोविड-19 के कारण मंदिर में मेला और बड़े पैमाने पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। इसे रोकने के लिए स्थानीय प्रशासन ने कुछ कड़े फैसले किए हैं। इसे अमल में लाने के लिए अन्य जिलों के अधिकारियों से सहयोग की अपील की गई है। बता दें कि हर साल नवरात्रि में रेल और अन्य माध्यमों से दर्शनार्थी मां बम्लेश्वरी का दर्शन करने डोंगरगढ़ पहुंचते हैं। इनकी संख्या लाखों में होती है। इस बार कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए कलेक्टर ने सरकारी निर्देशों का हवाला देते हुए इस बार सारी गतिविधियों पर रोक लगाने की बात कही है।

04-10-2020
Video: 5 अक्टूबर से वार्डों में होगी कोरोना जांच

राजनांदगांव। जिले में कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने विगत दिवस  बैठक आयोजित की। बैठक में सभी अधिकारियों सहित, समाजसेवी संस्थाओं, जन प्रतिनिधियों के साथ सलाह मशविरा कर एक वृहद कार्यक्रम तैयार किया ​है। इसके तहत 5 अक्टूबर पूरे शहर में वार्ड स्तर पर बूथ बना कर सभी की जांच की जाएगी। इस शिविर में 5 हजार लोगों की जांच करने का लक्ष्य रखा गया है। कलेक्टर, महापौर और सीएमएचओ सहित सभी निर्वाचित जनप्रतिनिधियों तथा पूर्व सांसद जिला भाजपा अध्यक्ष ने भी अपील जारी कर जिले को कोरोना से मुक्त करने में सहयोग करने कहा है।

03-10-2020
कोरोना जागरूकता रथ को कलेक्टर ने दिखाई हरी झंडी  

राजनांदगांव। जन जागरण के लिए तैयार किए गए कोरोना जागरूकता रथ को कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने शनिवार को जिला कार्यालय से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया है। 5 अक्टूबर को आयोजित होने वाले वृहद कोरोना जांच शिविर का आयोजन शहर में किया जाना है। कोरोना जागरूकता रथ कासा के सहयोग से समता जन कल्याण समिति की ओर से तैयार किया गया है। इस अवसर पर जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तनुजा सलाम, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉक्टर मिथलेश चौधरी उपस्थित थे।

01-10-2020
Video: कोरोना के खिलाफ जंग : राजनांदगांव के 51 वार्डों में जांच के लिए लगाएं जाएंगे शिविर

राजनांदगांव। कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने राजनांदगांव के 51 वार्डों में कोरोना जांच के लिए शिविर लगाएं जाए्रंगे। इसमें एक ही दिन में पांच हजार से ज्यादा टेस्ट कर संक्रमितों की पहचान की जाएगी। इस योजना की प्रारंभिक तैयारियों को लेकर सीएमएचओ डॉ. मिथलेश चौधरी और एसडीएम मुकेश रावटे ने अधिकारियों की दो दौर की बैठक ली। दोनों अधिकारियों ने कायर्क्रम का खाका तैयार कर लिया है। सीएमएचओ डॉ. मिथलेश चौधरी के अनुसार अक्टूबर के पहले सप्ताह में इस योजना पर काम किया जाएगा ताकि संक्रमितों की एक साथ पहचान की जा सके। इसके बाद कोरोना की चेन को तोड़ी जा सके। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप इस बात को ध्यान रखना कि कोरोना से डरना नहीं लड़ना है।

09-09-2020
एमआरपी से ज्यादा मूल्य पर दवा बेचने वालों की अब खैर नहीं,राजनांदगांव में मिल रही थी शिकायतें

रायपुर/राजनांदगांव। दवाईयों को एमआरपी से अधिक मूल्य पर बेचने पर सहायक औषधि नियंत्रक खाद्य व औषधि प्रसाधन विभाग को कार्रवाई करने के निर्देश दिए कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने। वर्तमान में कोरोना संक्रमण काल के दौरान सामान्यत: जनप्रतिनिधियों व जनसामान्य की ओर से शिकायतें प्राप्त हो रही है। मेेडिकल शॉप में दवाईयों को एमआरपी से अधिक मूल्य पर विक्रय किया जा रहा है। कलेक्टर वर्मा ने सहायक औषधि नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रसाधन विभाग राजनांदगांव को निर्देश दिए हैं कि वे अपने विभाग के निरीक्षकों की ओर से प्रतिदिन नगर के मेडिकल स्टोर्स का नियमित निरीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई करें।

05-08-2020
कलेक्टर ने रिसर्च एवं डायग्नोस्टिक लेबोरेटरी का निरीक्षण किया,कहा-लैब के बन जाने से आरटीपीसीआर टेस्ट में गति आएगी

राजनांदगांव। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने बुधवार को शासकीय मेडिकल कॉलेज पेण्ड्री में रिसर्च एवं डायग्नोस्टिक लेबोरेटरी का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने बॉयोसेफ्टी लेवल-2 रूम, टेम्प्लेट एण्ड एडिशन रूम, मास्टर मिक्स एण्ड पीसीआर रिएजेंट प्रिप्रेशन रूम, पीसीआर रूम, पोस्ट पीसीआर रूम, कोल्ड रूम, रिकार्ड रूम, स्टॉफ रूम एवं स्टरलाईजेशन रूम तथा लॉबी का निरीक्षण किया। कलेक्टर वर्मा ने कहा कि इस लैब के बन जाने से अब कोविड-19 के परीक्षण के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट में गति आएगी। उन्होंने डीन मेडिकल कॉलेज डॉ.रेणुका गहिने से लैब टेक्नीशियन एवं अन्य स्टॉफ के प्रशिक्षण के संबंध में जानकारी ली। डॉ.गहिने ने बताया कि आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए इस लैब में एक वैज्ञानिक, एक माइक्रो बॉयोलॉजिस्ट, 6 लैब टेक्नीशियन रहेंगे। उन्होंने कहा कि लेब्रोटरी में शुरूआत में आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए प्रतिदिन 250 से 300 सेम्पल का परीक्षण किया जाएगा एवं आने वाले समय में इसकी क्षमता प्रतिदिन 1000 से 1200 तक बढ़ाई जाएगी।

इस अवसर पर अधीक्षक मेडिकल कॉलेज डॉ. प्रदीप बेक उपस्थित थे। शासकीय मेडिकल कॉलेज पेण्ड्री के माइक्रो बॉयोलॉजी विभाग के अंतर्गत कोविड-19 आरटीपीसीआर टेस्ट करने के लिए वायरल रिसर्च एवं डायग्नोस्टिक लेब्रोटरी का निर्माण किया गया है। इस लैब के नोडल ऑफिसर डॉ. विजय अंबादे एवं लेब्रोटरी इंचार्ज डॉ. सिद्धार्थ पिंपलकर है। मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश चौधरी भी उपस्थित थे। लेब्रोटरी में सेम्पल प्राप्त करने वाली टीम सेम्पल लेगी और बीएसएल-2 रूम में सेम्पल का सत्यापन वेरिफिकेशन टीम के द्वारा किया जाएगा। उसके बाद सेम्पल एनालिसिस एवं आरएनए एक्सट्रेक्शन टीम आरएनए का एक्सटे्रक्शन का कार्य करेगी। निकाले हुए निष्कर्षित आरएनए का मास्टर मिक्स के साथ मिक्सिंग किया जाएगा एवं अंतिम चरण में आरटीपीसीआर मशीन के माध्यम से विश्लेषण टीम उसका परीक्षण करेगी और अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804