GLIBS
09-01-2020
बिल्डर ने एसएसपी आरिफ शेख के खिलाफ दायर की मानहानि याचिका, 5 करोड़ रुपए क्षतिपूर्ति की मांग

रायपुर। बिल्डर हरदीप सिंह ने बिलासपुर हाईकोर्ट में तत्कालीन एसपी आरिफ शेख के खिलाफ मानहानि की याचिका दायर की है। बुधवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। याचिकाकर्ता ने कहा है कि तत्कालीन एसपी ने उसे इनामी भगोड़ा घोषित कर दिया था। याचिकाकर्ता ने कहा है कि वर्ष 2016 17 में वह शहर में ही था सीएमडी कॉलेज में खालसा सेवा समिति के कार्यक्रम में मौजूद था उनके साथ कार्य समिति के पदाधिकारियों के अलावा एसपी भी मौजूद थे। इसके बावजूद भी उसे भगोड़ा घोषित कर मानहानि की गई है। इस संबंध में याचिकाकर्ता ने साक्ष्य भी पेश किए हैं। याचिकाकर्ता द्वारा अपने वकील के माध्यम से प्रस्तुत किए गए साक्ष्य के आधार पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। मामले में 27 जनवरी को अगली सुनवाई होगी। याचिकाकर्ता हरदीप सिंह ने अपनी याचिका में कहा है कि बिलासपुर के तत्कालीन एसपी आरिफ शेख ने अगस्त 2018 में इनामी भगोड़ा घोषित कर 10 हजार के इनाम की घोषणा की थी जबकि मई 2018 में बिलासपुर के एक सार्वजनिक कार्यक्रम में वे और एसपी आरिफ शेख एक ही मंच पर थे। जिसकी तस्वीर भी याचिकाकर्ता ने याचिका के साथ लगाई है। दायर याचिका के अनुसार बिलासपुर के कई अन्य कार्यक्रमों में भी याचिकाकर्ता उपस्थित था। याचिकाकर्ता ने मानहानि का दावा करते हुए पांच करोड़ रुपए क्षतिपूर्ति की मांग की है।

 

21-12-2019
शशि थरूर के खिलाफ कोर्ट ने जारी किया गिरफ्तारी वारंट

नई दिल्ली। तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस पार्टी के सांसद शशि थरूर के खिलाफ राज्य की एक अदालत ने अरेस्ट वारंट जारी किया है। अदालत ने यह वारंट शशि थरूर के अपनी एक किताब में हिंदू महिलाओं को कथित रूप से बदनाम करने के लिए उनके खिलाफ दायर एक मामले के संबंध में जारी किया है। शशि थरूर पर अपनी एक किताब में हिंदू महिलाओं के खिलाफ लिखने और मानहानि करने का आरोप है। इस मामले में कोर्ट के नोटिस के बावजूद शशि थरूर न तो खुद पेश हुए थे और न ही उनकी तरफ से कोई वकील पेश हुआ था, जिसके बाद कोर्ट ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है।

14-09-2019
मुझे वीआईपी सुविधा नहीं, माफी चाहिए : विधायक विनोद चन्द्राकर

महासमुन्द। महासमुन्द विधायक विनोद चन्द्राकर पर महिला कर्मचारी का आरोप लगाने वाले एयर इंडिया के कर्मचारी शनिवार दोपहर 12 बजे पहुंच कर उन्होंने वीआईपी मेहमान बनाने का ऑफर लेकर पहुंचे थे। लेकिन विधायक ने एयर इंडिया के इस वीआईपी ऑफर को अस्वीकार करते हुए, दो टूक कहा कि जैसे एयर इंडिया ने मुझे अपमानित किया है उसकी तरह वह माफी मांग ले फिर कोई बात नहीं। मुझे ना तो एयर इंडिया का वीआईपी सुविधा चाहिए ना ही मुझे इसकी दरकार है। गौरतलब है कि 7 सितम्बर को महासमुन्द विधायक विनोद चन्द्राकर अपने साथियों के साथ बाबाधाम एयर इंडिया की विमान से जाने एयरपोर्ट रायपुर पहुंचे थे। एयर इंडिया के एक महिला कर्मचारी ने विधायक को रोक लिया और कहा कि आप निर्धारित समय से पहुंचे नहीं है इसलिए आप ये सफर नहीं कर सकेंगे। विधायक और महिला कर्मचारी के बीच इसी बात को लेकर कुछ बातचीत हो गई। मामला मीडिया तक पहुंचा और एयर इंडिया के अधिकारियों द्वारा यह बात कही गई थी कि महासमुन्द विधायक विनोद चन्द्राकर एयरपोर्ट देर से पहुंचे थे इसलिए एयर इंडिया की महिला कर्मचारी ने उन्हें रोक दिया इस बात को लेकर विधायक नाराज हुए और महिला कर्मचारी के साथ र्दुव्यवहार किया यहां तक की महिला कर्मचारी का मोबाइल विधायक ने छीन लिया था। मीडिया ने जब विधायक चन्द्राकर से पूछा तो उन्होंने मामले को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि मैंने नहीं एयर इंडिया की महिला कर्मचारी ने मुझसे र्दुव्यवहार कर मुझे अपमानित किया है साथ ही विधायक ने कहा कि मैं किसी भी जांच के लिए तैयार हूं। एयर इंडिया अपने सीसीटीवी फूटेज की जांच करा ले दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। मीडिया में समाचार छपने से पहले ही विधायक चन्द्राकर ने मामले की शिकायत एयर इंडिया के चीफ ऑफ आथोरिर्टी से शिकायत की थी। एयर इंडिया के दो अधिकारी शनिवार विधायक निवास पहुंच थे और उन्होंने विधायक विनोद चन्द्राकर को ऑफर देते हुए कहा कि आपके साथ, जो हुआ है वह उसकी रिपोर्ट सीसीटी हमने अपने ऊपर के अधिकारियों को भेंज दी है। आप मामले को यहीं समाप्त कर दीजिए। एयर इंडिया आपको अपना वीआईपी सुविधा देगा और आपकी टिकट की कीमत भी लौटा दी जायेगी। मीडिया ने जब एयर इंडिया के कर्मचारियों से मामले में पूछताछ की तो उन्होंने मीडिया को कहा कि हम किसी तरह से मीडिया को बयान नहीं दे सकते हैं हमने अपनी रिपोर्ट अपने उच्च अधिकारियों को भेज दी है। उच्चाधिकारियों के ही कहने पर हम विधायक से मिलने आये हैं। विधायक विनोद चन्द्राकर ने एयर इंडिया के कर्मचारियों को मीडिया के सामने कहा है कि एयर इडिया मामले में माफी मांगे। वरना मैं मानहानि का दावा ठोकने तैयार हूं। आप अपने उच्चाधिकारियों को इस बात की जानकारी दे दें।

 

31-08-2019
कांग्रेस नेता राहुल गांधी को समन जारी, 3 अक्टूबर को अदालत में पेश होने का निर्देश

मुंबई। राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करने के दौरान उन्हें ‘चोरों का सरदार’ कहने पर दायर की गई एक मानहानि शिकायत पर मुंबई की एक अदालत ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को समन जारी किया है। गिरगाम मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने 28 अगस्त को समन जारी करते हुए कांग्रेस सांसद को तीन अक्टूबर को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया। यह समन महेश श्रीश्रीमाल नामक एक व्यक्ति की शिकायत पर जारी किया गया है। श्रीश्रीमाल ने प्रधानमंत्री को ‘चोरों का सरदार’ कहने पर गांधी के खिलाफ मानहानि की शिकायत दर्ज करायी थी। गांधी ने मोदी पर पिछले साल तीखा हमला करते हुए उन्हें ‘चोरों का सरदार’ कहा था। समन में कहा गया है, ‘राहुल राजीव गांधी आईपीसी की धारा 500 के तहत एक आरोप में आपकी उपस्थिति अनिवार्य है। आपको तीन अक्टूबर 2019 को अदालत के समक्ष व्यक्तिगत रूप से पेश होने का निर्देश दिया जाता है।’ श्रीश्रीमाल ने अपनी याचिका में दावा किया था कि गांधी के बयानों ने प्रधानमंत्री के समर्थकों की भावनाओं को आहत किया था। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804