GLIBS
20-11-2020
महिला का पर्स लूटने में असफल रहे लुटेरें, पुलिस ने धरदबोचा

कोरबा। दो अज्ञात लुटेरों ने दोपहिया वाहन में सवार महिला का पर्स छीनने का प्रयास किया पर असफल रहे। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाला। पतासाजी के लिए मुखबिर लगाए गए। मुखबिर की सूचना पर संदेही सूरज यादव को हिरासत में लिया गया। पूछताछ में उसने घटना को अंजाम देना कबूल किया। वहीं उसका एक अन्य साथी किशन यादव मौके से फरार होना बताया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कीर्तन राठौर ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी बलोदा बाजार जिले का रहने वाला है,जो जिले में 8 से अधिक लूटपाट और चोरी की वारदातों को अंजाम दे चुका है।पुलिस ने आदतन बदमाश के खिलाफ धारा 394 आईपीसी की कार्यवाही कर विवेचना में लिया है।

 

10-08-2020
कौशिक ने कहा, 20 माह में ही असफल है प्रदेश सरकार, आखिरकार क्यों गिर गया मुख्यमंत्री का ग्राफ

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने एक सर्वे रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि इन तीन महीनों में ऐसा क्या हुआ कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के कामकाज को लेकर आई एक सर्वे में बताया गया है कि केवल दो फीसदी लोगों ने उनके काम को पसंद किया है। इससे पहले जून के महीने में एक सर्वे में बताया कि वह देश के बेहतर मुख्यमंत्रियों में से एक थे। आखिरकार इन तीन महीनों में ऐसा क्या हुआ कि मुख्यमंत्री के कामकाज को जनता ने नकारा है। उनका क्रम नीचे चला गया है। जो प्रदेश सरकार के काम-काज को भी इंगित करता है।कौशिक ने कहा कि प्रदेश में उस समय कोरोना को लेकर भी बेहतर स्थिति बताई गई थी। लेकिन वर्तमान में जो स्थिति है वह बेहतर नहीं है। संक्रमित लोगों की संख्या करीब 11 हजार पहुंच गयी है। वहीं करीब 97 लोगों की मौत भी हुई है। प्रदेश सरकार कोरोना से लड़ाई में पूरी तरह नाकाम है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की सारी योजनाएं असफल है। प्रदेश सरकार के अनिर्णय की स्थिति से जनहित में कुछ भी कार्य नही हो रहे हैं।

इस सरकार को लेकर जनता में अस्वीकार्यता बढ़ती जा रही है।उन्होंने कहा कि रोका-छेका से लेकर नरवा,गुरवा जैसे किसी भी और योजनाओं का जनता को कोई लाभ नही मिल रहा है। बेरोजगारी चरम पर है। युवा वर्ग को बेरोजगारी भत्ता के नाम पर छला गया है। पेंशन के नाम पर कुछ भी नही मिला है। अतिथि शिक्षक प्रदेश में नौकरी से निकाले जा रहे हैं। गंगाजल की कसमें खाकर किसानों को बोनस देने की बात की गई थी लेकिन अब तक वह बात भी पूरी नहीं की गई है। महिला, युवा,किसान हर वर्ग को यह सरकार लगातार छल रही है।उन्होंने कहा कि प्रदेश में हालत बेहतर नहीं है। मंत्रियों के फैसलों में एकजुटता नहीं है। जिसके चलते जनता के बीच लगातार सही संदेश नहीं जा रहा है और इसलिए ही प्रदेश सरकार का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश की सरकार केवल अपने 20 माह के कार्यकाल में ही जनता का भरोसा खो चुकी है और प्रदेश सरकार हर मोर्चे पर नाकाम है।

23-06-2020
राज्यपाल ने सफल विद्यार्थियों को दी शुभकामनाएं,असफल को निराश न होने की सलाह

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल से जारी कक्षा 10वीं एवं 12वीं बोर्ड के नतीजों में सफलता हासिल करने वाले सभी विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी हैं। राज्यपाल ने कहा है कि विद्यार्थियों ने जीवन का महत्वपूर्ण पड़ाव पार किया है, जो उनकी मेहनत और लगन का परिणाम है। उन्होंने समस्त छात्र-छात्राओं की उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा है कि वे भविष्य में इसी तरह निरन्तर आगे बढ़ते रहे और अपने परिवार, राज्य और देश का नाम रोशन करें। राज्यपाल ने कहा है कि विद्यार्थियों की सफलता के पीछे उनके गुरूजनों और माता-पिता का भी महत्वपूर्ण योगदान रहता है, मैं इसके लिए उन्हें भी बधाई देती हूं। उन्होंने परीक्षा में असफल विद्यार्थियों को निराश नहीं होने की सलाह दी और कहा कि इसे ही चुनौती मानकर आगे बढ़ें, उन्हें निश्चित ही सफलता प्राप्त होगी।

 

13-06-2020
हजारों की संख्या में सैम्पल की जांच पेंडिंग, कोरोना की रोकथाम में राज्य सरकार पूरी तरह असफल : बृजमोहन

रायपुर। विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम में राज्य सरकार को पूरी तरह असफल बताया है। बृजमोहन ने कहा कि मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है और प्रदेश में 3 माह बाद भी न तो टेस्टिंग क्षमता बढ़ी है और न ही बेड की क्षमता। हजारों की संख्या में सैम्पल की जांच पेंडिंग है।बृजमोहन ने कहा कि बगैर जांच के 50 हजार से अधिक प्रवासी मजदूरों और लोगों को संस्थागत क्वारेंटाइन से मुक्त कर दिया गया है। वहीं सरकार बढ़ रहे मरीजों को देखकर भविष्य के लिए न तो नए लैब सेंटर की व्यवस्था कर पा रही है और न ही बिस्तरों की। अग्रवाल ने राज्य सरकार से मांग की है कि मेडिकल कालेजों और जिला अस्पतालों में भी कोविड-19 की जांच के लिए लैब बनाई जानी चाहिए। प्रतिदिन बढ़ते एक्टिव मरीज और भारी संख्या में पेंडिग टेस्ट को देखते हुए यह निर्णय आवश्यक है।उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में क्वारेंटाइन सेंटर भगवान भरोसे हैं। सरकार इन सेंटरों में न तो कोई व्यवस्था की और ना ही ध्यान दिया, गांव में सरपंचों के भरोसे, ब्लॉक लेवल पर जनपद पंचायत/नगर पंचायत के भरोसे इन सेंटर को छोड़ दिया गया है।

 

05-06-2020
धरमलाल कौशिक नेता प्रतिपक्ष का दायित्व निभाने में असफल : मोहन मरकाम

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक अपने घर के होम क्वारेंटाइन से बाहर निकले बगैर क्वारेंटाइन सेंटर के नाम से मनगढ़ंत असत्य आधारहीन बयानबाजी कर रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष होने का दायित्व की औपचारिकता निभाना बंद करें। मरकाम ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने दायित्व का जिम्मेदारियों और अपने कर्तव्यों का संकट काल में 24 घंटा सातों दिन निर्वहन कर रहे हैं। प्रवासी मजदूरों के घर वापसी से लेकर  क्वारेंटाइन सेंटर से उनके घर पहुंचने तक  निरंतर,उनके खाने-पीने रहने से लेकर उनके लिए चरणपादुका, रोजगार,उनके बच्चों की शिक्षा,महिलाओं की सुरक्षा की चिंता छत्तीसगढ़ सरकार कर रही है। दूसरी ओर धरमलाल कौशिक नेता प्रतिपक्ष होने के दायित्व को निर्वहन करने में असफल सिद्ध हुए हैं। नेता प्रतिपक्ष होने का मतलब कतई यह नहीं है कि सिर्फ झूठे आधारहीन आरोप लगाकर बयानबाजी ही की जाए।
मरकाम ने भाजपा की ओर से कमाने खाने बाहर गए छत्तीसगढ़ के मजदूरों के लिए प्रयोग की जा रही भाषा पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि भाजपा के नेता प्रवासी मजदूरों के साथ ऐसा व्यवहार कर रहे हैं जैसे ये मजदूर चीन,जापान,अमेरिका से आए हों। सच्चाई तो यह है कि मोदी सरकार की ओर से अदूरदर्शितापूर्ण बिना तैयारी के किए गए लॉक डाउन के दुष्परिणाम भारत के मजदूरों को भुगतने पड़े हैं। मजदूरों को अपने देश मेंं, अपने प्रदेश में,अपने गांव में अपना घर होने के बावजूद केन्द्र सरकार की गलत नीतियोंं के कारण परिवार सहित 14 दिन क्वारेंटाइन  सेंटर में शरणार्थियों की तरह रहना पड़ रहा है। लॉक डाउन से उत्पन्न विपत्ति के कारण मजदूरों की भूख,प्यास,तबियत बिगड़ने और दुर्घटनाओं में मौत हुई। महामारी आपदा काल में मोदी सरकार के लापरवाही गैरजिम्मेदाराना रवैया हठधर्मिता जिद्द के चलते देशभर में  600 से अधिक मजदूरों की अकाल मृत्यु हुई है। भाजपा के नेता वातानुकूलित कमरों में बैठकर क्वारेंटाइन सेंटर के विषय में बयानबाजी न करें। मजदूरों के नाम से घड़ियाली आंसू बहाकर राजनीतिक रोटी न सेंके।

19-05-2020
प्रदेश सरकार कोरोना की रोकथाम और क्वारेंटाइन सेंटर्स की बेहतर व्यवस्था बनाने में असफल हुई : विक्रम उसेंडी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने कहा है कि प्रदेश सरकार कोरोना की रोकथाम के उपायों और क्वारेंटाइन सेंटर्स की बेहतर व्यवस्था कायम करने में पूरी तरह असफल साबित हो चुकी है। क्वारेंटाइन सेंटर में कल एक युवक द्वारा आत्महत्या करना बताता है कि प्रदेश सरकार कोरोना संकट को लेकर पूरी तरह गैर जिम्मेदाराना ढंग से काम कर रही है। उसेंडी ने कहा कि विभिन्न प्रदेशों से जो प्रवासी मजदूर वापस छत्तीसगढ़ लौट रहे हैं, उनकी प्रदेश की सीमा पर पर्याप्त जाँच और भोजन आदि की व्यवस्था तक नहीं की गई है। आधी-अधूरी या फिर बिना जाँच के ही इन मजदूरों को प्रदेश में आने दिया जा रहा है। इसी तरह जो मजदूर छत्तीसगढ़ होते हुए अपने गृह प्रदेशों को जा रहे हैं, उनकी जांच आदि के प्रति भी प्रदेश सरकार की तरफ से कोई मुकम्मल इंतजाम नहीं किए गए हैं। इन सबके चलते प्रदेश के शहरी, नगरीय और विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804