GLIBS
20-01-2021
मोहन मरकाम ने कहा-भाजपा के एक भी नेता ने प्राइवेट मंडी में धान क्यों नहीं बेचा ?

रायपुर। धान खरीदी पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि अगर भाजपा नेताओं को लगता है कि निजी मंडियों में फसलों की अधिक कीमत मिल सकती है तो उन्होंने अपना धान किसी निजी मंडी में अधिक कीमत में क्यों नहीं बेचा। ऐसा कर किसानों के सामने उदाहरण पेश क्यों नहीं किया। मरकाम ने कहा है कि वे छत्तीसगढ़ के भाजपा नेताओं को चुनौती देते हैं कि वे अभी भी अपना बचा हुआ धान देश के किसी भी निजी मंडी में ले जाएं और समर्थन मूल्य से अधिक मूल्य पर धान बेचकर दिखा दें। अगर वे मूल्य पा भी जाएं तो राजीव गांधी किसान न्याय योजना से मिलने वाली राशि कहां से जुटाएंगे यह भी बता दें। भाजपा के सभी बड़े नेताओं ने दिसंबर में ही अपना धान बेच लिया। किसानों की धान खरीदी में केन्द्र सरकार से बाधाएं डलवा रहे हैं।

मरकाम ने पूछा है कि भाजपा के सारे नेताओं ने छत्तीसगढ़ में सरकारी खरीद में ही अपना धान क्यों बेचा? भाजपा नेता चाहते तो अपना धान ट्रक, मैटाडोर, छोटा हाथी में भरवाकर देश के किसी अन्य राज्य में छत्तीसगढ़ से ज्यादा दाम में धान बेचकर उदाहरण प्रस्तुत करते। जबकि भाजपा के बड़े-बड़े नेता बार-बार किसान को देश के किसी भी राज्य में अपने कृषि उत्पाद मिलने की छूट का गुणगान कर रहे हैं। जब एक बार केंद्र सरकार की ओर से 60 लाख मीट्रिक टन चावल खरीदी की बात कही गई थी, तो अब सिर्फ 24 लाख मीट्रिक टन की ही अनुमति क्यों दी गई है? हमें अगर अपनी मांग के अनुसार केंद्र से वादा ना मिल गया होता तो धान खरीदी और सुव्यवस्थित हो पाती।

 

15-01-2021
Video : मोहन मरकाम निकले ट्रैक्टर में, किसानों के समर्थन में कांग्रेस ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। किसानों के समर्थन में प्रदेश कांग्रेस ने शुक्रवार को हल्ला बोला है। केंद्रीय कृषि सुधार कानून के विरोध में बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता किसानों के साथ राजभवन कूच किए हैं। राजीव भवन से राजभवन तक पैदल मार्च और ट्रैक्टर रैली निकली है। राजभवन पहुंचकर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा जाएगा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम खुद ट्रैक्टर चलाकर राजभवन की ओर कूच किए। इससे पहले बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता, कार्यकर्ता राजीव भवन में एकत्रित हुए। सभा के बाद रैली के रूप में पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम के नेतृत्व में राजभवन कूच किए।

 

14-01-2021
मोहन मरकाम ने डॉ.रमन सिंह को दी चुनौती-साहस है तो खाता सार्वजनिक करें, जिसमें पैसा आया है

रायपुर। छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह अपनी खोई हुई ताकत और जमीन को हासिल करने की लचर कोशिश कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार उनकी 15 साल की नाकामियों से राज्य को उबारने की कोशिश कर रही है। यह गरीब व किसान विरोधी रमन सिंह और भाजपाइयों को रास नहीं आ रहा है। वे लगातार जनता को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री को यह बताना चाहिए कि राज्य की जिन कृषि योजनाओं का वे विरोध कर रहे हैं, उससे उन्हें खुद और उनके परिवार के लोगों को कितना लाभ हुआ है ? डॉ रमन सिंह में साहस है तो वे अपने और परिवार के सदस्यों का खाता सार्वजनिक करें, जिसमें न्याय योजना और धान खरीदी का पैसा पहुंचा है। रमन सिंह को खुद यह चुनौती को स्वीकार करनी चाहिए।

मोहन मरकाम ने कहा है कि डॉ रमन सिंह और उनकी पार्टी भाजपा का किसान विरोधी चेहरा सामने आ गया है। सिंघु बार्डर में पिछले 50 दिनों से कड़कड़ाती सर्दी में लाखों किसान डटे हुए हैं। भाजपा की केन्द्र सरकार तीनों काले कानूनों को अमल में लाने के लिए षडयंत्र कर रही है। दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के मुखिया भूपेश बघेल सरकार बनने के पहले घंटे से किसानों की चिंता कर रहे हैं। उनके हर दिन की शुरूआत किसानों की चिंता से शुरू होती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शपथ लेने के एक घंटे के भीतर किसानों और गांव की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए जो फैसले लिए हैं, उसका असर दिखने लगा है। रमन सिंह ने राज्य की आर्थिक और सामाजिक बुनियाद को खोखला कर दिया था। ये तमाम नाकामियां रमन सिंह के खाते में दर्ज हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल वहां से राज्य को उबारने की कोशिश कर रहे हैं, तो वे जनता को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस ने कहा है कि रमन सिंह शक्ति-क्षीण नेता हो गए हैं, अन्यथा वे हौसले के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सवाल करते कि छत्तीसगढ़ के साथ बारदाना देने में सौतेला व्यवहार क्यों? छत्तीसगढ़ में किसानों को बोनस देने में अड़ंगे क्यों लगाए जा रहे हैं?  

 

13-01-2021
15 साल किसानों के साथ वादाखिलाफी करने वाले हितैषी बनने का ढ़ोंग कर रहे : मोहन मरकाम

रायपुर।  छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने भाजपा के आंदोलन पर कटाक्ष किया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि भाजपा किसान हितैषी बनने का ढ़ोंग कर रही है। रमन सिंह के कार्यकाल में किसानों के साथ केवल वादाखिलाफी और धोखाधड़ी की गई है। प्रदेश में धान खरीदी सही ढंग से नहीं होने के भाजपा के आरोपों पर कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम  ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि राज्य में 80 फीसदी धान खरीदी हो चुकी है। अब तक किसानों से 71.48 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी हो गई है। सरकार ने 17 लाख 38 हजार से अधिक किसानों का धान समर्थन मूल्य पर खरीदा है। जब धान खरीदी का लक्ष्य करीब करीब पूरा हो गया तब भाजपा को किसानों की याद आ रही है और धरना-प्रदर्शन का ढ़ोंग कर रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि डॉ. रमन सिंह और भाजपा के 9 सांसद समेत पार्टी के नेताओं को जवाब देना चाहिए कि केन्द्र सरकार ने छत्तीसगढ़ के सैट्रल पूल के चावल में कटौती क्यों की ? सेंट्रल पूल का कोटा 60 लाख मीट्रिक टन से घटा कर 24 लाख मीट्रिक टन किया तब किसी भाजपा नेता कुछ क्यों नहीं बोला? छत्तीसगढ़ सरकार ने साढ़े तीन लाख गठान बारदाने की मांग रखी थी, लेकिन मांग के अनुरूप बारदाना उपलब्ध नहीं कराया। इसके बाद भी बीजेपी के नेताओं ने कोई पहल नहीं की, जबकि छत्तीसगढ़ की जनता ने लोकसभा में 9 सांसदों को चुनाव जीतवाया है, किसी ने भी केन्द्र सरकार को इस बार में पत्र नही लिखा।

 

09-01-2021
माधव सिंह सोलंकी के निधन पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने दुख व्यक्त किया 

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री वं पूर्व केन्द्रीय मंत्री माधव सिंह सोलंकी के निधन पर दुख व्यक्त किया है। मरकाम ने कहा है कि माधव सिंह सोलंकी के निधन से कांग्रेस परिवार के साथ-साथ देश को राजनीति क्षति हुई है। उन्होंने ईश्वर से आत्मा को शांति प्रदान करने और उनके परिवारजनों को दुख की इस घड़ी को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। गुजरात के माधव सिंह सोलंकी को प्रदेश कांग्रेस परिवार ने श्रद्धांजलि अर्पित की है।

05-01-2021
मोहन मरकाम ने बिलासपुर की घटना की जांच करने समिति का किया गठन

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया है। जांच समिति में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष चुन्नीलाल साहू, प्रदेश कांग्रेस महामंत्री कन्हैया अग्रवाल, महामंत्री पियुष कोसरे है। जांच समिति मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बिलासपुर प्रवास के दौरान 4 जनवरी को न्यू सर्किट हाउस, बिलासपुर में हुई घटना की जांच करेगी। मोहन मरकाम ने क्षेत्रीय विधायक शैलेष पाण्डेय और ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष तैयब हुसैन के बीच हुए घटना को गंभीरता से लिया है। उन्होंने समिति के सदस्यों को तत्काल बिलासपुर का दौरा कर उपरोक्त घटना के प्रत्यक्षदर्शियों,संबंधित पदाधिकारियों से चर्चा करने व घटना की वस्तूस्थिति से अवगत होकर 3 दिन के भीतर अपना प्रतिवेदन प्रदेश कांग्रेस कमेटी को प्रस्तुत करने कहा है।

 

03-01-2021
Breaking: प्रदेश कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्षों की घोषणा,मोहन मरकाम ने की नियुक्ति,देखिए सूची

रायपुर। पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने प्रदेशभर में ब्लॉक अध्यक्षों की नियुक्ति की है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सहमति से जिलेवार ब्लॉक अध्यक्षों की नियुक्तियां की गई है। इस संबंध में प्रभारी महामंत्री संगठन चंद्रशेखर शुक्ला ने आदेश जारी किया है। जारी आदेश के साथ जिलेवार नामों की सूची भी जारी की गई है। सूची देखने यहां क्लिक करें

 

25-12-2020
दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे मोहन मरकाम, मुंगेली और धमतरी जिले का दौरा कार्यक्रम जारी

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम दो दिवसीय दौरे पर कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे। वे 26 दिसंबर शनिवार को सुबह 10 बजे रायपुर बस्तर बाड़ा से ग्राम कोदवा महंत विकासखंड लोरमी जिला मुंगेली रवाना होंगे। दोपहर 1 बजे ग्राम कोदवा महंत में शहीद वीर नारायण जयंती कार्यक्रम में शामिल होंगे। शाम 4 बजे कोदवा महंत से रायपुर के लिए रवाना होंगे। वे 27 दिसंबर रविवार को सुबह 11 बजे रायपुर बस्तर बाड़ा से कुरूद, जिला धमतरी के लिए रवाना होंगे। दोपहर 12 बजे जिलाध्यक्ष धमतरी की ओर से कुरूद में कार्यक्रम में शामिल होंगे। दोपहर 3 बजे अंवरी, विकासखंड कुरूद जिला धमतरी व सतनामी समाज की ओर से आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे। शाम 5 बजे धमतरी से रायपुर के लिए रवाना होंगे।

21-12-2020
मोतीलाल वोरा का निधन निजी, पारिवारिक और राष्ट्रीय क्षति : मोहन मरकाम 

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। मरकाम ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी के वटवृक्ष, जिनकी छांव में हम सब बड़े हुए, जिनकी उंगली पकड़कर हम सबने चलना सीखा, ऐसे हमारे बाबूजी मोतीलाल वोरा हम सबके बीच नहीं रहे। उनका जाना निजी, पारिवारिक और राष्ट्रीय क्षति है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। कांग्रेस परिवार आज सूना है।

19-12-2020
प्रदेश कांग्रेस परिवार ने गुंडरदेही के पूर्व विधायक घनाराम साहू को दी श्रद्धांजलि

रायपुर। गुंडरदेही के पूर्व विधायक घनाराम साहू के निधन पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने दुख व्यक्त कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस परिवार ने स्व. साहू की आत्मा की शांति के लिए भगवान से प्रार्थना की है। स्व. साहू के शोक संतप्त परिवार को इस अपार दुख को सहन करने की शक्ति भगवान प्रदान करें। गुंडरदेही के पूर्व विधायक घनाराम साहू के निधन पर कोषाध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, उपाध्यक्ष गिरीश देवांगन, प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी, महामंत्री प्रशासन रवि घोष, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर शुक्ला, पीसीसी सदस्य राजेंद्र तिवारी ,रमेश वर्ल्यानी ,आरपी सिंह, सुरेंद्र शर्मा , सुशील आनंद शुक्ला , किरणमयी नायक , विभोर सिंह, रउफ कुरैशी, विकास दुबे , संदीप साहू ,नितिन भंसाली, अमित श्रीवास्तव, अमित यदु, क्रांति बंजारे,नीना रावतिया,मोहन निषाद ने दुख व्यक्त कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। प्रदेश प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी, धनंजय ठाकुर, विकास तिवारी, मोहम्मद असलम, सुरेंद्र वर्मा, एमए इकबाल, वंदना राजपूत, आलोक दुबे जगदलपुर, अभय नारायण राय बिलासपुर, जनार्दन त्रिपाठी सरगुजा, कमलजीत पिंटू राजनांदगांव, कृष्णकुमार मरकाम धमतरी, स्वपनिल मिश्रा, प्रकाशमणि वैष्णव, अशुंल मिश्रा ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

 

10-12-2020
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मोहन मरकाम को दिखाया आइना : संजय श्रीवास्तव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने बयान जारी कर कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम को आइना दिखा दिया है। जो जानकारी प्राप्त हुई है कि कल की बैठक से मोहन मरकाम नाराज होकर चले गए। मुख्यमंत्री का ये बयान आना कि निगम, मंडल और आयोग की नियुक्तियां उनका विशेषाधिकार है। ये इस बात को सिद्ध करता है कि कांग्रेस के नेताओं में बहुत कुछ  ठीक नहीं चल रहा। संजय श्रीवास्तव ने कहा कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के 2 वर्ष 17 दिसंबर को पूरे हो रहे हैं। ये सरकार निगम मंडल में नियुक्ति नहीं कर पा रही है। अपने कार्यकर्ताओं को प्राथमिकता के आधार पर जवाबदारी नहीं दे पा रही है।  नियुक्तियां होने से निगम मंडलों के माध्यम से और भी काम तेज गति से आगे बढ़ेगा। इसका मुख्य कारण ये भी है कि छत्तीसगढ़ के कांग्रेस नेताओं में आपसी अंतर्द्वंद है। ऐसा लगता है कि कांग्रेस के नेता अपने कार्यकर्ता को स्थापित करना चाहते हैं। उनकी प्राथमिकता नहीं है कि जो आम कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने मेहनत की है उनकी नियुक्ति हो। बल्कि हर नेता अपनी-अपनी लिस्ट अपने जेब में रखकर रायपुर से लेकर दिल्ली तक दौड़ लगा रहा है। अपने चहेतों को पद पर बिठाने में लगा हुआ है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804