GLIBS
11-09-2020
सुपोषण का महत्व समझाने दूरस्थ वनांचल क्षेत्रों में पहुंच रहे पोषण रथ

रायपुर। जागरुकता और सही पोषण के प्रति जानकारी के अभाव के कारण कुपोषण एक बड़ी समस्या बनता जा रहा है। इसके प्रति जनजागरुकता के लिए राष्ट्रीय पोषण माह 2020 का आयोजन किया जा रहा है। इस माह के दौरान छत्तीसगढ़ में पोषण रथ गांव-गांव पहुंचकर लोगों को सुपोषण का महत्व समझाा रहे हैं। रायपुर,बालोद सहित दंतेवाड़ा,बलरामपुर,कोरबा जैसे दूरस्थ वनांचल क्षेत्रों में ये रथ ऑडियो के माध्यम से पोषण और स्वच्छता का संदेश पहुंचा रहे हैं। पोषण रथ के माध्यम से राज्य शासन की सुपोषण संबंधी योजनाओं और महत्वपूर्ण जानकारियों का प्रचार किया जा रहा है। पोषण रथ से बच्चे के पहले 1 हजार दिवस में सही पोषण के महत्व का संदेश गांव-गांव में समझाया जा रहा है। इस दौरान एनिमिया, डायरिया, स्वच्छता तथा पौष्टिक आहार, साफ-सफाई पर आधारित संदेशों का भी प्रचार किया जा रहा है।

09-09-2020
बच्चों,शिशुवती महिलाओं को कुपोषण से बचाने गांव-गांव पहुंच रहा पोषण रथ

कोरबा। कोरोना महामारी के इस दौर मे भी राज्य शासन बच्चों, गर्भवती तथा शिशुवती माताओं को कुपोषण से बचाने मे जुटी हुई है। कोरोना काल में जहां लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं ऐसी परिस्थितियो में भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बच्चों, गर्भवती-शिशुवती माताओं को पोषण आहार का वितरण कर रहीं हैं। इसके साथ ही गांव-गांव में पोषण रथ के माध्यम से राज्य शासन की सुपोषण संबंधी योजनाओं और महत्वपूर्ण जानकारियों का प्रचार किया जा रहा है। पोषण रथ के द्वारा आडियो के माध्यम से पोषण के विषय-एक हजार दिवस के महत्व के संदेशो का गांव-गांव मे प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। पोषण माह के दौरान पोषण रथ के द्वारा एनिमिया, डॉयरिया, स्वच्छता तथा पौष्टिक आहार, साफ-सफाई एवं स्वच्छता पर आधारित संदेशोु का गांव-गांव में जाकर प्रचार किया जा रहा है।

कोरबा जिले मे पोषण रथ के माध्यम से पोषण एवं स्वास्थ्य के संबंध मे प्रचार करने के लिए 173 बड़े गांवो का चयन किया गया है। पोषण रथ आगामी दस दिनो में सभी चयनित गांव मे पहुंचेगी और पोषण संबंधी संदेशो का प्रचार-प्रसार करेगी। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास कोरबा एपी किस्पोट्टा ने बताया कि आज पोषण रथ को हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया गया। शुभारंभ के मौके पर वल्र्ड विजन इंडिया के जिला प्रमुख जोशी बाबू, परियोजना अधिकारी कोरबा शहरी मनोज अग्रवाल के साथ-साथ महिला एवं बाल विकास अधिकारी, विभागीय एवं संस्था के अन्य सदस्य उपस्थित रहे।पोषण माह के दौरान जिले के दो हजार 539 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा हितग्राहियों के घरों में जाकर महिलाओं तथा बच्चों की काउंसिलिंग करके इस कोरोना काल में उनका मनोबल बढ़ाने का भी कार्य किया जा रहा है।  

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804