GLIBS
31-07-2020
लोक गायिका से दस साल छोटे युवक ने शादी का प्रलोभन देकर किया दुष्कर्म, गिरफ्तार

रायपुर। लोक गायिका को शादी का प्रलोभन देकर शारीरिक संबंध बनाने का मामला सामने आया है। युवक के शादी से इंकार करने पर महिला ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत पर पुलिस ने दुष्कर्म जैसी गंभीर धारा में युवक के खिलाफ जुर्म दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

मिली जानकारी के मुताबिक माना में एक कार्यक्रम में बालोद निवासी लोमेंद्र दास मानिकपुरी से राजातालाब निवासी 39 वर्षीय पीड़िता की मुलाकात हुई थी। उसके कार्यक्रम में हमेशा पहुंचने के कारण लोमेंद्र की जान-पहचान बढ़ गई। लोक गायिका ने आरोपी को बताया था कि वो तलाकशुदा है। इससे पहले उसकी दो शादियां हुई थीं। बावजूद इसके उम्र में 10 साल छोटे लोमेंद्र बिना किसी आपत्ति के उसकी मांग में सिंदूर भर महिला के साथ एक किराए के मकान में रहने लगा।

29-05-2020
तलाकशुदा बेटी को क्यों नहीं मिलना चाहिए स्वतंत्रता सेनानी पेंशन का लाभ : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को केंद्र से पूछा है कि स्वतंत्रता सेनानी पेंशन का लाभ स्वतंत्रता सेनानी की तलाकशुदा बेटी को क्यों नहीं मिलना चाहिए? जस्टिस यूयू ललित की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने तुलसी देवी की इस याचिका पर केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है। सरकार को जुलाई के आखिरी हफ्ते तक जवाब दाखिल करने के लिए कहा गया है। इससे पहले हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने तुलसी देवी की याचिका को खारिज कर दिया था।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई इस सुनवाई में याचिकाकर्ता महिला की ओर से पेश वकील दुष्यंत पाराशर ने पीठ से कहा कि उनकी मुवक्किल के पिता गोपाल राम स्वतंत्रता सेनानी थे, जिस कारण उन्हें स्वतंत्रता सेनानी पेंशन मिलता था। उनकी तलाकशुदा बेटी तुलसी उनके साथ रहती थी और वह पूरी तरह से अपने माता पिता पर आश्रित थी। पिता की मृत्यु के बाद तुलसी पूरी तरह से अपनी मां कौशल्या पर आश्रित हो गई। अपने जीवनकाल में कौशल्या ने जनवरी, 2018 में प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर आग्रह किया कि स्वतंत्रता सेनानी पेंशन का लाभ उसके बाद बेटी को मिले, क्योंकि उनकी बेटी पूरी तरह से उसी पर निर्भर है और उसके पास आमदनी का कोई और जरिया भी नहीं है।

सितंबर 2018 में उनके इस आग्रह को नकार दिया गया, जिसके बाद तुलसी ने हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन हाईकोर्ट ने उनकी याचिका को खारिज कर दिया। हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि स्वतंत्रता सैनिक सम्मान पेंशन योजना के प्रावधानों में इस तरह की कोई व्यवस्था नहीं है। जिसके बाद तुलसी ने हाईकोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) दायर की। याचिकाकर्ता के वकील दुष्यंत पाराशर ने पीठ के समक्ष पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट की तरफ से साल 2016 में दिए उस फैसले का हवाला दिया जिसमें इसी तरह की राहत दी गई थी, जिसे बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भी सही ठहराया था। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर हस्तक्षेप करने से इनकार करते हुए हाईकोर्ट के फैसले को प्रगतिशील और सामाजिक रूप से रचनात्मक दृष्टिकोण वाला बताया था। साथ ही पाराशर ने साल 2012 के उस सर्कुलर का भी हवाला दिया है, जिसमें तलाकशुदा बेटी को पेंशन देने का प्रावधान है।

31-12-2019
अग्रवाल समाज का तलाकशुदा विधवा और विधुर परिचय सम्मेलन 5 को

रायपुर। अग्रवाल सभा द्वारा अग्रवाल तलाकशुदा विधवा और विधुर परिचय सम्मेलन का आयोजन 5 जनवरी को किया गया है। यह कार्यक्रम समता कॉलोनी स्थित भीमसेन भवन में सुबह 10:00 बजे से शुरू हो जाएगा। सम्मेलन में शामिल होने के लिए बायोडाटा जमा किए जा रहे हैं। कार्यक्रम की पूरी तैयारी कर ली गई है। आयोजन से संबंधित सभी व्यवस्थाओं का चयन करके बैठक में अंतिम रूप दिया।

22-12-2018
तलाकशुदा के साथ बदनियति से छेड़छाड़, 1 वर्ष सश्रम कारावास

दुर्ग। दो बच्चों की मां को बदनियति से बेइज्जत करने वाले आरोपी को कोर्ट ने सजा सुनाई है। विशेष न्यायाधीश मंसूर अहमद की कोर्ट ने आरोपी भैरा उर्फ चंद्रशेखर यादव को धारा 457 के तहत 1 वर्ष का सश्रम कारावास, 1 हजार रुपए का अर्थदंड की सजा सुनाई है।

प्रार्थिया अपने पति से तलाक हो जाने के बाद अपने पिता के घर ग्राम खुड़मुड़ी में 2 बच्चों को लेकर रह रही थी। 21 जुलाई 2017 की रात लगभग 11 बजे आरोपी प्रार्थिया के ब्यारा का दरवाजा खोल कर घर में प्रवेश किया। प्रार्थिया को सोया पाकर उसे बेइज्जत करने व बदनियति से उसके पैर पकड़कर खींचने का प्रयास किया। प्रार्थिया ने तुरंत शोर मचाया। इससे प्रार्थिया के पिता व बच्चे जाग गए, आरोपी वहां से भाग निकला था।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804