GLIBS
06-07-2020
शिवालय में महाभिषेक कर मेयर ने की भिलाईवासियों के हित-विकास और सुख-शांति की कामना

भिलाई। सावन सोमवार के पावन अवसर पर सोमवार को भिलाई नगर विधायक व महापौर  देेवेंद्र यादव खुर्सीपार वार्ड 37 के शिवालय में महाभिषेक किया। भगवान शंकर की आराधना की। शिवलिंग पर यादव ने दूध,दही, बेल पत्ती, जल, श्रीफल चढ़ाए। पूरे विधि विधान से महादेव की पूजा अर्चना कर मेयर यादव ने भिलाईवासियों के हित और विकास व सुख-समृद्धि की दिल से कामना की।  इसके बाद महापौर यादव शासकीय उ.मा. विद्यालय पहुंचे। जहां पौधरोपण महाअभियान के तहत महापौर ने स्कूल के बच्चों के साथ मिलकर पौधरोपण किया। साथ ही स्कूल के सभी टॉपर बच्चों का महापौर से सम्मान किया और उनका आत्मविश्वास बढ़ाया। महापौर ने टॉपर छात्राओं को संबाेधित करते हुए कहा कि मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती। आप सभी जितना ज्यादा मेहनत करेंगे उतना ही अच्छा उसका परिणाम मिलेगा। हालाकि कई बार हमें लगता है कि हम जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं। पूरी कोशिश कर रहे हैं। लेकिन परिणाम हमारे उम्मीद के मुताबिक नहीं आता। ऐसा होता है। लेकिन इससे घबराना नहीं है। बल्कि अगली बार दोबार फिर से दोगुने जोश और हिम्मत के साथ फिर लक्ष्य को पाने में जुट जाना है। क्योंकि जिंदगी में हार जीत लगा है। लेकिन हार के बाद खुद काे हारा मान कर चुप बैठना या गलत कमद उठाना ही सबसे बड़ी हार है। जबतक आप हार नहीं मानेंगे और मेहनत करते तब तक आप हारे नहीं है। सम्मान समारोह के बाद महापौर यादव ने स्कूल की जरूरमंद छात्राओं को सस्वती साइकिल योजना के तहत साइकिल दिए। सभी ने इसके लिए महापौर का आभार जताया और महापौर यादव के साथ स्कूल में पौधरोपण कर सभी छात्रा-छात्राओं ने पौधों की सुरक्षा की शपथ ली।

22-02-2020
उर्रेपाल की पहाड़ियों में मिला नरकंकाल, श्रद्धालुओं में मचा हड़कंप

दंतेवाड़ा। भांसी थाना क्षेत्र उर्रेपाल के पहाड़ी रास्ते में नरकंकाल के मिलने से हड़कंप मच गया। बता दें कि महाशिवरात्रि के अवसर पर श्रद्धालु भगवान शंकर और गणेश की प्रतिमा के दर्शन के लिए पहाड़ी पर गए थे। इसी दौरान रास्ते में भक्तों ने गणेश मूर्ति के करीब नाले के पास नरकंकाल देखा, जिससे सभी डर गए और हड़कंप मच गया। नरकंकाल के शरीर पर पेंट, शर्ट सुरक्षित है। भांसी थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई है। मृतक के मौत का कारण अज्ञात बताया जा रहा हैं। वहीं वेशभूषा से बाहरी युवक होने की आशंका जताई जा रही है। आश्चर्य की बात यह है कि इस तरह के किसी भी मामले की शिकायत पुलिस में नही की गई है।

02-09-2019
पति की लंबी उम्र के लिए रखा सुहागिनों ने व्रत

जांजगीर चाम्पा। तीज के पर्व पर पति कि लंबी उम्र के लिए सुहागिन महिलाओं ने तीज व्रत रखा। मिट्टी और रेत से शिवलिंग बनाकर सुहागिन महिलाओं ने किया भगवान शंकर की पूजा अर्चना की। गौरतलब है कि तीज व्रत की पूजा सुहागिन के लिए विशेष मायने रखती है। इस दिन महिलाएं मिट्टी और रेत से शिवलिंग बनाकर की उसकी पूजा करती हैं और निर्जला व्रत रखकर पति की दीर्घायु और अक्षय सौभाग्यवती होने की मन्नत मांगती हैं। पूरे दिन भर निर्जला व्रत रखने के बाद दूसरे दिन महिलाए अपना व्रत तोड़ती हैं। सुहागिन महिलाएं तीज व्रत कर पति कि लम्बी उम्र का शंकर भगवान से कि कामना करती हैँ तो वहीं कुंवारी कन्याए भी इस व्रत को रखकर अपने लिए अच्छा पति पाने की कामना शंकर भगवान से करती हैँ।

07-08-2019
प्रदेश की समृद्धि की प्रार्थना के साथ किया भगवान शंकर का जलाभिषेक

अम्बिकापुर। जय समलाया वास्तु ज्योतिषी केंद्र के द्वारा हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी नाग पंचमी के अवसर पर काल सर्प दोष शान्ति पूजन, महारुद्राभिषेक, एव्य महामृत्युंजय पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। देश,प्रदेश,शहर और जिले के शांति और समृद्धि के लिए कराए गए इस आयोजन में न सिर्फ सरगुजा बल्कि दूसरे जिले के भक्त भी यहां पहुंचकर आयोजन में शामिल हुए और भगवान शंकर का जलाभिषेक किया इस कार्यक्रम के सूत्रधार रहे पंडित योगेश नारायण मिश्र ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी आयोजन में भक्तों ने न सिर्फ बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया बल्कि इस कार्यक्रम की जमकर सराहना भी की। आयोजन में शामिल भक्तों ने इस आयोजन को अन्य स्थानों पर भी कराने की मांग की, जिस पर पंडित योगेश नारायण मिश्र ने आश्वस्त किया कि आगे के वर्षों में यह आयोजन अलग-अलग स्थानों पर भी आयोजित किया जाएगा। दरअसल जय सम लाया वास्तु एवं ज्योतिष केंद्र के द्वारा पिछले 7 सालों से नाग पंचमी के अवसर पर विशेष पूजा के साथ काल सर्प दोष शांति और 101 शिवलिंग का जलाभिषेक के साथ विशेष पूजन कार्यक्रम किया जाता है। इसमें जल,दुग्ध,शर्करा मधुरस एवं फलों के रस से भगवान शंकर का जलाभिषेक कर जीवन में आ रहे रोग दोष क्लेश की शांति की प्रार्थना की जाती है। साथ ही साथ शहर जिला प्रदेश और देश में शांति और समृद्धि की कामना भी की जाती है। वाराणसी से पहुंचे विद्वान ब्राह्मणों ने इस आयोजन में भक्तों के संकट को दूर करने के मंत्रोचार के जरिए कार्यक्रम को पूर्ण कराया एवं आहुति के बाद महाआरती भी की गई। इसमें अलग अलग कष्टों से निवारण के लिए आराधना और प्रार्थना की गई। इस अवसर पर विशेष रूप से 101 शिवलिंग बनाए गए थे, जिसमें भक्तों ने अपनी मनोकामना को पूर्ण करने के लिए आयोजन में भागीदारी निभाई। कार्यक्रम के मुख्य आयोजक पं.योगेश नारायण मिश्र ने बताया कि भक्तों के मांग के अनुरूप ही इस कार्यक्रम को अन्य स्थानों पर भी आयोजित किया जाएगा ताकि इस कार्यक्रम का हिस्सा बन कर लोग भगवान शंकर की आराधना करने के साथ ही अपने जीवन में आ रहे रोग दोष क्लेश से मुक्ति पा सकें। आयोजन में विशेष तौर पर पं. अभिषेक पस्टारिया, अनिल पांडे, अंकित एवम प्रभु शर्मा ने प्रमुख भूमिका निभाई। साथ ही साथ भक्तों के पूजन को संपन्न कराया। 

 

18-07-2019
अमरकंटक में सावन माह में शिव भक्तों का लगता है तांता

पेण्ड्रा। बुधवार से सावन की शुरूआत हो गई है। श्रावण मास में भगवान शंकर की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। वहीं सावन के महीने में कावंर यात्रा की भी शुरूआत होती है, जिसमें श्रद्धालु पैदल चलकर जल चढ़ाने जाते हैं। कहते हैं इस महीने जो व्यक्ति पूरे मन से भगवान शंकर की आराधना करता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। सावन शुरू होते ही छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश की सीमा  से लगे दार्शनिक स्थल अमरकंटक में भी शिवभक्तों का तांता लगा होता है। यहां जल चढ़ाने के लिए शिवभक्त अमरकंटक से मां नर्मदा का जल 8 किलोमीटर दूर स्थित जालेश्वर में स्थापित भगवान को जल चढ़ा कर अपनी मनोकामनाओं को पूरा करने का आशीष प्राप्त करते हैं। सावन महीने में अमरकंटक का महत्व और भी बढ़ जाता है छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश के आलावा देश के अन्य प्रदेशों से भी शिवभक्त अपनी मनोकामना लेकर यहां पहुंचते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804