GLIBS
03-08-2020
संसदीय सलाहकार और संसदीय सचिव ने ग्रामीणों के साथ वृक्षों में बांधे रक्षासूत्र, लिया बचाने का संकल्प

कांकेर। रक्षाबंधन के पवित्र अवसर पर मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी और कांकेर क्षेत्र के विधायक व संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी ने अपनी धर्मपत्नी बिमला शोरी के साथ ग्राम कुलगांव में वृक्षों को रक्षासूत्र बांधकर उसे बचाने का संकल्प लिया। इस दौरान वृक्षों को बचाने ग्रामीणों ने भी संकल्प लिया। ’मैं रक्षासूत्र बांध कर संकल्प लेता हूॅ कि वृक्ष को अपना मितान बना उसकी सुरक्षा करूंगा, प्रतिवर्ष वृक्षारोपण कर वनों के प्रबंधन, संवर्धन में सहयोग कर अपने गांव के जंगल में वृद्धि करूंगा, मैं ऐसा कोई भी कार्य नहीं करूंगा,जिससे जंगल को नुकसान हो। मैं संकल्प लेता हूं कि लघु-वनोपज को स्वरोजगार का माध्यम बना कर अपने परिवार एवं गांव की आय में वृद्धि कर आर्थिक रूप से मजबूत करूंगा एवं अपने गांव को स्वालंबी गांव बनाऊंगा’’  इस अवसर पर कलेक्टर केएल चौहान, वनमण्डलाधिकारी अरविंद पीएम, बस्तर विकास प्राधिकरण के सदस्य बिरेश ठाकुर, जिला पंचायत सदस्य नरोत्तम पडोटी,जनपद सदस्य ईश्वर कावड़े, जितेन्द्र सिंह ठाकुर,राजेश भास्कर,तरेन्द्र भण्डारी,सरपंच कमलेश पदमाकर एवं दीपक नेताम,उप सरपंच शिवचरण नेताम सहित पत्रकारों एवं ग्रामीणों द्वारा वृक्षों में रक्षा सूत्र बांधकर उसे बचाने का संकल्प लिया गया।

 

01-08-2020
कांग्रेसजनों ने बालगंगाधर तिलक के 100वीं पुण्यतिथि पर दी श्रद्धांजलि

कांकेर। जिला कांग्रेस कमेटी कांकेर के द्वारा 1 अगस्त को विधायक निवास कांकेर मेें स्वतंत्रता संग्राम के महानायक बालगंगाधर तिलक 100वीं पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस दौरान संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी ने उनके व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि समाज सुधारक लोकमान्य बालगंगाधर तिलक ने भारतीय अन्तःकरण में एक प्रबल आमूल परिवर्तनवादी की भूमिका निभाई। इनके प्रखर विचार आज भी प्रासंगिक है। मुख्यमंत्री संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी ने अपने विचार रखते हुए कहा कि ‘‘स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है, और हम उसे लेकर ही रहेगे।’’ का नारा बुलंद करने वाले स्वतंत्रता संग्राम के नायक बालगंगाधर तिलक की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका रही। इसके अलावा वे अस्पृश्यता के प्रबल विरोधी थे उन्होंने जाति और सम्प्रदायों में बंटे समाज को एक जुट करने के लिए बड़ा आन्दोलन भी चलाया था और अंग्रेजों के गुलामी से छुटकारा पाने के लिए लोगों को एकजुट किया था। इस दौरान मुख्य रूप से नरेश ठाकुर, जितेन्द्र सिंह ठाकुर, मनोज जैन, सुुनील गोस्वामी, हेमनारायण गजबल्ला, रोेमनाथ जैन, महेन्द्र यादव, लक्ष्मणपुरी गोस्वामी, प्यार सिंह मण्डावी, अजय रेणु, दीपक शोरी, रमेश गावड़े, दिलीप नाग, चमन साहू, अमन गायकवाड़, सोमेश सोनी, अमित बघेल सहित अन्य कार्यकर्ता शामिल थे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804