GLIBS
18-09-2020
सुशांत सिंह मामले से जुड़े ड्रग पेडलर को एनसीबी ने धरदबोचा,1 किलो चरस के साथ साढ़े 4 लाख रूपए किए जब्त

मुंबईं। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत डेथ केस में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यरो की टीम अलग-अलग जगहों पर छापेमारी करके ड्रग पेडलर्स और उनके रैकेट का भंड़ाफोड़ कर रही है। शुक्रवार को एनसीबी मुंबई की टीम ने राहिल विश्राम नाम के एक ड्रग पेडलर को गिरफ्तार करके उसके पास से 1 किलो चरस और 4.5 लाख रूपए नकद बरामद किये हैं। सुशांत मामले से जुड़े कई ड्रग पेडलर्स को एनसीबी ने गिरफ्तार किया था और बताया जा रहा है कि राहिल इन तस्करों से सीधे तौर पर जुड़ा हुआ है।

आज एनएनआई ने ट्वीट कर जानकारी दी कि हिमाचल प्रदेश के राहिल विश्राम को नारकोटिक्स विभाग ने हिरासत में ले लिया है। इस बात की सूचना एनसीबी के जोनल डायरेक्टर ने मीडिया को दी है। सुशांत मामले में सीबीआई , प्रवर्तन निदेशालय के बाद एनसीबी ने ड्रग्स मामले की जांच शुरू करने के लिए हस्तक्षेप किया था। कुछ ही दिनों की पूछताछ के बाद रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शोविक चक्रवर्ती, सैमुएल मिरांडा समेत अन्य लोगों को एनसीबी ने गिरफ्तार किया। 

29-08-2020
रिया चक्रवर्ती से पूछताछ करने वाले मुंबई पुलिस के डीसीपी पाए गए कोरोना संक्रमित

मुंबई। सुशांत सिंह मामले में रिया चक्रवर्ती से मुंबई पुलिस ने पूछताछ की थी। रिया से पूछताछ करनेवाले डीसीपी अभिषेक त्रिमुखे और उनके घरवाले कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। डीसीपी त्रिमुखे पर सुशांत केस में जांच को लेकर सवाल उठते रहे हैं। रिया चक्रवर्ती की कॉल डिटेल्स से ये खुलासा हुआ था कि सुशांत सिंह की मौत के बाद रिया की बांद्रा के डीसीपी अभिषेक त्रिमुखे से फोन पर कई बार बातचीत हुई थी। कॉल्स से साफ हुआ है कि रिया लगातार डीसीपी के संपर्क में थीं। अब अभिषेक त्रिमुखे के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर सामने आई है। खास बात ये है कि त्रिमुखे  के साथ उनका पूरा परिवार कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। 

 

01-08-2020
सुशांत सिंह मामले में रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 5 अगस्त को करेगा सुनवाई

नई दिल्ली। सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में पटना में दर्ज प्राथमिकी मुंबई स्थानांतरित करने के लिए एक्‍ट्रेस रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 5 अगस्त को सुनवाई करेगा। शीर्ष न्यायालय की वेबसाइट पर मौजूद सूची के मुताबिक चक्रवर्ती की मामले को स्थानांतरित करने वाली याचिका पर सुनवाई बुधवार को न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय की पीठ के समक्ष होगी। बिहार सरकार के बाद शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार ने कैविएट दाखिल की। महाराष्ट्र सरकार ने भी न्यायालय से अनुरोध किया है कि इस याचिका पर कोई भी आदेश देने से पहले उसका पक्ष भी सुना जाये। बिहार सरकार और सुशांत सिंह राजपूत के पिता द्वारा न्यायालय में कैविएट दाखिल किये जाने के बाद महाराष्ट्र सरकार के इस कदम का मकसद यह सुनिश्चित करना है कि रिया चक्रवर्ती की स्थानांतरण याचिका पर उसका पक्ष सुने बगैर कोई भी आदेश नहीं दिया जाए। शीर्ष अदालत में अपनी याचिका में चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि राजपूत के पिता ने बिहार के पटना में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया।

रिया ने अपनी याचिका में कहा कि वह और राजपूत लिव-इन-रिलेशनशिप में थे। राजपूत की मौत तथा खुद उन्हें हत्या और बलात्कार की धमकियां मिलने के बाद से वह गहरे सदमे में हैं। उन्होंने याचिका में कहा, ”यह जिक्र करना मुनासिब होगा कि मृतक और याचिकाकर्ता आठ जून 2020 तक करीब एक वर्ष से लिव-इन-रिलेशनशिप में रह रहे थे, उसके बाद याचिकाकर्ता मुंबई में अपने आवास पर अस्थायी रूप से चली गई थीं।” चक्रवर्ती ने याचिका में यह भी कहा, ”राजपूत पिछले कुछ समय से अवसाद में थे, इसके लिए दवाएं ले रहे थे और 14 जून 2020 की सुबह उन्होंने बांद्रा स्थित आवास पर खुदकुशी कर ली थी।” उन्होंने कहा कि जब घटना पटना में नहीं हुई तो वहां जांच शुरू करना गलत है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804