GLIBS
10-06-2021
सब्सिडी के बावज़ूद डीएपी खाद 18-19 सौ रुपए में बेचना अन्यायपूर्ण :साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा है कि केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभ से प्रदेश सरकार छत्तीसगढ़ के लोगों को वंचित रख रही है। धान के समर्थन मूल्य में केंद्र सरकार द्वारा की गई बढ़ोतरी के बाद साय ने कहा कि प्रदेश सरकार केंद्र द्वारा समर्थन मूल्य में की गई वृद्धि का लाभ सीधे किसानों को नहीं दिया जाना अन्यायपूर्ण है। इसी प्रकार केंद्र द्वारा सब्सिडी देने की घोषणा के बावज़ूद प्रदेश के किसानों को डीएपी खाद 12सौ के बजाय 18-19 सौ रुपए में दी जा रही है। प्रदेश सरकार अपने इन किसान और जनविरोधी कृत्यों की क़ीमत चुकाने के लिए तैयार रहे।


साय ने कहा कि प्रदेश सरकार ने 25सौ रुपए प्रति क्विंटल धान ख़रीदने का वादा किया था। केंद्र सरकार ने इस बीच तीन बार कृषि उपजों के समर्थन मूल्य में सम्मानपूर्ण बढ़ोतरी करके किसानों के हितों की चिंता की लेकिन प्रदेश सरकार इस बढ़े हुए समर्थन मूल्य की राशि को 25सौ रुपए में समाहित कर अपनी ओर से दी जाने वाली अतिरिक्त राशि में लगातार कटौती कर रही है, जिससे किसानों को बढ़े समर्थन मूल्य का सीधा लाभ नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ क़दम-क़दम पर छलावा कर रही प्रदेश सरकार एक ओर जहाँ अपने घोषित धान मूल्य का एकमुश्त भुगतान करने में हाँफ रही है, वहीं केंद्र सरकार की योजनाओं के लाभ से भी किसानों को वंचित कर रही है। पिछले सत्रों में केंद्र सरकार ने धान के समर्थन मूल्य में 200 रुपए की वृद्धि की है। साय ने मांग की कि अब प्रदेश सरकार आनुपातिक रूप से अगली फ़सल के लिए धान की क़ीमत 27 सौ रुपए प्रति क्विंटल कर उसके एकमुश्त भुगतान की घोषणा करे। इसी प्रकार अन्य फ़सलों की क़ीमतें बढ़ाई जाएँ।

साय ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों की चिंता करके डीएपी खाद पर सब्सिडी की घोषणा की, जिसे लेकर कांग्रेस व प्रदेश सरकार के लोग अपने मुँह मियाँ मिठ्ठू बनकर वृथा गाल बजा रहे हैं, लेकिन प्रदेश सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों को 12 सौ के बजाय 18-19 सौ रुपए में खाद दे रही है। समिति प्रबंधकों द्वारा किसानों को सब्सिडी का लाभ नहीं देकर सीधे-सीधे लूटा जाना और प्रदेश सरकार का इस पर चुप्पी साधे रहना इस बात का प्रमाण है कि केंद्र सरकार द्वारा किसानों को डीएपी पर दी गई सब्सिडी के लाभ से प्रदेश सरकार के इशारों पर वंचित रखने का शर्मनाक कृत्य किया जा रहा है।

12-04-2021
हाईकोर्ट के फैसले के बाद मरकाम और बघेल करें डॉ.संबित पात्रा से क्षमायाचना : साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा और तेजिंदरपाल सिंह बग्गा के ख़िलाफ़ दर्ज़ तमाम एफआईआर को छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट द्वारा निरस्त किए जाने को लोकतंत्र, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सत्य की विजय निरुपित किया है। साय ने कहा कि हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल में ज़रा भी नैतिकता बाकी रह गई हो तो दोनों नेताओं को पूरे देश-प्रदेश के साथ-साथ भाजपा और डॉ.पात्रा से निशर्त क्षमायाचना करना चाहिए क्योंकि उनके इशारे पर प्रदेश के अलग-अलग थानों में डॉ. संबित पात्रा के विरुद्ध लगभग एक सौ एफआईआर की गई थी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने कहा कि टुकड़े-टुकड़े गैंग की अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर देशद्रोहियों के साथ खड़ी दिखने वाली कांग्रेस का मूल राजनीतिक चरित्र ही अभिव्यक्ति की आज़ादी को कुचलना रहा है। अपने ख़िलाफ़ उठने वाली हर आवाज़ को कुचलने वाली कांग्रेस ने देश पर आपातकाल थोपकर अपने इस चरित्र का परिचय तो दिया ही था। साय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत संघ-परिवार पर मनगढ़ंत आरोप लगाकर झूठी, ऊलज़लूल व अपमानजनक टिप्पणियाँ करना अपना विशेषाधिकार समझने वाली कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर डॉ. पात्रा की टिप्पणी से बौखलाई कांग्रेस को हाईकोर्ट के इस फैसले ने आइना दिखा दिया है। 

08-04-2021
बघेल और मरकाम को हर बात में मीन-मेख निकालकर केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ प्रलाप करने की बुरी लत लग गई: साय

रायपुर। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की बेक़ाबू रफ़्तार थामने में बुरी तरह विफल साबित हो चुकी प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम को हर बात में मीन-मेख निकालकर केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ नित-नया प्रलाप करने की बुरी लत लग गई है। साय ने कहा कि कोरोना के ख़िलाफ़ जारी ज़ंग में प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेतृत्व ने बड़ी-बड़ी डींगें हाँककर जिस तरह का ग़ैर-ज़िम्मेदाराना आचरण किया है, उसकी कोई और मिसाल शायद ही मिले। साय ने कहा कि राजनीतिक प्रतिशोध की भावना के वशीभूत होकर प्रदेश के जनस्वास्थ्य के साथ अक्षम्य खिलवाड़ करने के अपराध-बोध से ग्रस्त कांग्रेस और प्रदेश सरकार अब अपनी विफलता छुपाने राजनीतिक प्रलाप कर रही है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने वैक्सीनेशन की उम्र 18 वर्ष करने की कांग्रेस अध्यक्ष मरकाम और मुख्यमंत्री बघेल की मांग को लेकर कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि तमाम कांग्रेस नेता दिल्ली के एक ही रिमोट से संचालित हो रहे हैं और एक ही सुर में बेसुरा राग आलाप रहे हैं। वैक्सीनेशन की उम्र 18 वर्ष करने की मांग महाराष्ट्र के कांग्रेस अध्यक्ष भी कर चुके हैं। साय ने कहा कि दरअसल छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए ठोस और सर्वहितकारी काम करने के बजाय कांग्रेस नेताओं और प्रदेश सरकार ने सालभर सिवाय राजनीतिक प्रलाप करने और केंद्र सरकार पर अपनी विफलता का ठीकरा फोड़ने के निकृष्ट राजनीतिक चरित्र का प्रदर्शन करने के अलावा और कुछ नहीं किया। श्री साय ने कहा कि कोरोना गाइडलाइंस की खुलेआम धज्जियाँ उड़ाकर, लॉकडाउन को ग़ैर-ज़रूरी बताकर, वैक्सीन को लेकर घटिया राजनीतिक सोच का परिचय देकर जिस कांग्रेस और प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ को आज महामारी की अंधी खाई में धकेलकर रख दिया है, वह पार्टी और सरकार आख़िर किस मुँह से केंद्र सरकार को नसीहतें देने का दुस्साहस कर रही है?

 

17-01-2021
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय का बस्तर प्रवास 20 से

रायपुर/जगदलपुर। भाजपा धान खरीदी में व्याप्त अनियमितता पर विधान सभा स्तर पर हुए धरना प्रदर्शन के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय यहां होने वाले जिला स्तरीय आंदोलन में शामिल होने 20 जनवरी को वे जगदलपुर आएंगे। इसके बाद 3 दिनों तक वे बस्तर में ही रहेंगे। इस बीच वे दंतेवाड़ा भी जाएंगे और कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे। जिलाध्यक्ष रूपसिंह मंडावी ने बताया कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय 20 जनवरी को जगदलपुर पहुंचेंगे। इस बीच भानपुरी-बस्तर सहित जगदलपुर शहर में उनके स्वागत की तैयारी की जा रही है। प्रदेश अध्यक्ष भाजपा कार्यालय में कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे। 21 जनवरी को वे दंतेवाड़ा जाएंगे और 22 जनवरी को धान खरीदी पर होने वाले भाजपा के जिला स्तरीय धरने में वे शामिल होंगे।

01-01-2021
धान खरीदी बंद ना होने दें अन्यथा भाजपा सड़क से सदन तक सरकार के खिलाफ हल्ला बोलेगी :साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को केंद्र सरकार पर आरोप मढ़ने की राजनीति से बाज आने की सलाह दी हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की 2 वर्ष की विफलता के बीच आज कैलेंडर भी बदल गया और अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी अपनी मानसिकता बदलनी चाहिए और प्रदेश हित में कार्य करना चाहिए। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि केंद्र पर आरोप मढ़ने की आदत से मजबूर सीएम बघेल को छत्तीसगढ़ की जनता को बताना चाहिए कि पिछले वर्ष का केंद्रीय पुल का 28 लाख मीट्रिक टन चावल कहां गया? प्रदेश के किसानों का धान खरीदने में हॉफ रही प्रदेश सरकार अपनी नाकामी छिपाने केवल राजनीति करने केंद्र पर आरोप मढ़ रही हैं। प्रदेश सरकार को छत्तीसगढ़ की जनता को बताना चाहिए कि केंद्र सरकार पिछले वर्ष की तुलना में छत्तीसगढ़ का डेढ़ गुना अधिक चावल खरीद रही हैं और उसका 9 हजार करोड़ रुपए का भुगतान भी केंद्र की मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ सरकार को कर दिया हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि प्रदेश सरकार एक महीने विलंब से धान खरीदी कर, धान खरीदी केंद्र में अव्यवस्था, टोकन के नाम पर किसानों से छलावा, बारदाने का बहाना और छत्तीसगढ़ के किसानों का रकबा कम कर कम धान खरीदी करने के षड्यंत्र में एक और अध्याय जोड़ते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनका मंत्री मंडल केंद्र सरकार पर आरोप लगाकर छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ अन्याय करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि प्रदेश में बैठी षड्यंत्रकारी किसान विरोधी अन्याय करने वाली सरकार अपनी इस हरकतों से बाज आये और किसानों के हित में कार्य करे, भाजपा किसानों के साथ अन्याय और राजनीतिक षड्यंत्र को बर्दाश्त नहीं करेंगी और यदि धान खरीदी को प्रभावित करने का षड्यंत्र बंद नहीं किया गया तो भाजपा सड़क से सदन तक प्रदेश सरकार के खिलाफ हल्ला बोलेगी।

 

22-07-2020
साय ने की राज्यपाल से मुलाकात, कहा-सेट 2019 में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को परीक्षा में सम्मिलित होने मिले अवसर

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदेव साय ने राज्यपाल अनुसुईया उइके से मुलाकात कर प्रदेश के युवाओं के हित को ध्यान में रखते हुए छत्तीसगढ़ सेट परीक्षा 2019 में उत्तीर्ण अभियर्थियों को सहायक प्रध्यापक भर्ती परिक्षा में अवसर प्रदान करने के संदर्भ में चर्चा कर ज्ञापन सौंपा। विगत दिनों सीजी सेट 2019 पात्र अभ्यर्थी अधिकार मंच के प्रतिनिधिमंडल ने साय से रायपुर में मुलाकात कर अपनी समस्याओं से अवगत कराया था। विष्णुदेव साय ने कहा कि सहायक प्रध्यापक भर्ती परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए व्यापम द्वारा आयोजित सेट पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य होता है। व्यापम द्वारा राज्य पात्रता परीक्षा का आयोजन सितंबर 2019 में किया गया, इसका परिणाम 24 जून 2020 को जारी हुआ। वहीं 3-4 महीने में ही लोक सेवा आयोग द्वारा सहायक प्राध्यापक भर्ती के लिए 2019 में विज्ञापन जारी किया गया था। इसकी परीक्षा अभी तक आयोजित नहीं हुई है। साय ने कहा कि अभ्यर्थियों को इस परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर मिलना चाहिए था। सेट परीक्षा में सिर्फ राज्य के ही मूल निवासी छात्र सम्मिलित होते हैं और अपने राज्य में ही सहायक प्रध्यापक परीक्षा के लिए ही पात्र होते हैं। राज्य पात्रता परीक्षा 2019 में उत्तीर्ण कई अभ्यर्थी ऐसे भी हैं जिनके लिए आयु की दृष्टि से यह अंतिम अवसर होगा। प्रदेश के युवाओं के हित को दृष्टिगत रखते हुए उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात कर सेट 2019 में उत्तीर्ण समस्त अभियर्थियों को सहायक प्रध्यापक भर्ती परीक्षा में सम्मिलित करने राज्य शासन को निर्देशित करने का आग्रह किया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804