GLIBS
08-07-2020
विष्णुदेव साय राजनीति करने महामारी का सहारा ना लें : धनंजय ठाकुर

 

रायपुर। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय मोदी सरकार की कोरोना महामारी पर हुई बड़ी चूक की जिम्मेदारी से बच नहीं सकते। कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश है। अमेरिका, ब्राजील के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित भारत है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय राजनीति करने के लिए महामारी का सहारा ना ले बल्कि महामारी रोकने में नाकाम मोदी सरकार की नाकामी की जिम्मेदार लें।

विष्णु देव साय बताएं, छत्तीसगढ़ में महामारी नियंत्रित करने किए जा रहे उपायों में भाजपा सांसदों, नेताओं की क्या भूमिका है? प्रवासी मजदूरों के रोजी रोजगार को लेकर भाजपा बड़ी-बड़ी बात करती है, पर मजदूरों के नाम से शुरू किए गए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में छत्तीसगढ़ को दूर क्यों रखा गया? छत्तीसगढ़ के साथ मोदी सरकार की ओर से निरंतर किए जा रहे भेदभाव पर भाजपा के सांसद मौन क्यों हैं? भाजपा सांसद पीएमकेयर फंड में जमा छत्तीसगढ़ के हक को दिलाने क्या कर रहे हैं? मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार ने महामारी के कारण बंद पड़ी आर्थिक गतिविधियों को सुचारू रूप से संचालन करने के लिए केंद्र सरकार से 30 हजार करोड़ का राहत पैकेज मांगा,भाजपा के सांसद उक्त राहत पैकेज को दिलाने में क्या भूमिका निभा रहे हैं? भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय महामारी के विषय में राजनीति करने के बजाए, महामारी नियंत्रित किए जा रहे उपायों पर सहयोग करें। विपक्षी दल के एक जिम्मेदार नेता होने का दायित्व का निर्वहन करें।

23-06-2020
क्या मोदी सरकार सिर्फ 116 जिलों के प्रवासी मजदूरों के लिए ही जिम्मेदार : धनंजय सिंह ठाकुर

रायपुर। कांग्रेस ने मोदी सरकार और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर गरीब कल्याण योजना से छत्तीसगढ़ के 28 जिला को बाहर करने और मजदूर-मजदूर में भेदभाव करने का आरोप लगाया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि सूटबूट वाली मोदी सरकार आजाद भारत की ऐसी पहली सरकार है, जो केंद्रीय योजनाओं को भी दलगत कारणों से भेदभाव करते हुए लागू करती है। प्रवासी मजदूरों को स्थानीय स्तर पर रोजगार मुहैया कराने शुरू की गई, गरीब कल्याण योजना का लाभ देश के 747 जिलों के प्रवासी मजदूरों को नहीं मिलेगा। मात्र 116 जिलों में इस योजना को लागू कर मोदी सरकार ने मजदूर-मजदूर में भेदभाव करने का निंदनीय कृत्य किया है। कोरोना महामारी संकटकाल में छत्तीसगढ़ के 28 जिलों में लगभग 5 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक और उनके परिवार सकुशल छत्तीसगढ़ लौटे हैं।

रोजी रोजगार का संकट और मानसिक तनाव से मजदूरों को गुजरना पड़ा है। मोदी सरकार तत्काल मजदूरों के खाते में 10 हजार रुपए जमा कराने के बजाए, मजदूरों के नाम से शुरू की गई गरीब कल्याण योजना से ही मजदूरों को बाहर कर दिया है। संकटकालीन दौर में प्रवासी मजदूरों को स्थानीय स्तर पर रोजगार देने की अत्यंत आवश्यकता है। राज्य सरकार मनरेगा के माध्यम से जॉब कार्ड बनाकर प्रवासी मजदूरों को भी रोजगार देने का प्रबंध कर रही है। कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ भाजपा के 9 सांसदों से सवाल पूछा है कि, क्या छत्तीसगढ़ के 28 जिला के प्रवासी मजदूरों को गरीब कल्याण योजना के मार्फत रोजगार नहीं मिलना चाहिए? क्या मोदी भाजपा की सरकार बनाने में 28 जिलों के गरीब मजदूर किसानों का कोई योगदान नहीं है? कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता ने कहा है कि मजदूरों के नाम से घड़ियाली आंसू बहा कर राजनीति करने वाले भाजपा के सांसद मोदी सरकार की ओर से छत्तीसगढ़ के मजदूरों के साथ किए जा रहे अन्याय पर मौन क्यों हैं?

 

19-02-2020
केन्द्रीय इस्पात मंत्री भिलाई स्टील प्लांट को बेचने के उद्देश्य से आ रहे हैं : कांग्रेस

रायपुर। केंद्रीय इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के भिलाई स्टील प्लांट दौरे पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय इस्पात मंत्री मोदी सरकार के सरकारी कंपनी विक्रय योजना को आगे बढ़ाने बीएसपी को बेचने के उद्देश्य से भिलाई दौरा कर रहे हैं। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार की स्पष्ट नीति है सरकारी कम्पनियों को बेचना। पूर्व की अटल सरकार के दौरान लाभ कमाने वाली बालको को लागत मूल्य से कम कीमत पर बेचा गया था। अब आजाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू द्वारा स्थापित की गई आधुनिक तीर्थ भिलाई स्टील प्लांट को बेचने की तैयारी में है। मोदी सरकार भारत के महारत्न, नवरत्न और मिनीरत्न कंपनियों को बेचकर अर्थव्यवस्था मजबूत करना चाहती है। इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भिलाई स्टील प्लांट के संबंधित उन सभी प्लांट माइंस क्षेत्रों का दौरा का आकलन कर बेचने की रणनीति बनाएंगे। केंद्र की मोदी सरकार भिलाई स्टील प्लांट को टुकड़ों में बेचना चाहती है। 74 सार्वजनिक उपक्रमों की सूची प्रधानमंत्री कार्यालय को सौंप कर बेचने की अनुशंसा की गई है। इस क्रम में सेल सहित विशाल परिसंपत्तियां वाले रणनीतिक महत्व के कई सार्वजनिक उपक्रम शामिल हैं।

 

07-02-2020
मोदी, शाह के किसान विरोधी कृत्य के महापाप का प्रायश्चित कर रही भाजपा : धनंजय

रायपुर। भाजपा के आंदोलन पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने भाजपा के आंदोलन को विफल करार देते हुए आरोप लगाया है कि मोदी और शाह ने किसानों के साथ विश्वासघात किया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा मोदी, शाह के किसान विरोधी कृत्य के महापाप का प्रायश्चित कर रही है। मोदी भाजपा ने लोकसभा चुनाव में स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश के अनुसार लागत मूल्य का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य देने और आय दोगुनी करने का वादा किया था लेकिन 6 साल बाद भी बजट में उसका प्रावधान नहीं कर किसानों के साथ धोखा छल कपट प्रपंच किया। किसान सम्मान निधि के नाम से किसानों का अपमान किया।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा के नेता सड़क में किसानों की हित की बड़ी बड़ी बात करते हैं लेकिन भाजपा के सांसदों को सदन में सांप सूंघ जाता है, जो चुप रहते हैं। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि 15 साल के रमन सरकार और बीते 6 साल में मोदी सरकार ने किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए कुछ भी नहीं किया। किसानों के नाम से राजनीति करने वाले भाजपा के नेता बताएं जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार किसानों को धान का 2500 रुपए  मूल्य दे रही थी, तब केंद्र के मोदी सरकार ने उसमें अड़ंगा लगाने का काम किया। उस दौरान प्रदेश के राज्यपाल को 20 लाख किसानों का पत्र सौंपकर प्रधानमंत्री से आग्रह किया गया कि सेंट्रल पूल के नियम को शिथिल रखा जाए ताकि राज्य सरकार को धान के 2500 रुपए प्रति क्विंटल दाम देने में कोई दिक्कत ना हो। तब भाजपा के 9 सांसद और भाजपा के नेता किस गुफा में छुपे बैठे थे? भाजपा के 9 सांसद और भाजपा नेताओं में हिम्मत है, वास्तविक में किसानों का भला चाहते हैं, मोदी शाह के सामने खड़े होकर छत्तीसगढ़ के किसानों की हित की बात करें। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार पर धान खरीदी में विफल होने का आरोप लगाने वाली भाजपा को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जनता ने जवाब दे दिया है।

 

05-02-2020
कौशिक ने एक सप्ताह में दो बार एक ही झूठ को दोहराकर गोयबल्स का रिकार्ड तोड़ा : धनंजय

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने एक सप्ताह में दो बार एक ही झूठ को दोहराकर गोयबल्स का रिकार्ड तोड़ा है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बार-बार झूठ बोलकर झूठ को सच नहीं बना सकते। रमन शासनकाल में अनेक बार सीमेंट के दाम बढ़ाने वाले भाजपा के नेता सीमेंट के दामों में वृद्धि का आरोप लगाकर घड़ियाली आंसू न बहाएं। धरमलाल कौशिक 5 साल तक विधानसभा अध्यक्ष रहे, तब सीमेंट का दाम 99 रुपए से बढ़कर 325 रुपए प्रति बोरी तक पहुंचा था। ऐसा लगता है कि धरमलाल कौशिक चंदा वसूली का जो आरोप लगाते हैं ये उनका पूर्व सरकार का अनुभव है। जो वे बार-बार इस तरीके के निराधार आरोप लगाते हैं। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा सरकार के भारी कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार के कारण ही प्रदेश की जनता ने भाजपा को सत्ता से बाहर किया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने पहले भी कड़ाई से सीमेंट के दामों में वृद्धि को रोका और आने वाले दिनों में भी सीमेंट सस्ती दरों में जनता को उपलब्ध कराएंगी। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बताएं रमन शासन काल में 325 रुपए प्रति बोरी के दाम में मिलने वाला सीमेंट सस्ता था या आज 220 रुपए  प्रतिबोरी की दर पर मिलने वाला सीमेंट सस्ता है। छत्तीसगढ़ में जब 2003 में कांग्रेस की सरकार थी तब राज्य में सीमेंट की कीमत 99 रुपए प्रति बोरी थी। भाजपा की रमन सरकार बनते ही 2004 में सीमेंट के दाम 120 रुपए प्रति बोरी हो गया था। 2005 के शुरुआत में तो सीमेंट के दाम 155 रुपए, 2006 में यह दाम सीधे 200 के ऊपर हो गया। इसके बाद 2008 में सीमेंट कंपनियों ने सीधे 250 से 300 रुपए बोरी तक पहुंचा दिया,लेकिन सीमेंट के दाम घटने के बजाय और बढ़े रमन राज में एक बार फिर से सीमेंट के दाम 325 तक पहुंच गए थे। मांग की गिरावट और वैश्विक मंदी के बाद सीमेंट के दाम फिर से 300 रुपए के नीचे गिरा,जो 245 से 250 रुपए तक पहुंचा। दिसंबर 2018 में रमन सरकार के रहते सीमेंट के दाम 240 से 245 रुपए बोरी था।

 

04-02-2020
एलआईसी के 31 लाख करोड़ की पूंजी खतरे में : कांग्रेस

रायपुर। एलआईसी कंपनी बेचने के मोदी सरकार के निर्णय के खिलाफ एलआईसी के प्रदर्शन पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने मोदी सरकार के एलआईसी कंपनी बेचने के निर्णय का निंदा करते हुए कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के द्वारा पांच करोड़ के प्रारम्भिक पूंजी से खोली गई एलआईसी का आज पूंजीगत ढांचा 31 लाख करोड़ है। एलआईसी प्रतिवर्ष 3000 करोड़ से अधिक के लाभांश अर्जित कर लाखों लोगों को रोजगार एवं जीवन की सुरक्षा,चिकित्सा सुविधा से लेकर घर बनाने तक में सहयोग करते आ रही है। एलआईसी एक विश्वसनीय संस्थान है,जिसको बेचने का निर्णय केंद्र की मोदी सरकार ने लिया है जो राष्ट्र हित में नहीं है।
धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार चंद उद्योगपतियों के हाथों की कठपुतली है। मोदी के मित्र जो चाहते हैं वही काम केंद्र की भाजपा सरकार करती है। रिजर्व बैंक के रिजर्व फंड पर मोदी के मित्रों की क्रूर दृष्टि थी एक लाख 76 हजार करोड़ रुपए रिजर्व फंड का बंदरबांट करने के बाद मोदी सरकार अपने चंद उद्योगपति मित्रों को खुश करने के लिए 31 लाख करोड़ के पूंजीगत ढांचा वाली एलआईसी को बेचने जा रही है। धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मोदी सरकार के गलत नीतियों के कारण देश भारी आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा। आर्थिक मंदी से देश को उबारने में मोदी सरकार की नीतियां फेल हो गई है।

 

01-02-2020
भाजपा नेताओं की उकसावे वाली बोली की वजह से शाहिन बाग के आंदोलन में चली गोली : धनंजय ठाकुर

रायपुर। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ आंदोलन कर रहे आंदोलनकारियों पर हो रही फायरिंग की घटना के लिए मोदी, शाह जिम्मेदार है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि नागरिकता संशोधन काले कानून के खिलाफ प्रर्दशन कर रहें निहत्थे लोगो पर गोली चलाना दुर्भाग्यजनक है। मोदी कहते हैं कि सीएए पर डिफेंसिव रहने की जरूरत नही है, आक्रामक हो जाइए, दूसरी ओर शाहीन बाग में गोली चलती है। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर मंच से गोली मारने की बात कहते है और सीएए के खिलाफ निकली छात्रों की रैली में पुलिस के सामने तमंचा लहराकर युवक फायरिंग करता है। एक प्रदर्शनकारी घायल हो जाता है। शाह दिल्ली की चुनावी सभा में बटन दबाने से करंट शाहीन बाग़ लगने की बात कहते है। ऐसे उकसावे वाले भाषणों का ही दुष्परिणाम है कि लोकतांत्रिक तरीको से हो रहे विरोध प्रदर्शन में गोली बारी चल रही है। धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली सहित पूरे देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। आम जनता अपने आने वाले कल को लेकर भयभीत है, लेकिन केंद्र में बैठी सरकार आंदोलनकारियों से बात करने तैयार नहीं है और आंदोलनकारियों के खिलाफ निरंतर भाजपा के नेता उकसावे वाला भाषण दे रहे हैं। ऐसा लगता है देश की गंगा जमुना तहजीब को तोड़ने का काम चल रहा है। वसुधैव कुटुंबकम की नीति पर फलने फूलने वाले भारत के लोगों के मन में एक दूसरे के प्रति जहर घोला जा रहा है। दुर्भाग्यजनक अशांत, डरावनी माहौल पैदा किया जा रहा है जो भारतीय लोकतंत्र के लिए लोकतांत्रिक परंपराओं मर्यादाओं के विपरीत आचरण है। शाहीन बाग की घटना से  खौफ का माहौल है। जानमाल की सुरक्षा को लेकर लोगों में चिंता बढ़ रही है। केंद्र की मोदी सरकार त्वरित इस चिंता का निराकरण करें और सीएए के कारण उत्पन्न लोगों के मन में भय को समाप्त करने आंदोलनकारियों से चर्चा करें।

 

 

18-01-2020
भूपेश सरकार ने जन-जन की सुरक्षा के किए ठोस उपाय, तभी केन्द्र ने रमन सिंह की सुरक्षा घटाई : धनंजय 

रायपुर। दोनों पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और अजीत जोगी के बयान पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने आरोप लगाया है कि कहा कि दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों ने मिलकर विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ साजिश रची थी। विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार से दोनों पूर्व मुख्यमंत्री बौखला गए हैं। हार की बौखलाहट में अपना संतुलन खोकर अनर्गल तथ्यहीन बयानबाजी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने एक साल में जन-जन की सुरक्षा के ठोस उपाय किये, तभी तो मोदी सरकार ने 15 साल तक कई लेयर के सुरक्षा घेरे में घिरे रमन सिंह की सुरक्षा में कटौती की। 

कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि 15 साल तक डॉ रमन सिंह खुद सुरक्षा घेरे में रहते थे। बस्तर से लेकर सरगुजा तक, रायगढ़ से लेकर राजनांदगांव तक आम जनता खुद की सुरक्षा को लेकर चिंतित रहते थे। दिन दहाड़े बैंक में उठाईगिरी, व्यापरियों से लूटपाट, अपहरण, हत्या की घटनाए होती थी। 15 साल तक किसान, व्यापारी, मजदूर, गृहणी, बेटियां घर बाहर हर जगह असुरक्षित महसूस किया करते थे। बाजार, मार्निग वॉक जाने से महिला घबराती थी। भाजपा के नेता थानों में घुसकर मारपीट करते थे। तखतपुर, मुंगेली में भाजपा के नेताओं ने थानेदार से मारपीट की और भाजपा सरकार का समर्थन था। 

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता ने कहा कि नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा और भाजपा की बी टीम को जनता ने नकार दिया और ग्राम पंचायत, जिला पंचायत चुनाव में भी करारी हार दोनों दलो की होने वाली है। राज्य के दोनों पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, अजीत जोगी  मुद्दाविहीन हो चुके है।  गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने तो पूर्व सरकार के 15 साल में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बरती गई कोताही को लेकर अपनी बात रखी है। बीते 15 साल के दौरान पुलिस बल की संख्या बढ़ाई जाती, सुरक्षा बल  की कमी नहीं होती,पुलिस का आधुनिकीकरण किया जाता, अपराधियों को भाजपा के सदस्य बनाने के बजाये जेल में डाल जाता तो राज्य की कानून व्यवस्था मजबूत होती। 

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने  कहा कि एक साल में सरकार ने जो कानून व्यवस्था को मजबूत करने उपाय किए हैं । उसका ही नतीजा है अपराध के बाद अपराधी तत्काल पकड़े जा रहे हैं। अपराधियों पर हो रही कड़ाई से कार्यवाहियों के कारण आपराधिक किस्म के लोगों के मन मे डर उतपन्न हुआ है। आपराधिक घटनाओं पर पूर्व सरकार के अपेक्षा कमी आई है। 2018 (1 जनवरी से 31 अक्टूबर) की तुलना में 2019 (1 जनवरी से 31 अक्टूबर) में अपराधों में भारी कमी आई है। जो अपराध हुए भी हैं, छत्तीसगढ़ पुलिस ने उनको ढूंढ निकाला है। भाजपा शासन काल में तो प्रार्थी मारा-मारा फिरता था, परंतु एफआईआर ही दर्ज नहीं होती थी। पिछले वर्ष की तुलना में हत्या : 4 प्रतिशत की कमी, हत्या का प्रयास : 8 प्रतिशत की कमी, डकैती : 36 प्रतिशत की कमी, लूट : 1 प्रतिशत की कमी, धोखाधड़ी : 8 प्रतिशत की कमी है। भाजपा नेता पहले अपने गिरेबान में झांके, फिर कांग्रेस पर आरोप लगाए। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804