GLIBS
16-01-2021
देश में 1 लाख 65 हजार 714 लोगों को दी गई पहले दिन कोरोना वैक्‍सीन, छत्तीसगढ़ में 4,985 लोगों को लगे टीके

नई दिल्ली।  पूरे देश में शनिवार को 3,351 केन्द्रों पर कोविड-19 के टीके कोवैक्सीन और कोविशील्ड लगाए गए। पूरे देश में टीकाकरण अभियान के पहले दिन शाम साढ़े पांच बजे तक 1,65,714 लाभार्थियों को कोविड-19 के टीके लगाए गए। कोविड-19 टीकाकरण सत्रों के आयोजन में 16,755 कर्मचारी शामिल थे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि कोविड-19 टीकाकरण अभियान पहले दिन सफलतापूर्वक आयोजित किया गया, टीकाकरण के बाद अस्पताल में भर्ती होने का कोई मामला अब तक सामने नहीं आया।दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी और जेएस मंदीप भंडारी ने प्रेसवार्ता करके बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोविड-19 अभियान की शुरुआत की। इस अभियान का पहला दिन सफल रहा। विश्‍व के सबसे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम के मद्देनजर देश भर में सभी कोरोना वैक्‍सीनेशन सेशन साइट्स पर टीकों पर रसद की पर्याप्‍त मात्रा सुनिश्चित की गई। पहले चरण में अग्रिम मोर्चों पर तैनात स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की पहली खुराक दी गई।स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि आज देश में 3351 सत्र में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम किया गया।

वैक्सीनेशन ड्राइव में 2 तरह के वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की सभी राज्यों को दिया गया है जबकि भारत बायोटेक की स्वदेशी कोरोना वैक्सीन 12 राज्यों को दी गई है। स्वास्थ्य कर्मियों के साथ-साथ एम्स दिल्ली के निदेशक रणदीप गुलेरिया, नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल, भाजपा सांसद महेश शर्मा और पश्चिम बंगाल के मंत्री निर्मल माजी उन लोगों में शामिल हैं जिन्हें टीके की पहली खुराक दी गई। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अंडमान और निकोबार में 78 लोगों को टीका लगा। आध्र प्रदेश में 16,963, अरुणाचल प्रदेश में 743, असम में 2,721, बिहार में 16,401, चंडीगढ़ में 195, छत्तीसगढ़ में 4,985, दिल्‍ली में 3,403, गोवा में 373 और गुजरात में 8,557 लोगों को टीका लगाया गया। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा कि चूंकि यह टीकाकरण का पहला दिन था, इसलिए कुछ मामले सामने आए। जैसे कुछ सत्र स्थलों पर लाभार्थी सूची अपलोड करने में देरी हुई और कुछ टीकाकरण श्रमिकों को आज के सत्र के लिए निर्धारित नहीं किया गया था। दोनों मामलों पर अब काम किया जा रहा है, ताकी आगे ऐसी किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े।

 

 

16-01-2021
जांजगीर में जिला हॉस्पिटल के सिविल सर्जन डॉ. अनिल जगत को लगी पहली कोरोना वैक्सीन

जांजगीर-चांपा। जिले में शनिवार से कोरोना का वैक्सिनेशन प्रारंभ हो गया है। सबसे पहले 10405 फ्रंट लाइन वारियर्स को यह वैक्सीन लगाई जाएगी। इसके लिए जिले में 6360 डोज आ चुका है। आज  जिला हॉस्पिटल के सिविल सर्जन डॉ अनिल जगत को पहला टीका लगाया गया। वैक्सिनेशन के बाद उन्होंने बताया की वे पूरी तरह से स्वास्थ्य हैं। साथ ही उन्होंने लोगों से अपील की है कि जब भी आपकी बारी आए बिना डर भय और संदेह के वैक्सिनेशन सेंटर जाकर वैक्सीन लगवाएं। इस दौरान जिले के कलेक्टर यशवंत कुमार भी मौजूद रहे। उन्होंने जिलेवासियों को वैक्सिनेशन प्रारंभ होने की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज जिले के 3 केंद्रों जिला हॉस्पिटल जांजगीर, सीएचसी बलौदा और सीएचसी अकलतरा में 50-50 लोगों को वैक्सीन लगेगी।

15-01-2021
नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद 23 लोगों की मौत

नई दिल्ली। दुनियाभर के कई देशों में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ बड़े स्तर पर टीकाकरण का अभियान चल रहा है। कई वैक्सीन्स को अप्रूवल मिलने के बाद लोगों ने महीनों बाद राहत भरी सांस ली लेकिन फाइजर वैक्सीन पर सवाल उठने लगे हैं। दरअसल नॉर्वे में अब तक वैक्सीन लगवाने वाले 23 लोगों की जान जा चुकी है। इनमें से ज्यादातर लोग बुजुर्ग थे। नॉर्वे में न्यू ईयर से चार दिन पहले कोरोना वैक्सीनेशन शुरू हुआ था और अब तक 33 हजार से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो चुका है।नॉर्वे में जिन लोगों की मौत हुई है, उन्होंने वैक्सीन की पहली ही डोज ली थी, जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई। सरकार का कहना है कि जो लोग बीमार हैं और बुजुर्ग हैं उनके लिए वैक्सीनेशन काफी रिस्क भरा हो सकता है। मरने वाले 23 लोगों में से 13 लोगों की वैक्सीन से ही मरने की पुष्टि हो चुकी है, जबकि अन्य की मौत के मामले में जांच चल रही है।

नॉर्वेयिन मेडिसिन एजेंसी के अनुसार 13 का अब तक परिणाम सामने आया है, जिसमें बताया गया है कि सामान्य दुष्प्रभाव ने बीमार, बुजुर्ग लोगों में गंभीर रिएक्शन किया है। नॉर्वेयिन इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ का कहना है कि जो काफी बुजुर्ग हैं और लगता है कि उनकी जिंदगी का कुछ ही वक्त बचा है तो ऐसे लोगों को वैक्सीन का लाभ शायद ही मिले या फिर अगर मिले भी तो काफी कम मिलने की संभावना है। वहीं वैक्सीन से साइड इफेक्ट के 29 मामले सामने आ चुके हैं।नॉर्वे में वैक्सीनेशन के बाद मरने वाले लोग काफी बुजुर्ग हैं। सभी मृतकों की उम्र 80 साल से ऊपर है और उसमें से कई तो 90 साल को पार कर चुके हैं। इन सभी बुजुर्गों की मौत नर्सिंग होम में हुई है। नार्वे की मेडिसिन एजेंसी के मेडिकल डायरेक्‍टर स्‍टेइनार मैडसेन का कहना है कि ऐसा लगता है कि इनमें से कुछ मरीजों को बुखार और अस्वस्थता जैसे साइड इफेक्ट हुए थे और बाद में गंभीर बीमारी में बदल गएए जिससे उनकी मौत हो गई।

15-01-2021
कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुंची बस्तर 

जगदलपुर। बस्तर जिले में कोरोना वैक्सीन की पहली खेप शुक्रवार को पहुंच गई है। पहली खेप के तौर पर प्राप्त टीके को महारानी अस्पाताल स्थित भण्डारण केन्द्र में रखा गया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरके चतुर्वेदी ने बताया कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से निर्मित ‘कोविशील्ड’ के 5440 डोज जिले को मिले हैं। स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े कार्मिकों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को ये टीके लगाए जाएंगे। 16 जनवरी को जिले में छः स्थानों में स्वास्थ्यकर्मियों को टीके लगाने के साथ इस टीकाकरण अभियान की शुरुआत होगी। टीकाकरण का कार्य सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बास्तानार, बकावंड, बस्तर, नानगुर, बीएससी नर्सिंग कॉलेज जगदलपुर और मेडिकल कॉलेज डिमरापाल में किया जाएगा। इन सभी केन्द्रों में 100-100 लोगों को टीका लगाने की तैयारी की जा चुकी है। उल्लेखनीय है कि कोरोना के संक्रमण को रोकने और इसकी कड़ी को तोड़ने के लिए यह टीकाकरण किया जा रहा है। स्वास्थ्य कर्मी बार-बार मरीजों के संपर्क में आते हैं, जिसके कारण इसके समुदाय में संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। इस कड़ी को तोड़ने के लिए ही सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को यह टीका लगाया जा रहा है।

फ्रंटलाईनर जैसे सुरक्षाकर्मी और सफाईकर्मियों का टीकाकरण भी किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की ओर से निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार इन टीकों के परिवहन और भंडारण की पुख्ता व्यवस्था की गई है। सभी केन्द्रों में टीकाकरण के लिए मॉकड्रिल और आपात स्थिति से निपटने का पूर्वाभ्यास भी किया जा चुका है। मुख्य भण्डारण केन्द्र से टीकाकरण केन्द्र तक वैक्सीन भेजने के लिए इंसुलेटेड वैक्सीन वेन की व्यवस्था की गई है। टीकाकरण के बाद किसी भी तरह की प्रतिकूल घटना या आपात स्थिति के प्रबंधन के लिए राज्य स्तर से लेकर टीकाकरण स्थलों तक एईएफआई  (AEFI & Adverse Event Following Immunization) प्रबंधन प्रणाली को सुदृढ़ किया गया है। सभी टीकाकरण केंद्रों को नजदीकी एईएफआई प्रबंधन प्रणाली जैसे मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल या सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से जोड़ा गया है।

14-01-2021
6 हजार 800 डोज कोरोना वैक्सीन की पहली खेप कोरबा पहुंची

कोरबा। रायपुर से कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड की पहली खेप कोरबा जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय पहुंची। जिले के सीएमएचओ डॉ. बीबी बोडे एवं जिला प्रबंधक पद्माकर शिंदे की मौजूदगी में पूरे स्टाफ ने तालियों से वैक्सीन वाहन की अगुवाई की। जैसे ही वाहन चालक छत्रपाल पाण्डे तथा आरक्षक दिलीप झा वैक्सीन वाहन को लेकर कोरबा पहुंचे, पूरे मेडिकल स्टाफ और मौजूद लोगों में उत्साह व खुशी की लहर दौड़ गई। सभी की मौजूदगी में वाहन के द्वार खोलकर सीएमएचओ डॉ. बोडे ने वैक्सीन के कोल्ड चेन डब्बों का निरीक्षण किया। इसके बाद वैक्सीन को 15 ब्लॉक स्थित जिला टीकाकरण भण्डार गृह भेजा गया जहां डिस्ट्रिक्ट कोल्ड चेन हैण्डलर सुरेश कोशले ने कोवीशील्ड वैक्सीन को भण्डार गृह में सुरक्षित रखवाया। कोरबा जिले को पहली खेप में आज 680 वॉयल कोवीशील्ड वैक्सीन मिली है। इससे पहले चरण में छह हजार 800 डोज टीके लगाए जाएंगे। वैक्सीन को दो से आठ डिग्री सेल्सियस तापमान पर सुरक्षित रखने के पूरें इंतजाम स्वास्थ्य विभाग द्वारा पहले ही कर लिए गए हैं। जिले में 10 हजार से अधिक फ्रंट लाईन वर्कर्स को कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए टीकाकरण का काम 16 जनवरी से शुरू होगा। पहली खेप में मिली वैक्सीन लगने के बाद वैक्सीन की अगली खेप जिले को प्राप्त होगी।

इस संबंध में सीएमएचओ डॉ. बोडे ने बताया कि राज्य शासन द्वारा जारी गाइड लाइन के अनुसार सबसे पहले फ्रंट लाइन वर्कर्स में महिला एवं बाल विकास तथा स्वास्थ्य विभाग के अमले को कोवीशील्ड वैक्सीन के डोज लगाए जाएंगे। पहले चरण मे जिले में तीन टीकाकरण केन्द्र स्थापित किए गए हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र करतलाए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कटघोरा और  जिला अस्पताल में कोरोना वैक्सीनेशन का काम 16 जनवरी सुबह नौ बजे से शुरू होगा। डॉ. बोडे ने बताया कि वैक्सीनेशन के लिए सभी तैयारियां पहले से पूरी कर ली गईं हैं साथ ही तैयारियों का परीक्षण भी ड्राय रन द्वारा किया जा चुका है। एक व्यक्ति को कोवीशील्ड का आधा मिलीलीटर डोज टीके के रूप में लगाया जाएगा। टीका लगने के बाद संबंधित व्यक्ति को टीकाकरण सेंटर पर बने काउंसिलिंग रूम में विशेषज्ञ चिकित्सक की निगरानी में आधा घंटा रूकना होगा। सीएमएचओ ने बताया कि इसके 28 दिन बाद व्यक्ति को टीके का दूसरा डोज लगेगा। पहले चरण में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं, सुपरवाईजरों सहित मितानिनों, डॉक्टरों, नर्सों आदि फ्रंट लाईन वर्करों को कोवीशील्ड कोरोना टीका लगाया जाएगा।

 

14-01-2021
कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुँची कांकेर, पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मचारियों को लगाए जाएंगे टीके

कांकेर। कोरोना महामारी की वैक्सीन देर शाम जिला अस्पताल को प्राप्त हुई है। वहीं वैक्सीन को जिला अस्पताल में बनाये गये वैक्सीन रूम में सुरक्षित रखा गया। पहली खेप में 5 हजार 7 सौ 40 वैक्सीन मुख्यालय पहुंची है। वैक्सीनेशन का कार्य शनिवार 16 जनवरी से आरंभ किया जायेगा। पहले चरण में वैक्सीनेंशन स्वास्थ्य कर्मचारियों को लगाया जाना है। जिले में कोरोना संक्रमण के बीच राहत की पहली खेप गुरूवार देर शाम जिला मुख्यालय पहुंची।  टीकाकरण प्रभारी आईके सोम ने बताया कि कोरोना वैक्सीन की पहली खेप लाई गई है पहले चरण में कुल 5 हजार 7 सौ 40 स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को टीका लगाया जायेगा। इसके लिए कांकेर, अमोड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और नरहरपुर स्वास्थ्य केन्द्र में कोरोना वारियर्स का टीका करण किया जायेगा। टीकाकरण के 28 दिन बाद द्वितीय डोज लगाया जायेगा।  हालांकि प्रथम चरण में जिले में 9 हजार तीन सौ 61 लोगों को वैक्सीन लगाया जाना था। लेकिन भारत सरकार से वैक्सीन कम प्राप्त होने के चलते  जिले को 5 हजार 7 सौ 40  लोगो के लिए वैक्सीन मिल पाई।

 

 

14-01-2021
बीजापुर पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप, 16 जनवरी से शुरू होगा वैक्सीनशन

बीजापुर। जिले में कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुँची है। 16 जनवरी से वैक्सीनशन का कार्य शुरू होगा। पहले चरण में वैक्सीन कोविड डयूटी में तैनात कोरोना वारियर्स,स्वास्थ्य कर्मियों,सुरक्षा कर्मी एवं शिक्षकों को लगेगा। सीएमएचओ बीआर पुजारी ने बताया कि वैक्सीन 2220 लोगों को लगेगा। जिला वेक्सीन स्टोर में रखा गया है। वैक्सीन जिला अस्पताल,सामुदायिक भवन भैरमगढ़ एवं पीएचसी मद्देड में भेजा जाएगा।


 

14-01-2021
बस्तर और सरगुजा संभाग के जिलों में आज पहुंचेगी वैक्सीन, टीकाकरण की तैयारी पूरी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना वैक्सीन की पहली खेप बुधवार को पहुंचते ही रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर संभाग के जिलों को वितरण शुरू किया गया। आज से बस्तर और सरगुजा संभाग के जिलों में टीके भेजे जाएंगे। स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े कार्मिकों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को ये टीके लगाए जाएंगे। राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. अमर सिंह ठाकुर ने बताया कि राज्य वैक्सीन भंडार से जिलों को टीकों का वितरण शुरू कर दिया गया है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की निर्मित ‘कोविशील्ड’ के तीन लाख 23 हजार टीके प्रदेश को मिले हैं। आज गुरुवार से बस्तर और सरगुजा संभाग के जिलों में भी वितरण शुरू हो जाएगा। स्वास्थ्य विभाग ने प्रोटोकॉल के अनुसार प्रदेश के सभी जिलों में इन टीकों के परिवहन और भंडारण की पुख्ता व्यवस्था की गई है। सभी जिलों में टीकाकरण के लिए मॉकड्रिल और आपात स्थिति से निपटने का पूर्वाभ्यास भी किया जा चुका है।

राज्य वैक्सीन भंडार से जिलों तक वैक्सीन भेजने के लिए इंसुलेटेड वैक्सीन वेन की व्यवस्था की गई है। इसके लिए एक राज्य स्तरीय, तीन क्षेत्रीय और 27 जिला स्तरीय कोल्ड चैन प्वाइंट्स बनाए गए हैं। प्रदेश में टीकों के सुरक्षित भंडारण व परिवहन के लिए अभी 630 क्रियाशील कोल्ड चेन प्वाइंट और 85 हजार लीटर से अधिक कोल्ड चैन स्पेस उपलब्ध है। इनके साथ ही 81 अतिरिक्त कोल्ड चैन प्वाइंट भी स्थापित किए गए हैं। वैक्सीन के परिवहन के लिए 1311 कोल्ड-बॉक्स उपलब्ध हैं। सीरिंज, नीडल एवं अन्य सामग्रियों के भंडारण के लिए प्रदेश भर में 360 ड्राई-स्टोरेज भी बनाए गए हैं। प्रदेश में वैक्सीन लांच के लिए 99 स्थल चिन्हांकित किए गए हैं।  कुल दो लाख 67 हजार 399 हेल्थ-केयर वर्करों, राज्य व केंद्रीय कर्मचारियों और सशस्त्र बलों को टीके लगाए जाएंगे। इन सब की जानकारी कोविन पोर्टल में एंट्री की गई है। टीकाकरण के लिए 7116 टीकाकरण कर्मियों को चिन्हांकित कर इसका प्रशिक्षण दिया गया है। सभी 28 जिलों में 83 स्थानों पर कोविड-19 टीकाकरण का पूर्वाभ्यास किया जा चुका है। टीकाकरण के बाद किसी भी तरह की प्रतिकूल घटना या आपात स्थिति के प्रबंधन के लिए राज्य स्तर से लेकर टीकाकरण स्थलों तक एईएफआई (AEFI - Adverse Event Following Immunization) प्रबंधन प्रणाली को सुदृढ़ किया गया है। सभी टीकाकरण केंद्रों को नजदीकी एईएफआई प्रबंधन प्रणाली जैसे मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल या सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से जोड़ा गया है।

13-01-2021
कोरोना वैक्सीन की पहली खेप गरियाबंद पहुंची,16 जनवरी से शुरू होगा टीकाकरण

गरियाबंद। कोरोना वैक्सीन गरियाबंद पहुंची चुकी है। इसमें 3940 डोज पहुंचे है। वैक्सीन को विशेष व्यवस्था के बीच फ्रीजर में रखा गया है।  पहला डोज सीएमएचओ डॉ.नवरत्न को दिया जाएगा। डिप्टी कलेक्टर तथा सीएमएचओ की मौजूदगी में रखी वैक्सीन रखी गई है। टीकाकरण का काम  16 जनवरी से प्रारंभ होगा। राजस्व विभाग के अधिकारी, कर्मचारियों को भी पहले चरण में वैक्सीन लगेगा। वेक्सीनेशन जिला अस्पताल में होगा। वेक्सीनेशन  गरियाबंद जिले ने 3 स्थानों पर होगा। प्रथम चरण में कोरोना वैक्सीन 8000 लोगों को लगाया जाएगा।

 

13-01-2021
पहले फ्रंट लाइन वारियर्स को टीका लगेगा : भूपेश बघेल​​​​​​​

रायपुर। दो दिवसीय महाराष्ट्र दौरे पर रवाना होते वक़्त मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना वैक्सीन को लेकर भी बयान दिया है। सीएम ने कहा कि. पहले तो देश के फ्रंट लाइन वारियर्स को टीका लगेगा इसके बाद फरवरी तक आमजनों के लिए उपलब्ध हो सकेगा। इस दौरान केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए सीएम भूपेश ने कहा कि केंद्र सरकार बताए कि आमजन को मुफ़्त वैक्सीन मिलेगी या नहीं।

13-01-2021
कोरोना वैक्सीन की पहली खेप रायपुर पहुंचने पर महापौर एजाज ढेबर ने किया दंडवत प्रणाम

रायपुर। कोरोना वैक्सीन की पहली खेप रायपुर पहुंचने पर महापौर एजाज ढेबर वैक्सीन वाहन को दंडवत प्रणाम करते नजर आए। जैसे वैक्सीन वाहन में निकली महापौर ढेबर ने राजधानीवासियों की ओर से स्वागत किया। इस दौरान रायपुर उत्तर विधायक व छत्तीसगढ़ राज्य गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष कुलदीप सिंह जुनेजा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर मीरा बघेल और स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी वैक्सीन का स्वागत किया। महापौर एजाज ढेबर ने पूजा के दौरान भगवान से राजधानी रायपुर सहित सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ राज्य को कोरोना वैक्सीनेशन के माध्यम से शीघ्र कोरोना मुक्त बनाने की  प्रार्थना की।

 

11-01-2021
विधायक ने कोरोना वैक्सीन केंद्र का लिया जायजा, कहा -संक्रमितों का अंतिम संस्कार करने वालों को मिले प्राथमिकता

धमतरी। धमतरी विधायक रंजना साहू ने 16 जनवरी से प्रारंभ हो रहे कोरोना वैक्सीन टीकाकरण केंद्र का जायजा लेने शासकीय जिला अस्पताल पहुंची ।उन्होंने कोरोना संक्रमण के चलते मृत हो रहे लोगों के अंतिम संस्कार करने वाले कोरोना वारियर्स को प्रथम दर्जा देने के लिए जिला मुख्य चिकित्सक अधिकारी डॉ डी.के तुर्रे को पत्र सौंपा । जिले में नगर निगम के कार्यरत 7 कर्मचारी अंतिम संस्कार करने के लिए अपनी समर्पित सेवा दे रहे हैं। जिन्हें फ्रंटलाइन कोरोना वारियर्स का दर्जा देकर आगामी दिनों शुरू हो रहे टीकाकरण में प्राथमिकता के साथ टीका लगाकर उनकी महती सेवा को सुरक्षित कर संवर्धित किए जाने की मांग विधायक रंजना साहू, नगर निगम के पूर्व सभापति राजेंद्र शर्मा की पहल पर की गई है। संक्रमित मृतकों के अंतिम संस्कार में परिजन की तरह भूमिका निभाने वाले निगम कर्मचारी सुभाष साहू, ओंकार निषाद, जगनंदन राजपूत, वीरेंद्र साहू, रितेश टंडन, खिलेश्वर साहू, ओंकार निर्मलकर शामिल है। मांग करते हुए विधायक ने कहा है कि संक्रमित मृतकों का अंतिम संस्कार किया जाना खतरे में खेलने के समान है, लेकिन निगम से नियुक्त सारे कर्मचारी अपना सामाजिक धर्म मानकर इसे निभा रहे हैं, इसलिए हम सारे जनप्रतिनिधि, शासन, प्रशासन का नैतिक धर्म है कि उनके जीवन की सुरक्षा के लिए प्रथम पंक्ति में ही अपनी सेवा और सहयोग प्रदान करना चाहिए। इस अवसर पर युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष राजीव सिन्हा, पूर्व जनपद अध्यक्ष प्रियंका सिन्हा, पार्षद विजय मोटवानी, पूर्व पार्षद सरिता यादव, अभिषेक शर्मा, आशीष शर्मा, उपस्थित रहे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804