GLIBS
16-09-2020
राहत भरी खबर : प्रदेश में जल्द कोविड मरीजों के लिए 2 हजार ऑक्सीजन युक्त बेड की होगी व्यवस्था

रायपुर। पूरे प्रदेश में जल्द ही ऑक्सीजन युक्त बेड की संख्या 2000 और बढ़ाई जा रही है। इसे मिलाकर अब राज्य में इसकी संख्या 4283 हो जाएगी । वर्तमान  में यह संख्या 2283 है,जिसमें 787 ऑक्सीजन युक्त बेड सरकारी अस्पतालोें, 616 बेड निजी और 880 बेड कोविड केयर सेंटर में हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ.प्रियंका शुक्ला ने कहा कि राज्य में वर्तमान में कोविड मरीजों के लिए कुल 32938 जनरल बेड हैं। उन्होंने कहा है कि,  शासकीय अस्पतालों में 3727 कुल बेड हैं, जिनमें 2940 जनरल, 787 ऑक्सीजन युक्त और 406 आईसीयू हैं। इसी प्रकार कोविड केयर सेंटर में कुल जनरल बेड 26758 और ऑक्सीजन बेड 880 हैं। निजी अस्पतालों में कोविड मरीजों के लिए 957 जनरल बेड , 616 ऑक्सीजनयुक्त बेड और 436 आईसीयू बेड निर्धारित किए गए हैं। विभाग की ओर से लगातार कोविड मरीजों के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं।

 

16-09-2020
कलेक्टर ने कहा-कोरोना मरीज के घर में स्टीकर चिपकाना अनिवार्य, निकालने और छेड़छाड़ करने पर होगी कार्रवाई

रायपुर। कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने कोरोना संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के लिए शहर में किए जा रहे जोनवार कार्यों की मंगवार को समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि, जिस घर में कोरोना मरीज हैं, वहां पर अनिवार्य रूप से स्टीकर चिपकाना है। स्टीकर को निकालने या छेड़छाड़ करने पर एपेडिमिक एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा है कि, ऐसे क्षेत्र जहां पर ज्यादा कोरोना मरीज की पहचान होती है,वहां पर टेस्टिंग, काढ़ा, कांटेक्ट ट्रेसिंग आदि कार्य तत्काल प्रारंभ किया जाएगा। कलेक्टर ने जोन में परीक्षण अधिक से अधिक करने और जोनवार सैंपलिंग के लिए लक्ष्य बनाकर कार्य करने के निर्देश दिए हैं।

मरीजों के परिवहन के लिए तत्काल वाहन उपलब्ध कराने और सक्रिय मरीजों की संख्या को ध्यान में रखते हुए आवश्यक समस्त व्यवस्था रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने घर में बुजुर्ग,गर्भवती महिला और गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों के संदर्भ में सम्पूर्ण जानकारी रखने कहा है। गंभीर कोरोना मरीज को यथाशीघ्र चिकित्सा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सर्विलांस दल को व्यक्तियों के ऑक्सीजन लेवल और पल्स रेट का परीक्षण करने में लापरवाही ना करने के सख्त निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने जनता से अपील की है कि, कोरोना से बचने के लिए आवश्यक सावधानी बरतें।

10-09-2020
ऑक्सीजन की सुविधायुक्त बेड बढ़ाने में सहयोग करने के लिए निजी अस्पतालों के प्रबंधन से कहा कलेक्टर भीम सिंह ने

रायपुर/रायगढ़। जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसमें गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन सुविधा वाले बेड की आवश्यकता होती है। कलेक्टर भीम सिंह ने कलेक्टोरेट सभाकक्ष में शहर के निजी अस्पतालों के प्रबंधक चिकित्सकों से ऑक्सीजन सुविधा युक्त बेड उपलब्ध कराने के लिये सहयोग करने को कहा। शहर के अपेक्स अस्पताल में 20 बेड, मेट्रो अस्पताल में 10 और मिशन अस्पताल में 10 बेड उपलब्ध कराने के लिये इन अस्पतालों ने सहमति प्रदान किया। अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों की देखभाल और इलाज के लिये आईएमए (इंडियन मेडिकल एसोसियेशन) की ओर से चिकित्सकों तथा स्टॉफ की सेवायें उपलब्ध करायी जायेगी। इन्हें स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना अस्पतालों में सेवा देने का प्रशिक्षण भी दिया जायेगा।

कलेक्टर सिंह ने निजी अस्पतालों के चिकित्सकों से उनके अस्पतालों में आने वाले सर्दी, खांसी, बुखार से संबंधित मरीजों का अनिवार्यत: कोरोना टेस्ट कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों को आवश्यक दवाईयां उपलब्ध कराये जाने मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया। कलेक्टर सिंह ने कोविड अस्पतालों में सेवा कर रहे डॉक्टरों को निर्देशित किया कि बिना किसी दबाव या सिफारिश में आये कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करें और मरीज की हालत और मेरिट के अनुसार तय करें कि उसे कौन से अस्पताल में भर्ती किया जाना है।

कलेक्टर सिंह ने कहा कि वर्तमान स्थिति में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिये शासन की ओर से होम आइसोलेशन के नियमों में शिथिलता प्रदान की है। इसमें किसी व्यक्ति को कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम जाकर जांच करेगी कि मरीज के रहने के लिये पृथक रूम और शौचालय है कि नहीं इस आधार पर बिना लक्षण तथा प्रारंभिक लक्षणों वाले व्यक्ति को अण्डर टेकिंग (वचन-पत्र) भरवाकर होम आइसोलेशन की अनुमति प्रदान की जायेगी। होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को थर्मामीटर, आक्सीमीटर और पल्सरेट मीटर जैसे आवश्यक उपकरण स्वयं क्रय करना होगा, स्वास्थ्य विभाग की टीम प्रतिदिन निगरानी करेगी और दवाईयों का किट प्रदान करेगी और मरीज स्वयं मोबाइल फोन के माध्यम से डॉक्टर्स से संपर्क कर सकते हैं।

07-09-2020
वेंटिलेटर एवं ऑक्सीजन की सुविधा सहित प्रदेश में 25 एडवांस्ड लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस का संचालन

रायपुर। प्रदेश में 108-संजीवनी एक्सप्रेस निःशुल्क एम्बुलेंस सेवा के तहत 270 बीएलएस (Basic Life Support) और 25 एएलएस (Advanced Life Support) एम्बुलेंस का संचालन किया जा रहा है। इनके जरिए आपात एवं त्वरित चिकित्सा की जरूरत वाले मरीजों को घर या दुर्घटना स्थल से अस्पताल तथा रिफर्ड मरीजों को उच्चतर स्वास्थ्य संस्थानों तक निःशुल्क पहुंचाया जा रहा है। गंभीर मरीजों के लिए एडवांस्ड लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस में वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की सुविधा भी मौजूद है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि एडवांस्ड लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस की सुविधा सुकमा, दंतेवाड़ा, राजनांदगांव, सरगुजा, दुर्ग, जांजगीर-चांपा, कोण्डागांव, बिलासपुर, रायगढ़, कांकेर, रायपुर, कोरबा, कबीरधाम, कोरिया, बालोद, बस्तर, बीजापुर, बलरामपुर-रामानुजगंज, नारायणपुर, जशपुर, सूरजपुर, गरियाबंद, महासमुंद, धमतरी और मुंगेली जिले में उपलब्ध है। टोल-फ्री नंबर 108 पर फोन कर संजीवनी एक्सप्रेस निःशुल्क एम्बुलेंस सेवा का लाभ लिया जा सकता है।

 

05-09-2020
सेना के जवान ने की 3 चीनी नागरिकों की मदद, दिए खाना और गर्म कपड़े, ठंड में भटक गए थे रास्ता

नई दिल्ली। भारतीय सेना ने तीन चीनी नागरिकों की शनिवार को सिक्किम में जान बचाई है। इसमें एक महिला भी शामिल थीं। भारतीय सेना की ओर से जारी बयान के मुताबिक चीन के तीन नागरिक, जिसमें एक महिला भी शामिल थी, गत तीन सितंबर को उत्तरी सिक्किम में 'जीरो डिग्री' तापमान के दौरान परेशानी में थे, जब सेना के जवानों ने उनकी मदद की। सेना ने अपने बयान में बताया है कि तकरीबन 17,500 फीट की उंचाई पर उत्तरी सिक्किम के पठार क्षेत्र में ये तीनों चीनी नागरिक रास्ता भटक गए थे। उसी दौरान देश के जवानों ने उनकी मदद की। भारतीन सेना के मुताबिक जीरो डिग्री से भी कम तापमान के कारण सभी परेशान थे। भारतीय सेना के जवानों ने उन्हें बचाने के लिए ऑक्सीजन, खाना और गर्म कपड़े सहित मेडिकल हेल्प भी दी। इसके बाद भारतीय सैनिकों ने उन्हे अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए रास्ते की भी जानकारी दी। चीनी नागरिकों ने भारतीय सेना की मदद के लिए आभार जताया है। 

 

02-09-2020
भाजपा नवनियुक्त जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने किया पौधारोपण

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी महर्षि बाल्मीकि वार्ड के कार्यकर्ताओं ने नवनियुक्त जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी के साथ एटीएम चौक प्रस्तावित अटल चौक स्थित गार्डन में पौधारोपण किया। इस अवसर पर सुंदरानी ने आम एवं सीताफल के फलदार पौधे लगाएं। साथ ही आम लोगों से अपील की है कि पर्यावरण की रक्षा के लिए अधिक से अधिक पौधों का रोपण कर उसकी देखरेख करें। इससे न केवल हमारा शहर हरा भरा रहेगा बल्कि नागरिकों को ऑक्सीजन भी पर्याप्त मात्रा में मिलेगी। पौधारोपण कार्यक्रम में प्रमुख रूप से जिला मीडिया प्रभारी राजकुमार राठी, मंडल अध्यक्ष रविंद्र सिंह ठाकुर, जितेंद्र नाग ,मेघुराम साहू, अशोक गुप्ता, मिनी पांडे, डॉ विवेक श्रीवास्तव, अखिल चटर्जी, किशोरचंद नायक, अजय राणा, गज्जू साहू, अनिल यादव, अमलेश सिंह, जयराम कुकरेजा, चयन जैन, विकास शुक्ला, प्रहलाद क्षत्रिय, जूही कुमारी, जुबेदा बानो उपस्थित रही।

31-08-2020
Video: कोरोना संक्रमित 55 वर्षीय महिला की मौत, सीएमएचओ डॉ. बंजारे ने की पुष्टि

जांजगीर-चांपा। जांजगीर के कोविड केयर सेंटर में कोरोना से पीड़ित एक 55 साल की महिला की मौत हो गई है। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर महिला को रविवार को बलौदा से जांजगीर के कोविड केयर हॉस्पिटल में एडमिट किया गया था। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसआर बंजारे ने पुष्टि  की है। उन्होंने कहा है कि, महिला की स्थित काफी गंभीर थी। महिला डायबिटिक थी, साथ ही हाइपरटेंशन की भी पेशेंट थी। इलाज के दौरान उनका ऑक्सीजन लेवल काफी नीचे चला गया था। काफी प्रयासों के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका।

22-07-2020
पौधरोपण कर हम प्रकृति को ऑक्सीजन वापस कर सकते हैं : डॉ. चरणदास महंत

जांजगीर चांपा। विधानसभा के अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत ने बुधवार को नगर पंचायत सारागांव के स्व.बिसाहू दास महंत स्मृति स्थल पुष्प वाटिका में अशोक का पौधा रोपकर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। डॉ.महंत ने वन विभाग द्वारा आयोजित वन महोत्सव में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हम प्राण वायु के रूप में जीवन भर सांस लेकर प्रकृति से ऑक्सीजन लेते हैं। उन्होेंने कहा कि प्रकृति  के संतुलन के लिए पौधरोपण और उनका संरक्षण कर हम प्रकृति को ऑक्सीजन लौटाने में अपना योगदान दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि पौधरोपण धार्मिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण हैं। जीवनदायिनी ऑक्सीजन हमें हरे-भरे पौधों से मिलती है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि केवल पेड़ पौधे लगाकर हमारी जिम्मेदारी पूरी नहीं होती। पौधे लगाने के बाद इसकी देखरेख करना हमारी और भी अधिक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य का 44 प्रतिशत भू-भाग वनाच्छादित है।

उनकी तुलना में जांजगीर-चांपा जिले में मात्र 7 प्रतिशत वन क्षेत्र हैं। इसको बढ़ाने के लिए हम सबको मिलकर सतत प्रयास करना होगा। पौधरोपण के माध्यम से फलदार,औषधि  गुण वाले पौधे, छायादार वृक्षों को लगाने से प्रर्यावरण संतुलित होगा और भविष्य में यह आजीविका के स्रोत भी बनेंगे। उन्होंने अर्जुन वृक्ष की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस वृक्ष से कोसा उत्पादन की वृद्धि होगी। उन्होंने कहा कि अर्जुन वृक्ष के पत्ते, छाल  में भीऔषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। इस वर्ष राज्य में औषधीय गुणों वाले मुनगा सहित अन्य पौधें भी प्रथमिकता के साथ रोपे जा रहे हैं। कलेक्टर यशवंत कुमार ने कहा कि जिले में इस मानसून सत्र में 10 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने बताया कि अब तक  7 लाख  पौधे लगाए जा चुके हैं। कलेक्टर ने कहा कि आगामी वर्ष के लिए 50 लाख पौधों की नर्सरी तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है। जिसकी कार्यवाही अक्टूबर माह से प्रारंभ हो जाएगी। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष अनिता चंद्रा, उपाध्यक्ष राघवेंद्र प्रताप सिंह, सदस्य राजकुमार साहू, सारागांव नगर पंचायत की अध्यक्ष रामकिशोर सूर्यवंशी, पुलिस अधीक्षक पारुल माथुर, वन मंडल अधिकारी प्रेमलता यादव, सूरज महंत, पूर्व विधायक मोतीलाल देवांगन,मनहरण राठौर, गुलजार सिंह सहित त्रि-स्तरीय पंचायत एवं नगरीय निकाय के जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

 

18-07-2020
पौधे लगाओ, ऑक्सीजन बढ़ाओ, कोविड 19 को दूर भगाओ के नारे के साथ किया पौधरोपण

कोरबा। श्रीअग्रसेन कन्या महाविद्यालय में शनिवार को राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा पौधरोपण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें आंवला, मुनगा, भुई,नीम,अनार,पुदीना इत्यादि के पौधों का रोपण किया गया। इसमें अग्रवाल सभा अध्यक्ष श्रीकांत बुधिया एवं शिक्षण समिति अध्यक्ष राजेंद्र अग्रवाल,श्यामलाल अग्रवाल,भगवानदास अग्रवाल,सचिव संजय बुधिया, महाविद्यालय के प्राचार्य वायके सिंह ने पौधे रोपे। इस अवसर पर महाविद्यालय प्राध्यापक एवं रासेयो के स्वयंसेवक तमन्ना,मंजू, हेमलता एवं महाविद्यालय का स्टाफ उपस्थित था। पौधरोपण का कार्यक्रम रासेयो कार्यक्रम अधिकारी गौरी वानखेड़े के मार्गदर्शन में हुआ।

19-06-2020
जाने क्या है सिकलसेल एनीमिया,हर साल आज के दिन ही मनाया जाता है विश्व सिकलसेल एनीमिया दिवस

रायपुर। 'विश्व सिकल सेल दिवस' या सिकलसेल एनीमिया (world sickle cell day 2020) दिवस हर वर्ष 19 जून को मनाया जाता है। सिकलसेल रोग खून से संबंधित एक अनुवांशिक विकार है। जिसमें व्यक्ति का हीमोग्लोबिन एस आकार (एचबीएस) दोषपूर्ण होता है। यह विकारों का एक समूह है,जो लाल रक्त कोशिकाओं को गलत आकार देने और टूटने का कारण बनता है। इस रोग से पीड़ित मरीज के खून में पर्याप्त ऑक्सीजन न होने के कारण उसे जल्दी थकान होती है। कोशिकाएं जल्दी मर जाती हैं,जिसकी वजह से स्वस्थ लाल कोशिकाओं की कमी हो जाती है (सिकलसेल एनीमिया) और रक्त प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है,जिससे दर्द होता है (सिकलसेल क्राइसिस) संक्रमण, दर्द और थकान सिकल सेल रोग के लक्षण हैं।

क्या है सिकलसेल एनीमिया?

सिकलसेल एनीमिया एक अनुवांशिक रोग है। यदि माता पिता दोनों इसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो 25 फीसदी सम्भावना है कि होने वाले शिशु को भी यह होगा। यदि दोनों में से कोई एक इस बीमारी से पीड़ित है तो शिशु के स्वस्थ होने की कुछ हद तक सम्भावना तो है लेकिन वह इसका वाहक भी हो सकता है। सिक्कल सेल एनीमिया और उससे जुड़े जोखिम को ध्यान में रखते हुए, और जिन परिवारों में यह बीमारी पहले से मौजूद है उनमें शिशु के जन्म से पहले ही पता लगाया जाना सहायक होता है।सामान्य रक्त कोशिकाएं डिस्क के आकार की होती हैं और लचीली होती हैं।

सिकलसेल एनीमिया दरअसल एक ऐसी स्थिति है जब लाल रक्त कोशिकाएं हीमोग्लोबिन में गड़बड़ी के कारण चांद या अन्य टेढ़े-मेढ़े अकार की हो जाती हैं और कठोर हो जाती हैं। परिणामस्वरूप ये कोशिकाएं सामान्य रक्त प्रवाह की तरह नहीं बहतीं बल्कि एक दूसरे से चिपक कर खून का रास्ता जाम कर देती हैं। इससे शरीर के अन्य ऑर्गन व कोशिकाओं में उपयुक्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती। साथ ही ये कोशिकाएं आगे चलकर स्प्लीन में यानि ऐसी जगह जाकर अटक जातीं हैं जहां पुरानी रक्त कोशिकाएं नष्ट होतीं हैं। इन विकृत कोशिकाओं की वजह से यह प्रक्रिया नहीं हो पाती, जिससे नई रक्त कोशिकाओं का निर्माण सामान्य गति से नहीं हो पाता, और एनीमिया हो जाता है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804