GLIBS
18-10-2020
अमित-ऋचा का नामांकन निरस्त होने पर भड़के जोगी कांग्रेसी,पुतला दहन के दौरान पुलिस के साथ जमकर झूमा झटकी

रायपुर। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी और ऋचा जोगी का नामांकन निरस्त होने पर जेसीसीजे के लोग भड़क गए हैं। युवा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के नेता प्रदीप साहू ने आरोप लगाया है कि तानाशाह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेशानुसार नामांकन अवैधानिक रूप से निरस्त किए गए। इसके वरोध में रविवार को बड़ी संख्या में जोगी कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पुतला जलाने धरना प्रर्दशन करने बूढ़ापारा पहुंचे। पुतला को जलाने के दौरान पुलिस बल के साथ झूमाझटकी हुई। पुतला का अस्थि पंजर अलग-अलग हो गया। इसे जोगी कांग्रेसियों ने पुलिस से छीनकर बूढ़ातालाब में बहाकर भड़ास निकाली। प्रदीप साहू ने कहा है कि 17 अक्टूबर का दिन छत्तीसगढ़ के इतिहास में लोकतंत्र का काला दिन के रूप में जाना जाएगा। इस दिन तानाशाह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेश पर न सिर्फ हमारे अध्यक्ष अमित जोगी और ऋचा जोगी का नामांकन निरस्त हुआ हैं, बल्कि लोकतंत्र की हत्या भी हुई है। जोगी परिवार को मरवाही से चुनाव लड़ने से रोककर भूपेश बघेल ने स्व. जोगी और मरवाही की जनता का अपमान भी किया है। प्रदीप साहू ने कहा है बात उठेगी तो दूर तलक जाएगी, जोगी परिवार से जाति पूछने वाले पहले अपने गांधी परिवार से पूछे कि खान परिवार, गांधी परिवार कैसे हो गया। 20 साल से मरवाही की जनता को धोखे में रखने का आरोप लगाने वाले पहले यह बताए कि किस परिवार ने देश को 70 साल से धोखा दिया है।


जनता कांग्रेस महिला विभाग की प्रदेश अध्यक्ष अनामिका पॉल ने कहा है कि मरवाही की जनता इतनी बेबस और बेवकूफ नहीं कि कांग्रेस की चाल को नहीं समझ रही है। चुनाव लड़ने से पहले ही कांग्रेस चुनाव हार गई है और जोगी कांग्रेस का मुकाबला करने से कांग्रेस डर गई है। इसलिए उन्होंने अमित जोगी और ऋचा जोगी को नामांकन षडयंत्र पूर्वक निरस्त कर दिया। कार्यक्रम में महेन्द्र चंद्रकार, राजीव कश्यप, संदीप यदु, विक्रम नेताम, अजय देवांगन, हरीश वर्मा, सुजीत डहरिया, नजीब अशरफ , राज नायक, डेमन लाल, अनिल भारती,, सन्नी सालोमन,, मंसु निहाल, सन्नी तिवारी, सन्नी सिंह होरा, दशमु तांडी, राजकिशोर साहू, रोहित नायक, गजेन्द्र कश्यप, संजू धीवर, दुर्गेश सारथी, सनील नेताम, दिलीप राठौर, सतीश नागवानी, मनीराम, मनीष धीवर, प्रसन्न पंडया, राहूल बंजारे, राजेश, राज, मंजीत चेलक, शाहरूख, अफसार कुरैशी, पारस साहू, अजय सेन, अजय चंद्राकर, जयप्रकाश, विवेक बंजारे, योगेंद्र देवांगन, चेतन आडिल सहित बड़ी संख्या में जोगी कांग्रेसी उपस्थित थे।

 

16-10-2020
पिता अजीत जोगी को पुष्पांजलि अर्पित कर नामांकन भरने पहुंचे अमित, मां रेणु और पत्नी ऋचा थे साथ

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने शुक्रवार को अपनी माता रेणु जोगी व धर्मपत्नी ऋचा जोगी की उपस्थिति में मरवाही विधानसभा में होने वाले उपचुनाव के लिए अपना नामांकन भरा। इसके पूर्व अमित जोगी पेंड्रा स्थित अपने स्व.पिता के समाधि स्थल में पहुंचे।  यहां अमित ने माथा टेका और उनका आशीर्वाद लिया। मिट्टी को अपने माथे में लगाकर नामांकन आवेदन भरने पहुंचे। अमित जोगी ने सपत्निक अपनी माता रेणु जोगी का चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लिया। अमित जोगी ने कहा है कि मैं अजीत पुत्र अमित, अर्जुन का अभिमन्यु नहीं बनने वाला हूं, चाहे विरोधी जितने जाल बिछा दे, नहीं फंसने वाला हूं। मैं हर चक्रव्यूह को तोड़ूंगा और मरवाही को जीतूंगा। मैं तो प्रतीक मात्र हूं, चुनाव तो मरवाही की 2 लाख जनता लड़ रही है, जो स्वयं में जोगी है। अमित ने आरोप लगाया है कि सरकारी तंत्र का चाहे जितना भी दुरुपयोग कर ले शासन, चाहे जितने भी पहरे बिठाले, चाहे जितने भी सितम कर ले। मरवाही की जनता इससे डरने वाली नहीं है। हमेशा की तरह वह इस बार भी इसका जवाब जोगी के प्रति अपने प्रेम और आस्था से देगी।

अमित ने कहा है कि इस बात को प्रदेश सरकार भी अच्छी तरह से जान रही है, इसीलिए वह अपने साथ-साथ अपनी पूरी कांग्रेस और अपने पूरे प्रशासन तंत्र को मरवाही के मुकाबले में झोंक दिया है। जो इस कोरोना काल में अपनी आवाजाही से शहर और गांव को कोविड-19 के संक्रमण के खतरे में डाल रहे हैं। सत्ता की भूखी सरकार शायद यह भूल रही है कि मरवाही की जनता जोगी के साथ-साथ एक बैगा भी है। डॉक्टरों का इलाज करना उसे आता है,इसे वह 3 नवंबर को अपने मतदान से साबित करेगी। अमित जोगी ने कहा है कि 10 नवंबर को होने वाली मतगणना में प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार और उनकी कांग्रेस और उनके प्रशासन तंत्र को भी यह पता चल जाएगा कि जोगी का मतलब ही मरवाही है और मरवाही का मतलब ही जोगी है। जोगी अमर थे, अमर हैं और अमर ही रहेंगे।

 

15-10-2020
अमित और ऋचा जोगी के अधिवक्ताओं ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को लिखा पत्र,नामांकन पत्र स्वीकार करवाने किया निवेदन

रायपुर/बिलासपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने सुप्रीम कोर्ट के अपने अधिवक्ता (एओआर) पीएन पुरी के माध्यम से भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि उनके मुवक्किल ने 24 सितंबर को छत्तीसगढ़ शासन की ओर से छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग अधिनियम 2013 में नियम विरुद्ध किए गए संशोधन को चुनौती देते हुए सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष रिट याचिका लगाई है। उपरोक्त संशोधन राज्य सरकार की ओर से केवल अमित जोगी के नामांकन पत्र को गैर-कानूनी तरीके से रद्द करने की दुर्भावना से किए गए हैं। पुरी ने यह भी जानकारी दी है कि अमित जोगी के कंवर जनजाति होने की पुष्टि स्वयं उच्च न्यायालय उनके विरुद्ध दायर चुनाव याचिका में कर चुकी है। इस फैसले को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती देने की अवधि भी समाप्त हो चुकी है। अत: उच्च न्यायालय के इस फैसले ने अंतिम रूप धारण कर लिया है। साथ ही, उच्च न्यायालय ने उच्च स्तरीय छानबीन समिति की ओर से उनके पिता स्व.अजीत जोगी के जाति प्रमाणपत्र को निरस्त करने के आदेश में स्टे (रोक) लगा दी है। पुरी ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त से सर्वोच्च न्यायालय के इस मामले में फैसले न आ जाने तक मरवाही उप-चुनाव के निर्वाचन अधिकारी को सरकार के राजनीतिक दबाव में न आकर अमित जोगी का नामांकन पत्र को रद्द न करते हुए उसे स्वीकार करने के निर्देश देने का निवेदन किया है।

अमित जोगी की धर्मपत्नी डॉ.ऋचा जोगी ने भी अपने अधिवक्ता गैरी मुखोपाध्याय के माध्यम  से भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि उनके मुवक्किल ने भी मुंगेली जिला सत्यापन समिति के समक्ष चल रहे प्रकरण की वैधानिकता के विरुद्ध उच्च न्यायालय में याचिका लगाई है। अगर 24 सितंबर को छत्तीसगढ़ शासन की ओर से छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग अधिनियम 2013 में नियम विरुद्ध किए गए संशोधन को स्वीकार भी कर लें, तब भी उपरोक्त समिति को ऋचा जोगी का जाति प्रमाण पत्र निलंबित करने का मात्र अधिकार प्राप्त है। और जब तक उनका प्रमाण पत्र पूर्ण रूप से निरस्त नहीं किया जाता है, उसको स्वीकार करने के अलावा निर्वाचन अधिकारी के पास कोई दूसरा वैधानिक विकल्प नहीं है। मुखोपाध्याय ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त से सर्वोच्च न्यायालय के इस मामले में फैसले न आ जाने तक मरवाही उप-चुनाव के निर्वाचन अधिकारी को सरकार के राजनीतिक दबाव में न आकर अमित जोगी का नामांकन पत्र को रद्द न करते हुए उसे स्वीकार करने के निर्देश देने का निवेदन किया है।

04-10-2020
अब पार्टी के सच्चे और समर्पित कार्यकर्ताओं को टारगेट किया जा रहा : अमित जोगी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने आरोप लगाया है कि राज्य में जनता कांग्रेस के अस्तित्व को समाप्त करने के लिए विरोधी कोई भी कसर नहीं छोड़ रहे है। साम-दाम-दंड भेद की नीति अपना रहे हैं। पहले धमकी देकर और दबाव डालकर जनता कांग्रेसियों को अपने दल में प्रवेश करवाए,अब पार्टी के सच्चे और समर्पित कार्यकर्ताओं को टारगेट किया जा रहा है। अमित ने कहा है कि उन्हें चुनाव में हराने के लिए बिलासपुर में तंत्र मंत्र किया जा रहा है। बीजापुर के कर्मठ कार्यकर्ता गोपाल कुरियम की बुधवार को हत्या कर दी गई। शनिवार को छात्र संगठन के ग्रामीण जिला अध्यक्ष अजय देवांगन पर चाकू से जानलेवा हमला किया गया। उन्हें भीमराव अंबेडकर अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती किया गया है। उसी प्रकार विगत दिनों जगदलपुर जिलाध्यक्ष नरेंद्र भवानी पर भी जानलेवा हमला किया जा चुका है। अमित जोगी ने कहा कट्टर और समर्पित जनता कांग्रेसी जब दबाव और प्रलोभन में नहीं आए, तब उनको टारगेट किया जा रहा है और उनके साथ आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। जनता कांग्रेसी ऐसी घटनाओं से डर के पीछे हटने वाले नहीं है। अजीत जोगी का आशीर्वाद हमारे साथ है। हम छत्तीसगढ़ महतारी और मरवाही की सेवा करने के लिए अपनी जान भी देंगे और छत्तीसगढ़, छत्तीसगढ़ी और छतीसगढ़ियों के लिए लगातार संघर्ष करते रहेंगे।

 

03-10-2020
बलरामपुर दुष्कर्म की घटना नहीं,मंत्री डहरिया की सोच छोटी : अमित जोगी

रायपुर। अमित जोगी ने मंत्री शिव डहरिया के बलरामपुर बलात्कार की घटना को छोटी और उत्तरप्रदेश हाथरस की घटना को बड़ी बताने पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे)के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने छत्तीसगढ़ की लाखों माताओं,बहनों से मांफी मांगने की मांग मंत्री डहरिया से की है। अमित ने मंत्री डहरिया के इस बयान को महिला विरोधी और महिलाओं का घोर अपमान करार दिया है।अमित ने कहा कि बलरामपुर दुष्कर्म की घटना छोटी नहीं है,बल्कि मंत्री शिव डहरिया की सोच और मानसिकता छोटी है।

बलरामपुर घटना को हाथरस कांड से तुलना कर उक्त घटना को छोटी सी घटना कहकर मंत्री डहरिया अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकते। अमित जोगी ने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने के बाद यह कोई पहली बलरामपुर दुष्कर्म की घटना नहीं हैं। बल्कि विगत 20 माह में महिला अपराध की बढ़ोतरी हुई है। कांग्रेस राज में छत्तीसगढ़ की माताएं और बहनें सुरक्षित नहीं हैं। लगातार छेड़खानी, बलात्कार और विभिन्न महिला अपराध कोरोना की तरह बढ़ता ही जा रहा हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ शासन के एक जिम्मेदार मंत्री छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में घटित दुष्कर्म की घटना को छोटी बता रहे हैं। इससे प्रदेश की लाखों महिला बहनों का मनोबल गिरा है। अपराधियों का हौसला बुलंद हुआ है, जिसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है।

 

20-09-2020
सरकार तय करें कि लॉक डाउन में कोई भूखा न सोए और निर्दोष पर पुलिस लाठी न बरसाए : अमित जोगी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा है कि 16 सितंबर को उन्होंने छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ की राजधानी में तेज गति से बढ़ते कोरोना और भयावह स्थिति पर चिंता व्यक्त की थी। छत्तीसगढ़ और राजधानी रायपुर में महामारी को रोकने के लिए मेडिकल इमरजेंसी (चिकित्सा आपात) लागू करने के साथ टोटल लॉकडाउन करने की मांग की  थी। जिला प्रशासन ने 21 सितंबर की रात्रि 9 बजे से 28 सितंबर को रात्रि 12 बजे तक सख्त लॉक डाउन करने का आदेश तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है। अमित जोगी ने कहा है कि सरकर लॉक डाउन के दौरान यह तय कर ले कि कोई भी व्यक्ति भूखा न सोएं और पुलिस किसी भी निर्दोष पर लाठी न बरसाएं। अमित जोगी ने आम जनता से घर में रहने और सुरक्षित रहने के साथ ही लॉक डाउन के नियमों का पालन करने की भी अपील की है।

10-08-2020
अमित जोगी ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र,कहा- मरवाही में लंबित घोषणाओं की समीक्षा करें

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने सोमवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र भेजा है। अमित जोगी ने मरवाही उपचुनाव के मद्देनजर कांग्रेस की ओर से मरवाही में घोषणाओं की बौछार को दंतहीन शेर की तरह बताया है। अमित जोगी ने कहा है कि, 20 वर्षों में उनके पिता अजीत जोगी ने कभी भी मरवाही क्षेत्र के लिए कोई घोषणा नहीं की थी। उनका मानना था कि चुनावी घोषणा करके उस पर काम नहीं करने से लोगो का लोकतंत्र से विश्वास खत्म हो जाता है। पिछले डेढ़ वर्षों में सरकार ने मरवाही क्षेत्र के लिए लगभग 1000 करोड़ रुपए की घोषणाएं की है। इसमें कोलबिर्रा सिंचाई परियोजना, 147 सड़कों का निर्माण और नवीनीकरण, 54 स्कूलों और महाविद्यालयों का उन्नयन और जिला चिकित्सालय और स्वास्थ्य केन्द्रों में 80 प्रतिशत रिक्त पड़े पदों पर पदस्थापना प्रमुख है।

18 महीने बाद भी वित्तीय प्रावधान और प्रशासनिक स्वीकृति के अभाव में अधिकांश घोषणाएं दंतहीन शेर जैसी बन चुकी है। इनमें से अधिकांश पर धरातल में कोई काम नहीं हुआ है। अमित जोगी ने कहा है कि 18 महीनों में लगभग 1000 करोड़ रुपए के दंतहीन शेर मरवाही क्षेत्र में घूमने लगे हैं। इस संदर्भ में अमित जोगी ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा हैं कि मैं आपसे उम्र और अनुभव दोनों में ही बहुत कनिष्ठ हूं, किन्तु आपसे मेरा व्यक्तिगत अनुरोध हैं कि आप स्वयं इन घोषणाओं की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय बैठक करें। सभी लंबित घोषणाओं के त्वरित निष्पादन के लिए समुचित वित्तीय प्रबंधन और प्रशासनिक आदेश पारित करने की समय सीमा निर्धारित करने की कृपा करें।

13-07-2020
क्या कोरोना की जगह जोगी ने ली है,जो मंत्रालय छोड़कर मंत्री मरवाही घूमने लगे हैं? : अमित जोगी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने राज्य सरकार के मंत्रियों के मरवाही दौरे पर तंज कसा है। अमित ने अपने ट्विटर हैंडल और फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि क्या कोरोना की जगह जोगी ने ले ली है? क्या कोरोना के डर की जगह जोगी ने ले ली है, जो मंत्रालय छोड़ कर छत्तीसगढ़ शासन के मंत्रीगण मरवाही घूमने लगे हैं? प्रशासनिक दुरुपयोग और जोड़तोड़,अस्वस्थ राजनीति का दुखद हिस्सा बन चुके हैं, किंतु जोगी परिवार का मरवाही से रिश्ता दल तक सीमित नहीं है। बल्कि दिल की गहराइयों का है। यही हमारी असली ताकत है। अमित ने लिखा है कि दुनिया इधर से उधर हो जाए, मुझे पूरा विश्वास है कि पापा का आशीर्वाद-उन्होंने अपनी अंतिम कविता में मुझे लिखा था कि शंखनाद हो चुका है, युद्ध प्रारम्भ है, मैं सारथी बनकर, तुम्हारा रथ चला रहा हूं-अंतिम सांस तक मेरे साथ है,जिसके रथ का सारथी स्वयं अजीत है, वो भले कैसे हार सकता है? मैं पुन: मरवाही पधारे शासन के समस्त मंत्रियों, विधायकों, अधिकारियों और प्रतिनिधियों को अपनी शुभकामनाएं देता हूं।

ईश्वर आपको लंबी उम्र दें।अमित ने लिखा है कि प्रशासन की निष्पक्षता का उदाहरण है कि,जहां मेरे पिता अजीत जोगी की अंत्येष्टि और दसगात्र में कोरोना के नाम पर लाखों को प्रशासन ने उनके अंतिम दर्शन से वंचित रखा, वहीं सत्ताधारी दल कांग्रेस के पूर्णत: राजनीतिक चाय पर चौपाल कार्यक्रम के लिए भीड़ जुटाने वो गाव-गांव अधिकारी नियुक्त कर मुनादी करा रहा हैं और बरसों से पापा से जुड़े भोले-भाले लोगों को लॉलीपॉप देकर बलपूर्वक तोड़ने में लगे हैं।

03-07-2020
अजीत जोगी के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी,युवक को गिरफ्तार करने की मांग

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने दिवंगत अजीत जोगी के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी करने वाले युवक को गिरफ्तार करने की मांग की है। झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष व आदिवासी युवा नेता विक्रम नेताम ने नितेश नेताम नामक युवक के खिलाफ सिविल लाइन थाना में एफआईआर दर्ज करने के लिए ज्ञापन सौंपा है। आरोप है कि खुद को युवा कांग्रेसी बताने वाले नितेश नेताम ने अशोभनीय टिप्पणी की है। विक्रम नेताम ने कहा है कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने 5 जुलाई को पेंड्रा में होने वाली शांति पूजा की जानकारी फेसबुक में प्रसारित की थी। इस दौरान स्वयं को युवा कांग्रेसी बताने वाले नितेश नेताम ने फेसबुक के उक्त पोस्ट में अजीत जोगी के खिलाफ अशोभनीय, अभद्र टिप्पणी की। इससे न सिर्फ जनता कांग्रेसी बल्कि जोगी समर्थक आहत हुए हैं। युवक को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई चाहते हैं। शुक्रवार को जेसीसीजे ने सिविल लाइन थाना प्रभारी को ज्ञापन सौंपकर युवक को गिरफ्तार कर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। इस दौरान विक्रम नेताम साथ भगत हरबंश,प्रशांत सोनी,दशमू तांडी,मन्सू निहाल, विवेक बंजारे,दीनानाथ मेश्राम आदि उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804