GLIBS
06-07-2020
गलवान घाटी में 2 किमी पीछे हटे चीनी सैनिक

नई दिल्ली। भारत चीन सीमा पर एक सप्ताह से चल रहे तनाव के बीच बड़ी खबर सामने आई है। एक रिपोर्ट के अनुसार चीनी सेना गलवान घाटी से 2 किलोमीटर पीछे हट गई है। पूर्वी लद्दाख के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी दी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 15 जून की घटना के बाद चाइनीज पीपल्स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक उस स्थान से इधर आ गए थे,जो भारत के मुताबिक एलएसी है। भारत ने भी अपनी मौजूदगी को उसी अनुपात में बढ़ाते हुए बंकर और अस्थायी ढांचे तैयार कर लिए थे। दोनों सेनाएं आंखों में आंखें डाले खड़ी थीं।कमांडर स्तर की बातचीत में 30 जून को बनी सहमति के मुताबिक चीनी सैनिक पीछे हटे या नहीं,  इसको लेकर रविवार को एक सर्वे किया गया। अधिकारी ने बताया, चीनी सैनिक हिंसक झड़प वाले स्थान से दो किमी पीछे हट गए हैं। अस्थायी ढांचे दोनों पक्ष हटा रहे हैं। उन्होंने बताया कि बदलवा को जांचने के लिए फिजिकल वेरीफिकेशन भी किया गया है।

वहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक जिस गलवान घाटी पर अपना दावा जताकर चीन भारत के खिलाफ मोर्चाबंदी कर रहा है, उसी गलवान नदी के तट पर अब चीनी सेना की मुश्किलें बढ़ गईंं हैं। गलवान नदी के किनारे चीन की तैनाती नहीं हो पा रही है, क्योंकि नदी का जल स्तर तेज गति से बढ़ने के कारण गलवान के किनारों पर लगे चीनी सेना के कैम्प बह गए हैंं।ड्रोन की तस्वीरों से पता चलता है कि चीनी पीएलए के टेंट गलवान के बर्फीले बढ़ते पानी में पांच किलोमीटर गहराई में बह गए हैंं। काफी तेजी से बर्फ पिघलने के कारण नदी के तट पर इस समय स्थिति खतरनाक है। चीन यहां से पीछे हटने के बाद अधिक से अधिक नई तैनाती करने में जुट गया है लेकिन गलवान, गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और पैंगोंग झील में मौजूदा स्थिति के चलते चीनी सेना की तैनाती लंबे समय के लिए अस्थिर हो गई है।

02-06-2020
पुलिस जवानों को अवसाद-तनाव से बचाने स्पंदन अभियान का आगाज,वरिष्ठ अधिकारी समस्याओं से होंगे रूबरू

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर त्वरित अमल करते हुए राज्य पुलिस ने जवानों को अवसाद और तनाव से बचाने के लिए मंगलवार से स्पंदन अभियान की शुरुआत की है। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और मनोवैज्ञानिक की उपस्थिति में बैठक कर एक कार्य योजना तैयार की है। इस कार्य योजना को अभियान के तहत चलाने के लिए इसे स्पंदन नाम दिया गया है। यह योजना प्रदेश में तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है। इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश सभी पुलिस अधीक्षकों और सेनानियों को जारी कर दिए गए है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पुलिस जवानों में बढ़ते अवसाद और तनाव को लेकर चिंता व्यक्त की थी। पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिए थे कि इस संबंध में छत्तीसगढ़ पुलिस एक कार्य योजना बनाए। इससे जवानों में उत्पन्न हो रहे मानसिक अवसाद को दूर किया जा सके। इससे होने वाली हिंसक घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोका जा सके। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए थे कि इसके साथ ही जवानों के लिए योगा क्लासेस और मनोवैज्ञानिक से काउंसिलिंग आदि भी आयोजित किए जाएं।  

पुलिस महानिदेशक अवस्थी ने बताया कि स्पंदन अभियान के तहत सभी पुलिस अधिकारी पुलिस लाइन, थानों और सशस्त्र बल की कंपनियों का भ्रमण कर जवानों के साथ समय व्यतीत करेंगे। उनकी समस्याओं से रूबरू होंगे। सभी सेनानियों को माह में एक बार प्रत्येक कंपनी में रात्रि विश्राम करेंगे। इसी तरह से पुलिस अधीक्षकों को भी सभी थानों और पुलिस लाइनों में भ्रमण कर जवानों की समस्याएं सुनने हेतु निर्देशित किया गया है। स्पंदन अभियान में पुलिस मुख्यालय रायपुर में पुलिस महानिदेशक जिला पुलिस बल और सशस्त्र बल के अधिकारियों व कर्मचारियों से मिलने के लिए माह में 2 बार स्पेशल इंटरेक्टिव प्रोग्राम चलाएंगे। पुलिस महानिदेशक स्वयं सभी से चर्चा करेंगे। इसके अलावा सभी दुर्गम इलाकों से लगे हुए कैम्पों में मनोविज्ञानी,म्यूजिक थेरेपी, योग शिक्षा, खेलकूद, पुस्तकालय इत्यादि की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से की जाएगी। सभी रेंज के पुलिस महानिरीक्षकों को भी अपने रेंज में तत्काल स्पंदन अभियान शुरू करने को कहा गया है ताकि इससे जवानों को सहूलियत मिल सके। पुलिस महानिदेशक सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी दूरस्थ इलाकों में दौरा कर वहां तैनात अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चर्चा करेंगे। पुलिस मुख्यालय स्तर पर पुलिस कर्मियों की समस्याओं की मॉनिटरिंग करने के लिए एक स्पेशल एप तैयार किया जा रहा है। जो शीघ्र ही लॉन्च किया जाएगा। इसके माध्यम से पुलिसकर्मी और उनके परिजन अपनी समस्याएं संबंधित अधिकारियों तक पहुंचा सकेंगे। यह एप आगामी 15 दिवस में अस्तित्व में आ जाएगा। डीजीपी अवस्थी ने कहा है कि मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप राज्य पुलिस स्पंदन अभियान चलाकर यह तय करेगी कि हमारा कोई भी पुलिसकर्मी अवसादग्रस्त न रहे और उनके परिवारों को स्वस्थ वातावरण मिल सके।

05-05-2020
भूपेश बघेल ले रहे बैठक, विभागों के कार्यों की समीक्षा जारी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने निवास कार्यालय में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, वाणिज्यिक कर पंजीयन और नगरीय प्रशासन विभाग के काम काज की समीक्षा कर रहे हैं। बैठक में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया, मुख्य सचिव आरपी मंडल, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, सचिव नगरीय प्रशासन  अलरमेल मंगई डी., पंजीयक वाणिज्यिक कर पी. संगीता, राजस्व सचिव रीता सांडिल्य, संचालक उद्योग अनिल टुटेजा, महानिरीक्षक पंजीयन एवं मुद्रांक धर्मेश साहू, संचालक भूअभिलेख रमेश शर्मा और मुख्यमंत्री सचिवालय की उप सचिव सौम्या चौरसिया सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित हैं।

08-02-2020
बड़े हादसे से बचा था वुहान में फंसे भारतीयों को वापिस लाने वाला विमान

नई दिल्ली। चीन के वुहान शहर में फंसे भारतीयों को भारत लाने वाला एयर इंडिया का विमान लैंडिंग के वक्त बड़े हादसे का शिकार होने से बच गया। एयर इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को 2 फरवरी को वुहान से 323 भारतीय और मालदीव के सात नागरिकों को लेकर लौट रहे इस विमान की कॉकपिट विंडो चटक जाने से पायलटों को दिल्ली एयरपोर्ट पर विमान कि ‘इमरजेंसी लैंडिंग’ करानी पड़ी। एयर इंडिया के दो विमान वुहान से कुल 647 भारतीयों को एयरलिफ्ट कर भारत वापस लाया गया।

16-12-2019
ममता बनर्जी ने कहा, नहीं लागू करूंगी प.बंगाल में नागरिकता कानून

नई दिल्ली। प.बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि मैं अपने राज्य में संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी को कभी अनुमति नहीं दूंगी। यदि आप मेरी सरकार को बर्खास्त करना चाहते हैं, तो आप कर सकते हैं। कोलकाता में रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में जारी हिंसा के बीच आरोप लगाया कि कुछ लोग भाजपा से पैसे लेकर आगजनी और तोड़फोड़ के कृत्यों को अंजाम देते हैं। ममता बनर्जी ने कहा है कि सिर्फ कुछ ट्रेनों में आग लगाई गई और केन्द्र ने बंगाल के अधिकतर हिस्सों में रेल सेवाएं रोक दी।

रैली को संबोधित करने से पहले तृणमूल सुप्रीमो ने ट्वीट करते हुए लिखा कि असंवैधानिक नागरिक संशोधन बिल और एनआरसी को लेकर कोलकाता में बड़ी रैली की जाएगी।  बता दें कि प.बंगाल में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों के मद्देनजर पांच जिलों में इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं। इस संबंध में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सरकार ने खासकर सोशल मीडिया पर अफवाहों और फर्जी खबरों पर रोक लगाने के लिए यह फैसला लिया गया है।

16-12-2019
आईटीबीपी ने शुरू किया शादी पोर्टल, जीवनसाथी ढूंढने में जवानों को मिलेगी मदद

नई दिल्ली। भारत तिब्बती सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने अपने अविवाहित, वीरांगना और जीवनसाथी से अलग हो चुके कर्मियों को बल के अंदर ही योग्य व सही जीवनसाथी ढूंढने में मदद पहुंचाने के लिए एक वैवाहिक पोर्टल (मैट्रिमोनियल पोर्टल) बनाया है। किसी भी अर्धसैनिक बल में पहली बार ऐसा कदम उठाया गया है। अधिकारियों ने बताया कि पर्वतीय लड़ाई में प्रशिक्षित इस बल पर मुख्य रूप से चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा की रक्षा करने की जिम्मेदारी है। इस बल में फिलहाल विभिन्न रैंकों में करीब 2500 अविवाहित पुरुष और 1000 महिलाएं हैं। आईटीबीपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बहुत सारे कर्मी सुदूर क्षेत्रों में तैनात हैं।

ऐसे में उनके लिए उनके उनके परिवार की ओर से एक अच्छा जीवनसाथी ढूंढना बड़ा मुश्किल काम हो गया है। उन्होंने बताया कि कुछ आंकड़ों के अनुसार बल में करीब 333 कार्यरत दंपती हैं (यानी पति-पत्नी दोनों ही आईटीबीपी में) और बहुत सारे कर्मी इस संगठन में काम करने वाला ही जीवनसाथी चाहते हैं, क्योंकि सरकारी नियम उस दंपती को एक ही स्थान पर तैनाती की सुविधा देते हैं। अधिकारियों का कहना है कि इस बल ने पर्वतीय सीमा पर अपनी सेवाएं प्रदान करने वाली उस कठोर ड्यूटी को ध्यान में रखते हुए साथ काम करने के लिए यह महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इस पहल से बल में कार्यरत दंपतियों के लिए बड़ी प्रसन्नता और राहत की बात होगी।

 

11-11-2019
अयोध्या मामले का फैसला सुनाने वाले जजों की बढ़ाई गई सुरक्षा

नई दिल्ली। अतिसंवेदनशील अयोध्या मामले का फैसला सुनाने वाले सुप्रीम कोर्ट के पांचों जजों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को कहा कि एहतियातन इन जजों की सुरक्षा में अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई है। सीजेआई समेत किसी अन्य जज को लेकर कोई विशेष खतरा नहीं है। अयोध्या मामले का फैसला सुनाने वाली पीठ में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर शामिल हैं। अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा ड्रिल के तहत अतिरिक्त जवानों को इन जजों के आवासों पर तैनात किया गया है। साथ ही इन जजों के आवासों की ओर जाने वाली सड़कों पर कुछ बेरिकैड लगाए गए हैं। अभी तक जजों के आवास पर गार्ड और अचल सुरक्षा थी। अब इनकी सुरक्षा में मोबाइल कंपोनेट को जोड़ा गया। साथ ही जजों के वाहनों के साथ अब सशस्त्र गार्डों से लैस एस्कार्ट वाहन भी रहेंगे।

11-01-2019
Collector : थाने में व्यक्ति की पिटाई को लेकर पश्चिम बंगाल सरकार ने कलेक्टर का तबादला किया

कोलकाता । अलीपुरद्वार के कलेक्टर निखिल निर्मल का तबादला कर दिया गया है। एक वीडियो वायरल होने के बाद वह विवादों में घिर गये थे जिसमें वह थाने में एक व्यक्ति की पिटाई करते हुए नजर आ रहे हैं जिसने सोशल मीडिया पर अपनी पत्नी पर कथित भद्दी टिप्पणियां की थीं। पश्चिम बंगाल सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया कि निर्मल को राज्य जनजाति विकास सहकारी निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक के पद पर स्थानांतरित किया गया है। सोमवार को वीडियो सामने आने के बाद 2011 बैच के आईएएस अधिकारी को पूर्व में 10 दिन के लिए छुट्टी पर जाने के लिए कहा गया था। अधिकारी ने बताया कि सुभंजन दास अलीपुरद्वार के नये क्लेक्टर होंगे।

वायरल हुए वीडियो में निर्मल और उनकी पत्नी इंस्पेक्टर इन चार्ज (आईसी) की उपस्थिति में फलकता थाने के भीतर व्यक्ति की पिटाई करते हुये नजर आ रहे हैं। वीडियो में आईएएस अधिकारी और उनकी पत्नी व्यक्ति को गाली देते हुये भी नजर आ रहे हैं।

कई मानवाधिकार संगठनों ने घटना पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की थी और कलेक्टर तथा फलकता थाने के आईसी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी। 
 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804