GLIBS
16-09-2020
स्पंदन कार्यक्रम के जरिये पुलिस के सीनियर अफसर जवानों से कर रहे है संपर्क

रायपुर। आम जानो के साथ-साथ जवानों का भी पूरा ध्यान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार रख रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर जवानों में तनाव खत्म करने स्पंदन कार्यक्रम की शुरुआत की गयी है। स्पंदन कार्यक्रम के तहत पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी जवानों से लगातार संवाद स्थापित कर रहे हैं। इसी क्रम में डीजीपी डीएम अवस्थी ने 19 अगस्त को वीडियो कॉल के माध्यम से पुलिसकर्मियों की समस्याओं को सुना और तत्काल निराकरण भी किया। इसी दौरान दंतेवाड़ा के पोटली कैम्प में पदस्थ छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान केशव कुमार ने बताया कि उनकी दोनों किडनी खराब हैं, गठियावात और मोतियाबिंद भी है। मेरा परिवार दुर्ग में रहता है। घर से दूर रहकर स्वास्थ्य लगातार खराब होता जा रहा है। डीजीपी  अवस्थी ने केशव कुमार के खराब स्वास्थ्य को देखते हुए तत्काल पोटली से कैंप से दुर्ग पुलिस लाईन स्थानांतरित करने का आदेश जारी करने के निर्देश दिये थे।

छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान केशव कुमार ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा मैं जीवनभर ऋणी रहूंगा। मुख्यमंत्री के शुरू किये गये स्पंदन कार्यक्रम की वजह से मेरी जान बच पायी है।  जिनकी दोनों किडनी खराब हैं और उन्हें इलाज की सख्त जरूरत थी। लेकिन दंतेवाड़ा के पोटली कैंप में पदस्थ  होने की वजह से इलाज नहीं करा पा रहे थे। वीडियो जारी करते हुये उन्होंने कहा कि वे डीजीपी डीएम अवस्थी का भी आभार व्यक्त करते हैं। उन्होंने मुझे वीडियो कॉल किया, पूरी संवेदनशीलता के साथ मेरी समस्या सुनी और तत्काल स्थानांतरण आदेश जारी कर दिया।   मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर शुरू किये गये स्पंदन कार्यक्रम से पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों में खुशी की लहर है। स्पंदन कार्यक्रम में पुलिसकर्मियों की परेशानियों का पूरी संवेदनशीलता के साथ निराकरण किया जा रहा है।

 

17-08-2020
जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमला, तीन जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर। जम्मू-कश्मीर के बारामूला में सोमवार को आतंकी हमला हुआ जिसमें तीन जवान शहीद हो गए। बताया जा रहा है कि आतंकियों ने बारामुला जिले के क्रेइरी इलाके में सीआरपीएफ नाका पार्टी पर हमला किया। इस आतंकी हमले में एक स्पेशल पुलिस अफसर (एसपीओ) और दो सीआरपीएफ के जवान शहीद हो हुए हैं। इस हमले के बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है और सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। रिपोर्ट्स के अनुसार आतंकियों ने सोमवार सुबह क्रेइरी इलाके में नाका पार्टी पर खड़े जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों पर फायरिंग की।

06-05-2020
महाराष्ट्र में 400 से ज्यादा पुलिस वाले कोरोना पॉजिटिव, 55 साल से ज्यादा उम्र के पुलिस वालों को घर पर रहने कहा गया

मुंबई/रायपुर। कोरोना के आतंक से अब पुलिस भी नहीं बच पा रही है। महाराष्ट्र में लगभग साढ़े 400 पुलिस वाले इसके चपेट में आ चुके हैं। चार पुलिसवालों की मौत भी हो चुकी है। 12 बड़े पुलिस अफसर भी कोरोना से संक्रमित हुए हैं, जिनमें एक आईपीएस भी शामिल है। कोरोना से संक्रमित होने वाले पुलिस वालों की संख्या को लगातार बढ़ता देख पुलिस मुख्यालय ने 55 साल की उम्र से बड़े पुलिस वालों को अब फील्ड से हटा कर घर पर ही रहने का आदेश जारी कर दिया है।

04-12-2019
अर्ध विक्षिप्त युवक की हरकत से नागरिक परेशान, गुस्साए लोगों ने किया चक्का जाम

रायगढ़। क्षेत्र में एक अर्ध विक्षिप्त युवक द्वारा मंदिर परिसर गंदगी करने के मामला को लेकर बवाल मच गया है। सूत्रों की माने तो घटना के बाद गुस्साय लोगों ने चक्का जाम कर अपना विरोध जताया। बाद में कापू पुलिस की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ।
जानकारी के मुताबिक बीती रात्रि कापू बस स्टैंड समीप स्थित शिव मंदिर परिसर में अर्धविक्षिप्त युवक ने शौच कर दिया। सुबह भक्तजन पूजा के लिए मंदिर पहुंचे तो मंदिर में गन्दगी देखकर हैरान रह गए। यह बात पूरे क्षेत्र में आग की तरह फ़ैल गई। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने चक्का जामकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। लोग तत्काल एफआईआर की मांग करने लगे।

पुलिस अफसर मौके पर पहुँचे और लोगों को शांत कराया। कापू में तनाव की स्थिति निर्मित हो गई। हालाँकि पुलिस और प्रशासन की मुस्तैदी से स्थिति काबू में कर ली गई। फ़िलहाल अर्धविक्षिप्त युवक को कापू थाने हिरासत में रखा गया है। इस मामले कापू प्रभारी ने बताया कि अर्धविक्षिप्त युवक थाना कैंपस में है। देखते हैं क्या किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि उच्च अधिकारियों से चर्चा कर मार्गदर्शन मांगा है। दरअसल मानसिक विक्षिप्त युवक को लेकर पुलिस भी पेशोपेश में है कि आखिर इस मानसिक विक्षिप्त युवक के खिलाफ किस तरह की कार्रवाई करें।

 

24-06-2019
अमरनाथ यात्रा खत्म होने तक छुट्टी पर नहीं जा सकेंगे पुलिस अफसर, 24 घंटे रहेंगे अपने क्षेत्र में मौजूद

जम्मू। श्री अमरनाथ यात्रा के शुरू होने से खत्म होने तक पुलिस अफसरों को छुट्टी नहीं मिलेगी। खासकर वो अफसर जिनके क्षेत्राधिकार में अमरनाथ यात्रा से संबंधित कोई भी कार्य होगा। नेशनल हाईवे के अधीन आने वाले सभी पुलिस स्टेशनों के एसएचओ को निर्देश दिए गए हैं कि वह 24 घंटे अपने क्षेत्र में मौजूद रहेंगे। अपने-अपने क्षेत्र में सुरक्षाबलों के साथ मिलकर हाईवे पर गश्त करेंगे। लखनपुर से लेकर कश्मीर तक यह व्यवस्था लागू होगी। इसके अलावा पुलिस अधिकारियों को कहा गया है कि यदि जम्मू से अमरनाथ यात्रा का जत्था रवाना होने के बाद कहीं पर यात्रा रुकती है तो इसका असर लखनपुर से कश्मीर तक दिखेगा। ऐसी स्थिति में जहां पर भी यात्री रुके होंगे, उनकी सुविधा के लिए पुलिस अधिकारियों को आगे आकर काम करना होगा। पैनी नजर बनाकर रखनी होगी। ताकि किसी प्रकार की परेशानी न हो। जम्मू के भगवती नगर स्थित आधार शिविर की सुरक्षा पर भी लगातार मंथन किया जा रहा है। पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अफसर मिलकर यात्रा की सुरक्षा की प्लानिंग कर रहे हैं। भारतीय सेना अध्यक्ष भी दो दिन तक जम्मू में रहकर गए हैं। उन्होंने बार्डर और एलओसी दोनों का ही दौरा किया है। जवानों को पूरी तरह से तैयार रहने के लिए कहा गया है। इसके अलावा बीएसएफ और सीआरपीएफ की ओर से भी अपने स्तर पर लगातार यात्रा की सुरक्षा पर मंथन हो रहा है। शहर के होटलों, संदिग्ध इलाकों पर भी पुलिस की पैनी नजर है। प्रमुख मंदिरों, सार्वजनिक स्थानों, बस स्टैंड, एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन जैसे स्थानों की सुरक्षा पर भी सीनियर अधिकारियों की लगातार संबंधित अफसरों से बात हो रही है। इन क्षेत्रों में संदिग्ध गतिविधियों में दिखाई देने वाले किसी भी व्यक्ति पर तत्काल कार्रवाई करने के लिए कहा जा रहा है। सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक, इसके बाद कश्मीर में जाकिर मूसा और रियाज नायकू जैसे आतंकियों के मारे जाने के बाद यात्रा की सुरक्षा एक बड़ी चुनौती है। जिससे निपटने के लिए अब तक के सबसे बेहतर इंतजाम करने होंगे।
 
 किए गए हैं सारे बंदोबस्त

यात्रा की सुरक्षा के लिए हरसंभव बंदोबस्त किए गए हैं। सुरक्षाबलों ने अपने स्तर पर इंतजाम कर लिए हैं। सभी सुरक्षा एजेंसियां मिलकर प्लानिंग के साथ काम कर रही हैं। अमरनाथ यात्रा पुलिस के सालाना इवेंट में सबसे बड़ा इवेंट होता है। इसलिए इसकी सुरक्षा के लिए हर जरूरी कदम उठाया गया है। 

-विवेक गुप्ता, डीआईजी

 

01-10-2018
Naxalgarh : नक्सलगढ़ के छात्रों ने पुलिस अफसरों के सामने बताई अपनी पीड़ा

कोंटा। कोंटा पुलिस, नक्सल उन्मूलन के तहत जनता को जागरूक करने उनसे रूबरू हो रही है। कोंटा इलाक़े के एक छात्रावास में जब उनकी समस्याएँ जानने कोंटा पुलिस अफसर पहुंचे थे। तब छात्रों ने अपना दर्द पुलिस अफसरों के सामने बयां किया। छात्रों ने अपना दर्द व्यक्त करते हुए SDOP चंद्रेश ठाकुर, नगर निरीक्षक शरद सिंह और नक्सलविरोधी विचारक फ़ारूख अली से कहा  कि नक्सली उनके अपनों को फँसाकर रखे हैं,संगठन के किसी न किसी पद मे उन्हें बनाकर उन्हें डराकर रखते हैं,साथ ही छात्रों ने कहा कि नक्सली हर अपराध मे आदिवासियों को फँसादेते हैं।

छात्रों ने कहा बाहरी नक्सली हमारे घरवालों पे ज़ुल्म करते हैं। पढ़ाई मे रोड़ा:छात्रों ने कहा कि ओह भी बनना चाहते डाक्टर इंजीनियर मगर नक्सली हैं सबसे बड़े रोड़ा,नक्सली नही चाहते हम पढ़ें,हमारे गाँवों मे सड़क बने,बिजली आये नक्सली कभी नही चाहते हैं। पुलिस अफ़सरों ने उन्हें आश्वासन दिया पुलिस उनकी हर सम्भव मदद करेगी वोह अपने रिस्तेदारों को जो भटके हुए हैं उनको मुख्यधारा से जुड़ने जागरूक करें।

 
 
 
Advertise, Call Now - +91 76111 07804