GLIBS
16-09-2020
स्पंदन कार्यक्रम के जरिये पुलिस के सीनियर अफसर जवानों से कर रहे है संपर्क

रायपुर। आम जानो के साथ-साथ जवानों का भी पूरा ध्यान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार रख रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर जवानों में तनाव खत्म करने स्पंदन कार्यक्रम की शुरुआत की गयी है। स्पंदन कार्यक्रम के तहत पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी जवानों से लगातार संवाद स्थापित कर रहे हैं। इसी क्रम में डीजीपी डीएम अवस्थी ने 19 अगस्त को वीडियो कॉल के माध्यम से पुलिसकर्मियों की समस्याओं को सुना और तत्काल निराकरण भी किया। इसी दौरान दंतेवाड़ा के पोटली कैम्प में पदस्थ छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान केशव कुमार ने बताया कि उनकी दोनों किडनी खराब हैं, गठियावात और मोतियाबिंद भी है। मेरा परिवार दुर्ग में रहता है। घर से दूर रहकर स्वास्थ्य लगातार खराब होता जा रहा है। डीजीपी  अवस्थी ने केशव कुमार के खराब स्वास्थ्य को देखते हुए तत्काल पोटली से कैंप से दुर्ग पुलिस लाईन स्थानांतरित करने का आदेश जारी करने के निर्देश दिये थे।

छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान केशव कुमार ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा मैं जीवनभर ऋणी रहूंगा। मुख्यमंत्री के शुरू किये गये स्पंदन कार्यक्रम की वजह से मेरी जान बच पायी है।  जिनकी दोनों किडनी खराब हैं और उन्हें इलाज की सख्त जरूरत थी। लेकिन दंतेवाड़ा के पोटली कैंप में पदस्थ  होने की वजह से इलाज नहीं करा पा रहे थे। वीडियो जारी करते हुये उन्होंने कहा कि वे डीजीपी डीएम अवस्थी का भी आभार व्यक्त करते हैं। उन्होंने मुझे वीडियो कॉल किया, पूरी संवेदनशीलता के साथ मेरी समस्या सुनी और तत्काल स्थानांतरण आदेश जारी कर दिया।   मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर शुरू किये गये स्पंदन कार्यक्रम से पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों में खुशी की लहर है। स्पंदन कार्यक्रम में पुलिसकर्मियों की परेशानियों का पूरी संवेदनशीलता के साथ निराकरण किया जा रहा है।

 

11-08-2020
कोरोना टेस्ट के बाद स्पंदन कार्यक्रम में शामिल होने वाले एसआई और आरक्षक निलंबित, दोनों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

कवर्धा। दो पुलिसकर्मीयों की लापरवाही से अन्य कर्मचारियों में कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ गई है। कवर्धा में 8 अगस्त को स्पंदन और इंद्रधनुष के तहत कार्यक्रम हुआ था। इस कार्यक्रम में पुलिस महानिदेशक, टीआई, एसआई सहित सभी थाना और चौकी प्रभारी भी शामिल हुए थे। बता दें कि इस कार्यक्रम में पोड़ी चौकी प्रभारी बृजेश सिन्हा और आरक्षक राजपाल ध्रुवे भी शामिल हुए थे, जबकि दोनों ने 7 अगस्त को कोरोना जांच के लिए सैम्पल दिया था। जिस दिन यह कार्यक्रम वीर सावरकर भवन में हो रहा था उसी दिन दोनों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे वहां शामिल सभी जवान कोरोना संक्रमण के डर में है। इस प्रकार कोरोना वायरस के गाइड लाइन का पालन नहीं करने पर उप निरीक्षक बृजेश सिन्हा और आरक्षक राजपाल ध्रुव को निलंबित कर दिया गया है। बताया गया कि इलाज और क्वारेंटाइन के बाद लाइन में आमद देंगे।

11-07-2020
पुलिस कंट्रोल रूम में किया गया “स्पंदन” कार्यक्रम का आयोजन

भिलाई। पुलिस कंट्रोल रूम दुर्ग में “स्पंदन” कार्यक्रम का आयोजन किया गया। राज्य में पुलिस फोर्स द्वारा लगातार हो रही आत्महत्या को ध्यान में रखते हुए जीवन का मूल्य समझाते हुए बिना प्रेशर के अधिकारियों से आपसी तालमेल रखते हुए निष्ठा ईमानदारी और कुशलता पूर्वक खुशी के साथ नौकरी करने एवं किसी प्रकार की मानसिक परेशानी होने पर अपने अधिकारियों के संपर्क में आकर उच्च अधिकारियों से वार्तालाप कर परेशानियों का हल ढूंढने की हिदायत दी गई। इसका सभी अधिकारी कर्मचारियों ने समर्थन करते हुए सहमति प्रदान की। कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक दुर्ग प्रशांत ठाकुर के दिशा निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर रोहित झा,   उप पुलिस अधीक्षक क्राइम प्रवीर चंद्र तिवारी,प्रभारी कंट्रोल रूम  आनंद शुक्ला के द्वारा समझाइश दी गई।

 

25-06-2020
स्पंदन कार्यक्रम के तहत एक दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

राजनांदगांव। बुधवार को पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों में बढ़ते अवसाद एवं मानसिक तनाव के संबंध में पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ के स्पंदन अभियान के तहत पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज दुर्ग, विवेकानंद सिन्हा एवं पुलिस अधीक्षक जिला बल राजनादगांव, जितेंद्र शुक्ला एवं इरफान-उलं रहीम खान, पुलिस अधीक्षक, पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय राजनांदगाँव द्वारा पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में समस्त कर्मचारी एवं अधिकारियों के तनाव प्रबंधन एवं कार्यशैली में सुधार विषय पर कार्यशाला पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय राजनांदगाँव में आयोजित की गई।

इसमें पुलिस महानिरीक्षक विवेकानंद सिन्हा द्वारा समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी व पीपी कोर्स तथा महिला नवा रक्षकों से व्यक्तिगत तौर पर बातचीत की गई एवं उनकी समस्याएं सुनी व पारिवारिक पृष्ठभूमि के संबंध में जानकारी ली गई। उनके जीवन की कठिनाइयों को करीब से जानने का प्रयास किया गया तथा तनाव प्रबंधन, कार्यशैली में विकास के लिए दिशा निर्देश दिया गया। इस अवसर पर अधिकारियों कर्मचारियों को अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखते हुए पूरी क्षमता और संवेदनशीलता के साथ अपने कर्तव्य निर्वहन करने की समझाइश दी गई। आज की विषम परिस्थिति में जन सामान्य से एवं अपने परिजनों से भी स्वयं तनाव मुक्त दिनचर्या बनाये रखने कहा गया साथ ही किसी भी जटिल परिस्थिति में अनुशासन के साथ अपने वरिष्ठ अधिकारियों से समाधान के संबंध में मित्रवत आवश्यक मार्गदर्शन लेने की बात कही गई। इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजनांदगाँव सुरेशा चौबे, उप पुलिस अधीक्षक पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय सहित संस्था के सभी अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804