GLIBS
23-02-2020
पुरानी पेंशन योजना फिर से बहाल करने की मांग को लेकर कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन

रायपुर। वर्ष 2004 से बंद की गई पुरानी पेंशन योजना को राज्य में फिर से लागू करने की मांग पर कर्मचारियों ने रविवार को प्रदर्शन किया। छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ के बैनरतले हुए इस प्रदर्शन में प्रदेश भर से कर्मचारी शामिल हुए। राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कुमार बंधु ने कहा कि छत्तीसगढ़ में 1 नवंबर 2004 से नवीन अंशदायी पेंशन योजना कर्मचारियों के लिए लागू की गई है। यह योजना पूर्ण रूप से बाजार आधारित और जोखिम पूर्ण है। सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारियों को पेंशन न्यूनतम कितना निर्धारित होगा और पीएफ के रूप में कितनी राशि मिलेगी यह तय नहीं है। इस राशि को सेवाकाल में निकालना काफी कठिन है। उपरोक्त परिस्थिति के अनुसार पुरानी पेंशन में ही कर्मचारियों का भविष्य सुरक्षित है। राज्य सरकार से मांग है कि पुरानी पेंशन योजना लागू की जाए। कर्मचारियों ने पुरानी पेंशन बहाली के लिए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

 

19-02-2020
नरेंद्र मोदी अचानक पहुंचे हुनर हाट,लिट्टी-चोखा का लिया स्वाद और कुल्हड़ में पी चाय

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की ओर से आयोजित ‘हुनर हाट’ में बुधवार को अचानक पहुंचे। वहां लिट्टी-चोखा खाया एवं कुल्हड़ की चाय पी,जिसका भुगतान उन्होंने खुद किया। सूत्रों के मुताबिक मोदी दिन में करीब डेढ़ बजे इंडिया गेट के निकट राजपथ पर लगे ‘हुनर हाट’ में पहुंचे और वहां लगभग 50 मिनट तक रहे। मोदी ने विभिन्न स्टॉल पर जाकर उत्पादों को देखा और उनके बारे में जानकारी ली। प्रधानमंत्री पहली बार किसी हुनर हाट में पहुंचे हैं।
सूत्र के अनुसार,‘प्रधानमंत्री का यह दौरा तय नहीं था। वह बुधवार की दोपहर अचानक ही हुनर हाट पहुंचे। इससे वहां सभी लोग हैरान रह गए। उनके पहुंचने की जानकारी पाते ही अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी तत्काल वहां पहुंचे और उनकी अगवानी की।’

सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री ने ‘हुनर हाट’ में मौजूद एक स्टॉल पर रुककर लिट्टी-चोखा खाया,जिसके लिए उन्होंने 120 रुपये का भुगतान किया। इसके साथ ही उन्होंने दो कुल्हड़ चाय भी ली,जिसमें से एक उन्होंने स्वयं ली और दूसरी चाय नकवी को दी। मोदी ने चाय के लिए भी 40 रुपये का भुगतान किया। बता दें कि “कौशल को काम” थीम पर आधारित यह ”हुनर हाट” 13 से 23 फरवरी तक आयोजित किया गया है,जहां देश भर के “हुनर के उस्ताद” दस्तकार, शिल्पकार, खानसामे भाग ले रहे हैं। विदित हो कि अगले “हुनर हाट” का आयोजन रांची में 29 फरवरी से 8 मार्च, 2020 तक होगा। इसके बाद चंडीगढ़ में 13 से 22 मार्च, 2020 तक किया जाएगा।  आने वाले दिनों में “हुनर हाट” का आयोजन गुरुग्राम, बेंगलुरु, चेन्नई, कोलकाता, देहरादून, पटना, भोपाल, नागपुर, रायपुर, अमृतसर, जम्मू, शिमला, गोवा, कोच्चि, गुवाहाटी, भुवनेश्वर, अजमेर आदि में किया जाएगा।

 

\

16-02-2020
देश में आरक्षण की नीतियां लागू रहनी चाहिए : गिरीश दुबे

रायपुर। आरक्षण और उसकी नीतियों के पक्ष में कांग्रेस ने राजधानी में एक दिवसीय धरना दिया। शहर कांग्रेस अध्यक्ष गिरीश दुबे ने कहा कि राष्ट्रीय नेतृत्व के निर्देश पर एक दिवसीय धरना दिया जा रहा है। आरक्षण के समर्थन में कि आरक्षण की नीतियां लागू रहनी चाहिए। जो गरीब और पिछड़े वर्ग के लोग हैं उन्हें आरक्षण के माध्यम से मजबूत स्थिति में लाने का प्रयास है। कांग्रेस का कहना है कि आरक्षण लागू रहना चाहिए और इसमें किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं होना चाहिए। 
आरक्षण के मुद्दे पर भाजपा और संघ को घेरते हुए गिरीश दुबे ने कहा कि भाजपा और संघ इस देश में भटकाने के अलावा कोई काम नहीं कर रहे हैं। पिछले वर्षों में जब से नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बनकर बैठे हैं, जनता ने उन्हें स्पष्ट बहुमत दिया कि देश के लिए काम करें, गरीबों को उपर लाएं, महंगाई कम करें। लेकिन भाजपा केवल पाकिस्तान, हिन्दू-मुस्लिम, सीएए, तीन तलाक, राम मंदिर के मुद्दों को लेकर लोगों का ध्यान भटका रहे हैं। देश की जनता शांति चाहती है। लोगों की जीवन स्थिति ठीक करने का काम करना चाहिए। अब नया मुद्दा आरक्षण का छेड़ा गया है। कांग्रेस इसका विरोध करती है।
 

15-02-2020
11 सूत्रीय मांगो को लेकर बस्तर संयुक्त मुक्ति मोर्चा ने राष्ट्रपति के नाम विक्रम मंडावी को सौंपा ज्ञापन

बीजापुर। बस्तर संयुक्त मुक्ति मोर्चा के सदस्यों ने बस्तर संभाग के विकास एवं उसके अधिकारों को संरक्षित करते हुए एनएमडीसी लौह अयस्क उत्खनन हेतु व बस्तर के विकास के लिए अपनी 11 सूत्रीय मांगों का एक ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम उपाध्यक्ष बस्तर प्राधिकरण विक्रम मंडावी को सौंपा है। मांगे पूरी नही होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी भी सदस्यों के द्वारा दी गई।

शनिवार को जिला मुख्यालय स्थित पत्रकार भवन में पत्रकरो को संबोधित करते हुए बस्तर संयुक्त मुक्ति मोर्चा के संयोजक नवनीत चांद ने कहा एनएमडीसी किरंदुल एवं बचेली डिपॉजिट नंबर 5,10 एवं 14 लौह अयस्क के कुल पांच खदानों की लीज अवधि छत्तीसगढ़ शासन ने 2035 तक के लिए बढ़ा दी है जो गलत है। बस्तर पांचवी अनुसूचित क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इसमें भारतीय संविधान के अनुछेद 243/डए खंड 1,2 एवं खंड 4/ख के नौवें भाग के प्रावधानों को लागू किया गया है। इसके अंतर्गत 1996 अधिनियम पेसा कानून लागू है। इसके तहत किसी भी उत्खनन कंपनी सरकारी/गैर सरकारी खनिज संपदा के दोहन के लिए बस्तर संबधित ग्राम पंचायत से ग्रामसभा के माध्यम से अनुमति लेना व उस क्षेत्रफल ने निवासरत जनसमुदाय के सम्पूर्ण विकास जैसे रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं अन्य मूलभूत बुनियादी अवश्यकताओं से सम्बंधित सम्पूर्ण कार्य योजना में पूर्णत भागीदारी सुनिश्चित करना होता है। साथ ही इन कंपनियों से यह भी शर्ते क्रियान्वय करवाने की जिम्मेदारी राज्य सरकार, केंद्र सरकारो के जनप्रतिनिधियों एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों की होती है, लेकिन राज्य सरकार द्वारा किसी से कोई अनुमति ना लेकर लीज बढ़ा देना यह समझ से परे है। चांद ने आगे कहा हमारी प्रमुख 11 मांगे आप सभी बस्तर के 12 विधायक व बस्तर क्षेत्र के 02 सांसदों के माध्यम से मुख्यमंत्री छग शासन, प्रधानमंत्री केंद्र शासन तक आप सभी अपने-अपने लेटर पैड के माध्यम से पहुँच  कर उक्त मांगो पर क्रियान्वयन करने की मांग की जाती है। उक्त मांगो पर आपके द्वारा निवेदन करने के बाद भी सकारात्मक पहल नही होने पर मजबूरन बस्तर के विवासियो को अपने अधिकारों के संरक्षण के लिए आंदोलन की राह अख्तियार करना पड़ेगा और जिसकी पूरी जिम्मेदारी राज्य सरकार और केंद्र सरकार की होगी।

09-02-2020
आज बाबा विश्वनाथ के दर्शन करेंगे श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे

नई दिल्ली। श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने अपने चार दिवसीय दौरे पर भारत आए हुए हैं। रविवार को वह काशी पहुंच रहे हैं। प्रधानमंत्री के आने की सूचना के बाद तैयारियां तेज हो गई हैं। पीएम महिंदा राजपक्षे रविवार को सबसे पहले भगवान बुद्ध के प्रथम धर्म उपदेश स्थली के दर्शन करने करेंगे। यह जानकारी महाबोधि सोसायटी आफ इंडिया के संयुक्त सचिव भिक्षु के मेधांकर थेरो ने दी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री 9 फरवरी को दोपहर साढ़े 3 बजे सारनाथ पहुंचेंगे। तथागत की उपदेश स्थली, धमेख स्तूप के दर्शन पूजन करेंगे। इसके बाद वह मूलगंध कुटी विहार में बौद्ध मंदिर में भगवान बुद्ध का पूजन कर बौद्ध भिक्षुओं से आशीर्वाद लेंगे। इस दौरान वह सारनाथ पुरातात्विक संग्रहालय भी देखेंगे। सारनाथ भ्रमण के पश्चात उनका बाबा विश्वनाथ के दर्शन-पूजन भी करेंगे। शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता के लिए महिंदा राजपक्षे हैराबाद हाउस पहुंचे। इससे पहले महिंदा राजपक्षे ने विदेश मंत्री (ईएएम) एस जयशंकर से मुलाकात की। द्विपक्षीय वार्ता के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और श्रीलंका पड़ोसी होने के साथ-साथ करीबी दोस्त भी हैं। हमारे क्षेत्र में आतंकवाद एक बड़ी समस्या है, हम दोनों ने इसका डटकर सामना किया है। हम आतंक के खिलाफ अपने सहयोग को और बढ़ाएंगे।

06-02-2020
मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना,कहा-हम भी आप के रास्ते पर चलते तो नहीं हटा पाते अनुच्छेद 370

नई दिल्ली। संसद में गुरुवार को बजट सत्र की शुरुआत में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर प्रधानमंत्री ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया। मोदी धन्यवाद प्रस्ताव पर बोलने के लिए खड़े हुए वैसे ही लोकसभा में जय श्रीराम के नारे लगने लगे। वहीं विपक्षी सांसदों ने महात्मा गांधी अमर रहे के नारे लगाना शुरू कर दिया। इस पर मोदी ने कहा कि आपके लिए महात्मा गांधी ट्रेलर हो सकते हैं, हमारे लिए गांधीजी जिंदगी हैं। इसके बाद लोकसभा में सांसदों ने मेजें थपथपाईं।
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति ने न्यू इंडिया का विजन अपने अभिभाषण में प्रस्तुत किया है। 21वीं सदी के तीसरे दशक का राष्ट्रपति का वक्तव्य हम सभी को दिशा व प्रेरणा देने वाला और देश के लोगों में विश्वास पैदा करने वाला है।

मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि हम भी आप लोगों के रास्ते पर चलते तो शायद 70 साल के बाद भी इस देश से अनुच्छेद 370 नहीं हटता, आपके ही तौर तरीके से चलते तो मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक की तलवार आज भी डराती। आपकी ही सोच के साथ चलते तो राम जन्मभूमि आज भी विवादों में रहती। आपकी ही सोच अगर होती, तो करतापुर साहिब कोरिडोर कभी नहीं बन पाता। आपके ही के तरीके होते, आपका ही रास्ता होता, तो भारत-बांग्लादेश विवाद कभी नहीं सुलझता।

 

30-01-2020
भूपेश बघेल के सीएए वापस लेने लिखे पीएम को पत्र का कांग्रेस ने किया स्वागत

रायपुर। सीएए वापस लेने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा प्रधानमंत्री को लिखे पत्र का कांग्रेस ने स्वागत किया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मांग पर केंद्र सरकार को तत्काल विचार करना चाहिए, सीएए छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश के लिए हानिकारक है। देश की जनता मोदी - शाह के क्रोनोलॉजी को समझ चुकी है। सीएए के बाद एनपीआर और एनआरसी को लेकर देश के जन-जन में भय असुरक्षा का वातावरण निर्मित हो चुका है। भाजपा के द्वारा चलाए जा रहे सीएए के समर्थन के प्रोपोगंडा से देश में तनाव है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि 21 राज्यों के 42 लाख परिवार जो अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति से आते हैं जो पैतृक रूप से वन भूमि में रहने के बावजूद अपना अधिकार साबित नहीं कर पाए वह कैसे एनआरसी में स्वयं की नागरिकता प्रमाणित करेंगे? निश्चित तौर पर सीएए, एनआरसी, एनपीआर देश की अधिकांश वर्ग के लिए खतरनाक है। केंद्र सरकार तत्काल इस नियम को वापस ले। देश के 21 राज्यों के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं पारम्परिक रूप से वनों में रहने वाले 42 लाख परिवार माननीय सर्वोच्च न्यायालय में वन अधिकार अधिनियम 2006 के अंतर्गत वनभूमि में अपना अधिकार साबित नहीं कर पाए और माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें वहां से बेदखल करने का आदेश दिया। तब केंद्र सरकार 13 फरवरी को माननीय सर्वोच्च न्यायालय में आदेश में सुधार की अपील करती है और कहती है कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पारंपरिक वनवासी परिवार निरक्षर है, गरीब हैं, कानूनी रूप से वे अपने अधिकार को साबित नहीं कर पा रहे हैं। वन अधिकारों की मान्यता कानून, 2006 लाभ देने संबंधी कानून है और बेहद गरीब और निरक्षर लोगों, जिन्हें अपने अधिकारों और कानूनी प्रक्रिया की जानकारी नहीं है की मदद के लिए इसमें उदारता अपनायी जानी चाहिए।

22-01-2020
प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हितग्राहियों को दिया जायेगा मकान

दुर्ग। नगर पालिक निगम दुर्ग ठगड़ा बांध, जोगी नगर और जेल तिराहा के गरीब आवास हिन परिवार जो कई वर्षों से सरकारी जमीन पर काबिज थे। उन्हें एएचपी आवास योजना के तहत बोरसी एवं अन्य चिन्हकीत स्थलों पर प्रधानमंत्री आवास में विस्थापित किए जाने के लिए निगम आयुक्त इंद्रजीत बर्मन की ओर से ग्रामीण बैंक, जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक, लीड बैंक (बैंक ऑफ बड़ौदा), एचडिएफसी आदि बैंकों के अधिकारियों से प्रधानमंत्री आवास आवंटन के विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास हिन लोगों को निगम की ओर से बनाए गए आवास में विस्थापित किया जा सके। इसके लिए सभी हितग्राहियों से टोकन राशि के रूप में 5000-5000 रुपए जमा कराया गया है और शेष राशि 70000 ऋण से उपलब्ध कराकर योजना का सफल क्रियान्वयन करने की बात बैंकर्स के समक्ष निगम आयुक्त ने रखी। निगम आयुक्त ने बैंकर्स अधिकारियों से चर्चा कर बताया की इस संबंध में जिला कलेक्टर से भी चर्चा की जायेगी और निगम परिषद के समक्ष भी बात रखी गई है ताकि आपको ऋण देने में आसानी हो सके। किसी भी प्रकार हितग्राहियों को लाभ दिलवाया जा सके और शासन की महत्वपूर्ण योजना को सफल बनया जा सके।

 

21-01-2020
टीएस सिंहदेव ने पीएम मोदी के लिए लिखा, सनम हम तो डूबे, तुम सब को भी ले डूबेंगे

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ-साथ अब स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने भी केन्द्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है। टीएस सिंहदेव ने ट्वीट किया कि, सनम हम तो डूबे, तुम सब को भी ले डूबेंगे, ये लाइने शायद किसी ने आज के माहौल को देखकर लिख दी होगी। अब तो प्रधानमंत्री जी का ऐसा डंका बज रहा है कि ना हाउडी मोदी जैसा प्रायोजित इवेंट करना पड़ रहा है ना कोई स्टेज शो। इसके साथ टीएस सिंहदेव ने बिजनेस स्टैंडर्ड की एक लिंक शेयर की है, जिसमें लिखा है, आईएमएफ ने वैश्विक मंदी के लिए भारत को दोषी ठहराया, 2019 की वृद्धि दर 4.8% तक पहुंच गई।

12-01-2020
पीएम ने की घोषणा, कोलकाता पोर्ट अब जाना जाएगा डॉ.श्यामाप्रसाद मुखर्जी पोर्ट के नाम से

कोलकाता। प.बंगाल के कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का ये दिन कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के लिए, इससे जुड़े लोगों के लिए, यहां काम कर चुके साथियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण अवसर है। भारत में पोर्ट डेवलपमेंट को नई ऊर्जा देने का इससे बड़ा कोई अवसर नहीं हो सकता। मां गंगा के सानिध्य में, गंगासागर के निकट, देश की जलशक्ति के इस ऐतिहासिक प्रतीक पर, इस समारोह का हिस्सा बनना सौभाग्य की बात है। उन्होंने कहा कि कोलकाता पोर्ट के विस्तार और आधुनिकीकरण के लिए आज सैकड़ों करोड़ रुपए के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया गया है। आदिवासी बेटियों की शिक्षा और कौशल विकास के लिए हॉस्टल और स्किल डेवलपमेंट सेंटर का शिलान्यास हुआ है। कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पश्चिम बंगाल की, देश की इसी भावना को नमन करते हुए मैं कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट का नाम, भारत के औद्योगीकरण के प्रणेता, बंगाल के विकास का सपना लेकर जीने वाले और एक देश, एक विधान के लिए बलिदान देने वाले डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर करने की घोषणा करता हूं।

उन्होंने कहा कि कोलकाता पोर्ट के विस्तार और आधुनिकीकरण के लिए आज सैकड़ों करोड़ रुपए के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया गया है। आदिवासी बेटियों की शिक्षा और कौशल विकास के लिए हॉस्टल और स्किल डेवलपमेंट सेंटर का शिलान्यास हुआ है। एक प्रकार से कोलकाता का ये पोर्ट भारत की औद्योगिक, आध्यात्मिक और आत्मनिर्भरता की आकांक्षा का प्रतीक है। ऐसे में जब ये पोर्ट डेढ़ सौवें साल में प्रवेश कर रहा है, तब इसको न्यू इंडिया के निर्माण का भी एक प्रतीक बनाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि बंगाल के सपूत, डॉ.मुखर्जी ने देश में औद्योगीकरण की नींव रखी थी। चितरंजन लोकोमोटिव फैक्ट्री, हिन्दुस्तान एयरक्राफ्ट फैक्ट्री, सिंदरी फर्टिलाइज़र कारखाना और दामोदर वैली कॉर्पोरेशन, ऐसे अनेक बड़ी परियोजनाओं के विकास में डॉ.मुखर्जी का बहुत योगदान रहा है। आज के इस अवसर पर, मैं बाबा साहेब आंबेडकर को भी याद करता हूं, उन्हें नमन करता हूं। डॉ.मुखर्जी और बाबा साहेब, दोनों ने स्वतंत्रता के बाद के भारत के लिए नई नीतियां दी थीं, नया विजन दिया था। आज के इस अवसर पर, मैं बाबा साहेब आंबेडकर को भी याद करता हूं, उन्हें नमन करता हूं। डॉ.मुखर्जी और बाबा साहेब, दोनों ने स्वतंत्रता के बाद के भारत के लिए नई नीतियां दी थीं, नया विजन दिया था। उन्होंने कहा कि जैसे ही पश्चिम बंगाल राज्य सरकार आयुष्मान भारत योजना, पीएम किसान सम्मान निधि के लिए स्वीकृति देगी, यहां के लोगों को इन योजनाओं का भी लाभ मिलने लगेगा।

 

 

12-01-2020
स्वामी विवेकानंद की जयंती पर प्रधानमंत्री ने बेलूर मठ में अर्पित की श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को स्वामी विवेकानंद की जयंती पर बेलूर मठ में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। हावड़ा जिले में स्थित बेलूर मठ रामकृष्ण मिशन का मुख्यालय है। मोदी बेलूर मठ में रात गुजारने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं। मिशन के अधिकारियों ने बताया कि मोदी रविवार को तड़के उठे और उन्होंने स्वामी विवेकानंद के मंदिर पहुंच कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। विवेकानंद की जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस के तौर पर मनाया जाता है। मोदी इसके बाद मंदिर की मुख्य इमारत में पहुंचे और उन्होंने रामकृष्ण परमहंस को श्रद्धांजलि अर्पित की। मोदी कोलकाता से नदी के रास्ते बेलूर पहुंचे और वहां उनका स्वागत संतों ने किया। इस मौके पर युवाओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोर देकर कहा कि संशोधित नागरिता कानून पर युवाओं के एक वर्ग को गुमराह किया जा रहा है लेकिन यह कानून किसी की नागरिकता नहीं छीनेगा। मोदी ने कहा कि जिस किसी को भी भारत और भारत के संविधान में आस्था है वह देश का नागरिक बन सकता है।

नागरिकता कानून पर युवाओं को गुमराह किया जा रहा है: मोदी

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा, ‘नए नागरिकता कानून को लेकर युवाओं के बीच बहुत सारे प्रश्न हैं, और इसके बारे में अफवाह फैलने से कुछ लोग गुमराह हो रहे हैं....उनकी शंकाएं दूर करना हमारी जिम्मेदारी है।’ उन्होंने कहा कि मैं यह पुन: स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि नया नागरिकता कानून किसी की नागरिकता छीनने के बारे में नहीं है बल्कि नागरिकता देने के बारे में है। मोदी ने कहा कि राजनीतिक हित साधने के लिए कुछ लोग नए नागरिकता कानून के बारे में जानबूझ कर अफवाहें फैला रहे हैं। मोदी ने अल्पसंख्यकों के धार्मिक उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने के लिए युवाओं की सराहना की और कहा कि देश के युवाओं की ऊर्जा 21वीं सदी में बदलाव का वाहक बनेगी।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804