GLIBS
03-07-2020
मवेशी बाहर छोड़ने वालों पर किया गया जुर्माना

दुर्ग। नगर पालिक निगम दुर्ग द्वारा राज्य शासन की रोका-छेका अभियान के तहत् मवेशी बाहर छोड़ने वाले मवेशी मालिकों के खिलाफ निरंतर कड़ी कार्यवाही की जा रही है। जुर्माना नहीं जमा करने पर नगर निगम अधिनियम के तहत् कानूनी कार्यवाही की जा रही है। इस कड़ी में आयुक्त इंद्रजीत बर्मन द्वारा गठित तीनों दल ने सिकोला भाठा, सिकोला बस्ती और बोरसी में कार्यवाही कर चार मवेशी मालिकों के खिलाफ कार्यवाही की गई। इसके अलावा जिन मवेशी मालिकों के यहाॅ एक-दो मवेशी है और वे भी मवेशी बाहर छोड़ दे रहे हैं ऐसे 9 लोगों के खिलाफ 500-500 रुपए जुर्माना कर रसीद काटी गई।  

 

30-06-2020
रिसाली निगम वार्डों में रोका-छेका अभियान के तहत की गई पशुओं की धरपकड़

दुर्ग। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंशानुरूप छत्तीसगढ़ की पुरानी परम्परा रोका-छेका को पुर्नजीवित करने के लिए नगरीय प्रशान विकास विभाग मंत्रालय नया रायपुर के आदेश तहत व डाॅ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे के निर्देशानुसार तथा अपर कलेक्टर व निगम आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे के निर्देश पर राजस्व विभाग व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों द्वारा निगम के नोडल अधिकारी रमाकांत साहू के मार्ग दर्शन में रिसाली निगम के वाणिज्यिक क्षेत्रों डी.पी.एस. रोड़ कृष्णाटाकीज रोड, आजाद मार्केट रिसाली के सम्पूर्ण व्यवसायिक प्रतिष्ठान क्षेत्रों में खुले में घुम रहे पशुओं की धर पकड़ की गई। बता दें कि राज्य सरकार की महंती योजना रोका छेका संकल्प अभियान की शुरूआत 19 जून को रिसाली निगम क्षेत्रांतर्गत टंकी मरोदा कल्याणी मंदिर के पास स्थित गौठान पर दुर्ग कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे की उपस्थिति में निगम प्रशासन द्वारा स्थानीय पशुपालकों से संकल्प पत्र भरवाकर उल्लेखित अभियान का आगाज किया गया था, जो कि 30 जून तक रोका-छेका संकल्प अभियान के लिए अभी तक निगम के सभी वार्डों में 530 पशुपालकों से संकल्प अभियान पत्र भराया जा चुका है।

इसके लिए निगम कर्मियों द्वारा पशुपालकों से मवेशियों को खुले में छोड़ दिये जाने से फसलों व सब्जियों की खुली चराई होने से जनधन का नुकसान व मवेशियों के सड़कों में विचरण करने से होने वाली दुर्घटनाओं के मद्देनजर पशुओं को खुले में न छोड़ने व उनकी व्यवस्थित चराई के उपाय करने की अपील की गई थी। बावजूद खुले में घुम रहे मवेशियों की रिसाली निगम द्वारा सख्त कार्यवाही करते हुए धरपकड़ की गई। अपर कलेक्टर व रिसाली निगम आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे ने रिसाली निगम क्षेत्रों के सभी पशुपालकों से अपील की है कि वे अपनी पशुओं को खुले में न छोड़ें व रिसाली निगम प्रशासन द्वारा की जा रही दण्डनीय कार्यवाही से बचे। कार्यवाही के दौरान रोका-छेका अभियान के नोडल अधिकारी, हरचरण सिंह अरोरा, रमेशर निषाद, ओंकार यादव, टेमन दिल्लीवार, छगन साहू, कुलवंत देशमुख, सतीश देवांगन भीखम यादव व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे।

21-06-2020
रोका-छेका अभियान से फसलों और मवेशियों की होगी सुरक्षा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आहवान पर 19 जून से पूरे प्रदेश में रोका-छेका अभियान शुरू किया गया है। छत्तीसगढ़ के ग्रामीण अंचलों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों मे 'रोका-छेका’ अभियान भी चलाया जा रहा है। रोका-छेका अभियान से जहां फसलों और मवेशियों की सुरक्षा होगी, वहीं शहरी क्षेत्रों में खुले में घूमने वाले मवेशियों के कारण होने वाली दुर्घटना से भी निजात मिलेगी। इसके लिए शहरी क्षेत्रों में 42 गौठान की स्वीकृति प्रदान की गई है। इनमें से सात गौठनों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है और शेष गौठानों का निर्माण कार्य तेजी से जारी है। इन गौठानों के निर्माण के पश्चात पशुओं की सुरक्षा और शहरी क्षेत्रों के ग्रामीण परिवेश वाले क्षेत्रों में फसलों की चराई के नियंत्रण के लिए गौठान प्रबंधन समिति का प्रावधान किया गया हैै। राज्य शासन द्वारा गौठान के संचालन के लिए गौठान समिति को 10 हजार रूपए अनुदान भी दिया जा रहा है। निकाय क्षेत्रों के अंतर्गत पशुओं की संख्या लगभग 26 हजार 600 है । योजना के तहत गौठान निर्माण के लिए कम से कम तीन एकड़ भूमि निर्धारित की गई है। इसके निर्माण के लिए लगभग 23 लाख 69 रूपए भी तय की गई हैै।

20-06-2020
रोका-छेका अभियान की हुई शुरुआत, ग्रामीणों में दिखा उत्साह

कोरबा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आवाह्न पर फसलों को चराई से बचाने के लिए पूरे प्रदेश में शुरू हुए रोका-छेका अभियान से कोरबा जिले के ग्रामीण भी उत्साहित हैं। जिले के सभी ग्राम पंचायतों और गौठान गांवों में इस अभियान की शुरुआत हुई। स्थानीय विधायकों, जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों ने भी इस अभियान की शुरुआत में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की। कोरबा जिले की चिर्रा ग्राम पंचायत के गौठान परिसर में रिमझिम बारिश के बीच सोशल डिस्टेंसिंग मेन्टेन करते हुए पचास से अधिक संख्या में ग्रामीणों और गौठान समिति के सदस्यों, स्व सहायता समूहों की महिलाओं ने पूरे उत्साह से इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। गौठान समिति के सदस्य ललिता राठिया ने उत्साह पूर्वक बताया कि सरकार कोई कार्यक्रम शुरू करती है तो लोग जागरूक होते हैं। अपने फायदे के लिए लोग उस कार्यक्रम को अपनाते हैं। रोका-छेका अभियान भी गांव वालों के फायदे का अभियान है।

ललिता राठिया ने बताया कि अब गांव के जानवर खुले में नहीं छोड़े जायेंगे। खेतों और बाड़ियों में घुसकर फसलों और सब्जियों को नहीं खायेंगे। बाहर छुटे जानवरों को सीधे गौठान में छेका जायेगा और पचास रुपये जुर्माना वसूलकर ही छोड़ेंगे। ललिता राठिया ने बताया कि इससे धान, सब्जी का उत्पादन ज्यादा होगा और किसानों को ज्यादा फायदा होगा। जुर्माने की राशि से पशुओं और गौठानों को सक्षम बनाया जायेगा। गांव की माली हालत सुधरेगी। ललिता राठिया ने रोका-छेका अभियान के लिए मुख्यमंत्री बघेल का आभार व्यक्त किया। ग्राम गौठान समिति की सदस्य कुंती राठिया ने कहा कि गौठान बनने से महिलाओं को अच्छा फायदा हुआ है। महिलाएं गौठान में केचुआ खाद बना रहीं है। एक लाख रुपये से अधिक की खाद अभी तक बेच दिए है। गौठान की बाड़ी में सब्जी लगा रहे हैं और उसे बेचकर भी फायदा कमा रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री बघेल को धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि अब आजीविका ठीक से चल रही है। पहले काम नहीं मिल रहा था, अब 10 से ज्यादा महिलाओं को रोज का रोजगार मिल गया है। ललिता राठिया ने आशा जताई की गौठानों में अच्छे से काम करने पर एक साल में ही गांव की तस्वीर बदल सकती है।

19-06-2020
कलेक्टर ने गौठान परिसर में किया पौधरोपण,रोका-छेका अभियान के तहत की चर्चा

भिलाई। दुर्ग जिले के कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे, आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी, जिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष तुलसी साहू, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव अरुण सिंह सिसोदिया, महापौर परिषद के सदस्य नीरज पाल एवं लक्ष्मीपति राजू, अंकुश पिल्ले, जयंत देशमुख, केशव चौबे, मोहन गुप्ता, नामांकित पार्षद नरसिंह नाथ, शमशेर बहादुर, मोहम्मद सद्दाब आदि ने गौठान परिसर में 50 से अधिक पौधे नीम, गुलमोहर, बादाम, महागिनी, अमलतास आदि के रोपित किए।गौठान परिसर में सभी ने मिलकर पौष्टिक आहार के रूप में पशुओं को रोटी एवं गुड़ खिलाया!रोका-छेका संकल्प अभियान के तहत पशुपालकों से मिलकर कलेक्टर ने की चर्चा, अभियान के बारे में दी जानकारी आज से प्रारंभ हुए रोका-छेका संकल्प अभियान के तहत पूरे निगम भिलाई क्षेत्र में पशुपालकों से संकल्प पत्र भराने का कार्य किया जा रहा है। इसी के तहत गौठान में भी पशुपालकों से संकल्प पत्र भराने का कार्य किया गया! उन्होंने संकल्प अभियान के बारे में बताते हुए कहा कि पालतू मवेशियों को अपने स्थान पर रखकर चारा, पानी की समुचित व्यवस्था, शहर की सड़कों में मवेशी आवारा न घूमें, पशु पालन से उत्सर्जित होने वाले अपशिष्ट के लिए कंपोस्टिंग के लिए पशुपालक के द्वारा स्वयं व्यवस्था करना अथवा सामूहिक व्यवस्था में सहभागिता निभाना इन सभी बातों के लिए संकल्प पत्र भराया जा रहा है!उल्लेखनीय है कि नगरीय क्षेत्रों को आवारा पशु मुक्त, साफ सुथरा एवं स्वच्छ रखने के साथ-साथ दुर्घटना मुक्त रखने के लिए  मुख्यमंत्री के निर्देश पर 19 से 30 जून 2020 तक रोका-छेका संकल्प अभियान चलाया जा रहा है! निगम भिलाई क्षेत्र में आज से इसकी शुरुआत की जा चुकी है! आयुक्त रघुवंशी ने इस बाबत सभी जोन आयुक्तों एवं राजस्व के अधिकारियों को निर्देशों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804