GLIBS
06-07-2020
गलवान घाटी में 2 किमी पीछे हटे चीनी सैनिक

नई दिल्ली। भारत चीन सीमा पर एक सप्ताह से चल रहे तनाव के बीच बड़ी खबर सामने आई है। एक रिपोर्ट के अनुसार चीनी सेना गलवान घाटी से 2 किलोमीटर पीछे हट गई है। पूर्वी लद्दाख के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी दी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 15 जून की घटना के बाद चाइनीज पीपल्स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक उस स्थान से इधर आ गए थे,जो भारत के मुताबिक एलएसी है। भारत ने भी अपनी मौजूदगी को उसी अनुपात में बढ़ाते हुए बंकर और अस्थायी ढांचे तैयार कर लिए थे। दोनों सेनाएं आंखों में आंखें डाले खड़ी थीं।कमांडर स्तर की बातचीत में 30 जून को बनी सहमति के मुताबिक चीनी सैनिक पीछे हटे या नहीं,  इसको लेकर रविवार को एक सर्वे किया गया। अधिकारी ने बताया, चीनी सैनिक हिंसक झड़प वाले स्थान से दो किमी पीछे हट गए हैं। अस्थायी ढांचे दोनों पक्ष हटा रहे हैं। उन्होंने बताया कि बदलवा को जांचने के लिए फिजिकल वेरीफिकेशन भी किया गया है।

वहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक जिस गलवान घाटी पर अपना दावा जताकर चीन भारत के खिलाफ मोर्चाबंदी कर रहा है, उसी गलवान नदी के तट पर अब चीनी सेना की मुश्किलें बढ़ गईंं हैं। गलवान नदी के किनारे चीन की तैनाती नहीं हो पा रही है, क्योंकि नदी का जल स्तर तेज गति से बढ़ने के कारण गलवान के किनारों पर लगे चीनी सेना के कैम्प बह गए हैंं।ड्रोन की तस्वीरों से पता चलता है कि चीनी पीएलए के टेंट गलवान के बर्फीले बढ़ते पानी में पांच किलोमीटर गहराई में बह गए हैंं। काफी तेजी से बर्फ पिघलने के कारण नदी के तट पर इस समय स्थिति खतरनाक है। चीन यहां से पीछे हटने के बाद अधिक से अधिक नई तैनाती करने में जुट गया है लेकिन गलवान, गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और पैंगोंग झील में मौजूदा स्थिति के चलते चीनी सेना की तैनाती लंबे समय के लिए अस्थिर हो गई है।

17-06-2020
प्रधानमंत्री ने भारत-चीन सीमा पर चर्चा के लिए 19 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत-चीन सीमा पर हालात को लेकर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से ये जानकारी दी गई। प्रधानमंत्री ने ये बैठक 19 जून को शाम 5 बजे बुलाई है। बताया जा रहा है कि ये बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगी। पीएम सभी पार्टी के प्रतिनिधियों से इस हालात पर चर्चा करेंगे बता दें कि पूर्वी लद्दाख में सोमवार रात चीन और भारत के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में 20 जवान शहीद हो गए। इस घटना के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा हुआ है। इसी मुद्दे पर चर्चा के लिए पीएम मोदी ने ये बैठक बुलाई है। सूत्रों के अनुसार इस झड़प में चीन को भी काफी नुकसान हुआ है। उसके करीब 45 सैनिक या तो मारे गये हैं या फिर घायल हुए हैं।
झड़प की खबर मंगलवार को सामने आई थी। इसके बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनों सेनाध्यक्षों के साथ बैठक की थी। इसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ भी भी मौजूद थे। इसके अलावा देर रात भी सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक हुई,जिसमें ताजा हालात पर चर्चा की गई।  रात करीब 10 बजे दिल्ली में हुई अहम बैठक में पीएम मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस जयशंकर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और सेना प्रमुख एमएम नरवणे मौजूद थे।

17-06-2020
भारत-चीन सीमा पर हुई झड़प में बस्तर का एक जवान शहीद

रायपुर/कांकेर। बस्तर संभाग के कांकेर जिले का एक जवान भारत-चीन सीमा पर सोमवार की रात हुई झड़प में 20 जवान शहीद हो गए। इसमें कांकेर के चारामा ब्लॉक के कुररूटोला ग्राम पंचायत के ग्राम गिधाली निवासी जवान गणेश कुंजाम इस झड़प में शहीद हो गये हैं। मंगलवार की शाम सेना ने फोन पर गणेश के परिजनों को सूचित किया जिसके बाद गांव में मातम पसर गया है। मिली जानकारी के अनुसार भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प में सेना के जवानों के शहीद होने की खबर आई। इसमें कांकेर जिले का जवान गणेश कुंजाम भी शामिल है। हालांकि प्रशासन और पुलिस को अब तक जवान के शहीद होने की सूचना नहीं मिली है, लेकिन कांकेर पुलिस ने जवान के गांव के लिए टीम रवाना कर दिया है, ताकि सेना से आए फोन के बारे में जानकारी ली जा सके। शहीद गणेश के चाचा ने बताया कि मंगलवार शाम उन्हें फोन से गणेश की शहीद होने की जानकारी मिली। उन्होंने बताया कि शहीद गणेश कुंजाम ने 2011 में सेना ज्वाइन की थी। एक महीने पहले ही उसकी चीन बॉर्डर पर तैनाती हुई थी। शहीद गणेश की दो बहनों का एकलौता भाई था। शहादत की खबर के बाद से गांव में मातम पसरा हुआ है और परिवार का बुरा हाल है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804