GLIBS
15-06-2020
Video: बाल विवाह रुकवा कर प्रशासन ने बेरंग लौटाई बारात

गरियाबंद। छुरा पुलिस, चाइल्ड लाइन और जिला बाल संरक्षण इकाई की संयुक्त टीम ने छुरा ब्लाक के ग्राम पंचायत पिपरहट्टा के देवगांव में बाल विवाह हो रोकने में सफलता हासिल की है। रविवार को विवाह की सारी तैयारियां हो चुकी थी। बारात पहुंच चुकी थी जिसे इस टीम ने युवती की उम्र कम पाए जाने के बाद बरात को बिना विवाह के वापस धमतरी मगरलोड भेज दिया। जानकारी के मुताबिक ग्राम देवगांव की नाबालिगयुवती का विवाह धमतरी जिले के मगरलोड थाना एक युवक के साथ तय था। इस दौरान शादी को लेकर तमाम तैयारिया पूरी हो चुकी थी।

रविवार दोपहर बारात पक्ष भी गांव पहुच चुका था। लेकिन शादी का कार्यक्रम विधिवत शुरू होता इसके पहले ही मुखबिर की सूचना पर महिला बाल विकास अधिकारी जगरानी एक्का के मार्गदर्शन में जिला बाल संरक्षण अधिकारी अनिल द्विवेदी, फणींद्र जयसवाल संरक्षण अधिकारी गैर संस्थागत कुलेश्वर साहू चाइल्डलाइन मेंबर पर पुलिस, चाइल्ड लाइन और जिला बाल संरक्षण इकाई की संयुक्त रेस्क्यू टीम मौके पर पहुँच गई। थाना प्रभारी राजेश जगत और चाइल्ड लाइन के काउंसलर तुलेश्वर साहू और जिला बाल संरक्षण इकाई के फरनिंद्रा जयसवाल व बलीराम ने दोनों पक्षों को समझाईश देते हुए बाल विवाह रूकवाया और बाराती पक्ष को वापस धमतरी रवाना किया।

इसके पहले उन्होंने दोनों पक्षों को बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम की जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रकार का कृत्य कानून अपराध है। 18 वर्ष पूर्ण होने के बाद ही युवती तथा 21 वर्ष पूर्ण होने के बाद ही युवक का विवाह किया जा सकता है। जिला बाल संरक्षण अधिकारी अनिल द्विवेदी ने बताया कि बालिका की उम्र 17 वर्ष एक माह पाई गई है। पंचायत प्रतिनिधियों और ग्रामीणों की उपस्थिति में पंचनामा बनाकर बाल विवाह रोका गया। ग्रामीणों को समझाईश दी कि बाल विवाह का आयोजन ना करें, ऐसी सूचना पर तत्काल पुलिस व चाइल्ड लाइन को 1098 नंबर पर सुचित करे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804