GLIBS
राजिम कुंभ कल्प का आयोजन 31 जनवरी से 13 फरवरी तक

रायपुर। देश दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाने वाला राजिम कुंभ इस वर्ष 31 जनवरी माघपूर्णिमा से 13 फरवरी महाशिवरात्रि तक आयोजित होगा। विराट संत समागम 7 से 13 फरवरी तक आयोजित होगा। राजिम कुंभ का यह 13वां साल है और राज्य शासन ने इसे अब राजिम कुंभ कल्प का नाम दिया है। राजिम कुंभ कल्प की तैयारियों को लेकर धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने शुक्रवार को राजिम में अधिकारियों की बैठक लेकर आवश्यक निर्देश दिये तथा सभी कार्यो को 25 जनवरी तक पूरा करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने बताया कि राजीव लोचन मंदिर से कुलेश्वर महादेव मंदिर एवं लोमश ऋषि आश्रम तक सस्पेंशन ब्रिज लक्ष्मण झुला का निर्माण प्रारंभ हो गया है जो सम्भवतः देश का सबसे बड़ा सस्पेंसन झूला होगा। अग्रवाल बताया कि मेला क्षेत्र में सबमर्सिबल सड़क निर्माण के लिए भी राशि स्वीकृत होने की जानकारी उनके द्वारा दी गई। उन्होंने कहा कि आगामी तीन माह में इसका कार्य प्रारम्भ हो जाएगा और आगामी कुम्भ में यह पूर्ण हो जाएगा । बैठक में खाद्य मंत्री एवं रायपुर जिले के प्रभारी मंत्री पुन्नु लाल मोहिले, राजिम विधायक सन्तोष उपाध्याय, राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष चन्द्रशेखर साहू, अध्यक्ष अपैक्स बैंक अशोक बजाज मौजूद थे।।

धर्मस्व मंत्री बजमोहन अग्रवाल ने राजिम कुंभ कल्प मेला के तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ बड़े स्तर पर कुम्भ आयोजित करने की क्षमता रखता है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने माता कौशल्या मंदिर एवं महानदी मंदिर निर्माण के लिए राशि उपलब्ध कराने की सहमति दे दी है । अग्रवाल ने बताया कि इस वर्ष कुम्भ में जगतगुरु स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती, सतपाल महाराज, असंग साहेब जैसे राष्ट्रीय सन्त पहुचेंगे। उन्होंने तैयारियों की समीक्षा करते हुए लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को नदी पर पहले से उपयोग किए हुए मुरूम का उपयोग करने और अलग से मुरूम नही डालने कहा साथ ही अस्थायी सड़कों का निर्माण एवं राजिम को अन्य शहरों तथा गांवों से जोड़ने वाली सड़कों के मरम्मत करने के निर्देश दिये। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को शाही स्नान कुण्ड, गंगा आरती घाट निर्माण एवं 29 जनवरी तक नदी में पानी छोड़ने के लिए निर्देशित किया। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को मेला क्षेत्र में पेयजल की व्यवस्था करने तथा अस्थायी शौचालय बनाने, स्वास्थ्य विभाग को मेला क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए व्यवस्था करने के साथ ही डॉक्टरों की टीम हमेशा मौजूद रखने  व डायबिटीज चेक करने वनटच मशीन रखने के निर्देश दिये गये। खाद्य विभाग को दाल.भात सेंटर संचालित करने, वन मण्डल को बांस.बल्ली उपलब्ध कराने, परिवहन विभाग को रायपुर, धमतरी, गरियाबंद, महासमुन्द जिलों के सभी रूटों में नियमित और पर्याप्त मात्रा में बसों का संचालन करने, विद्युत विभाग को लाईट की समुचित व्यवस्था करने एवं पुलिस विभाग को मेला क्षेत्र में सुरक्षा संबंधी इंतजाम करने के साथ ही बसों में होमगार्ड की तैनाती करने के निर्देश दिये गये। इसके अलावा अन्य संबंधित विभागों को सौंपे गये दायित्वों को पूर्ण करने के लिए निर्देशित किया गया।  तीनो जिलों गरियाबंद, धमतरी एवं रायपुर को विभागीय प्रदर्शनी लगाने और हितग्राही मूलक योजनाओं की जानकारी विशेष रूप से देने के निर्देश दिए । कृषि विभाग को मेला क्षेत्र में विशाल प्रदर्शनी लगाने के निर्देश दिए गए। मेला क्षेत्र में नियमित सफाई के लिए सफाई मित्र की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्देश नगर पंचायत राजिम और नगर पालिका गोबरा नवापारा को दिए गए।  इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्वेता शर्मा, राजिम नगर पंचायत के अध्यक्ष पवन सोनकर, गोबरा नवापारा के अध्यक्ष विजय गोयल, जल संसाधन विभाग के सचिव सोनमणी बोरा, रायपुर संभाग के आयुक्त बृजेश चन्द्र मिश्र, संचलाक सस्कृति जितेंद्र शुक्ल, प्रबंध संचालक प्रर्यटन एम.नंदी, तीनो जिले के कलक्टर गरियाबंद कलेक्टर श्रुति सिंह, रायपुर कलक्टर ओ.पी चौधरी, धमतरी कलक्टर डॉ सी.आर. प्रसन्ना सहित पुलिस अधीक्षक, वनमण्डलाधिकारी मौजूद थे।

ढ़ाई लाख दीये से जगमग होगा राजिम कुंभ कल्प मेला

तेरहवां राजिम कुंभ कल्प मेला इस बार ऐतिहासिक होगा। राजिम मेला क्षेत्र में ढ़ाई लाख मिट्टी के दीये जलाए जाएंगे। धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि विभाग के सचिव सोनमणी वोरा के सुझाव अनुसार विराट संत समागम के अवसर पर 7 फरवरी को साधु संतो के स्वागत के लिए दीये जलाए जाएंगे जो धार्मिक संस्कृति को और मजबूत करेगा। उन्होंने बताया कि यह अपने आप में एक विश्व रिकार्ड होगा। उन्होंने आम जनता एवं जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारी कर्मचारियों से भी अपने घरों से मिट्टी के दीये लाकर जलाने का अनुरोध किया हैं। इसी तरह नदी संरक्षण, नदी संवर्धन, जल स्वच्छता विषय पर नदी मैराथन का आयोजन 3 फरवरी को सुबह 07.30 बजे से किया जाएगा। यह मैराथन 15 वर्ष से 20 वर्ष तक के आयु एवं 20 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लिए आयोजित होगा। राजिम कुंभ का तीसरा महत्वपूर्ण कार्यक्रम सामूहिक शंखनाद होगा जिसमें 1500 शंख एक साथ गूंजायमान होगा।

शासन से मिले रेडियो से सुदूर गांव की पहाड़ी कोरवा भी सुन पाते हैं रमन के गोठ

कोरबा। कोरबा शहर से लगभग 100 किलोमीटर दूर माटीमाड़ा की पहाड़ी कोरवाओं बिफन धुरमुनी का पूरा दिन अपने पारा में या फिर आसपास के घने जंगल में गुजर जाता है। वह शहर तो नही आती, लेकिन महीने में एक बार पास के पंचायत में राशन कार्ड से खाद्यान्न सामग्री लेने जरूर जाती है। शहर से दूर होने के साथ वह टीवी,मोबाइल जैसे दृश्य मनोरंजन के माध्यमों से भी दूर है। बावजूद इसके पहाड़ी कोरवा विफन धुरमुनी को शासन की कई गतिविधियों की जानकारी होने के साथ जरूरत के समय मनोरंजन का लाभ भी मिल पाता है। शासन द्वारा नि:शुल्क में पहाड़ी कोरवा परिवारों को दी गई रेडियों से वह प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह द्वारा हर माह के दूसरे रविवार को आकाशवाणी में प्रस्तुत की जाने वाली रमन के गोठ को आसानी से सुन पाती है। रेडियों से रमन के गोठ सुनने वाली पहाड़ी कोरवा बिफनबाई ने बताया कि गोठ के माध्यम से प्रदेशभर की गतिविधियों और शासन की योजनाओं की जानकारी तो मिलती ही है। साथ ही खाली समय में रेडियों में गीत, संगीत के कार्यक्रम से उसका मनोरंजन भी होता है।  कोरबा विकासखंड के सबसे दूरस्थ क्षेत्र माटीमाड़ा पहाडी कोरवाओं का एक पारा है। घने जंगल और पहाड़ों के बीच रहने वाले परिवारों का अधिकांश समय जंगल के आसपास या अपने घर में ही गुजरता है। यहा रहने वाली पहाड़ी कोरवा महिला बिफन धुरमुनी ने बताया कि लगभग एक साल पहले उसे नि:शुल्क में रेडियों और छाता मिला था। यह रेडियों उसके बहुत काम आती है। घर में खाली समय हो या कुछ जरूरी काम, रेडियों चालू कर अपना काम करती रहती है। बिफन धुरमुनी ने बताया कि उसका तीन माह का छोटा बच्चा है। इसलिये आजकल ज्यादा जंगल नही जा पाती है। ऐसे में घर में रेडियों ही मनोरंजन का सबसे उपयोगी साधन बना हुआ है। उसने बताया कि रमन के गोठ सुनती है। इससे मुख्यमंत्री द्वारा समसमायिक तीज त्यौहारों की बधाई, विभिन्न आयोजनों एवं अन्य कार्यक्रमों की जानकारी मिलने के साथ महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी भी मिलती है। पहाडी कोरवा महिला ने बताया कि रेडियों में रमन के गोठ के अलावा अन्य कई कार्यक्रम भी प्रसारित होते है। गांव, कृषि,स्वास्थ्य, शिक्षा एवं महिलाओं से भी संबंधित कार्यक्रम को सुनती है।

अमित जोगी ने CM डाॅ.रमन को लिखा पत्र, पंचायतों से 70 फीसदी राशि लेने का किया विरोध

रायपुर l  मरवाही विधायक अमित जोगी ने मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को पत्र लिखकर 14वें वित्त आयोग के मूल अनुदान की दूसरी किस्त की आवंटित राशि में से 70 प्रतिशत की राशि संचार क्रांति योजना के अंतर्गत खर्च किये जाने के आदेश को वापस लेने की मांग की हैl  अमित जोगी ने अपने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री को इस आदेश को असंवैधानिक बताते हुए लिखा है कि 14 वें वित्त आयोग की बैठक में सर्व सर्वसम्मति से तय किया गया है कि ग्राम सभा में पारित प्रस्ताव के आधार पर ही 14 वें वित्त आयोग की राशि का उपयोग किया जा सकता है l  आवंटित राशि में से 70 फीसदी राशि का चेक संचार क्रांति योजना पर खर्च किये जाने के नाम पर सभी पंचायतों से ले लिया गया हैl जो 14 वें वित्त आयोग की मंशा के विपरित और असंवैधानिक है। अमित ने कहा है कि वित्त की राशि का उपयोग ग्राम पंचायतों के द्वारा ग्राम सभा में पारित प्रस्तार के आधार पर ग्राम पंचायतों में प्राथमिकता से किया जाना चाहिए , लेकिन ऐसा नहीं किया जा रहा l बिना सरपंचों की सहमति के ऐसा किया गया। उन्होंने इस आदेश को वापस लेने की मांग की है ताकि यह राशि ग्राम पंचायतों के विकास में उपयोग किया जा सके l

कैबिनेट का फैसला : सरकार ने भू-राजस्व संहिता संशोधन विधेयक लिया वापस

रायपुर। छत्तीसगढ़ भू-राजस्व संहिता संशोधन विधेयक को सरकार ने वापस लेने का फैसला किया है। ये फैसला कैबिनेट की बैठक में लिया गया है। सरकार ने यह कदम आदिवासी समाज और कांग्रेस के बढ़ते विरोध के बाद उठाया है। कैबिनेट की बैठक से पहले सर्व आदिवासी समाज ने मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से मुलाकात कर इसे वापस लेने की मांग की थी, जिसे सरकार ने मान लिया है। सीएम से मिलने के लिए राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष जे आर राणा भी साथ गए थे। सिद्धनाथ पैकरा ने भू-राजस्व संहिता संशोधन विधेयक पर कहा कि बिल पर पुनर्विचार करने की मांग की है। ‎विपक्ष इस बिल को लेकर भ्रम की स्थिति फैला रहा है।

शीतकालीन सत्र में पारित हुआ था विधेयक 

आपको बता दें कि इस बार छत्तीसगढ़ विधानसभा के शीतकालीन सत्र में सरकार ने छत्तीसगढ़ भू-राजस्व संहिता संशोधन विधेयक पारित किया था। विधानसभा में इसे लेकर मत विभाजन भी हुआ था। कांग्रेस ने संशोधन विधेयक के खिलाफ वोटिंग की थी, लेकिन सरकार ने संख्याबल के आधार पर इसे पारित करा लिया था। इसके बाद से कांग्रेस ने इसे बड़ा मुद्दा बना लिया था। वहीं सर्व आदिवासी समाज भी इसके खिलाफ था, जिसके बाद सरकार को लगातार इस विधेयक को लेकर सफाई देनी पड़ रही थी।

Video: जब सांसद अभिषेक सिंह ह अपन ददा CM डॉ.रमन ल खिलाइस दार-भात

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह साल के पहले दिन अपने चितपरिचित अंदाज में नज़र आए। सीएम डॉ रमन ने आज अपने विधानसभा क्षेत्र में मजदूरों के साथ बैठकर भोजन किया। दरअसल सीएम अपने दो दिवसीय प्रवास पर राजनांदगांव पहुंचे हैं। राजनंदगांव शहर पहुंचकर आज डॉ रमन सिंह ने श्रम विभाग के एक कार्यक्रम के तहत शहर के हृदय स्थल जयस्तम्भ चौक में श्रमिकों के लिये दीनदयाल श्रमिक कैंटीन की शुरुआत की। कैंटीन के उद्घाटन के बाद सीएम ने श्रमिकों के साथ बैठकर भोजन किया तो उनके पुत्र और राजनांदगांव सांसद अभिषेक सिंह ने सीएम डॉ रमन को अपने हाथों से भोजन परोसा। गौरतलब है कि सीएम ने आज एक साथ 5 स्थानों पर दीनदयाल श्रमिक अन्न कैंटीन की शुरुआत की है, जहां श्रमिकों को भरपेट भोजन मिल पाएगा। इस मौके पर सीएम ने कहा की छत्तीसगढ़ की वर्तमान सरकार को प्रदेश के हर वर्ग की चिंता है, और हम नहीं चाहते की प्रदेश का कोई भी श्रमिक भूखा रहें इसलिए ये योजना हमने शुरू की है इस योजना से सभी श्रमिकों को लाभ मिलेगा।

 

08-12-2017
भूपेश बघेल को CM और PM घोषित कर दे लेकिन पहले परीक्षा तो पास करके दिखाए: डॉ.रमन

रायपुर। हैदराबाद में NMDC के 60 साल पूरे होने पर डायमंड जुबली वर्ष के सेलिब्रेट कार्यक्रम में शामिल होकर दिल्ली से लौटे मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल को CM का चेहरा प्रस्तावित करने पर चुटकी ली। उन्होंने भूपेश बघेल को CM का चेहरे के रूप में घोषित करने के सवाल पर कहा कि उनकी मर्जी है वे चाहे मुख्यमंत्री घोषित कर सकते हैं , प्रधानमंत्री घोषित कर सकते हैं,  जिसको करना है करें उन्हें किसी ने नहीं रोका है। लेकिन उससे पहले जो परीक्षा है उसमें पहले पास तो होना ही पड़ेगा। उन्होंने कहा कि हैदराबाद में NMDC के 60 साल पूरे होने पर डायमंड जुबली वर्ष को सेलिब्रेट कर रहे थे जिसमें उप राष्ट्रपति भी  मौजूद थे। छतीसगढ़ के भी 500 लोग शामिल थे। बचेली किरन्दुल के बच्चे भी इस आयोजन में शामिल थे, जो 60 साल की यात्रा NMDC ने पूरी की है । क्रिसेल की रिपोर्ट पर उपराष्ट्रपति ने  सभा में उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ , गुजरात और हरियाणा अलग-अलग क्षेत्रों में 2013 से 2017 में जो इफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट हुए मेजर वर्क हुये हैं उन सभी वर्ग में उपराष्ट्रपति ने फास्टेस्ट ग्रोइंग स्टेट के रूप में मान्यता दी है। निश्चित रूप से कोई तटस्थ पर्यवेक्षक भी देखेगा और आम आदमी भी देखेगा तो कहेगा कि छत्तीसगढ़ तेजी से न केवल इंफ्रास्ट्रक्चर बल्कि सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है।

CM  डॉ.रमन के 14 साल पूरे होने पर अफसरों ने दी बधाई

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के मुख्यमंत्री के रूप में सफलतम 14 साल पूर्ण करने पर आज नईं दिल्ली में छत्तीसगढ़ भवन में विशेष सचिव जनसम्पर्क  राजेश सुकुमार टोप्पो, आवासीय आयुक्त संजय कुमार ओझा, अपर आवासीय आयुक्त रीतू सेन, विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी  अरुण बिसेन, उप आयुक्त संजय अवस्थी और छत्तीसगढ़ सदन एवं भवन के अधिकारियों और कर्मचारियों ने शुभकामनाएं दी।

Video: एक बार फिर धरने पर बैठे शिक्षाकर्मी 
बोले-सरकार ने उनके साथ धोखा किया, अंतिम सांस तक लड़ने का इरादा
Loading
Visitor No.