GLIBS
27-02-2021
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज करेंगे पहला 'भारत खिलौना मेला' का उद्घाटन

नई दिल्ली। आत्मनिर्भर भारत की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को 'भारत खिलौना मेला' का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे। इसके माध्यम से भारतीय छात्र अपनी सोच, हुनर और तकनीक से अंतर्राष्ट्रीय खिलौना बाजार में भारतीय मार्केट को मजबूती देंगे। इसमें पॉलिसी मेकर, पेरेंट्स, स्टार्टअप, छात्र, इंडस्ट्री आदि सभी को एक मंच पर मिलकर काम करना होगा। इसमें राज्य और केंद्र सरकार एक साथ मिलकर काम करेगी। भारत में 1.5 अरब डालर का खिलौना बाजार है और इसमें से 80 प्रतिशत खिलौने विदेश से आते हैं।

14-02-2021
Breaking : 108 अर्जुन एमके-1ए टैंक सेना को सौंपने पहुंचे पीएम मोदी, टैंक आत्मनिर्भर भारत की पहचान बनेंगे

चेन्नई/रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को चेन्नई में अर्जुन मुख्य युद्धक टैंक 'एमके-1ए' सेना को सौंपेंगे। साथ ही दोनों राज्यों में कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे। प्रधानमंत्री परियोजनाओं में चेन्नै मेट्रो परियोजना और केरल में एक पेट्रोकेमिकल परिसर का शुभारंभ शामिल है। बता दें कि पीएम मोदी कार्यक्रम स्थल पहुँच चुके हैं। दुश्मन के लिए आज नया अर्जुन  क इन इंडिया के तहत डीआरडीओ ने तैयार किया है। पाकिस्तान के मोर्चे पर 118 अर्जुन की तैनाती होनी है। पश्चिमी रेगिस्तान में इनकी तैनाती होगी। रविवार को पीएम मोदी तमिल नाडु के अवाडी में 108 अर्जुन टैंक को सेना को सौंपेने पहुंचे। इन टैंकों को डीआरडीओ ने विकसित किया है और ये टैंक आत्मनिर्भर भारत की पहचान बनेंगे।

04-01-2021
कोरोना वैक्सीन के संबंध मेें नरेंद्र मोदी कहा- देश में होगा दुनिया का सबसे बड़ा कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम

नई दिल्ली। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (डीसीजीआई) ने रविवार को देश में दो टीकों के सीमित आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी थी। इसे लेकर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में कोरोना वायरस को काबू करने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू होने वाला है। उन्होंने ने कहा, भारत में दुनिया का सबसे बड़ा कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होगा। इसके लिए देश को अपने वैज्ञानिकों एवं तकनीशियनों के योगदान पर गर्व है। मोदी ने राष्ट्रीय माप पद्धति सम्मेलन में वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए कहा कि यह सुनिश्चित करना होगा कि ‘भारत निर्मित’’ उत्पादों की न केवल वैश्विक मांग हो, बल्कि उनकी वैश्विक स्वीकार्यता भी हो। उन्होंने कहा कि किसी उत्पाद की गुणवत्ता उसकी मात्रा जितनी ही महत्वपूर्ण है। ‘आत्मनिर्भर भारत’ के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में कदम बढ़ाने के साथ-साथ हमारे मानक भी ऊंचे होने चाहिए। बता दें कि भारत के औषधि नियामक ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के स्वदेश में विकसित टीके ‘कोवैक्सीन’ के देश में सीमित आपात इस्तेमाल को रविवार को मंजूरी दे दी, जिससे व्यापक टीकाकरण अभियान का मार्ग प्रशस्त हो गया है।

 

07-09-2020
ओडिशा तट पर एचएसटीडीवी का सफल परीक्षण,राजनाथ ने कहा- आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करने की दिशा में बड़ा कदम

नई दिल्ली। हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर व्हीकल(एचएसटीडीवी) का भारत ने सोमवार को सफलतापूर्वक परीक्षण किया। यह परीक्षण ओडिशा तट पर कलाम द्वीप से किया गया। स्वदेशी तौर पर विकसित स्क्रैमजेट प्रोपल्शन सिस्टम का उपयोग करना सभी महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियां अगले चरण में प्रगति के लिए मान्य हैं। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के अध्यक्ष डॉ.जी.सतीश रेड्डी ने राष्ट्र की रक्षा क्षमताओं को मजबूत करने के लिए अपने दृढ़ और अटूट प्रयासों के लिए सभी वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और इस मिशन से जुड़े अन्य कर्मियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस मिशन के साथ डीआरडीओ ने अत्यधिक जटिल प्रौद्योगिकी के लिए क्षमताओं का प्रदर्शन किया है,जो उद्योग के साथ साझेदारी में नेक्स्टजेन हाइपरसोनिक वाहनों के लिए बिल्डिंग ब्लॉक के रूप में काम करेगा। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को बधाई देते हुए कहा कि आज स्वदेशी रूप से विकसित स्क्रैमजेट प्रोपल्शन प्रणाली का उपयोग कर हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डेमोंट्रेटर वाहन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। इस सफलता के साथ, सभी महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियां अब अगले चरण की प्रगति के लिए स्थापित हो गई हैं। मैं इस महान उपलब्धि के लिए बधाई देता हूं,जो पीएम के 'आत्मनिर्भर भारत' के सपने को साकार करने की दिशा में है। मैंने परियोजना से जुड़े वैज्ञानिकों से बात की और उन्हें इस महान उपलब्धि पर बधाई दी। भारत को उन पर गर्व है।

 

 

22-08-2020
आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में योगदान के लिए वेदांता समूह कटिबद्ध : नवीन अग्रवाल

कवर्धा। आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में योगदान वेदांता समूह के प्रचालन का मुख्य ध्येय है। सत्यनिष्ठा एवं नैतिक मूल्यों पर आधारित कार्य शैली के जरिए हम अपने संगठन को उत्कृष्टता की बुलंदियों पर ले जाएं। हम अपने संगठन का ऐसा ढांचा तैयार करें जिससे देश, राज्य, समूह के कर्मचारी और संबद्ध समुदाय लाभान्वित हो। वेदांता समूह की उत्तरोत्तर प्रगति में इसके व्यवसाय के साझेदारों की महत्वपूर्ण भूमिका है। ’’ वेदांता लिमिटेड के चेयरमैन नवीन अग्रवाल ने वेबिनार के माध्यम से आयोजित टाउनहॉल में व्यक्त किए। बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक अभिजीत पति सहित वेदांता समूह के अनेक अधिकारियों ने टाउनहॉल में भागीदारी कर अपने विचार रखे।

नवाचार व संगठन की प्रगति अग्रवाल ने वेदांता समूह के सात आधारभूत स्तंभ सस्टेनिबिलिटी, स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं पर्यावरण, कर्मचारी, मूल्य, नैतिकता एवं गवर्नेस, डिजिटलाइजेशन, नवाचार, तकनीक व श्रेष्ठता, गुणवत्ता के साथ ही अन्य आवश्यक स्तंभों का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों, उनके परिवारजनों तथा परिसंपत्तियों की सुरक्षा, गुणवत्ता, उत्पादकता में वृद्धि के लिए बेहतरीन गृह सज्जा, एसेट ऑप्टिमाइजेशन, निर्णय लेने की प्रक्रिया और नवाचार संगठन की निरंतर प्रगति की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने बालको टीम को प्रोत्साहित करते हुए उत्कृष्ट कार्य प्रदर्शन से भविष्य में सस्टेनिबिलिटी के क्षेत्र में चेयरमैन पुरस्कार प्राप्त करने की शुभकामनाएं दी। 

10 लाख से अधिक लोगों का लाभ दुनियाभर में वेदांता समूह के प्रचालन से 80,000 नागरिक सीधे तौर पर जुड़े हैं। जबकि लगभग 10 लाख नागरिकों को अप्रत्यक्ष रूप से लाभ मिल रहा है। समूह देश के राजस्व में लगभग 42000 करोड़ रुपए का योगदान करता है। अग्रवाल ने बताया कि वेदांता समूह में कार्यरत युवा कर्मचारियों के नए विचारों से उन्हें प्रेरणा मिलती है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारे जीवन का विशिष्ट उद्देश्य है। वृहद रूप से समाज और राष्ट्र की प्रगति की दिशा में हम अपने उद्देश्यों को आकार दें। अभिजीत पति ने कहा कि बालको अपने केंद्रीय मूल्यों विश्वास, सत्यनिष्ठा, श्रेष्ठता, उद्यमिता, संरक्षण, सम्मान और नवसृजन के प्रति दृढसंकल्प है। एल्यूमिनियम और ऊर्जा उत्पादन के क्षेत्र में हम बालको को श्रेष्ठ कंपनी के तौर पर स्थापित करेंगे। हमारी कार्य शैली से बालको दुनिया की श्रेष्ठ इकाइयों में शामिल हो। वेबीनार में बालको से संबद्ध व्यवसाय के अनेक साझेदार, वेदांता समूह और बालको के अनेक अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे।

19-08-2020
विषम परिस्थितियों में ही नेतृत्व का विकास होता है, बस्तर टॉक में शामिल हुए युवा वैभव नलगुंडवार

रायपुर। बस्तर टॉक के दूसरे सीजन में आत्मनिर्भर भारत और युवाओं की भूमिका इस विषय पर विचार रखते हुए पॉलीटिकल कम्युनिकेशन एक्सपर्ट वैभव नलगुंडवार ने कहा कि हम में नेतृत्व की क्षमता नैसर्गिक होती है। जब हम विषम परिस्थितियों में होते हैं तो नेतृत्व क्षमता मजबूती के साथ सामाजिक जीवन में सहयोग करती है।उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भरता का मतलब स्वयं के स्किल्स को और मजबूत कर के युवा भविष्य में अपनी भूमिका को और महत्वपूर्ण कर सकते हैं। अगर आप अपना भविष्य सुरक्षित रखना चाहते हैं तो हमेशा संघर्ष के रास्ते में चले तो बेहतर होगा। वर्तमान में हम संघर्ष के रास्ते नहीं चलेंगे तो भविष्य में हमारी चुनौतियां भी बढ़ जाएगी। नेतृत्व का विकास जीवन के हर आयाम में होता है। नेतृत्व के बल पर राजनीति, खेल, व्यापार या किसी भी क्षेत्र में सफल हो सकते हैं।

उन्होंने कहा कि जीवन में नेतृत्व क्षमता का विकास सतत् प्रक्रिया है और यह आपके अध्ययन और चिंतन से ही मजबूत होता है। उन्होंने कहा कि युवाओं को हर क्षेत्र में आने से पहले कारगर योजनाओं को मजबूत करना चाहिए। जितना आप मेहनत करेंगे, उतना ही नेतृत्व क्षमता मजबूत और विकसित होगा। त्याग, परिश्रम, तपस्या यह हमारे नेतृत्व क्षमता के गुणों को और विकसित करता है। हमें जीवन में हमेशा नई पहल करने की जरूरत होती है। इससे कि सपनों को हकीकत में बदला जा सकता है। उन्होंने कहा कि जब आप योजनाबद्ध तरीके से अपने मजबूत नेतृत्व क्षमता के साथ कार्य करेंगे तो निश्चित ही सफल होंगे। हमेशा असफलता के बीच ही सफलता की कहानियां रची जाती है। युवा वक्ता वैभव नलगुंडवार पुणे के एक संस्थान में राजनीतिक नेतृत्व प्रबंधन के छात्र रहे हैं। इस स्कूल ऑफ गवर्नेंस की स्थापना भारत के पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन ने की थी।

31-07-2020
विष्णुदेव साय ने नई शिक्षा नीति को बताया सदियों से मानसिक गुलामी से आजादी दिलाने वाला एक ऐतिहासिक कदम

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई ने केंद्र सरकार की ओर से घोषित राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2019 का स्वागत किया है। भाजपा की प्रदेश इकाई ने कहा है कि यह राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतवर्ष को समय के साथ कदमताल करने की ऊर्जा प्रदान करेगी वहीं आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की अवधारणा को एक नया आयाम प्रदान कर देश के शैक्षिक जगत में क्रांतिकारी व युगानुकूल परिवर्तन लाने वाली सिद्ध होगी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि केन्द्रीय मंत्रिमण्डल द्वारा नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को स्वीकृति प्रदान करना महज एक फैसला नहीं है अपितु यह सदियों से विदेशी मानसिकता की गुलामी से आजादी दिलाने वाला एक ऐतिहासिक कदम है। स्वतंत्र भारत की यह तीसरी शिक्षा नीति है किन्तु जहाँ पहले की दोनों शिक्षा नीतियाँ केवल शिक्षा के प्रसार के लिए केवल इसके संख्यात्मक पक्ष पर ही जोर दे रहीं थीं वहीं यह नीति शिक्षा के गुणात्मक पक्ष पर भी जोर दे रही है। इसीलिये एक ओर जहाँ यह नीति स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ने की बात करती हैं तो दूसरी ओर पाठ्यचर्या और पाठ्यक्रम को विषय केन्द्रित न रखते हुए केवल मूल सिद्धान्तों को सिखाने की दृष्टि से पुन: गढ़ने की बात करती है।

 

14-06-2020
आत्मनिर्भर भारत के लिए स्वदेशी उत्पादों का अधिक उपयोग करें : विष्णुदेव साय

रायपुर। मोदी सरकार के दूसरे शासनकाल का एक वर्ष पूरा होने पर भाजपा जन संवाद कार्यक्रम कर रही है। प्रदेश के राजनांदगांव से इसकी शुरुआत अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने की। साय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दूसरे शासनकाल का एक वर्ष पूरा हुआ है। मोदी सरकार ने ऐतिहासिक और साहसिक निर्णय लिए हैं। इसे जिला जनसंवाद कार्यक्रम के माध्यम से प्रत्येक घर तक पहुंचाना है। इस कार्यक्रम की शुरुआत राजनांदगांव जिले से की गई। प्रदेश में सभी जिलों में आगामी दिनों में जिला जनसंवाद कार्यक्रम होगा। इसमें प्रदेश के वरिष्ठ नेता संबोधित करेंगे। साय ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए शपथ ली गई है कि अपने जीवन में अधिक से अधिक स्वदेशी उत्पादों का उपयोग करेंगे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804