GLIBS
25-10-2020
उपचार के बाद 51 मरीज स्वस्थ, 31 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती, 251 का उपचार जारी,   807 बेड खाली

जांजगीर चांपा। कोविड अस्पतालों से रविवार को 51 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को सफल इलाज के बाद डिस्चार्ज किया गया। आज 31 मरीजों को इलाज के लिए भर्ती किया गया।कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्गदर्शन में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए कोविड अस्पताल  और 9 कोविड केयर सेंटर में कुल 1058 बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें से 251 बेड पर मरीजों का उपचार किया जा रहा है और 807 बेड रिक्त है। कोविड केयर सेंटर्स के नोडल अधिकारी ने बताया कि 25  अक्टूबर को शाम 5 बजे की स्थिति में जिला अस्पताल परिसर के कोविड अस्पताल में 80 बेड उपलब्ध है, इनमें 76 मरीज भर्ती है। इसी प्रकार आईटीआई कुलीपोटा में 150 बेड हैं,जिनमें 15 मरीजों का उपचार जारी हैं। आकांक्षा परिसर जर्वे में 100 बेड की क्षमता है, वहां पर 9 मरीजों का उपचार जारी है।

शासकीय क्रांति कुमार भारती महाविद्यालय जेठा सक्ती में 60 बेड उपलब्ध है,जिनमें 29 मरीज भर्ती है। शासकीय अनुसूचित जाति बालक आश्रम धौराभाठा डभरा में 100 बेड है, जिनमें 32 में मरीजों का उपचार किया जा रहा है। आईटीआई अकलतरा में 125 बेड हैं,जिनमें 41 मरीज भर्ती हैं और आईटीआई भवन महुदा-बलौदा मे 150 बेड की व्यवस्था की गई है। इसमें 9 मरीजों का उपचार किया जा रहा है। दिव्यांग स्कूल पेण्ड्रीभाठा में 128 बेड उपलब्ध है,जहां 37 मरीज भर्ती है। कृषि महाविद्यालय बालक छात्रावास भवन जर्वे के 35 बेड और शासकीय एमएमआर महाविद्यालय चांपा में 130 बेड सभी रिक्त है। कोविड अस्पताल और कोविड केयर सेंटर्स में उपलब्ध बेड की संख्या प्रतिदिन जिले की वेबसाइट में उपलब्ध कराई जा रही है।

20-10-2020
स्वास्थ्य विभाग के सर्वे में कोविड केयर केंद्रों की सुविधा के मामले में दुर्ग  अग्रणी

दुर्ग। स्वास्थ्य विभाग के सर्वे में कोविड केयर सेंटर में सुविधाओं के संबंध में दुर्ग का प्रदर्शन शानदार रहा है। कोविड केयर सेंटर के मामले में दुर्ग अग्रणी स्थान पर है। 89 प्रतिशत लोगों ने इस संबंध में पाजिटिव फीडबैक दिया। स्वास्थ्य विभाग थर्ड पार्टी से यह सर्वे कराता है। कोविड केयर सेंटरों के संबंध में 85 प्रतिशत से अधिक लोगों द्वारा पाजिटिव फीडबैक दिये जाने पर प्लीजंट परफार्मेंस की श्रेणी में रखा जाता है। इसके साथ ही होम आइसोलेशन को लेकर भी सर्वे किया गया। 11 से 17 अक्टूबर तक चले सर्वे में होम आइसोलेशन  को लेकर दुर्ग से 302 लोगों के फीडबैक लिये गए। सर्वे में होम आइसोलेशन के संबंध में भी फीडबैक लिया गया। इसमें रायपुर जिले का स्कोर 79 प्रतिशत रहा। दुर्ग जिले का स्कोर 70 फीसदी रहा और यह प्रदेश में दूसरे स्थान पर रहा। होम आइसोलेशन के सर्वे में डाक्टरों द्वारा की गई मानिटरिंग, दवाओं की नियमितता, स्वास्थ्य कर्मियों के संपर्क, फालोअप से संतुष्टि, कमरे में अलग शौचालय की मौजूदगी, नियमित रूप से पल्स आक्सीमीटर द्वारा चेक किया जाना आदि शामिल है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा किया गया सर्वे डेडिकेटेड कोविड हास्पिटल के लिया भी किया गया। डेडिकेटेड कोविड हास्पिटल में 86 प्रतिशत लोगों ने पाजिटिव फीडबैक दिया। इस संबंध में भी 85 प्रतिशत से अधिक पाजिटिव फीडबैक आने पर प्लीजंट परफार्मेंस की श्रेणी में रखा जाता है। उल्लेखनीय है कि थर्ड पार्टी सर्वे द्वारा लिया गया फीडबैक हर सप्ताह का होता है और अगले सप्ताह पुनः फीडबैक लिया जाता है। चूंकि फीडबैक में हेल्थ केयर, खानपान की व्यवस्था, मास्क तथा  सोशल डिस्टेंसिंग के प्रयोग तथा सैनिटाइजेशन जैसी चीजों पर बात होती है अतएव इस संबंध में काफी सारा फीडबैक एकत्रित हो जाता है,जिससे व्यवस्था को और अच्छा करने में मदद मिलती है। सर्वे में प्राइवेट हास्पिटल में चल रहे कोविड केयर की भी रैंकिंग की गई। पूरे प्रदेश में फीडबैक सर्वे के लिए लगभग दस हजार से अधिक लोगों के फीडबैक लिये गए जिसके आधार पर यह रैंकिंग तैयार हुई। उल्लेखनीय है कि दुर्ग जिले में कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था बेहतर करने के लिए लगातार कदम उठाये गए। इसमें खानपान की गुणवत्ता से लेकर साफसफाई की गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए लगातार मानिटरिंग की गई। मरीजों से फीडबैक लेने की व्यवस्था बनाई गई। उनके फीडबैक के आधार पर व्यवस्था को बेहतर करने में विशेष रूप से मदद मिली।

15-10-2020
कोविड केयर सेंटर में दी जा रही सुविधाओं के मामले में बस्तर जिला राज्य में दूसरे स्थान पर

रायपुर/जगदलपुर। भूपेश सरकार के प्रयास से कोविड मरीजों से कोविड केयर सेंटर की सुविधाओं के बारे में फिडबैक लिया गया था। इसी क्रम में जिलेवार कोविड मरीजों से कोविड केयर सेंटर की सुविधाओं के संबंध में लिए गए फिडबैक में बस्तर जिले को दूसरा स्थान मिला है। कोविड मरीजों से कोविड केयर सेंटर में दी जा रही स्वास्थ्य सुविधाओं और दवाईयों की उपलब्धता, खाद्य एवं पेयजल की सुविधा, मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग तथा सैनिटाइजेशन को मुख्य आधार मानकर 4 से 9 अक्टूबर 2020 के मध्य फिडबैक लिया था। इस फिडबैक में बस्तर जिले के कोविड केयर सेंटर को 88 प्रतिशत पाॅजिटिव फिडबैक मिला है। बस्तर जिले में कोविड आइसोलेशन सेंटर के रूप में 250 बिस्तर वाला आइसोलेशन सेंटर धरमपुरा, 450 बिस्तर वाला बकावंड आईसोलेशन सेंटर और 200 बिस्तर वाला कोविड अस्पताल मेडिकल काॅलेज डिमरापाल में संचालित किया जा रहा है। शासन द्वारा जारी सूची में बस्तर के मेडिकल काॅलेज के कोविड अस्पताल का 78 प्रतिशत पाॅजिटिव फिडबैक है।

14-10-2020
कोरोना संक्रमितों की मानसिक परेशानी दूर करने के लिए प्रशिक्षित काउंसलर दे रहे सलाह, डायल करें 104 नंबर

रायपुर। प्रदेश के कोरोना संक्रमितों की मानसिक परेशानी, तनाव दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के प्रशिक्षित काउंसलर लगातार उन्हे परामर्श दे रहे हैं। यह व्यवस्था कुछ जिलों को छोड़कर सभी जिलों में लागू है। शेष जिलों में भी शीघ्र ही प्रारंभ की जाएगी। अब तक कोविड केयर सेंटर/आइसोलेशन सेंटर और होम आइसोलेशन के 186 मरीजों को मानसिक परामर्श दिया गया। इसके अलावा 104 नंबर पर काल करने पर भी काउंसलर की ओर से मानसिक परेशानी संबंधी समस्याओं का निराकरण किया जा रहा है। 104 नंबर पर कोई भी व्यक्ति जिसे मानसिक परेशानी हो रही हो,संपर्क कर सकते हैं। संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़ ने कहा कि गत माह से स्पर्श क्लिनिक के तहत विभाग के काउंसलर की ओर से कोविड केयर सेंटर/आइसोलेशन सेंटर और होम आइसोलेशन के मरीजों से फोन काल या कभी-कभी वीडियो काल पर भी मानसिक परामर्श दिया जा रहा है। इसमें मरीजों की मन:स्थिति जानने के लिए उनका पहले आकलन किया जाता है। फिर आवश्यकतानुसार उनके सेशन किए जाते हैं,जिसमें उनकी परेशानियां/डर/तनाव को दूर करने के उपाय बताए जाते हैं। कुछ केस में दवाइयां भी दी जाती है। अब तक 186 मरीजों के 2356 सेशन कराए गए। विभाग की ओर से 69 काउंसलर को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेस बंगलुरू से विशेष प्रशिक्षण दिलवाया गया ताकि वे कोविड 19 के मरीजों की मदद कर सकें।

 

09-10-2020
कलेक्टर ने कहा,कोविड केयर सेंटर में उपलब्ध सुविधाओं का लाभ मरीजों को मिले

जांजगीर चांपा। कलेक्टर यशवंत कुमार ने शुक्रवार को जिला कार्यालय में जिला कोविड केयर कोर कमेटी की बैठक ली। इसमें उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकाल के अनुसार कोविड संक्रमित मरीजों को समुचित सुविधाएं उपलब्ध करवायी जा रही है। सभी सेंटर्स में पीने के लिए गर्म पानी और स्वच्छता के लिए स्वीपर तैनात किए गए है। सभी मरीजों को पौष्टिक भोजन की व्यवस्था की गई है। कलेक्टर ने कहा कि संबंधित नोडल अधिकारी उपलब्ध संसाधनों से मरीजों को लाभान्वित करने समुचित उपयोग सुनिश्चित करें। किसी मशीन में खराबी आने पर तत्काल मरम्मत की व्यवस्था संबंधित विभाग द्वारा की जाय। कलेक्टर ने कहा मरीजों के उपचार की पर्याप्त सुविधा उपलब्ध हो,इसके लिए जिला कोविड अस्पताल सहित अन्य कोविड केयर सेंटर्स में आक्सीजन पाइप लाइन और कंसन्टेटर की व्यवस्था बढ़ायी जा रही है।

उन्होंने सीएमएचओ से कहा कि आक्सीजन पाइप लाइन का कार्य तीन दिन में पूरा करवा लें। उन्होंने 30 नए कंसन्टेटर को सक्ती व चांपा के अस्पतालों में स्थापित करवाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि जिला अस्पताल और कोविड केयर सेंटर्स में तैनात डाक्टर सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जाय, जिससे वे उपलब्ध चिकित्सा उपकरणों का आवश्यकता अनुसार उपचार में उपयोग कर सकें। कलेक्टर ने कहा कि कोविड संक्रमित गंभीर मरीजों का उपचार के लिए डाॅक्टरों को अद्यतन प्रशिक्षण उपलब्ध करवाएं ताकि किसी गंभीर मरीज को तत्काल उपचार की सुविधा उपलब्ध हो सके। कलेक्टर ने उपलब्ध दवाइयों एवं सघन सामुदायिक सर्वे की जानकारी भी ली। जांच रिपोर्ट एवं सर्वे की डाटा एंट्री नियत समय में सावधानी से पूरा करवाने के लिए डीपीएम को निर्देशित किया। बैठक में एसपी पारूल माथुर, जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल, अपर कलेक्टर लीना कोसम, सीएमएचओं डाॅ.एसआर बंजारे सहित कमेटी के सदस्य उपस्थित थे। 

 

06-10-2020
शासकीय और निजी कोविड केयर सेंटरों का होगा पुनः मूल्यांकन,कलेक्टर ने दिए निर्देश

कोरबा। कलेक्टर किरण कौशल ने मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग से समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज और संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए किये जा रहे प्रयासों की एक बार फिर समीक्षा की। उन्होंने जिले में बढ़ते कोविड संक्रमण को ध्यान में रखते हुए अब तक हुई तैयारियों की जानकारी अधिकारियों से बैठक में ली। कलेक्टर ने कोरोना संक्रमितों के ईलाज के लिए जिले में संचालित शासकीय तथा निजी कोविड केयर सेंटरों और अस्पतालों का वर्तमान जरूरतों के हिसाब से पुनः निरीक्षण मूल्यांकन करने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिये। अस्पतालों के निरीक्षण के लिए जिला अस्पताल के अधीक्षक डा. अरूण तिवारी के नेतृत्व में मूल्यांकन दल भी बनाने के निर्देश कलेक्टर ने बैठक में दिये। उन्होंने सभी विकासखंडों में बनने वाले कोविड केयर सेंटरों की प्रगति की जानकारी भी अधिकारियों से ली।

श्रीमती कौशल ने आईसीएमआर द्वारा निर्धारित मापदंडों के अनुसार शासकीय तथा निजी कोविड अस्पतालों और विकासखंडों में बनने वाले कोविड केयर सेंटरों में पर्याप्त सुविधाएं और संक्रमण को रोकने के लिए जरूरी व्यवस्थाओं पर निरीक्षण कर एक सप्ताह के भीतर प्रतिवेदन देने के निर्देश अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने एसईसीएल, बालको, एनटीपीसी, सीएसईबी से लेकर लैंको जैसे सार्वजनिक उपक्रमों को अपने-अपने कार्यक्षेत्र मे कोविड आईसोलेशन सेंटर बनाने मे समन्वय के लिए संबंधित एसडीएम को जिम्मेदारी भी दी है। बैठक में कलेक्टर ने होम आईसोलेशन मे रहने वाले मरीजो की सतत् निगरानी करते हुए बेहतर ईलाज की सुविधा देने के निर्देश दिए हैं। बैठक मे कलेक्टर ने सीएमएचओ डाॅ. बोडे को लक्षण और बिना लक्षण वाले मरीजो के संपर्क मे आए लोगों के कोरोना टेस्ट करवाने के निर्देश भी दिए। कलेक्टर ने होम आईसोलेशन में रहकर इलाज कराने वाले मरीजों या उनके परिजनों द्वारा शासकीय दिशा निर्देशों की अवहेलना और कोविड प्रोटोकाॅल का उल्लंघन किये जाने पर कड़ी कार्यवाही कराते हुए एफआईआर तक दर्ज कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं।

 

25-09-2020
कोविड मरीजों की मानसिक स्वास्थ्यगत समस्याओं का होगा निवारण,हर जिले में जारी किए जाएंगे फोन नंबर

रायपुर। स्वास्थ्य सेवाओं के संचालक नीरज बंसोड़ ने प्रदेश के कोविड अस्पतालों, कोविड केयर सेंटरों और होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे मरीजों के काउंसिलिंग की व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने कोविड-19 के मरीजों को तनाव,चिंता,उदासीनता और अवसाद से मुक्त रखने उनके मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल पर जोर दिया। नीरज बंसोड़ ने ऑनलाइन समीक्षा बैठक में सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों, जिला कार्यक्रम प्रबंधकों, राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के जिला नोडल अधिकारियों, साइकेट्रिस्ट, वीकेएन प्रशिक्षित चिकित्सकों, सामुदायिक और साइकेट्रिक नर्सों, क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट्स तथा साइकेट्रिक सोशल वर्कर्स को कोरोना संक्रमितों के मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। संचालक, स्वास्थ्य सेवाएं ने बैठक में क्वारंटाइन और आइसोलेशन में रह रहे लोगों में मानसिक तनाव दूर करने के लिए ऑडियो-विजुअल माध्यम से मनोरंजन की सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिए। उन्होंने कोविड-19 मरीजों के मानसिक स्वास्थ्यगत समस्याओं के निवारण के लिए टेलीफोनिक परामर्श के लिए हर जिले में फोन नंबर जारी करने कहा।

नीरज बंसोड़ ने सभी कोविड केयर सेंटर्स में कम से कम एक तकनीकी स्टॉफ की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए,जिससे कि मानसिक समस्या से जूझ रहे मरीजों की पहचान की जा सके। उन्होंने सभी जिलों में एन्जायटी एवं डिप्रेशन के दवाइयों की उपलब्धता पर्याप्त मात्रा में सुनिश्चित करने कहा। स्वास्थ्य सेवाओं के संचालक ने जिला मानसिक स्वास्थ्य टीम को प्रत्येक विकासखंड में आत्महत्या का प्रयास करने वाले व्यक्ति की समय-समय पर अनिवार्य रूप से काउंसलिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने साइकोलॉजिकल फर्स्ट-एड के लिए आइसोलेशन वार्ड में पदस्थ सभी स्टॉफ को आगामी अक्टूबर महीने में प्रशिक्षण देने कहा। समीक्षा बैठक में अधिकारियों ने बताया कि कोरोना काल में लोगों में तनाव,एंग्जायटी, उदासीनता, अवसाद जैसे मानसिक विकारों मे वृद्धि हुई है। छतीसगढ़ में भी इनके मामले बढ़े हैं। प्रदेश के सभी जिलों में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत मरीजों को काउंसलिंग सुविधा प्रदान की जा रही है। निमहंस बंगलुरु की ओर से प्रशिक्षित चिकित्सा अधिकारियों और आरएमए  की ओर से कई जिलों में कोविड-19 के मरीजों की काउंसलिंग की जा रही है। जिला मानसिक स्वास्थ्य टीम की ओर से लोगों के बीच विभिन्न मानसिक अवस्थाओं की जानकारी और मानसिक तनाव कम करने के उपायों का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। मैदानी अमलों की ओर से कोविड केयर सेंटर्स के व होम आइसोलेटेड मरीजों और उनके परिवार के सदस्यों की काउंसलिंग रिपोर्ट हर सप्ताह राज्य कार्यालय को भेजी जा रही है।

 

24-09-2020
कोविड अस्पताल और  कोविड केयर सेंटर्स में कुल 1058 बेड, 621 मरीजो का उपचार जारी, 437 बेड रिक्त  

जांजगीर चांपा। कलेक्टर यशवंत कुमार के निर्देशन में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए कोविड अस्पताल  और 9 कोविड केयर सेंटर मे कुल 1058 बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें से 621  बेड पर मरीजों का उपचार किया जा रहा है और 437 बेड रिक्त है। कोविड अस्पताल और 9 कोविड केयर सेंटर्स में स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकाल अनुसार समुचित व्यवस्था की गई है। कोविड केयर सेंटर्स के नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर करूण डहरिया से प्राप्त जानकारी के अनुसार 24  सितंबर को सायं 5 बजे की स्थिति मे जिला अस्पताल परिसर के कोविड अस्पताल में 80 बेड उपलब्ध है, जिनमें 58 मरीज भर्ती है। इसी प्रकार आईटीआई कुलीपोटा में 150 बेड हैं,जिनमें 44 मरीजो का उपचार जारी हैं। आकांक्षा परिसर जर्वे में 100 बेड की क्षमता है, वहां पर 88  मरीजो का उपचार जारी है। दिव्यांग स्कूल पेण्ड्रीभाठा में 128 बेड की व्यवस्था है, जिस पर 98 मरीज भर्ती हैं। कृषि महाविद्यालय बालक छात्रावास भवन जर्वे के 35 बेड में सभी रिक्त हैंं। शासकीय एमएमआर महाविद्यालय चांपा में 130 बेड की व्यवस्था है,जिनमें 74 पर मरीज भर्ती है। शासकीय क्रांति कुमार भारती महाविद्यालय जेठा सक्ती में 60 बेड उपलब्ध है,जिनमें 53 मरीज भर्ती है। शासकीय अनुसूचित जाति बालक आश्रम धौराभाठा डभरा में 100 बेड है,जिनमें 53 में मरीजों का उपचार किया जा रहा है। आईटीआई अकलतरा में 125 बेड हैं, जिनमें 79 मरीज भर्ती हैं और आईटीआई भवन महुदा-बलौदा मे 150 बेड की व्यवस्था की गई है। जिसमे 74  मरीजो का उपचार किया जा रहा है। कोविड अस्पताल और कोविड केयर सेंटर्स में उपलब्ध बेड की संख्या प्रतिदिन जिले की वेबसाईट https://janjgir-champa.gov.in/ मे उपलब्ध कराई जा रही है।

 

21-09-2020
भूपेश बघेल ने कोविड केयर सेंटर का किया शुभारंभ, कहा-कोरोना से जंग में सामाजिक संगठनों की भागीदारी सराहनीय

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को अपने निवास कार्यालय में वीडियो कांफ्रेंसिंग से अग्रवाल सभा रायपुर की ओर से संचालित 150 बिस्तरीय वातानुकूलित महाराजा अग्रसेन कोविड सेंटर का शुभारंभ किया। यह सेंटर अग्रसेन धाम, सालासर मंदिर के पास जीई रोड, रायपुर में प्रारंभ किया गया है। सेंटर में सभी समाज के लोगों के लिए सुविधा पूर्णत: निशुल्क उपलब्ध रहेगी। इसमें मरीजों को अनुभवी चिकित्सकों की सेवाएं, आवश्यक दवाइयां और पोषणयुक्त आहार, 10 दिनों के लिए हेल्थ केयर किट और योग तथा मेडिटेशन आदि सुविधाएं दी जाएंगी। कोविड सेंटर के शुभारंभ अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री टीएस. सिंहदेव, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जुड़े। इस दौरान कोविड केयर सेंटर के सुव्यवस्थित संचालन के लिए सुरेश गोयल ने अपने फर्म की ओर से भोजन व्यवस्था में हर आवश्यक सहयोग और अग्रवाल समाज के टायर उत्पादक बीकेटी फर्म से 200 बेडसीट और 200 हेल्थ केयर कीट प्रदान किया। मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल और मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार  रूचिर गर्ग भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि, प्रदेश में कोरोना महामारी के नियंत्रण में सहायता प्रदान करने के लिए शासन के आव्हान पर सभी समाज के लोगों का भरपूर सहयोग मिलने लगा है। उन्होंने इस दौरान मानव सेवा के इस पुनीत कार्य में अग्रवाल समाज के सेवा भाव की सराहना की। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इससे प्रेरित होकर छत्तीसगढ़ के और भी समाज और संगठन आगे आएंगे और अपने भवन तथा सुविधाएं कोविड सेंटर के रूप में प्रदान करेंगे। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि, वर्तमान में वैश्विक महामारी कोरोना संकट से निपटने के लिए शासन-प्रशासन के साथ-साथ जन सहयोग भी जरूरी है। तब हम सभी मिलकर इस चुनौती का मुकाबला आसानी से कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य में मरीजों को बेहतर से बेहतर इलाज सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सरकार हर संभव पहल की जा रही है। इस तारतम्य में प्रदेश में मरीजों के त्वरित उपचार सुविधा के लिए आवश्यक सुविधाएं निरंतर बढ़ाई जा रही हैं।

उन्होंने बताया कि मार्च में प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार की सुविधा केवल एम्स रायपुर में थी,लेकिन राज्य शासन की ओर से सुनियोजित कार्ययोजना बनाकर मरीजों की उपचार सुविधा को तेजी से बढ़ाई गई है। राज्य में अब तक 29 शासकीय, 29 डेडीकेटेट कोविड हास्पिटल, 186 कोविड केयर सेंटर की स्थापना की गई है। उन्होंने बताया कि राज्य में 19 निजी अस्पतालों को भी उपचार के लिए मान्यता प्रदान कर दी गई है। मार्च की स्थिति में राज्य में 54 आईसीयू बिस्तर और 446 जनरल बेड उपलब्ध थे, जिसमें बढ़ोत्तरी करते हुए। अब 776 आईसीयू बिस्तर और 28 हजार 335 जनरल बेड उपलब्ध करा दिए गए हैं, जो कि एक बड़ी उपलब्धि है। कार्यक्रम को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल,पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और अग्रवाल समाज के अध्यक्ष नवल किशोर अग्रवाल ने भी संबोधित किया।

 

19-09-2020
Video: कोविड केयर सेंटर का विधायक ने किया निरीक्षण, मरीजों से पूछा हालचाल

जांजगीर चांपा। चंद्रपुर विधानसभा के अंतर्गत ग्राम धौराभाठा के आश्रम को कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। इसका निरीक्षण करने शनिवार को विधायक रामकुमार यादव पहुंचे। सेंटर में कोरोना संक्रमितों से का हालचाल जाना। संक्रमितों के लिए उनके दैनिक जरूरत की सामग्री भी उपलब्ध कराई। विधायक ने कोविड केयर सेंटर के अधिकारी,कर्मचारियों को मरीजों की बेहतर देखभाल के निर्देश दिए। 

 

19-09-2020
कोविड अस्पताल और कोविड केयर सेंटर्स में कुल 1058 बेड,649 मरीजो का उपचार जारी, 409 बेड रिक्त

जांजगीर चांपा। कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्गदर्शन में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए कोविड अस्पताल  और 9 कोविड केयर सेंटर में कुल 1058 बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें से 649 बेड पर मरीजों का उपचार किया जा रहा है एवं 409 बेड रिक्त है। कोविड अस्पताल और 9 कोविड केयर सेंटर्स में स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकाल अनुसार समुचित व्यवस्था की गई है। कोविड केयर सेंटर्स के नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर करूण डहरिया से प्राप्त जानकारी के अनुसार 19 सितंबर को शाम 5 बजे की स्थिति मे जिला अस्पताल परिसर के कोविड अस्पताल में 80 बेड उपलब्ध है, इनमें 59 मरीज भर्ती है। इसी प्रकार आईटीआई कुलीपोटा में 150 बेड हैं इनमें 93 मरीजो का उपचार जारी हैं। आकांक्षा परिसर जर्वे में 100 बेड की क्षमता है, वहां पर 75 मरीजो का उपचार जारी है। दिव्यांग स्कूल पेण्ड्रीभाठा में 128 बेड की व्यवस्था है, जिस पर 84 में मरीज भर्ती हैं। कृषि महाविद्यालय बालक छात्रावास भवन जर्वे के 35 बेड सभी रिक्त है। शासकीय एमएमआर महाविद्यालय चांपा में 130 बेड की व्यवस्था है,जिनमें 90 पर मरीज भर्ती  है। शासकीय क्रांतिकारी भारती महाविद्यालय जेठा सक्ती में 60 बेड उपलब्ध है, इनमें 39 मरीज भर्ती है। शासकीय अनुसूचित जाति बालक आश्रम धौराभाठा डभरा में 100 बेड है,जिनमें 84 में मरीजों का उपचार किया जा रहा है। आईटीआई अकलतरा में 125 बेड हैं,जिनमें 75 मरीज भर्ती हैं और आईटीआई भवन महुदा-बलौदा में 150 बेड की व्यवस्था की गई है। इसमें 50 मरीजों का उपचार किया जा रहा है। कोविड अस्पताल और कोविड केयर सेंटर्स में उपलब्ध बेड की संख्या प्रतिदिन जिले की वेबसाइट https://janjgir-champa..gov.in/ मे उपलब्ध कराई जा रही है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804