GLIBS
08-09-2020
आज विश्व साक्षरता दिवस, बापू ने कहा था विकसित राष्ट्र की यही कल्पना पूरे देश को शिक्षित करना

रायपुर। 8 सितंबर यानी आज पूरी दुनिया विश्व साक्षरता दिवस के रूप में मनाती आ रही है। सन् 1966 में पहला विश्व साक्षरता दिवस मनाया गया था। इसके बाद वर्ष 2009-2010 को संयुक्त राष्ट्र साक्षरता दशक घोषित किया गया। तब से लेकर आज तक पूरे विश्व में 8 सितंबर को विश्व साक्षरता दिवस के रूप में मनाया जाता है। निरक्षरता को खत्म करने के लिए ‘अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस’ मनाने का विचार पहली बार ईरान के तेहरान में शिक्षा के मंत्रियों के विश्व सम्मेलन के दौरान साल 1965 में 8 से 19 सितंबर को चर्चा की गई थी।

वहीं 26 अक्टूबर, 1966 को यूनेस्को ने 14वें जरनल कॉन्फ्रेंस में घोषणा करते हुए कहा, हर साल दुनिया भर में 8 सितंबर को ‘अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा। बापू ने कहा था कि अनपढ़ बनकर कभी ना रहना। विकसित राष्ट्र की यही कल्पना, शिक्षित पूरे देश को करना। शिक्षित परिवार, सुखी परिवार। विश्व साक्षरता दिवस 2020 की बधाई।

20-06-2020
भूपेश सरकार ने अटल की कल्पना के भव्य छत्तीसगढ़ को रसातल में ले जाने का काम किया : विक्रम उसेंडी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने शनिवार को कुशाभाऊ ठाकरे स्मृति परिसर में जिला जनसंवाद कार्यक्रम में भिलाई जिले की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सभा को संबोधित किया। उसेंडी ने कहा है कि एक तरफ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश की तकदीर और तस्वीर संवारने का काम कर रहे हैं, तो दूसरी ओर छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल की कल्पना के भव्य छत्तीसगढ़ को रसातल में ले जाने का काम किया है। गंगाजल हाथ में लेकर कसमें खाने के बाद भी प्रदेश सरकार ने किसानों, आदिवासियों, युवकों, मजदूरों, महिलाओं, तेंदूपत्ता संग्राहकों उनके परिजनों सहित सभी वर्गों के साथ वादाखिलाफी, दगाबाजी की।

उसेंडी ने प्रदेश में विकास के काम ठप होने, माफिया राज-गुंडा राज कायम होने की बात कही। उन्होंने प्रदेश सरकार की विफलताओं के लेकर चैतन्य जनमत के निर्माण में जुट जाने की अपील भाजपा कार्यकर्ताओं से की। उसेंडी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने भाजपा के घोषणापत्र में व्यक्त संकल्पों पर काफी तेजी से काम कर भाजपा की वैचारिक अवधारणा को साकार किया है। स्वाभिमानी, समृद्ध और शक्तिशाली देश के निर्माण की दिशा में आने वाले वर्षों में भी मील के पत्थर स्थापित करने का काम होगा। उसेंडी ने केंद्र सरकार के पहले कार्यकाल में हुए कार्यों और दूसरे कार्यकाल में लिए गए बड़े फैसलों की चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश में अभूतपूर्व विश्वास का वातावरण निर्मित हुआ है। भारत की आन-बान-शान विश्व मंच पर स्थापित हुई है। प्रधानमंत्री मोदी एक वैश्विक नेता के रूप में उभरे हैं और भारत विश्व का नेतृत्व करने की क्षमता से भरपूर नजर आ रहा है। कोरोना संकट का दूरदर्शितापूर्ण फैसलों से डटकर मुकाबला करके प्रधानमंत्री मोदी ने आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की परिकल्पना रखकर स्वदेशी अपनाने पर जोर दिया है। इस मौके पर औषधीय पादप बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष रामप्रताप सिंह ने भी अपने विचार रखे। बता दें कि प्रदेश भाजपा की ओर से केंद्र सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर, जिला स्तर पर इन सभाओं का आयोजन किया जा रहा है। सभा के क्रम में शनिवार की यह पहली सभा थी।

सभा की शुरुआत पूर्व विधायक व जिला अध्यक्ष सांवलाराम डहरे के संबोधन से हुई। दुर्ग के संसद सदस्य विजय बघेल ने भी अपने विचार रखे। भाजपा वर्चुअल रैली के प्रदेश संयोजक व पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने सभा की कार्यवाही संचालित करते हुए प्रास्ताविक भाषण दिया। कार्यक्रम के अंत में भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष संदीप शर्मा ने सबको आत्मनिर्भर भारत की संरचना का संकल्प दिलाया। आभार प्रदर्शन पूर्व संसदीय सचिव लाभचंद बाफना ने किया। इस मौके पर प्रदेश महामंत्री (संगठन) पवन साय, पूर्व मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय, विधायक विद्यारतन भसीन, आईटी सेल के प्रदेश संयोजक दीपक म्हस्के, महामंत्री द्वय खिलावन साहू व विनीत वाजपेयी, सुरेंद्र सिंह केम्बो, भाजपा नेत्री चंद्रकला सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी, कार्यकर्ता वर्चुअली जुड़े थे।

03-06-2020
पंखों को मिला खुला आसमान, महिलाओं ने गौठान में मशरूम उत्पादन की कल्पना को किया साकार 

रायपुर। ‘पंखों को मिला खुला आसमान‘ यह कहावत छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा बनाए गए आदर्श गौठान मौहाभाठा में चरितार्थ होती नजर आ रही है। शासन के प्रयासों और महिला स्व-सहायता समूहों की मेहनत से यहां महिलाएं अपने पैरों पर खड़ी हो रही है। बेमेतरा जिले के साजा विकासखण्ड के मौहाभाठा के गौठान में महुआ और कल्पना महिला स्व-सहायता समूहों की महिलाओं के परिश्रम और हिम्मत का नतीजा है कि गौठन में मशरूम उत्पादन की कल्पना को साकार किया जा सका है। महिला समूहों समूहों कुल 14 सदस्य है। इनकेे द्वारा गौठान में मशरूम उत्पादन के लिए 120 बैग लगाये गये हैं, जिसमें कुछ ही समय में उत्पादन होना शुरू हो जायेगा। इसके साथ ही और बैग लगाने की तैयारी भी की जा रही है। इन समूहों के द्वारा उत्पादित मशरूम की खुले मार्केट में अच्छी मांग है। मशरूम प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत है जो सूखे और गीले दोनों रूपों में बिकता है। गौठान की फेन्सिंग में भी महुआ महिला स्व-सहायता समूह द्वारा बनाए गए तारजाली का उपयोग किया गया है। पंचायतों के फेन्सिंग के लिए भी इस समूह से बात की जा रही है। इसके अलावा कल्पना समूह की महिलाओं द्वारा गौठान में वर्मी खाद तैयार किया जा रहा है। इनके द्वारा निर्मित खाद की गुणवत्ता अच्छी होने के कारण किसानों  द्वारा खेतों में उपयोग के लिए इस वर्मी खाद की मांग बहुतायत से होने लगी है। महुआ महिला स्व-सहायता समूह के सफल संचालन में अध्यक्ष माया साहू, सचिव ब्रिजबाई मानिकपुरी, कोषाध्यक्ष अहिल्या साहू और कल्पना महिला स्वसहायता समूह की अध्यक्ष कुसुम बाई साहू, सचिव भूमिका साहू का अथक प्रयास रहा है। इनके मार्गदर्शन के लिए शासन स्तर पर अधिकारी लगातार उपस्थित रहते हैं, इससेे इनका मनोबल बना रहता है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804