GLIBS
24-11-2020
टीएस सिंहदेव ने कहा-लॉक डाउन और नाइट कर्फ्यू की आवश्यकता नहीं,कंटेनमेंट जोन पर हो सकता है विचार
 

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्रियों की बैठक के बाद प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने मीडिया से चर्चा की। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की बात को दोहराया है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में है। प्रदेश में लॉक डाउन या नाइट कर्फ्यू की आवश्यकता नहीं है। प्रदेश के कुछ ही जिलों में अधिक केस आ रहे हैं। इस स्थिति से निपटने कलेक्टरों को अधिकार दिया जा सकता है।स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने बताया कि बैठक में प्रदेश के लिए कोरोना वैक्सीन की मांग की गई। वैक्सीन आने के बाद सबसे पहले 50 से 70 आयु वर्ग के लोगों और कोरोना फ्रंट लाइन वर्कर्स को वैक्सिंग लगाए जाने पर विचार चल रहा है। स्वास्थ्य मंत्री सिंहेदेव ने कहा है कि जिन क्षेत्रों में अधिक मरीजों का पहचान हो रही है, वहां कंटेनमेंट जोन बनाए जाने पर विचार किया जा सकता है। जैसे अभी मैनपाट में अधिक केस सामने आए हैं। इसी तरह रायपुर सहित कुल जिलों में कोरोना के अधिक केस आ रहे हैं।  ऐसी स्थिति को कंट्रोल करने संबंधित जिलों के कलेक्टरों को पूर्व की तरह निर्णय लेने का अधिकार दिया जा सकता है।

विदित हो कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार सुबह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की। बैठक में विभिन्न प्रदेशों में कोरोना संक्रमण से रोकथाम और बचाव के उपायों की समीक्षा की गई।  निकट भविष्य में आने वाली वैक्सिन लगाने के लिए तैयारियों और कार्य योजना पर विचार-विमर्श किया गया। बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी स्पष्ट कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित है। माह अक्टूबर के बाद कोरोना के नए केसों में गिरावट हुई है। टेस्टिंग में कोई कमी नहीं की गई है। माह जुलाई में प्रदेश में पॉजिटीव केस 4 प्रतिशत थे। अगस्त में 8 प्रतिशत, सितंबर में 15 प्रतिशत, अक्टूबर में 10.5 प्रतिशत, नवंबर में 7 प्रतिशत मिले हैं। माह अक्टूबर-नवंबर में मृत्युदर एक प्रतिशत रही।

 

11-11-2020
रायपुर में खुलेंगे सिनेमाघर और मल्टीप्लेक्स, कलेक्टर ने शर्तों के साथ जारी किया आदेश 

रायपुर। कलेक्टर डॉ एस. भारतीदासन ने शासन के आदेशनुसार कंटेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्र में सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स संचालन संबंधी गतिविधियों की अनुमति शर्तों के अधीन दी है। इन शर्तों के तहत हॉल में व्यक्तियों के बैठने की संख्या की क्षमता के आधार पर अधिकतम 50 प्रतिशत व्यक्तियों को ही बैठने की अनुमति होगी। बैठक व्यवस्था होने पर व्यक्तियों के आगे-पीछे, अगल-बगल में पर्याप्त फिजिकल डिस्टेंस होना चाहिए। इस के लिए 6 फीट की दूरी का मार्कर बनाया जाकर बैठक व्यवस्था की जानी होगी। बंद स्थल में एयर कंडीशनिंग उपकरणों के उपलब्धता की स्थिति में उनकी तापमान सेटिंग 24-30 डिग्री सेल्सियस की सीमा में होनी चाहिए। यदि एयर कंडीशनर उपलब्ध न हो तो ताजी हवा का आवागमन जितना संभव हो, उतना सुलभ किया जाना चाहिए। क्रॉस वेंटीलेशन की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए।

एंट्री-एक्जिट पाईंट और कॉमन एरिया में सैनिटाईजर रखना अनिवार्य होगा,जो टच फ्री मोड में हों। प्रवेश के समय प्रत्येक व्यक्ति का हाथ सैनिटाइजर से सैनिटाइज करने या साबुन से धोने और थर्मल स्केनिंग किया जाना अनिवार्य होगा। प्रत्येक व्यक्ति के लिए मॉस्क पहनकर फिजिकल, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा। कॉमन एरिया में 6 फीट की दूरी का मार्कर बनाया जाना अनिवार्य होगा। विस्तृत जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

 

27-10-2020
केंद्र ने जारी किए अनलॉक 5 के दिशानिर्देश, कंटेनमेंट जोन में सख्ती से लागू होगा लॉकडाउन

नई दिल्ली। गृह मंत्रालय ने अनलॉक 5 के दिशानिर्देश को 30 नवंबर तक बढ़ा दिया है। गृह मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि कंटेनमेंट जोन में 30 नवंबर तक लॉकडाउन जारी रहेगा।मंत्रालय के मुताबिक, लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जाएगा। मंत्रालय ने अपने आदेश में कहा है कि इस दौरान व्यक्तियों या वस्तुओं के अंतरराज्यीय और राज्यों के भीतर आवागमन पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा। इस तरह के आवागमन के लिए अलग से अनुमति / अनुमोदन / ई-परमिट की आवश्यकता नहीं होगी। बता दें कि गृह मंत्रालय ने 30 सितंबर को अनलॉक 5 के लिए गाइडलाइंस जारी की थी। इस दौरान मंत्रालय ने कहा था कि निरूद्ध क्षेत्रों में 31 अक्तूबर तक लॉकडाउन सख्ती के साथ लागू रहेगा,जिसे अब 30 नवंबर तक बढ़ा दिया गया है। मंत्रालय ने दोहराया था कि राज्य केंद्र सरकार से चर्चा के बिना निरूद्ध क्षेत्रों के बाहर कोई स्थानीय लॉकडाउन लागू नहीं करेंगे।  दिशा-निर्देश में कहा गया है कि केंद्र की मंजूरी को छोड़कर अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर पांबदी रहेगी जबकि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को चरणबद्ध तरीके से स्कूलों और कोचिंग संस्थानों को खोलने पर फैसला करने की अनुमति प्रदान की गई है।

दिशा-निर्देश के मुताबिक स्थिति के आकलन और कुछ शर्तों के साथ, संबंधित स्कूलों और संस्थानों के प्रबंधन के साथ विचार-विमर्श कर इस बारे में फैसला किया जाए। निषिद्ध क्षेत्रों के बाहर वाले इलाके में बैठने की 50 प्रतिशत क्षमता के साथ सिनेमा, थिएटर और मल्टीप्लेक्स, व्यापार प्रदर्शनी, खिलाड़ियों के प्रशिक्षण के लिए स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क और इसी तरह के स्थानों पर गतिविधियों की अनुमति दी गई है। विभिन्न मंत्रालयों और विभागों ने इन गतिविधियों को शुरू करने के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की है। चुनावी राज्य बिहार और उपचुनाव वाले निर्वाचन क्षेत्रों में राजनीतिक जमावड़े में बंद जगहों या हॉल में अधिकतम 200 लोगों के इकट्ठा होने की अनुमति होगी।राजनीतिक सभा निषिद्ध क्षेत्रों के बाहर ही हो सकती है। इस अवधि में निषिद्ध क्षेत्रों में लॉकडाउन कड़ाई से लागू रहेगा।

इससे पहले इन गतिविधियों को शुरू करने के लिए 30 सितंबर को जारी दिशा-निर्देशों को 31 अक्तूबर तक के लिए लागू किया गया था। अनलॉक 5 के तहत सरकार ने सिनेमा हॉल, एंटरटेनमेंट पार्क, स्विमिंग पूल को 15 अक्तूबर से खोलने की अनुमति दी थी। हालांकि, सिनेमा हॉल को 50 फीसदी क्षमता के साथ ही खोलने की इजाजत दी गई थी। गृह मंत्रालय के निर्देश के मुताबिक, सिनेमाघर और मल्टीप्लेक्स 50 प्रतिशत सीटों के साथ खोले जाएंगे। वहीं, सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनैतिक और अन्य कार्यक्रमों में सिर्फ 100 लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई थी। बंद जगहों पर 200 लोगों की क्षमता वाले हॉल में आधे लोगों को जाने की इजाजत थी। गृह मंत्रालय ने कहा था, स्कूलों और कोचिंग संस्थानों को खोलने को लेकर 15 अक्तूबर के बाद राज्य सरकारें अपने हिसाब से फैसला कर सकेंगी। हालांकि, इस दौरान माता-पिता की सहमति की जरूरत होगी।

 

 

21-10-2020
राजनांदगांव नगर निगम के 10 क्षेत्र कंटेनमेंट जोन घोषित,बंद रहेंगे व्यवसायिक प्रतिष्ठान

राजनांदगांव। राजनांदगांव जिले में लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या फिर एक बार बढ़ती नजर आ रही है। लगातार बढ़ोतरी को देखते हुए नगर निगम क्षेत्र के 10 क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। इस क्षेत्र में कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन कराने की बात भी कही जा रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राजनांदगांव नगर निगम क्षेत्र में फिर एक बार कोरोना संक्रमण की संख्या बढ़ती नजर आ रही है। इसको देखते हुए नगर निगम के 10 क्षेत्र बसन्तपुर, कौरीनभाठा, नंदई चौक, गौरी नगर, चिखली, भरका पारा, विवेकानंद नगर, तुलसीपुर, कैलाश नगर तथा बजरंगपुर को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। इन क्षेत्रों में लगभग 127 मरीज पाए गए हैं। इसके चलते क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। क्षेत्र में आने वाली सभी व्यवसायिक दुकाने बंद रहेगी। आवश्यक वस्तुओं को छोड़कर अन्य वस्तुओं कि घर पहुंच सेवा ही की जा सकेगी। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार नगर निगम के 10 क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। यहां लगातार मरीजों की संख्या में इजाफा को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।

13-10-2020
प्रदेश में कंटेनमेंट जोन के बाहर कार्यक्रमों की अनुमति नियम और शर्तों के मुताबिक,एसओपी के उल्लंघन पर होगी कार्रवाई

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कंटेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्र में कार्यक्रमों या आयोजनों के लिए अनुमति देने के संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव ने मंगलवार को पत्र भेजा है। उन्होंने गृह मंत्रालय भारत सरकार की ओर से जारी एसओपी का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह ने इस संबंध में समस्त विभागों के सचिव, संभागायुक्त,कलेक्टरों, विभागाध्यक्षों को सामाजिक,अकादमिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनीतिक और अन्य कार्यक्रमों या आयोजनों के लिए जारी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) संलग्न पत्र भेजा है। एसओपी के मुताबिक कार्यक्रम,सभा का आयोजन खुली स्थल में किए जाने पर जिला प्रशासन या सक्षम प्राधिकारी की ओर से मैदान,सभा स्थल के क्षेत्रफल भौगोलिक स्थिति और आकार को ध्यान में रखते हुए उपयुक्त संख्या में लोगों की उपस्थिति की अनुमति शर्तों के अधीन प्रदान की जा सकेगी।
किसी बंद जगह में उपरोक्त गतिविधियों को आयोजित करने की अनुमति अधिकतम 200 व्यक्तियों के लिए दी जा सकेगी इसके लिए शर्तों का पालन अनिवार्य होगा। कार्यक्रमों में कोरोना के लक्षण रहित व्यक्तियों को ही भाग लेने की अनुमति होगी। सार्वजनिक कार्यक्रम में आने वाले व्यक्तियों में कार्यक्रम में शामिल होने के दौरान यदि कोरोना के प्रारंभिक लक्षण जैसे सर्दी खांसी बुखार भी पाए जाते हैं तो उनको कार्यक्रम स्थल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। कार्यक्रम, सभा स्थल अनेक स्थानों पर पान गुटखा इत्यादि खाना और थूकने पर प्रतिबंध रहेगा। जुलूस रैली के दौरान अथवा आयोजन स्थल पर फिजिकल डिस्टेंस,सोशल डिस्टेंस के दिशा निर्देशों का पालन तय करने की जिम्मेदारी आयोजकों की आयोजन कर्ताओं की होगी। रैली,विसर्जन जुलूस में तय सीमा से अधिक लोग नहीं जा सकेंगे। इसका उल्लंघन करते पाए जाने पर संबंधित आयोजक के विरुद्ध विधि के अंतर्गत नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। एसओपी के उल्लंघन करने वाले व्यक्ति, आयोजक,आयोजनकर्ता के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। जिला प्रशासन की ओर से आवश्यकता होने पर अन्य अतिरिक्त शर्तें लगाई जा सकेगी। विस्तृत दिशानिर्देशों के लिए क्लिक करें   

07-10-2020
जिले में आज मिले 133 कोरोना पॉजिटिव, दो की मौत, 113 हुए डिस्चार्ज

धमतरी । कंटेनमेंट जोन खत्म होने के बाद कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में कुछ दिन कमी आई थी, लेकिन 7 अक्टूबर बुधवार को जिले में रिकॉर्ड तोड़ 133 मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं जिले में आज 113 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। बुधवार को मिले संक्रमितों में से धमतरी ग्रामीण से 32, कुरूद ब्लाक से 35, नगरी से 28, धमतरी शहर से 30 और मगरलोड से 8 संक्रमित मिले है। जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डीके तुर्रे ने बताया कि आज धमतरी जिले से 133 कोरोना पॉजिटिव संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं आज जिले में 2 लोगों की मौत हुई है, जिसमें एक सदरबाजार निवासी है और दूसरा ग्राम श्यामतराई के है। दोनों ही मृतक करोना और अन्य बीमारियों से ग्रसित थे,जिनका इलाज धमतरी कोविड-19 अस्पताल में किया जा रहा था। जिले में अब तक कोरोना मृतकों की संख्या 47 हो चुकी है।

धमतरी शहर
धमतरी शहर से 30 संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है, जिसमें गुजराती कॉलोनी से 3 , ऑफिसर कॉलोनी से 1, महालक्ष्मी कॉलोनी से 1 , जोधापुर वार्ड से 3, राधिका नगर से 1 , मैत्री विहार कॉलोनी से 1, हाटकेश्वर वार्ड से 2 , मराठापारा से 2 , मकेश्वर वार्ड से 2 , रिसाईपारा से 1, बनियापारा वार्ड से 1 , सिविल लाइन से 1, सोरिद वार्ड से 4 , बैंक ऑफ़ बड़ोदा से 4 व 3 अन्य जगह से संक्रमित मरीज मिले हैं।

धमतरी ग्रामीण
गुजरा ब्लॉक की बीएमओ डॉ.वंदना व्यास ने बताया कि आज ब्लॉक से 32 संक्रमित मरीज मिले है। इसमें देमार से 1 , रुद्री से 3, गुजरा से 1, बोरिदखुर्द से 1, श्यामतराई से 2, संबलपुर से 1, अर्जुनी से 1, लोहरसी से 8, सोरम से 1 मुजगहन से 3 , पीपरछेड़ी कंडेल से 6 , लिमतरा से 1, गोपालपुरी से 1, छाती से 1 , झिरिया से 1 संक्रमित मरीज मिले हैं।

नगरी ब्लॉक
नगरी ब्लॉक के बीएमओ डॉ.डी.आर ठाकुर ने बताया कि आज नगरी ब्लॉक से 28 संक्रमित मरीज मिले है। इसमें कुम्हड़ा से 1, घटुला से 3, नगरी वॉर्ड क्रमांक 1 से 4, वॉर्ड क्रमांक 3 से 1, हॉस्पिटल कॉलोनी से 1 , डोंगरडुला से 2, गट्टासिल्ली से 1, बेलरगॉव से 5, बनरौद से 1 व अन्य जगहों से संक्रमित मरीज मिले हैं। जिले में अब तक मिले कुल संक्रमितों की संख्या 2942 हो चुकी है,जिसमें से एक्टिव केस की संख्या 578 है। धमतरी कोविड-19 अस्पताल में 19 मरीजों का उपचार किया जा रहा है। वही 113 लोगों को स्वस्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। अब तक कुल 2316 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

 

02-10-2020
Breaking : इस बार 10 फीट होगी रावण पुतलों की ऊंचाई, कंटेनमेंट जोन में नहीं होगा दहन,50 व्यक्ति ही हो सकेंगे शामिल

रायपुर। कोरोना ने अब दशहरा उत्सव को भी अपनी चपेट में ले लिया है। राजधानी में मनाए जाने वाले दशहरा पर्व के संबंध में कलेक्टर व जिला दंडाधिकारी रायपुर डॉ.एस.भारतीदासनके आदेश पर अपर कलेक्टर ने निर्देश जारी किए हैं। नोवल कोरोना वायरस संकमण के नियंत्रण और रोकथाम और वर्तमान में जिले में कोरोना पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में लगातार वृद्धि को ध्यान में रखते हुए नियम सख्त तय किए गए हैं। संक्रमण को रोकने और नियंत्रण में रखने के लिए सभी संबंधित उपाय अमल लाया जाना उचित और आवश्यक हो गया है।  अपर कलेक्टर विनीत नंदनवार ने कलेक्टर के आदेशानुसार आगामी 30 अक्टूबर को आयोजित होने वाले दशहरा पर्व में शहर के विभिन्न स्थानों में पुतला दहन करने वाले आयोजकों की बैठक में लिए गए निर्णय अनुसार पुतला दहन के संबंध में निर्देश दिए हैं। इसके तहत 10 फीट से अधिक ऊंचाई के रावण के पुतलों का दहन किसी बस्ती रहवासी इलाके में नहीं होगा। पुतला दहन खुले स्थान पर करना होगा। पुतला दहन कार्यक्रम में समिति के मुख्य पदाधिकारी सहित किसी भी हाल में 50 व्यक्तियों से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं होगें। आयोजन के दौरान केवल पूजा करने वाले व्यक्ति शामिल होगें। अनावश्यक भीड़ एकत्रित न होने की जिम्मेदारी आयोजकों की होगी। कार्यक्रम का यथासंभव आॅनलाइन माध्यमों आदि से प्रसारण करने कहा गया है।

पुतला दहन के दौरान आयोजन का वीडियोग्राफी कराने कहा गया है। आयोजकों को 4 सीसीटीवी लगाने कहा गया है, ताकि उनमें से कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित होने पर कांटेक्ट ट्रेसिंग किया जा सके। पुतला दहन में कहीं भी सांस्कृतिक कार्यक्रम, स्वागत, भंडारा, प्रसाद वितरण, पंडाल लगाने की अनुमति नहीं होगी। आयोजन में उपस्थित प्रत्येक व्यक्ति को सोशल और फिजिकल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाना और समय-समय पर सैनिटाइजर का उपयोग करना अनिवार्य होगा। रावण दहन स्थल से 100 मीटर के दायरे में आवश्यकतानुसार अनिवार्यत: बैरिकेटिंग कराना होगा। किसी भी प्रकार के वाद्य यंत्र, ध्वनि विस्तारक यंत्र डीजे धमाल, बैंड पार्टी बजाने की अनुमति नहीं होगी। रावण पुतला दहन में किसी भी प्रकार के अतिरिक्त साज-सज्जा, झांकी की अनुमति नहीं होगी। यदि कोई व्यक्ति जो पुतला दहन स्थल पर जाने के कारण संक्रमित हो जाता है तो इलाज का संपूर्ण खर्च पुतला दहन आयोजकों या समिति की ओर से किया जाएगा। कंटेनमेंट जोन में पुतला दहन की अनुमति नहीं होगी। यदि पुतला दहन कार्यक्रम के अनुमति के बाद उपरोक्त क्षेत्र कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित हो जाता है तो तत्काल कार्यक्रम निरस्त माना जाएगा। कंटेनमेंट जोन के समस्त निदेर्शो का अनिवार्य रूप से पालन करना होगा।

 

01-10-2020
पामगढ़, मेऊ और कोड़ाभाठ के चिन्हांकित क्षेत्र कंटेनमेंट जोन घोषित, आदेश जारी

जांजगीर-चांपा। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी यशवंत कुमार ने जिले की तहसील  पामगढ़ के ग्राम मेऊ के वार्ड क्रमांक 19, ग्राम पामगढ़ के वार्ड क्रमांक 6 व 16 और ग्राम कोडाभाठ के वार्ड क्रमांक 5 व 19 में कोराना संक्रमित मरीज पाए जाने पर इन गांवो के चिन्हांकित क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया है। कंटेंनमेंट जोन में अतिआवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति तथा अपरिहार्य स्वास्थगत आपातकालीन परिस्थितियों को छोड़कर कंटेनमेंट जोन में आने-जाने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। कंटेनमेंट जोन के निवासी बिना अनुमति के अपने घरों से बाहर किसी भी परिस्थिति में नहीं निकलेंगे।

क्षेत्र के अंतर्गत सभी दुकानें, आफिस एवं अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आगामी आदेश तक पूर्णतः बंद रहेंगे। वाहनों के आवागमन पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है। अति आवश्यक होने पर पृथक से आदेश प्रसारित किया जाएगा। कंटेनमेंट जोन में घर पहुंच सेवा के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति उचित दरों पर की जाएगी। स्वास्थ्य विभाग द्वारा संबंधित क्षेत्र में स्वास्थ्य निगरानी, सैंपल की जांच आदि की व्यवस्था की जाएगी। कानून-व्यवस्था, कंटेनमेंट जोन को सील करने एवं गश्त करने के लिए आवश्यक पुलिस व्यवस्था के लिए पुलिस अधीक्षक एवं अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

 

30-09-2020
महासमुंद जिले में नहीं बढ़ेगा लॉकडाउन, 1 अक्टूबर से जिले की सभी दुकानें खुलेंगी

महासमुंद। जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम, नियंत्रण एवं चेन को तोड़ने हेतु इस माह की 23 तारीख़ से आज बुधवार 30 सितम्बर तक एक सप्ताह तक सम्पूर्ण जिला महासमुंद क्षेत्र को कंटेनमेंट ज़ोन ( लाकडाउन) घोषित किया था। इसे 1 अक्टूबर से जिला महासमुंद में जनता के आवागमन और व्यवसायिक गतिविधियों पर जारी प्रतिबंधों को जिला प्रशासन के द्वारा शिथिल किया गया है। 1 अक्टूबर से जिले में सभी सरकारी कार्यालय शासन द्वारा निर्धारित समयावधि में संचालित होंगे। दुकानें और व्यवसायिक गतिविधियां सामान्य दिनो की तरह ही शुरू होकर रात्रि 8 बजे तक संचालित की जा सकेंगी। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी कार्तिकेया गोयल ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया है। उन्होंने कहा है कि गुरुवार से जिला महासमुंद में जनमानस की कोविड संक्रमण से सुरक्षा को देखते हुए दुकान और व्यवसायिक गतिविधियां रात्रि 8 बजे तक ही संचालित होंगी। पेट्रोल पम्प और मेडिकल दुकानें अपने निर्धारित समयावधि तक संचालित किये जा सकेंगे। विदित हो कि कोरोना वायरस के बढते संक्रमण को रोकने के लिये महासमुंद जिला अन्तर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र में इस माह की  23 तारीख़ से 30 सितम्बर (एक सप्ताह) तक कंटेन्मेंट जोन घोषित  किया गया है। घोषित लॉकडाउन की अवधि आज बुधवार 30 सितम्बर की मध्यरात्रि को समाप्त होगी।
हालांकि 1 अक्टूबर से जिले की सभी दुकानें रात 8 बजे तक खुलेगी मगर दुकान संचालकों को कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन का पालन करना जरूरी होगा।  इस दौरान पूर्व की तरह मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर सहित अन्य जरूरी चीजों को रखना जरूरी होगा। लाॅकडाऊन की शुरूआत से पूर्व जहां दुकान संचालन की अनुमति सायं 7 बजे तक थी,उसमें 1 घंटे की वृद्धि करते हुए संचालन की अवधि को रात्रि 8 बजे तक किया गया है।    कलेक्टर ने लोगों से कोरोना महामारी से बचने के लिए बेवजह अपने घर न निकलने की अपील की है। इस संवेदनशील समय में कलेक्टर ने जिलेवासियों के सहयोग और धैर्य की तारीफ की है।  मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.आरके परदल ने जनता से अपील की है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये अनिवार्य रूप से मास्क का प्रयोग करें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करके ही संक्रमण को रोका जा सकता है।

30-09-2020
कंटेनमेंट जोन की अवधि 1 अक्टूबर की सुबह 6 बजे समाप्त

धमतरी। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी जय प्रकाश मौर्य द्वारा जिले के नगरीय निकायों के सभी वार्डों में 22 से 30 सितंबर तक कन्टेनमेंट जोन घोषित कर गतिविधियों को प्रतिबंधित करने का आदेश जारी किया गया था। उन्होंने अब एक अक्टूबर की सुबह 6 बजे से उक्त आदेश को निरस्त करने संबंधी आदेश जारी किया है तथा कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए विकल्प के रूप में निम्न उपायों को कड़ाई से पालन करने के आदेश पारित किया है।इसके तहत सार्वजनिक स्थलों, व्यावसायिक कार्य स्थलों में ट्रिपल लेयर मास्क का उपयोग तथा सर्दी, खांसी, बुखार होने पर तत्काल कोविड-19 की जांच करना अनिवार्य किया गया है। कोविड 19 के धनात्मक मरीज को होम आइसोलेशन की सुविधा दी गई है। होम आइसोलेशन की सुविधा प्राप्त कर रहे मरीज के परिवार का कोई सदस्य शासकीय अथवा व्यावसायिक कार्य करने के लिए अपने कार्यस्थल में तब तक उपस्थित नहीं होंगे, जब तक होम आइसोलेशन में रहने वाला मरीज का परिणाम नकारत्मक नहीं आ जाता। उपयोग किए गए मास्क को सार्वजनिक स्थलों में फेंकने, कचरा के डिब्बों में डालने को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया गया है। उपयोग किए गए मास्क का नष्टीकरण निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार ही किया जाए। व्यावसायिक प्रतिष्ठान, शासकीय कार्यालयों को एक प्रतिशत सोडियम हाइपो क्लोराइट के घोल से नियमित तौर पर सैनिटाइज किया जाए। सर्दी, खांसी, बुखार होने पर शासकीय कर्मचारी तथा निजी व्यवसायी, इनके प्रतिष्ठानों में कार्यरत कर्मियों की उपस्थिति को पूरी तरह प्रतिबंधित किया गया है।

अगर किसी व्यक्ति द्वारा संक्रमण के बारे में जानकारी छुपाई जाती है, तो दण्ड का भागी होगा।उक्त निर्देशों का कड़ाई से पालन नहीं करने पर ऐसिडेंट कमांडर जुर्माना अधिरोपित कर सकते हैं। इसके तहत होम आइसोलेशन का उल्लंघन करने पर एक हजार रूपए, व्यावसायिक संस्थानों एवं कार्यस्थलों में मास्क नहीं लगाने पर दो सौ रूपए तथा सार्वजनिक स्थलों में मास्क नहीं पहनने, सार्वजनिक स्थलों में थूकने, कार्यस्थलों में सामाजिक दूरी का पालन नहीं करने और उपयोग किए गए मास्क का सही निपटारा नहीं करने पर सौ-सौ रूपए जुर्माना अधिरोपित किया जाएगा। यदि नियमों का उल्लंघन किया जाता है तथा जुर्माना राशि अदा नहीं की जाती है, तो ऐपिडेमिक डिसीस एक्ट 1897 तथा ऐपिडेमिक डिसीस एक्ट 1897 की यथा संशोधित धाराओं, भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 के तहत एफ.आई.आर. दर्ज कराई जाएगी। यदि किसी दुकानदार/व्यावसायिक प्रतिष्ठान के द्वारा नियमों का दूसरी बार उल्लंघन किया जाता है, तो प्रतिष्ठान को 15 दिनों तक सीलबंद करने की कार्रवाई की जाएगी।

 

24-09-2020
जिले में लॉक डाउन के 1 दिन पहले पुलिस प्रशासन ने निकाला फ्लैग मार्च

 जांजगीर-चांपा। जिला प्रशासन ने सभी नगरीय क्षेत्रों को 25 सितंबर सेे 1 अक्टूबर तक कंटेनमेंट जोन घोषित करने का आदेश जारी किया है। इसके 1 दिन पहले जांजगीर-चांपा जिला पुलिस प्रशासन ने जिले में फ्लैग मार्च निकाला। इसमें अपील की गई कि नागरिक  घर से बाहर ना निकले और लॉकडाउन का पालन करें। कोरोना वायरस की चेन को तोड़ने जिला प्रशासन का सहयोग करें।

 

24-09-2020
Video: जिले में 25 सितंबर से 1 अक्टूबर तक लॉक डाउन,अतिआवश्यक सेवाओं को दी जाएगी छूट

जांजगीर-चांपा। जिले में 25 सितंबर से 1 अक्टूबर तक लॉक डाउन की घोषणा की गई है। इस दौरान अति आवश्यक सेवाओं को ही छूट दी गई है। जिले के सभी 15 नगरीय निकाय को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। कलेक्टर ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कंटेनमेंट जोन की घोषणा की है। इसके लिए  पुलिस और प्रशासन ने तैयारियां प्रारंभ कर दी है। गुरुवार आधी रात से लॉक डाउन लागू होगा। इस संबंध मे एसपी पारूल माथुर ने बताया कि यह अब तक का सबसे कड़ा लॉक डाउन होगा और केवल अतिआवश्यक सेवाओं को छूट दी जाएगी।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804