GLIBS
06-04-2020
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर विशेष- ज़िला अस्पताल में सेवा भाव से कार्य कर रहीं है रंजना चंद्राकर 

रायपुर। ज़िला अस्पताल कालीबाड़ी की स्टाफ नर्स रंजना चंद्राकर सेवा भाव से लगी हुई है। सितंबर 2019 से मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में प्रतिदिन 10 से 15 महिलाओं का प्रसव होता है। ऐसे समय में जब कोरोना वायरस पूरे विश्व में फैला हुआ है,गर्भवती महिलाओं का विशेष ध्यान रखना होता है। पीपीई सूट, फेस मास्क, हैंड सैनिटाइजर और फिजिकल डिस्टेंसिंग जैसी कई चीज़ों को मेंटेन करना होता है ।

रंजना खुद भी गर्भवती है। नर्स बनकर लोगों की सेवा करना रंजना का बचपन से सपना था। रंजना ने बताया गर्भवती महिलाओं का रक्तचाप (बीपी) लेना और उन्हें अन्य जांचों के लिए लेकर जाना होता है। परेशानी तब होती है जब परिवार वाले सहयोग नहीं करते हैं। अक्सर लोग फिजिकल डिस्टेंसिंग नहीं समझते हैं या नहीं जानते वर्तमान समय में डिस्टेंसिंग को क्यों अपनाना है। अस्पताल प्रशासन लोगों के स्वास्थ्य के लिए है। लोगों को समझना चाहिए जितना स्वास्थ्य उनका जरूरी है उतना ही अस्पताल स्टाफ का भी। अगर अस्पताल स्टाफ स्वस्थ रहेगा तभी वह समाज को भी स्वस्थ रख पाएगा। रंजना ने कहा कि ''मेरा लोगों से यही निवेदन है अस्पताल में जरूरत पर ही आएं। गर्भवती महिला के साथ ज्यादा भीड़ लेकर न आये। नर्सिंग स्टाफ उनकी देखभाल करने में लगा रहता है। हमारा काम ही मानव सेवा है।''

23-03-2020
कलेक्टर पहुंची अचानक जिला अस्पताल, ओपीडी के सामने लगी थी भीड़,भड़की सिविल सर्जन पर

कोरबा। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर जिला अस्पताल में व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंची कलेक्टर किरण कौशल सिविल सर्जन पर भड़की। जिला अस्पताल में चार आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। इन वार्डों में संदिग्ध मरीजों सहित संक्रमित होने की दशा में कोरोना ग्रसित मरीज के इलाज के सभी इंतजाम किए गए हैं। कलेक्टर किरण कौशल ने सोमवार को अचानक जिला अस्पताल में किए गए इंतजामों का निरीक्षण किया। उन्होंने अस्पताल का भ्रमण कर ओपीडी में मरीजों की लगी भीड़ पर सिविल सर्जन के प्रति गहरी नाराजगी व्यक्त की। कलेक्टर ने अस्पताल जैसी संवेदनशील जगह पर लोगों की भीड़ लगने को अनुचित मानते हुए मौके पर ही सिविल सर्जन डाॅ.अरूण तिवारी के प्रति गहरी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने सभी डाॅक्टरों को अपने-अपने कमरों में बैठकर निर्धारित समय में मरीजों की जांच और ईलाज करने के निर्देश दिए।

 

 

21-03-2020
पत्नी को आत्महत्या के लिए उकसाने वाले आरोपी पति को पुलिस ने 2 साल बाद किया गिरफ्तार

भिलाई। शराब पीकर अपनी पत्नी के साथ मारपीट कर उसको आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वाले पति को पुलिस ने दो साल बाद गिरफ्तार किया। आरोपी पति के खिलाफ पुलिस ने धारा 306 के तहत जुर्म दर्ज किया है। छावनी पुलिस ने बताया कि आदर्श नगर कैम्प 1 निवासी रेशम चौधरी उर्फ रष्मि का विवाह सन 2012 में हरिशंकर चौधरी के साथ हुआ था। 26 जून 2018 को हरिशंकर शराब पीकर अपने घर पहुंचा और रश्मि के साथ मारपीट करने लगा। पति पत्नी का विवाद इतना बढ़ गया कि घटना की रात 2 बजे रश्मि ने अपने शरीर पर मिट्टी तेल उडेलकर आग लगा ली। जिसे गंभीर अवस्था में उपचार के लिए जिला अस्पताल में भेजा गया। जहां उपचार के बाद 30 जून को उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को विवेचना में लिया और घटना के बाद से पति हरिशंकर फरार हो गया।

पुलिस आरोपी पति की गिरफ्तारी के लिए खोजबीन करती रही, लेकिन उसके नहीं पकड़े जाने के बाद तत्कालीन पुलिस अधीक्षक ने 29 सितंबर 2018 को पकड़ने के लिए 3000 रूपए का इनाम रखा था। आरोपी हरिशंकर चौधरी को पकडने के लिए सीएसपी छावनी विश्वास चंद्राकर ने टीम बनाई थी। टीम मे उप निरीक्षक केपी सिदार, सउनि राजेश पाण्डेय, अजय सिंह, प्रधान आरक्षक पारस सिन्हा, चेतन साहू, आरक्षक अरविंद मिश्रा, अखिलेश मिश्रा, अजीत यादव, सत्येन्द्र मढरिया, अनिल सिंह को शामिल किया गया। मुखबिर से टीम कोे सूचना मिली थी कि आरोपी हरिशंकर चौधरी अपने निवास एक दो घंटे के लिए आत है। जिस पर पुलिस ने रायपुर इण्डस्ट्रीयल एरिया मे पतासाजी की, जहां से पता चला कि आरोपी कुम्हारी स्थित केडिया  डिस्टलरी में प्राइवेट काम करता है। पुलिस ने उसे तुरंत गिरफ्तार किया और पूछताछ में उसने स्वीकार किया कि वह अपनी पत्नी को प्रताड़ित करता था और आत्महत्या करने के लिए अपनी पत्नी को उकसाया था।

18-03-2020
प्रसव के दौरान नवजात की मौत, परिजनों ने लगाया डाक्टरों और स्टाफ पर लापरवाही का आरोप

महासमुंद। अपने लापरवाहियों को लेकर सुर्खियों में रहने वाला महासमुंद का जिला अस्पताल एक बार फिर आरोपों के घेरे में है। अस्पताल में मंगलवार को प्रसव के दौरान एक नवजात की दुनिया में आने से पहले ही मौत हो गई। नवजात शिशु के मौत को लेकर परिजनों ने डाक्टरों और स्टॉफ पर डिलवरी में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है। प्रभारी सीएमएचओ से इसकी लिखित में शिकायत भी की है। बता दें कि महासमुंद के वार्ड नम्बर 9 छिपियापारा की रितु तांडी पति कृष्णा तांडी को सोमवार शाम 6 बजे प्रसव पीड़ा आया। इस पर उसे जिला चिकित्सालय में प्रसव के लिए भर्ती कराया गया।

परिजनों ने बताया की रात से ही महिला को प्रसव के लिए वार्ड में लेकर गए थे और नार्मल डिलीवरी होने की जानकारी दी जा रही थी, रात तकरीबन 2 से 3 बजे के बीच प्रसव के दौरान बच्चा आधा बाहर आ चुका था। इसकी जानकारी लगने पर परिजनों ने छोटा ऑपरेशन कर बच्चे को बाहर निकालने स्टॉप को कहा बावजूद इसके स्टॉप सब कुछ सही होने की बात करते रहे और मंगलवार सुबह 8 बजे तक जच्चा और बच्चा को स्वास्थ्य होने की जानकारी स्टॉप के द्वारा दी गई। करीब आधे घंटे के बाद नर्स द्वारा परिजनों को अचानक बताया गया कि बच्चा मृत पैदा हुआ है, जिसे सुनकर परिजनों के होश उड़ गए। परिजनों का यह भी आरोप है कि डॉक्टरों ने इसका सही कारण नहीं बताया और उन्हें लगातार गुमराह करते रहे। परिजनों ने नर्स और डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए प्रभारी सीएमएचओ को इसकी लिखित शिकायत की है और दोषियों पर कड़ी कार्यवाही करने की मांग की है।

वर्जन

प्रभारी सीएमएचओ डॉ.आरके परदल ने बताया कि मामले की जानकारी उन्हें शिकायत के रूप में मिली है। मामले की जांच की जाएगी और यदि उसमें लापरवाही पाई जाती है तो कार्रवाई की जाएगी। 

 

17-03-2020
कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के लिए सिम्स और अपोलो में आईसोलेशन वार्ड

रायपुर/बिलासपुर। कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के लिए जिला अस्पताल, सिम्स और अपोलो अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड बनाये गए हैं। कलेक्टर डॉ.संजय अलंग ने इन अस्पतालों में व्यवस्था का निरीक्षण किया और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
जिला अस्पताल के द्वितीय तल में पुराने एसएनसीयू वार्ड में 6 बेड का आईसोलेशन वार्ड बनाया गया है। इस वार्ड में दो डॉक्टर सहित चार स्टॉफ की ड्यूटी लगाई गई है। सभी को पीपीई का प्रशिक्षण दिया गया है। जिला अस्पताल की सिविल सर्जन डॉ.मधुलिका सिंह ठाकुर ने बताया कि कोरोना वायरस से निपटने के लिये सभी तैयारी की गई है। उन्होंने बताया कि सर्दी, खांसी एवं बुखार के मरीजों के लिये अस्पताल के प्रवेश द्वार की समीप ही कक्ष क्रमांक 30 में अलग व्यवस्था की गई है। मरीजों का पंजीयन एवं उपचार यहीं पर किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने निर्देश दिया कि कोरोना वायरस से निपटने के लिये एसओपी का पालन किया जाए। ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित नहीं होनी चाहिए और वेंटिलेटर सतत रूप से कार्य करता रहे।
वहीं कलेक्टर ने सिम्स में बनाए गए आईसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया। यहां वार्ड में मापदण्ड के अनुरूप व्यवस्था नहीं होने पर उन्होंने असंतोष जताया और एसओपी का पालन करते हुए कोरोना से निपटने के लिये तैयार करने के निर्देश दिये। कलेक्टर डॉ.अलंग अपोलो अस्पताल भी गये। यहां दो कक्षो में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों को रखने के लिये विशेष वार्ड बनाया गया है। कलेक्टर ने निर्देश दिया कि अस्पतालों में आने वाले हर व्यक्ति को हैंड सेनेटाईजर उपलब्ध कराया जाए और साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान दिया जाए।

16-03-2020
कोरोना वायरस से बचाव, जांच एवं प्रबंधन पर परिचर्चा

मुंगेली। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा सुखनंदन अस्पताल मुंगेली के सभाकक्ष में जिला मेडिकल एसोसिएशन के सदस्यों तथा निजी चिकित्सकों का कोरोना वायरस के विषय पर परिचर्चा आयोजित की गई। परिचर्चा में कहा गया कि ऐसे व्यक्ति जो कि कोरोना प्रभावित देशों की 15 फरवरी के बाद यात्रा किये हैं तथा बुखार, खांसी एवं सांस में तकलीफ की शिकायत हो, को संभावित मरीज की श्रेणी में मानकर उसे जिला अस्पताल, मेडिकल कालेज या नजदीकी एमबीबीएस या मेडिकल विशेषज्ञ से सलाह ले। सैम्पल लेने की सुविधा जिला अस्पताल में उपलब्ध है। राज्य में भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर जांच की सुविधा उपलब्ध है। सभी चिकित्सकों को अपने स्टाफ से बार-बार हाथ धोने, सर्दी, खाँसी वाले मरीजों को काउंसलिंग, ओपीडी क्षेत्र में भीड़ का प्रबंधन की जानकारी से अवगत कराने बताया गया। संभावित व्यक्ति जिन्हें कोई तकलीफ नहीं है, को घर पर ही रहने की हिदायत दिए जाने चाहिए। भीड़ वाले स्थानों में जाने से बचा जावे तथा खाँसी आने पर रुमाल, सर्जिकल मास्क का उपयोग किया जावे। परिचर्चा के दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.कमलेश खैरवार, डॉ. रविशंकर प्रसाद देवांगन, डाॅ.व्हीके साॅलोमन, डाॅ.राजन सुखनंदन, डाॅ.सजय अग्रवाल, डाॅ.एके जाॅन, डाॅ.सेलिन कुजूर, डाॅ.अल्का मिंज सहित निजी चिकित्सक उपस्थित थे।

 

06-03-2020
कोरोना वायरस : कलेक्टर ने जिला अस्पताल का किया निरीक्षण

कांकेर। कलेक्टर केएल चौहान द्वारा शुक्रवार को जिला अस्पताल का निरीक्षण किया गया। करोना वायरस से निपटने के लिए बनाए गए आइसुलेशन वार्ड का कलेक्टर चौहान ने निरीक्षण किया। इसके साथ ही ट्रामा सेंटर, डायलिसिस वार्ड का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी उइके, आरसी ठाकुर सीएस, सहित डॉक्टर मौजूद रहे। 

 

05-03-2020
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर संकल्प हास्पिटल पर नि:शुल्क कैंसर जांच शिविर

रायपुर। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी संकल्प हास्पिटल जिला अस्पताल के पीछे मणीपुर मोहल्ले अंबिकापुर में महिलाओं के लिए निशुल्क कैंसर जांच शिविर का आयोजन कर रहा है। अस्पताल की चिकित्सिका डॉ.अंकिता गोयल एवं डॉ.लता गोयल ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त अस्पताल में महिलाओं की कैंसर जांच शिविर के अंतर्गत महिलाओं के स्तन कैंसर सरवाइकल (गर्भाशय) कैंसर की जांच निशुल्क की जाएगी। दोनों महिला डॉक्टरों ने अंबिकापुर की 30 से अधिक आयु की महिलाओं से उक्त शिविर में निशुल्क जांच का लाभ लेकर संभावित कैंसर की बीमारी से बचने की अपील की है।

 

05-03-2020
कोरोना वायरस : सावधानी के संबंध में निर्देश जारी, जिला अस्पताल में आईशोलसन वार्ड की सुविधा

जांजगीर। कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक ने कोरोन वायरस के संक्रमण से बचने की आवश्यक सावधानी के लिए निर्देश जारी किया है। जिले में अब तक कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाया गया है। कलेक्टर ने आवश्यक सावधानी बरतते हुए सभी कारखानों को पत्र जारी कर कहा है कि बाहर से आने जाने वाले मेहमानों की तत्काल सूचना जिला प्रशासन को दे। कलेक्टर के निर्देश पर जिला अस्पताल में पांच बेड वाले एक आईशोलेसन वार्ड एवं दो वेंटीलेटर की व्यवस्था की गई है। इसी प्रकार विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा मान्य किया गया एन-95 सार्जिकल मास्क की भी व्यवस्था पर्याप्त मात्रा में की गई है। इसके अलावा तत्काल सहायत पहुचानें के लिए एक एम्बुलेंस को भी चिन्हांकित कर रखा गया है। सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में आवश्यक दवाईयां उपलब्ध करवा दी गई है।

कलेक्टर ने आम नागरिकों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए चिकित्सकों द्वारा बतायी गयी सावधानी का पालन करें। कोरोना वायरस के संबंध में किसी भी प्रकार की अफवाह से बचें । अधिक जानकारी के लिए छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य सेवाएं संचालनालय के राज्य सर्विलेंश ईकाई के फोन नंबर 0771-2235091 पर संपर्क किया जा सकता है। डाॅ.बंजारे ने बताया कि कोरोना वायरस के लिए जनजागरूकता का अभियान प्रारंभ किया गया है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य विभागों के मैदानी अमलोें को प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से घबराने की आवश्यकता नहीं है। इससे बचने के लिए सावधानी आवश्यक है।

 

03-03-2020
कार की ठोकर से बाइक सवार घायल  

कांकेर। नेशनल हाईवे के लखनपुरी में कार की ठोकर से मोटरसाइकिल सवार एक व्यक्ति तथा एक महिला घायल हुई है। दोनों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार चारामा थाना क्षेत्र के नेशनल हाइवे पर स्थित लखनपुरी के पास मोंगरागहन निवासी चमरिन बाई उम्र 70 वर्ष, दिलीप उम्र 40 वर्ष दोनों अपने मोटरसाइकिल से लखनपुरी लेम्प्स जा रहे थे। इसी दौरान चारामा से कांकेर की ओर जा रही कार ने दोनों को ठोकर मार दी। इससे मोटरसाइकिल पर सवार दोनों नीचे गिर गए। दुर्घटना में मोटरसाइकिल सवार दोनों के सिर और पैर में चोंटे आई है, जिन्हें लखनपुरी से प्राथमिक उपचार के जिला अस्पताल भेजा गया है।

 

28-02-2020
स्वास्थ्य मंत्री ने किया हमर लैब, डे-केयर कीमोथेरेपी और सी.सी.यू. का लोकार्पण

रायपुर। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने शुक्रवार को पंडरी स्थित रायपुर जिला अस्पताल में अत्याधुनिक हमर लैब, कैंसर मरीजों के लिए डे-केयर कीमोथेरेपी सेवा और कार्डियक केयर यूनिट का लोकार्पण किया। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ तीनों जगहों का भ्रमण कर यहां मिलने वाली सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने सी.सी.यू. में भर्ती मरीज से मिलकर उनकी सेहत की भी जानकारी ली। रायपुर जिला अस्पताल में स्थापित अत्याधुनिक एवं सर्वसुविधायुक्त लैब में 90 तरह की जांच की सुविधा है। हृदय की तकलीफों की आकस्मिक और गहन चिकित्सा के लिए छह बिस्तरों का इंटेसिव कार्डियक केयर यूनिट तथा डे-केयर कीमोथेरेपी के लिए छह बिस्तरों का दीर्घायु वार्ड भी जिला चिकित्सालय में शुक्रवार से शुरू हो गया है। लोकार्पण कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, विधायकगण कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय, अनिता शर्मा और रायपुर जिला पंचायत की अध्यक्ष डोमेश्वरी वर्मा भी मौजूद थी।

लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने कहा कि यूनिवर्सल हेल्थ केयर के तहत लोगों को निःशुल्क या कम से कम खर्च पर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए सरकारी अस्पतालों का सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है। वहां नई सुविधाएं शुरू करने के साथ ही बेहतर इलाज व देखभाल के लिए संसाधन बढ़ाए जा रहे है। रायपुर में शुक्रवार से शुरू हुए हमर लैब से लोगों को एक ही जगह नाममात्र के शुल्क पर अनेक तरह के परीक्षण की सुविधा मिलेगी। अभी यहां 90 तरह की जांच की सुविधा है। कुछ और मशीनों के आने के बाद इस लैब से 120 तरह के जांच की सुविधा मिलने लगेगी। सिंहदेव ने कहा कि इस आधुनिक लैब में हुए परीक्षण की रिपोर्ट मरीजों को सीधे उनके मोबाइल पर मिल जाएगी। रिपोर्ट की हॉर्डकॉपी उन्हें संबंधित अस्पताल से मिलेगी। जिला अस्पताल के साथ ही आसपास के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में संकलित सैंपलों का भी परीक्षण यहां होगा।

स्वास्थ्य मंत्री ने कार्यक्रम में डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना की वेबसाइट लॉन्च की। उन्होंने योजना के तहत डॉक्टरों और अन्य स्टॉफ को मिलने वाली प्रोत्साहन राशि के ऑनलाइन भुगतान सुविधा का भी शुभारंभ किया। सिंहदेव ने अस्पताल में अपना आधार नंबर देकर योजना के तहत मौके पर ही अपना ई-कॉर्ड बनवाया। लोकार्पण कार्यक्रम में संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला, रायपुर के कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन, रायपुर नगर निगम के आयुक्त सौरभ कुमार, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गौरव सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल और सिविल सर्जन डॉ. रवि तिवारी सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौजूद थे। हमर लैब प्रदेश की पहली ऐसी लैब होगी जहां जांच रिपोर्ट के लिए मरीज या उनके परिजनों को दोबारा आना नहीं पड़ेगा। रिपोर्ट मोबाइल पर या अस्पताल में मिल जाएगी। आई.पी.एच.एस. के अनुसार जिला अस्पताल के लैब में 60 तरह की जांच की सुविधा होनी चाहिए। लेकिन उच्च स्तरीय आधुनिक मशीनों से यहां 90 तरह के जांच की सुविधा मिलेगी। अगले वित्तीय वर्ष में सभी जिला अस्पतालों में हमर लैब की स्थापना की जाएगी। हृदय रोग, हृदयाघात और स्ट्रोक से होने वाली असमय मौत को रोकने के लिए प्रदेश के सात जिला अस्पतालों में कार्डियक केयर यूनिट की स्थापना की जा रही है। रायपुर के साथ ही जशपुर, धमतरी, दुर्ग, कोरबा, कांकेर और बलौदाबाजार-भाटापारा के जिला चिकित्सालयों में यह सुविधा शुरू की जा रही है। सी.सी.यू. में वेबसाइड कॉर्डियक मॉनिटर और उन्नत मशीनों से लैस वेबसाइड केयर उपलब्ध होगी। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 22 जिला अस्पतालों में दीर्घायु वार्ड के नाम से डे-केयर कीमोथेरेपी सेवा भी शुरू की जा रही है। जिला अस्पतालों में इस निःशुल्क सेवा की शुरूआत से कैंसर पीड़ितों को स्थानीय स्तर पर ही फॉलो-अप कीमोथेरेपी की सुविधा मिलेगी।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804