GLIBS
28-07-2020
प्रशासनिक सक्रियता के चलते युद्धस्तर की तैयारी पर खड़ा हुआ कोविड कंट्रोल सिस्टम,संकट से निपटने तैयार

दुर्ग। कोविड जैसी असाधारण विपदा से लड़ने के लिए प्रशासन ने भी असाधारण रूप से रिस्पांस किया है। पूरी रणनीति के साथ युद्धस्तर से की गई तैयारी से दुर्ग न केवल कोरोना से लड़ने में सक्षम है अपितु आगे किसी भी संकट से निपटने के लिए भी पूरी तरह से तैयार है। लाकडाउन के खुलने के पश्चात तेजी से बढ़े संक्रमण की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने संकट से निपटने के लिए सभी मोर्चों पर व्यापक तैयारियां की हैं। इसके लिए जिला प्रशासन ने सात सूत्र निर्धारित किए थे। जिस पर तेजी से काम हो रहा है। इन पर तेजी से काम हुआ है और अब स्थिति यह है कि संकट से निपटने के लिए पूरा तंत्र खड़ा है। सक्रिय है और तेजी से काम कर रहा है।

पहले सौ टेस्ट होते थे अब ग्यारह सौ

 सबसे पहले संक्रमण को थामने के लिए ज्यादा टेस्टिंग करना लक्ष्य था। इस पर कमाल का काम हुआ। पहले जिले में टेस्टिंग की क्षमता सौ थी। इसे बढ़ाना प्रमुख लक्ष्य था। इस पर काम हुआ और लगभग ग्यारह गुना प्रगति हुई। पहले सौ टेस्ट होते थे। जून महीने से टेस्टिंग बढ़ाई गई ग्यारह सौ टेस्ट हर दिन हो रहे हैं। इसके लिए अधोसंरचना खड़ी करने भरपूर मेहनत की गई। इसके लिए लैब टेस्टिंग जरूरी थी। 30 लैब टेक्निीशियन की नियुक्ति की गई। टेस्टिंग के लिए 2 ट्रू नाट मशीन लगाई गई। रात दिन टेस्टिंग पर काम हुआ।

ढाई लाख घरों में हुआ सर्वे

अब तक का सबसे बड़ा अभियान सर्वे को लेकर चलाया गया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं नगरीय निकाय के कर्मचारियों ने, शिक्षा विभाग के कर्मचारियों ने इस दिशा में महती कार्य किया। इसके लिए दो सौ दल बनाये गए। ढाई लाख घरों में सर्वे किया गया। इन सबका डाटा बेस बनाया गया। सर्वे में डाटा बेस के माध्यम से बाद में भी फोन में लगातार संपर्क किया गया। सर्वे के पश्चात फीवर वाले केस चिन्हांकित कर बारह सौ सैंपल लिये गए।

होम क्वारंटीन के लिए लगाये गए दल

होम क्वारंटीन के 4 हजार लोगों की मानिटरिंग के लिए भी दल लगाये गए। इनकी रिपोर्ट हर दिन नोडल अधिकारी लेते रहे। इसके साथ ही 160 लोग पेड क्वारंटीन में हैं जिनकी मानिटरिंग भी की गई।

इलाज के लिए अभी 1550 बेड के अस्पताल की सुविधा, इतने ही बेड किये जा रहे तैयार

पूरे जिले में 1550 बेड के अस्पताल तैयार हैं। इसके साथ ही 1550 बेड और तैयार किये जा रहे हैं। कंट्रोल रूम की स्थापना भी की गई है। भारत सरकार के आरोग्य सेतु पोर्टल से संभावित संक्रमितों की सूची बनाकर उन्हें काल किया जा रहा है।

अतिरिक्त मैनपावर भी लगाया गया

इस विपदा से निपटने के लिए बड़ा वर्कफोस जिला प्रशासन द्वारा लगाया गया है। कोविड के संक्रमण को रोकने रूटीन स्टाफ के अलावा 20 डाक्टर, 5 स्टाफ नर्स एवं 25 सफाई कर्मियों की अतिरिक्त नियुक्ति की गई है। कलेक्टर ने हेल्थ डिपार्टमेंट को निर्देश दिये हैं कि कोरोना संक्रमण को रोकने किसी भी तरह से दक्ष मैनपावर की कमी नहीं होनी चाहिए।

लिस और प्रशासन का बड़ा अमला लॉकडाउन की मानिटरिंग के लिए लगाया

पुलिस और निगम प्रशासन का बड़ा अमला लॉकडाउन की मानिटरिंग में लगा है। इससे लॉकडाउन पूरी तरह सफल रहा है। बेवजह निकलने वालों पर नियमतः कार्रवाई की जा रही है।

सभी के फीडबैक से हो रहा काम

कोरोना संक्रमण से निपटने जनसामान्य से, विभिन्न सामाजिक राजनीतिक, आर्थिक संगठनों से अच्छे फीडबैक मिले हैं। जिला प्रशासन लगातार इनके संपर्क में है। सभी के फीडबैक से एवं समन्वय से दुर्ग जिले में लॉक डाउन अब तक सफल रहा है और कोरोना की बड़ी विपदा के बावजूद जिला इसे नियंत्रित करने की दिशा में सक्रियता से कार्य कर रहा है।

 

21-05-2020
क्लब, बार, काॅम्पलेक्स और स्टेडियम रहेंगे बंद

कोरिया। राज्य शासन के सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव ने कोविड से संक्रमण के रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए समस्त विभागों के भार साधक सचिव, संभागायुक्त, कलेक्टर एवं विभागाध्यक्षों को पत्र जारी कर समस्त क्लब एवं बार,काॅम्पलेक्स एवं स्टेडियम को आगामी आदेश तक बंद रखने तथा जिलों में शनिवार एवं रविवार को पूर्ववत संपूर्ण लाकडाउन रखने सहित अन्य निर्देश दिये हैं। इसके परिपालन में कलेक्टर ने पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी, समस्त अनुविभागीय दण्डाधिकारी, नगरीय निकायों के आयुक्त एवं मुख्य नगर पालिका अधिकारी, जिला आबकारी अधिकारी एवं समस्त कार्यालय प्रमुखों को जारी निर्देशों का अक्षरश पालन करते हुए प्रतिवेदन जिला कार्यालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं।

 

21-04-2020
कलेक्टर ने पेंड्रा रोड़ की सीमा में लॉक डाउन के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए जारी किए आदेश

पेंड्रा। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी शिखा राजपूत तिवारी के द्वारा क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का पहला केस आने के बाद सख्त कार्यवाही व सख्त आदेश जारी कर अपरिहार्य कारणों से तहसील पेंड्रारोड़ की सम्पूर्ण सीमा में लाकडाउन के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए 21 अप्रैल को प्रातः 6 बजे से 22 अप्रैल की मध्यरात्रि तक तहसील पेंड्रारोड की सम्पूर्ण सीमा में केवल निम्न अत्यावश्यक सेवाओं  को ही छूट प्रदान की गई है।- मेडिकल स्थापना, मेडिकल दुकान और एम्बुलेंस, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसियां, मीडिया संस्थान, पेयजल सुविधाएं, सीवरेज ट्रीटमेंट व्यवस्थाएं, फायर ब्रिगेड, टेलीफोन व इंटरनेट सुविधाएं, मिल्क पार्लर एवं डेयरी, राष्ट्रीय राजमार्ग पर गुड्स एवं कैरियर सेवाएं, नगरीय प्रशासन एवं जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई जा रही अत्यावश्यक नागरिक सेवाएं, राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार के समस्त कार्यालय एवं उपक्रम। इस आदेश का उल्लंघन आई पी सी की धारा 188 के अंतर्गत दंडनीय होगा।

11-04-2020
रेडक्रॉस सामाजिक संगठनों के साथ मिलकर लोगों की मदद कर रही

कांकेर। वैश्विक महामारी के संक्रमण काल में इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी दल जिला कलेक्टर केएल चौहान, सीएमओ डॉ.जेएल उईके और जिला शिक्षा अधिकारी राकेश पांडे के निर्देशन और मार्गदर्शन मे अपनी जिम्मदारियों,कर्तव्यों का बखूबी निर्वहन, नियंत्रण व निर्देशन में लोगों की मदद करते हुए जागरुकता अभियान चला रही है। जिला संगठक पवन कुमार सेन ने बताया कि लाकडाउन में रोजमर्रा का जीवनयापन करने वाले परिवारों को सामाजिक संस्था साईं समिति के साथ आवश्यक संसाधन जुटाने में मदद कर रही है। श्रीसत्यसाईं सेवा संगठन की रानी अनिल कौशिक के द्वारा जीवन निर्वहन सामग्री रेडक्रॉस वॉलिंटियर्स के साथ मिलकर प्रदान किया गया। जनजागरूकता के कार्य में रेडक्रॉस वॉलिंटियर्स का 17 सदस्यीय दोनों दल घड़ी चौक,गोविंदपुर चौक,अर्जुनी चौक,भीरावाही,खपरापारा चौक एवं गांव की गलियों में लोगों को अपील करते हुए सोशल कम्युनिटी डिस्टेंसिंग,हाथ धुलाई,लॉक डाउन का पालन,धारा 144 का पालन,हाट बाजारों में 1 मीटर की दूरी पर लेन देन कार्य,कोरोना से बचाव बाबत पाम्पलेट चस्पा कार्य,किराना स्टोर्स में गोल घेरा बनाने माइक से संचालन करते हुए अपील कर रही है। सहयोग एवं जागरूकता कार्यक्रम में इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी के जिला संगठक पवन कुमार सेन, राज भारती, ओम प्रकाश सेन, साईं समिति से रानी अनिल कौशिक, अन्नपूर्णा ठाकुर, वॉलिंटियर मोहन सेनापति, प्रदीप कुमार सेन, प्रवीण गुप्ता, उत्तम मिश्रा, पंकज कौशिक उपस्थित रहे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804