GLIBS
02-09-2020
गुजरात : कच्छ में हिली धरती, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.1

अहमदाबाद। गुजरात के कच्छ जिले में बुधवार की दोपहर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता 4.1 रही। गांधीनगर स्थित भूकंपीय अनुसंधान संस्थान (आईएसआर) के एक अधिकारी ने कहा कि भूकंप दोपहर 2.09 बजे आया। इसका केंद्र कच्छ के दुधाई से सात किलोमीटर उत्तर की ओर था। जिला प्रशासन ने बताया कि इस दौरान किसी तरह की जानमाल की हानि नहीं हुई। इससे पहले बुधवार की सुबह सौराष्ट्र क्षेत्र के जामनगर जिले में 2.3 तीव्रता के भूकपं के हल्के झटके महसूस किए गए थे। इसका केंद्र जामनगर में लालपुर से पूर्व-उत्तर की ओर 19 किलोमीटर दूर था।

 

 

05-07-2020
मिजोरम में 15 दिनों में सातवीं बार हिली धरती, रिक्टर स्केल पर मापी गई 4.6 भूकंप की तीव्रता

ई दिल्ली। मिजोरम के चम्फाई जिले में रविवार को 4.6 की तीव्रता वाला भूकंप आया। इसका केंद्र चम्फाई के 52 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में था। इसकी गहराई 25 किमी थी। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक भूकंप शाम 5:26 बजे आया। इसकी गहराई 25 किमी थी। इससे पहले शुक्रवार दोपहर को भी 4.6 की तीव्रता वाला भूकंप आया था। बता दें कि पिछले 15 दिनों में राज्य में यह सातवां भूकंप था। चम्फाई की उपायुक्त मारिया सीटी जुआली ने बताया कि जिला प्रशासन प्रभावित गांवों से सूचना जुटा रहा है। उन्होंने कहा कि वह अन्य अधिकारियों के साथ प्रभावित गांवों का दौरा करेंगी। उल्लेखनीय है कि राज्य के चम्फाई, सैतुअल और सेरछिप जिलों में 18 से 24 जून के बीच सिलसिलेवार भूकंप आये हैं। 

 

26-06-2020
रोहतक में फिर महसूस किए गए भूकंप के हल्के झटके, एक महीने में 9 बार आ चुका है भूकंप

रोहतक। हरियाणा के रोहतक में शुक्रवार को भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी ने बताया कि हरियाणा के रोहतक में 2.8 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। दोपहर बाद 3 बजकर 32 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। बुधवार को भी रोहतक में हल्की तीव्रता के भूकंप आये थे।बता दें कि पिछले कई दिनों से देश के कई शहरों में भूकंप के झटके महसूस किये जा रहे हैं। रोहतक में बीते एक महीने में 9 बार भूकंप आ चुका है। आज आए भूकंप में जान-माल का कोई नुकसान नहीं हुआ है। हालांकि भूकंप आने के बाद लोग अपने घरों से बाहर निकलकर भागने जरूर लगे थे।

 

 

24-06-2020
मिजोरम में फिर आया भूकंप का झटका, 4 दिन में चौथी बार हिली धरती, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.1

नई दिल्ली। मिजोरम में लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं। एक बार फिर बुधवार की सुबह मिजोरम में भूकंप आया। चार दिनों में यह चौथा मौका है जब यहां पर धरती हिली है। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.3 दर्ज की गई। भूकंप से फिलहाल अभी तक किसी भी तरह के जानमाल की सूचना नहीं मिली। भूकंप का केंद्र चमफाई जिले में दर्ज किया गया। इससे पहले, मिजोरम में सोमवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 5.8 रही. भूकंप के झटके सुबह 4 बजकर 40 मिनट पर महसूस किए। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, मिजोरम चंफाई के 27 किलोमीटर दक्षिण में सोमवार तड़के चार बजकर दस मिनट पर भूकंप आया। मिजोरम में 12 घंटे के भीतर दूसरे बार झटके महसूस किए गए हैं। रविवार शाम को राजधानी आइजोल के 25 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में करीब 16 बजकर 16 मिनट पर भूकंप आया था।

22-06-2020
ओडिशा में हिली धरती, रिक्टर स्केल पर मापी गई 3.6 तीव्रता

भुवनेश्वर। देश के विभिन्न हिस्सों में भूकंप के झटके आने का सिलसिला जारी है। ओडिशा के रायगढ़ जिले के काशीपुर में सोमवार शाम को भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 3.6 मापी गई है। यह झटके शाम 4 बजकर 40 मिनट पर महसूस किए गए। इससे पहले रविवार को पूर्वोत्तर भारत के कई राज्यों में रविवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। असम के गुवाहाटी, मेघालय, मणिपुर और मिजोरम में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.1 मापी गई। मिजोरम के आइजोल को भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है। 

 

15-06-2020
24 घंटे में दूसरी बार गुजरात में महसूस किए गए भूकंप के झटके

नई दिल्ली। लॉक डाउन के चलते एक तरफ जहां अधिकतर लोगों अपने घरों में हैं तो वहीं दूसरी तरफ भूकंप भी लगातार लोगों को डरा रहा है। राष्ट्रीय भूगर्भ केन्द्र के मुताबिक, पिछले 24 घंटे के दौरान दो बार गुजरात की धरती भूकंप के झटके से दहल उठी। सोमवार की दोपहर 12 बजकर 57 मिनट पर दक्षिणी गुजरात के राजकोट में भूकंप के 4.4 रिएक्टर स्केल की तीव्रता आंकी गई। भूगर्भ गतिविधियों की मॉनिटरिंग के लिए बनी सरकार के नोडल एजेंसी की वेबसाइट के अनुसार, गुजरात में आए इस भूकंप का केन्द्र राजकोट से 85 किलोमीटर उत्तर पश्चिम था। इससे एक दिन पहले गुजरात के राजकोट में 5.5 की तीव्रता से भूकंप के झटके महसूस किए गए। लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। बाहर उनके लिए एक और मुसीबत खड़ी थी। कई जगहों पर बारिश हो रही थी। 

14-06-2020
गुजरात में आया भूकंप, भयभीत होकर घरों से बाहर निकले लोग

नई दिल्ली। गुजरात और जम्मू-कश्मीर में रविवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। गुजरात के राजकोट से 122 किमी उत्तर, उत्तर-पश्चिम में जोरदार भूकंप का झटका महसूस किया गया है। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.8 मापी गई है। सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के मुताबिक, गुजरात में भूकंप का यह झटका रविवार रात करीब 8:13 पर आया है। इसके अलावा रात 8:35 पर जम्मू-कश्मीर के कटड़ा में भी कम तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3 थी। गुजरात के भुज, राजकोट, कच्छ, पाटण, अहमदाबाद और गांधीनगर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। डर के मारे लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। हालांकि अभी दोनों ही जगह से किसी नुकसान की खबर नहीं है। गुजरात में आए भूकंप का एपिसेंटर राजकोट और भुज जिले के बीच में है। भूकंप की तीव्रता राजकोट, कच्छ और पाटण जिले में सबसे ज्यादा महसूस की गई। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने इन जिलों के प्रशासनिक अधिकारियों से संपर्क किया है। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, 'मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने राजकोट, कच्छ और पाटण के जिलाधिकारियों से टेलिफोन के जरिए बात की है और उनसे वहां के हालात की जानकारी ली है।

10-05-2020
भूकंप से फिर कांपी दिल्ली, गाजियाबाद के पास था केंद्र

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में फिर एक बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 3.5 मापी गई। इसका सेंटर दिल्ली के पास गाजियाबाद बताया जा रहा है। इससे पहले 12 और 13 अप्रैल को भी दिल्ली में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इससे पहले 12 अप्रैल को दिल्ली एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। कोरोना वायरस लॉक डाउन की वजह से उस दिन भी ज्यादातर लोग अपने घरों में ही थे ऐसे में सबने झटके महसूस किए। तब भूकंप की तीव्रता 3.5 बताई गई थी। तब केंद्र दिल्ली के ही पूर्वी हिस्से में था।इसके बाद 13 अप्रैल को फिर भूकंप आया था। इस दिन रिक्टर स्केल पर तीव्रता 2.7 दर्ज की गई थी। भूकंप की अधिक तीव्रता के लिहाज से देश को पांच जोन में बांटा गया है। दिल्ली, अधिक तीव्रता वाले चौथे जोन में आता है। 

झटकों से घबराने की जरूरत नहीं : जेएल गौतम
नेशनल सेंटर फॉर सीस्‍मोलॉजी के हेड (ऑपरेशंस) जेएल गौतम ने बताया था कि पहले वाले दोनों भूकंप फॉल्‍ट-लाइन प्रेशर की वजह से आए, ऐसा नहीं लगता। उन्‍होंने कहा, "इन लोकल और कम तीव्रता वाले भूकंपों के लिए, फॉल्‍ट लाइन की जरूरत नहीं है। धरातल के नीचे छोटे-मोटे एडजस्‍टमेंट्स होते रहते हैं और इससे कभी-कभी झटके महसूस होते हैं। बड़े भूकंप फॉल्‍ट लाइन के किनारे आते हैं।"

दिल्ली के इन इलाकों में भूकंप का खतरा ज्यादा
दिल्ली में भूकंप की आशंका वाले इलाकों में यमुना तट के करीबी इलाके, पूर्वी दिल्ली, शाहदरा, मयूर विहार, लक्ष्मी नगर और गुड़गांव, रेवाड़ी तथा नोएडा के नजदीकी क्षेत्र शामिल हैं।
भूकंप को लेकर दिल्ली बहुत संवेदनशील है। दिल्ली और इसके आसपास के इलाके को भूवैज्ञानिकों ने जोन 4 में रखा है। इस क्षेत्र में 7.9 तीव्रता तक का भूकंप आ सकता है।

12-04-2020
Breaking: दिल्ली और एनसीआर में महसूस किए गए भूकंप के झटके

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। बताया जा रहा है कि भूकंप की तीव्रता 3.5 थी। भूकंप के झटके महसूस करते ही दिल्ली,एनसीआर में तमाम जगहों के लोग अपने घरों के बाहर निकल आए। भूकंप के वजह से अफरातफरी का माहौल है।

 

21-03-2020
Breaking : बस्तर के कई इलाको में लोगों ने महसूस किए भूकंप के झटके, मौसम वैज्ञानिक ने दी जानकारी

रायपुर। बस्तर में लोगों ने शुक्रवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए। 3 सेकेंड तक लोगों ने झटके महसूस किए और अपने घर, दफ्तर एवं दुकानों से बाहर आ गए। मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा लालपुर केंद्र ने कहा कि चेन्नई से पूर्व दिशा में 471 किलोमीटर दूर एक भूकम्प  4.8 मेग्नीट्यूड का आया है जिसका समय 11:15  बजे है इसकी गहराई भी 10 किलोमीटर है। इसका अच्छा अक्षांश 12.8 265 और देशांतर 84.6 140 है। जगदलपुर से 34 किलोमीटर दूर दक्षिण पूर्व दिशा में 4.2 रिक्टर पैमाने की तीव्रता के भूकंप 11:14 : 44 IST आया है, जिसकी गहराई 10 किलोमीटर भूकम्प का केन्द्र था। इसका अक्षांश 18.8 527 और देशांतर 82.2315 है। बता दें कि बस्तर के सुकमा, छिंदगढ़ और मलकानगिरी में 4.2 तीव्रता के भूकंप के झटके लोगों ने महसूस किए। जैसे भूकंप के झटके महसूस हुए तो लोग अपने घर, दफ्तर और दुकानों से बाहर निकल गए। इस भूकंप के बाद से लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है।  

 

25-01-2020
पूर्वी तुर्की में भूकंप के झटके, 22 की मौत,1015 घायल

नई दिल्ली। पूर्वी तुर्की में शुक्रवार को रिक्टर पैमाने पर 6.8 तीव्रता का भूकंप आया, जिसमें कम से कम 22 लोग मारे गए और 1015 घायल हो गए। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बोगाजिकी के ‘कंदील्ली ऑब्जर्वेटरी एंड अर्थक्वेक रिसर्च इंस्टीट्यूट’ के हवाले से बताया कि राजधानी अंकारा से लगभग 750 किलोमीटर दूर पूर्व में एलाजिग प्रांत के सिवरिस में शक्तिशाली भूकंप के झटके महसूस किए गए। यह स्थानीय समयानुसार रात 8.55 के करीब आया। स्वास्थ्य मंत्री फहरेटिन कोका ने कहा कि एलाजिग प्रांत में 13 और पड़ोस के मालट्या प्रांत में 5 लोगों की मौत हुई है। आंतरिक मामलों के मंत्री सुलेमान सोयलू ने कहा कि 1000 से अधिक लोग घायल हुए हैं। उन्होंने कहा कि नष्ट हो चुके या ढह चुके इमारतों के मलबों से करीब 30 लोगों को ढूंढ़ने के लिए बचाव अभियान जारी है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि शक्तिशाली भूकंप 10 से 12 सेकंड तक रहा। एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा, “हमारे आगे अब एक बेहद मुश्किल रात है।” उसने कहा कि स्थानीय तापमान शून्य से पांच डिग्री सेल्सियस नीचे है।

 

06-01-2020
शिमला में आया भूकंप, रिक्टर स्केल पर आंकी गई 3.6 तीव्रता

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के शिमला में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.6 आंकी गई है। कम तीव्रता होने से अधिकांश लोगों को भूकंप का एहसास नहीं हुआ। फिलहाल किसी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है। इससे पहले तीन जनवरी को भी प्रदेश के जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में लगातार भूकंप का झटका लगा। साफ मौसम के बीच लगातार डोल रही धरती से क्षेत्र में हिमखंड गिरने का खतरा बन गया है। इससे पहले गुरुवार शाम 7:38 बजे भूकंप का झटका आया था, फिर शुक्रवार सुबह 10:46 बजे दोबारा झटका महसूस हुआ। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.4 आंकी गई। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने पांच जनवरी तक प्रदेश में मौसम साफ रहने के आसार जताया था। अब छह से आठ जनवरी तक बारिश-बर्फबारी का पूर्वानुमान है। पश्चिमी विक्षोभ के कमजोर पड़ने से प्रदेश में मौसम साफ हो गया है। शुक्रवार को प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में मौसम साफ रहा। राजधानी शिमला में धूप खिलने के साथ हल्के बादल भी छाए रहे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804