GLIBS
30-03-2020
ड्रमों में नीले रंग का घोल बनाकर पैक किए जा रहे थे नकली सैनिटाइजर, खाद्य विभाग की छापामार कार्रवाई

रायपुर। सारी दुनिया के कोरोना से हाहाकार मचा हुआ है। मौत तांडव कर रही और लोग जान बचाने के लिए सब कुछ छोड़कर घरों में दुबके हुए हैं। लेकिन कुछ लालची धन पशु ऐसे में भी मुनाफाखोरी के लिए मिलावट करने से नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक घिनौना और इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला पकड़ाया है। रायपुर के खाद्य विभाग ने दलदल सिवनी के एक फैक्ट्री में केमिकल पकड़ा है,जिससे नकली सेनिटाइज़र बनाई जा रही थी। खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम ने छापामार कार्रवाई करते हुए दलदल-सिवनी इलाके में संचालित अवैध फैक्ट्री से 5 हजार लीटर सेनिटाइजर के रॉ मटेरियल बरामद किए है। यहां ड्रमों में नीले रंग का घोल बनाकर नकली सैनिटाइजर पैक किए जा रहे थे। प्लास्टिक बोतलों में नकली स्टीकर लगाकर बाजार में इसे खपाने की तैयारी थी।
मिली जानकारी के अनुसार कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यह नकली रॉ मटेरियल के माध्यम से सेनिटाइजर बनाने का काम धड़ल्ले से जारी था। फिलहाल विभाग की जांच जारी है। विभाग के अधिकारियों का मानना है कि बाजार में बड़ी मात्रा में तैयार सेनिटाइजर खपाया जा चुका है। टीम ने सैकड़ों लीटर अमानक सेनिटाइजर बनाते वक्त छापा मारा है। इंडो जर्मन बायो साइंस कंपनी के संचालक निलेश गुप्ता द्वारा पैसों के लालच में सेनिटाइजर तैयार किया जा रहा था। खाद्य विभाग के लिए बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804