GLIBS
18-11-2020
रेणु जोगी को पार्टी सुप्रीमो की कमान,कहा-2023 में अजीत जोगी के अधूरे सपने को पूरा करेंगे

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की महत्वपूर्ण बैठक जोगी निवास अनुग्रह में हुई। बैठक में प्रदेशभर से प्रतिनिधियों ने भाग लिया। बैठक में अजीत जोगी के निधन के बाद रिक्त हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुनाव किया गया। विधायक डॉ.रेणु जोगी राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्वाचित हुई। रेणु जोगी ने अपना उद्बोधन संत कबीर का दोहा "कबीरा खड़ा बाजार में, मांगे सबकी खैर, ना काहू से दोस्ती ना काहू से बैर" से शुरू किया। उन्होंने  प्रदेश भर से आए प्रतिनिधियों से कहा कि कठिन से लेकर कठिन परिस्थिति में सभी जनता कांग्रेस के साथ खड़े हैं। आप सब सही मायने में छत्तीसगढ़ महतारी के सच्चे सिपाही हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा से हमारा अपमान किया है। कांग्रेस विधायक रहते हुए मेरा अपमान किया, स्व. जोगी का अपमान किया। हमारे दिल में सबके लिए प्रेम है। हम पुरानी बातों में नहीं जाना चाहते हैं। 2023 में हम छत्तीसगढ़ियों की सरकार बनाकर स्व.अजीत जोगी के अधूरे सपने को पूरा करने का संकल्प लें।

 

विधायक दल के नेता विधायक  धर्मजीत सिंह ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ को छोड़कर पूरे देश में कांग्रेस का बुरा हाल है। कांग्रेस ने हाथी को बीमार कर दिया। साइकिल को पंचर कर दिया, लालटेन को बूझा दिया। कार्यकर्ता तीन साल धैर्य रखें, जनता कांग्रेस भविष्य में सरकार बनाएगी। विधायकद्वय पर तंज कसते हुए धर्मजीत सिंह ने कहा कि आप सब हमारे परिवार के सम्मनीय सदस्य हैं। कांग्रेस के मायाजाल में न फंसे, न उधर के रहेंगे न इधर के रहेंगे। साथ में आए मिलकर काम करेंगे। धर्मजीत सिंह ने यह भी कहा कि न मैं कांग्रेस में जाऊंगा न भाजपा में जाऊंगा, मैं जनता कांग्रेस में रहूंगा जोगी परिवार के साथ रहूंगा। अमित जोगी ने अपना अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए कहा कि मेरे पिता और पार्टी के संस्थापक स्व.अजीत जोगी ने अपनी आत्मकथा सपनों के सौदागर में प्रदेश के पहले और एकमात्र मान्यता प्राप्त दल के संबंध में लिखा है। पार्टी को व्यक्तियों पर नहीं बल्कि विचारों- जिसे सामूहिक रूप से उन्होंने छत्तीसगढ़ प्रथम सिद्धांत की परिभाषा दी थी, पर केंद्रित होना चाहिए। उन्होंने ये भी लिखा है कि 2018 पार्टी का पहला न कि अंतिम अध्याय है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते मेरे लिए उनकी ये दोनों बातें सर्वाधिक महत्व रखती है। जेसीसीजे का अपना अलग अस्तित्व बनाए रखना छत्तीसगढ़- और छत्तीसगढ़ियों- की राजनीतिक पहचान को बनाए रखने के लिए अनिवार्य है।  अमित जोगी ने कहा अगले तीन साल निर्णायक रहेंगे। सत्ता के गुरुत्वाकर्षण के कारण संघर्ष के हमारे सैंकड़ों साथी, विशेषकर प्रथम पंक्ति के नेता, कांग्रेस में वापस लौट चुके हैं। ये बेहद स्वाभाविक सी बात है और इस से हमें निराश नहीं होना चाहिए। जो चले गए हैं, उनके साथ मेरे दलीय तो नहीं लेकिन दिली संबंध बरकरार रहेंगे। बैठक के अंत में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अमित जोगी ने लोकतांत्रिक प्रक्रिया से निर्वाचित 21 सदस्यीय कोर कमेटी,21 सदस्यीय मार्गदर्शक मंडल,15 सदस्यीय स्थायी आमंत्रित सदस्य और 186 सदस्यीय प्रदेश प्रतिनिधि की घोषणा की।

18-11-2020
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ की कोर कमेटी की बैठक आज, 7 महत्वपूर्ण बिंदुओं पर होगी चर्चा

रायपुर। मरवाही उपचुनाव में छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे) में बिखराव दिखने के बाद आज कोर कमेटी की बैठक रखी गई है। बैठक में 7 महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होगी। साथ ही सुप्रीमो के निर्णय अलग विचार रखने वाले खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह और बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाने की तैयारी हो सकती है। वैचारिक शुद्धिकरण की बात कहते हुए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा है कि पार्टी अब एक निर्णायक मोड़ पर है। पार्टी में अब जयचंद और मीर जाफरों की जगह नहीं है। वहीं देवव्रत सिंह ने अमित जोगी पर सवाल उठाया है।

 

 

11-11-2020
अमित जोगी ने कहा, पापा से मुझे विरासत में संघर्ष मिला  

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने बुधवार को अपने पिता व पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अजीत जोगी के समाधि स्थल पहुंचकर उनका आशीर्वाद लिया। उनके साथ उनकी मां रेणु जोगी भी थी। अमित जोगी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी देते हुए कहा कि आज सुबह वे अपनी मां रेणु जोगी और अन्य समर्थकों के साथ स्व. अजीत जोगी के समाधि स्थल पहुंचे। यहां उन्होंने अपने पापा से आशीर्वाद और उनके जीवन से प्रेरणा ली। अमित जोगी ने कहा कि पापा से उन्हें विरासत में संघर्ष मिला है। चुनौती कितनी भी कठिन हो उसका सामना करूंगा। न हारूंगा और न झुकूंगा। उन्होंने कहा कि अपने पापा के बताए रास्ते पर आखरी सांस तक वे चलते रहेंगे।

10-11-2020
रेणु जोगी ने कहा-अजीत ने सिखाया

रायपुर। मरवाही उपचुनाव के नतीजे पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) विधायक दल की उप नेता रेणु जोगी ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने मरवाही के जनादेश को स्वीकार किया है। उन्होंने कहा है कि मरवाही के जनादेश का सम्मान है। इस चुनाव में और उसके बाद कुछ लोग अब जोगी परिवार के अस्तित्व को खत्म बता रहे हैं। रेणु जोगी ने कहा कि उन्हें सम्मानपूर्वक ये स्पष्ट कर देना चाहती हूं कि मरवाही से हमरा पुश्तों का नाता है, जो किसी के दबाव में खत्म होने वाला नहीं है। स्व.जोगी ने मुझे,अपने बेटे और अपनी बहू को सदा ही ये सिखाया है " हिम्मत से हारो, हिम्मत कभी मत हारो"। और अब उनके इन्ही शब्दों के साथ हम आगे बढेंगे। रेणु जोगी ने आरोप लगाया है कि मरवाही उपचुनाव में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की तरफ से सभी 4 प्रत्याशियों अमित जोगी, रिचा जोगी, पुष्पेश्वरी कवर,एमूलचंद का नामांकन रद्द करा अकेले ही चुनाव में उतरी कांग्रेस ने जीत हासिल की है। यह जीत पूरे चुनाव में जोगी परिवार को नजरबंद कर हासिल की गई है। इसलिए इस जीत को जनता का आदेश कम और सत्ता शासन के दबाव मे जबर्दस्ती हासिल की जीत कहना ज्यादा उचित है।

09-11-2020
जेसीसीजे छात्र संगठन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र,जल जीवन मिशन मामले के दोषियों पर कार्रवाई की मांग

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) छात्र संगठन ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप साहू ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र के माध्यम से जल जीवन मिशन योजना में अनियिमिताओं के दोषियों पर कार्रवाई करने व उन्हें बर्खास्त करने की मांग की है। प्रदीप साहू ने पत्र में मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि आपने ने ही टेंडर को अपनी कैबिनट की बैठक में अनियमिता होने के कारण रद्द किया है। इसमें बाहरी ठेकेदारों को कमीशन की आड़ पर लाभ पहुंचाने का काम करने वाले पीएचई विभाग के अधिकारियों पर कठोर कार्रवाई की जाए। उन्हें बर्खास्त किया जाए। साथ ही पीएचई मंत्री से इस्तीफे की मांग की गई है। कहा गया है कि 15 दिनों के अंदर दोषियों पर कठोर कार्रवाई करते हुए,उन्हें पद से बर्खास्त नहीं किया जाता है तो मुख्यमंत्री निवास का घेराव किया जाएगा। मुख्यमंत्री को दर्पण भेंट कर विरोध जाहिर किया जाएगा। इसकी पूरी जवाबदारी शासन प्रशासन की होगी।  पत्र के माध्यम से प्रदीप साहू ने कहा है कि छत्तीसगढ़  सरकार के "जीवन मिशन योजना" के अंतर्गत वर्ष 2023 तक राज्य के  लगभग 42 लाख परिवारों  को पीने के शुद्ध पानी के कनेक्शन दिया जाना था। इसके लिए सरकार ने जल जीवन मिशन योजना के लिए 10 हजार करोड़ का अलॉटमेंट किया हैै। इसमें कुल 1376 ठेकेदारों को काम मिला था। टेंडर प्रक्रिया में घोर अनियमितता करते इस योजना में 70 प्रतिशत अर्थात  7000 करोड़  का काम बाहरी 10 ठेकेदारों को मैदानी इलाके में  और बाकी 10366 स्थानीय ठेकेदारों  को बस्तर क्षेत्र में 7000 करोड़ रुपया का काम  दिया गया था। इसमें कुछ  कंपनियां ब्लैक लिस्ट की श्रेणी में है, जबकि छत्तीसगढ़ में एक से बढ़कर एक योग्य ठेकेदार हैं। टेंडर का आउटसोर्सिंग का राज्य में यह बहुत बड़ा उदारहण है।

 

03-11-2020
मरवाही में कांग्रेस की जमानत जब्त होगी : अमित जोगी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने मरवाही उपचुनाव का मतदान थमने के बाद दावा किया है कि मरवाही में कांग्रेस की जमानत जब्त होगी। मरवाही उपचुनाव के परिणाम के बाद भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर राजनीति से सन्यास ले लेना चाहिए। अमित जोगी ने कहा है कि मारवाही चुनाव को जीतने के लिए कांग्रेस ने 10 मंत्री, 60 विधायकों के साथ सरकार ने मरवाही में तंबू गाड़ कर बैठ गई। साम-दाम-दंड-भेद की नीति अपनाई। अमित ने आरोप लगाया है कि दारू ,बकरा, साड़ी, सोने की बिछिया बांटे और 15000 रुपया प्रति वोट दिया। इसके बाद भी  कांग्रेस की मरवाही में शर्मनाक हार होगी। कांग्रेसी अपनी जमानत बचा ले तो बहुत बड़ी बात होगी।

 

28-10-2020
देवव्रत सिंह को अमित ने दिया जवाब-अजीत जोगी के बारे में न जानने वाले उनकी आत्मकथा पढें

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अमित जोगी ने पार्टी विधायक देवव्रत सिंह के बयान पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। अमित ने कहा है कि जो पार्टी मेरे स्वर्गीय पिता अजीत जोगी के निधन के बाद भी उनका लगातार अपमान कर रही है, उस पार्टी में जाने का सवाल ही नहीं उठता है। ऐसा कुछ लोग उपचुनाव के ठीक पहले अचानक क्यों कह रहे हैं, ये तो वो ही बता पाएंगे। मैं उनको जोगी की आत्मकथा पढ़ने की सलाह जरूर दूंगा। उनकी सारी गलतफहमी मिनटों में दूर हो जाएगी। अमित ने कहा है कि जिनको कांग्रेस प्रवेश करने का शौक है, वे पंजा छाप से उपचुनाव लड़े। उनका जवाब जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) बखूबी देना जानती है। अपनी जमानत बचा पाएं तो अजूबा होगा। सीएम भूपेश की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। अमित जोगी ने कहा है कि जिन्होंने ने मेरे पिता और मुझे झीरम घाटी के नरसंहार का दोषी और अंतागढ़ में पार्टी विरोधी साबित करना चाहा, ऐसे जोगेरिया से पीड़ित प्राणियों  को अपने दिमाग का इलाज कर लेना चाहिए। दुर्भाग्य से वे आज प्रदेश की बागडोर संभाल रहे हैं। ऐसे लोगों की जगह मंत्रालय में नहीं बल्कि पागलखाने में होनी चाहिए।

 

26-10-2020
रेणु जोगी ने मुख्य चुनाव आयुक्त को लिखा पत्र,अपमानजनक टिप्पणी करने वालों पर कार्रवाई की मांग

रायपुर। उप नेता जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे)विधायक दल रेणु जोगी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है। कोटा विधायक रेणु जोगी ने पत्र के जरिए शिकायत की है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं की ओर से अजीत जोगी के बारे में की जा रही टिप्पणी पर चुनाव आयोग से शिकायत की है। उन्होंने अजीत जोगी पर अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करने की बात कही है। रेणु जोगी ने अजीत जोगी पर टिप्पणी करने वालों पर एफआईआर दर्ज करने की मांग की है।

 

 

21-10-2020
जेसीसीजे के 24 कार्यकर्ताओं ने थामा कांग्रेस का हाथ, मोहन मरकाम ने किया स्वागत

रायपुर/मरवाही। पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम के समक्ष बुधवार को जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के 24 कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस में प्रवेश किया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि इनमें दिनेश लहरे, निखिल रॉय, निकित रॉय, मयंक द्विवेदी ,अमन रजक, संश्कार राय, अभिषेक रॉय, प्रवीण जायसवाल, विजय राय, पवन यादव, लक्की शर्मा, श्यामू प्रधान, मदन यादव, मंगल पेन्द्रों, कमल लहरे, गोही लाल यादव, जीवन यादव, संतोष पेन्द्रों, मयनकु, भीकम पेन्द्रों, फूलचंद पेन्द्रों, देवेंद्र टेकाम ,विकाश रॉय, आदित्य तिवारी, उत्तम पा, नीलेश प्रजापति शामिल हुए। कांग्रेस की नीतियों, नेतृत्व और सुशासन से प्रभावित होकर कांग्रेस पार्टी में प्रवेश किया। प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने सभी का कांग्रेस पार्टी में स्वागत किया।

18-10-2020
अमित-ऋचा का नामांकन निरस्त होने पर भड़के जोगी कांग्रेसी,पुतला दहन के दौरान पुलिस के साथ जमकर झूमा झटकी

रायपुर। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी और ऋचा जोगी का नामांकन निरस्त होने पर जेसीसीजे के लोग भड़क गए हैं। युवा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के नेता प्रदीप साहू ने आरोप लगाया है कि तानाशाह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेशानुसार नामांकन अवैधानिक रूप से निरस्त किए गए। इसके वरोध में रविवार को बड़ी संख्या में जोगी कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पुतला जलाने धरना प्रर्दशन करने बूढ़ापारा पहुंचे। पुतला को जलाने के दौरान पुलिस बल के साथ झूमाझटकी हुई। पुतला का अस्थि पंजर अलग-अलग हो गया। इसे जोगी कांग्रेसियों ने पुलिस से छीनकर बूढ़ातालाब में बहाकर भड़ास निकाली। प्रदीप साहू ने कहा है कि 17 अक्टूबर का दिन छत्तीसगढ़ के इतिहास में लोकतंत्र का काला दिन के रूप में जाना जाएगा। इस दिन तानाशाह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेश पर न सिर्फ हमारे अध्यक्ष अमित जोगी और ऋचा जोगी का नामांकन निरस्त हुआ हैं, बल्कि लोकतंत्र की हत्या भी हुई है। जोगी परिवार को मरवाही से चुनाव लड़ने से रोककर भूपेश बघेल ने स्व. जोगी और मरवाही की जनता का अपमान भी किया है। प्रदीप साहू ने कहा है बात उठेगी तो दूर तलक जाएगी, जोगी परिवार से जाति पूछने वाले पहले अपने गांधी परिवार से पूछे कि खान परिवार, गांधी परिवार कैसे हो गया। 20 साल से मरवाही की जनता को धोखे में रखने का आरोप लगाने वाले पहले यह बताए कि किस परिवार ने देश को 70 साल से धोखा दिया है।


जनता कांग्रेस महिला विभाग की प्रदेश अध्यक्ष अनामिका पॉल ने कहा है कि मरवाही की जनता इतनी बेबस और बेवकूफ नहीं कि कांग्रेस की चाल को नहीं समझ रही है। चुनाव लड़ने से पहले ही कांग्रेस चुनाव हार गई है और जोगी कांग्रेस का मुकाबला करने से कांग्रेस डर गई है। इसलिए उन्होंने अमित जोगी और ऋचा जोगी को नामांकन षडयंत्र पूर्वक निरस्त कर दिया। कार्यक्रम में महेन्द्र चंद्रकार, राजीव कश्यप, संदीप यदु, विक्रम नेताम, अजय देवांगन, हरीश वर्मा, सुजीत डहरिया, नजीब अशरफ , राज नायक, डेमन लाल, अनिल भारती,, सन्नी सालोमन,, मंसु निहाल, सन्नी तिवारी, सन्नी सिंह होरा, दशमु तांडी, राजकिशोर साहू, रोहित नायक, गजेन्द्र कश्यप, संजू धीवर, दुर्गेश सारथी, सनील नेताम, दिलीप राठौर, सतीश नागवानी, मनीराम, मनीष धीवर, प्रसन्न पंडया, राहूल बंजारे, राजेश, राज, मंजीत चेलक, शाहरूख, अफसार कुरैशी, पारस साहू, अजय सेन, अजय चंद्राकर, जयप्रकाश, विवेक बंजारे, योगेंद्र देवांगन, चेतन आडिल सहित बड़ी संख्या में जोगी कांग्रेसी उपस्थित थे।

 

16-10-2020
पिता अजीत जोगी को पुष्पांजलि अर्पित कर नामांकन भरने पहुंचे अमित, मां रेणु और पत्नी ऋचा थे साथ

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने शुक्रवार को अपनी माता रेणु जोगी व धर्मपत्नी ऋचा जोगी की उपस्थिति में मरवाही विधानसभा में होने वाले उपचुनाव के लिए अपना नामांकन भरा। इसके पूर्व अमित जोगी पेंड्रा स्थित अपने स्व.पिता के समाधि स्थल में पहुंचे।  यहां अमित ने माथा टेका और उनका आशीर्वाद लिया। मिट्टी को अपने माथे में लगाकर नामांकन आवेदन भरने पहुंचे। अमित जोगी ने सपत्निक अपनी माता रेणु जोगी का चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लिया। अमित जोगी ने कहा है कि मैं अजीत पुत्र अमित, अर्जुन का अभिमन्यु नहीं बनने वाला हूं, चाहे विरोधी जितने जाल बिछा दे, नहीं फंसने वाला हूं। मैं हर चक्रव्यूह को तोड़ूंगा और मरवाही को जीतूंगा। मैं तो प्रतीक मात्र हूं, चुनाव तो मरवाही की 2 लाख जनता लड़ रही है, जो स्वयं में जोगी है। अमित ने आरोप लगाया है कि सरकारी तंत्र का चाहे जितना भी दुरुपयोग कर ले शासन, चाहे जितने भी पहरे बिठाले, चाहे जितने भी सितम कर ले। मरवाही की जनता इससे डरने वाली नहीं है। हमेशा की तरह वह इस बार भी इसका जवाब जोगी के प्रति अपने प्रेम और आस्था से देगी।

अमित ने कहा है कि इस बात को प्रदेश सरकार भी अच्छी तरह से जान रही है, इसीलिए वह अपने साथ-साथ अपनी पूरी कांग्रेस और अपने पूरे प्रशासन तंत्र को मरवाही के मुकाबले में झोंक दिया है। जो इस कोरोना काल में अपनी आवाजाही से शहर और गांव को कोविड-19 के संक्रमण के खतरे में डाल रहे हैं। सत्ता की भूखी सरकार शायद यह भूल रही है कि मरवाही की जनता जोगी के साथ-साथ एक बैगा भी है। डॉक्टरों का इलाज करना उसे आता है,इसे वह 3 नवंबर को अपने मतदान से साबित करेगी। अमित जोगी ने कहा है कि 10 नवंबर को होने वाली मतगणना में प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार और उनकी कांग्रेस और उनके प्रशासन तंत्र को भी यह पता चल जाएगा कि जोगी का मतलब ही मरवाही है और मरवाही का मतलब ही जोगी है। जोगी अमर थे, अमर हैं और अमर ही रहेंगे।

 

16-10-2020
मरवाही उपचुनाव के पूर्व जेसीसीजे को बड़ा झटका,पार्टी के कद्दावर नेता ने थामा कांग्रेस का हाथ

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के एक और कद्दावर नेता 6 ग्रामपंचायत और 17 बूथ प्रभारी प्रशांत गुप्ता ने शुक्रवार को प्रभारी मंत्री गौरेला-पेंड्रा- मरवाही जयसिंह अग्रवाल के नेतृत्व में कांग्रेस का हाथ थामा है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार के विकास कार्यों से प्रभावित होकर कांग्रेस पार्टी में प्रवेश किया है। इस दौरान शंकर कंवर, अर्चना पोर्ते,आरपी सिंह प्रवक्ता प्रदेश कांग्रेस कमेटी, बिलासपुर जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी उपस्थित थे। सभी ने 3 नंवबर को होने वाले गौरेला-पेंड्रा-मरवाही विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस को प्रचंड बहुमत से जीत हासिल कराने का संकल्प लिया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804