GLIBS
02-01-2021
टीकाकरण केन्द्र में पहुंचे कलेक्टर, व्यवस्था और प्रक्रिया की जानकारी ली

दुर्ग। कोविड 19 के लिए वैक्सीन लगाने की तैयारी जिले में भी पूरी प्रक्रिया के साथ की जा रही है। इसके लिए सुचारू रूप से वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया के लिए आज मॉकड्रिल की गई। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर भुरे ने शासकीय झाड़ू राम देवांगन शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पहुंचकर मॉकड्रिल के माध्यम से कोरोना के वैक्सीन लगाने की व्यवस्था और प्रक्रिया का मुआयना किया। उल्लेखनीय है कि आगामी समय में चिन्हांकित लोगों को वैक्सीन लगाया जाएगा। मॉकड्रील करने का उददेश्य कोरोना की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया की सुचारू संचालन एवं सफल बनाने के उददेश्य से किया गया है।

इसके लिए जिले भर में लगभग 14 हजार लोगों का चिन्हांकन किया गया है। इन्हें 50 टीकाकरण केंद्रों के माध्यम से वैक्सीन लगाया जाएगा।टीकाकरण केन्द्र में चिन्हांकित व्यक्ति को सर्वप्रथम सेनेटाइज करने के साथ ही टेम्परेचर मैपिंग किया जाएगा। इसके बाद उनका सत्यापन किया जाएगा, प्रथम सत्यापन के बाद अंतिम सत्यापन कक्ष में निर्धारित पहचान पत्र के जरिए पात्रता निर्धारित की जाएगी। टीकाकरण कक्ष में वैक्सीन लगाया जाएगा। वैक्सीन लगाने के उपरांत आधे घंटे के लिए ऑब्जरवेशन में रखा जाएगा। ऑब्जरवेशन के दौरान किसी प्रकार की समस्या या दिक्कत होने पर संबंधित चिकित्सक के द्वारा निगरानी रखी जाएगी।

 

30-12-2020
पर्यटन केंद्र तीरथगढ़ में कोविड 19 के प्रोटोकॉल का पालन के लिए चलाया गया अभियान

जगदलपुर। कलेक्टर रजत बंसल के निर्देशानुसार जिले के सभी पर्यटन केंद्रो में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, मास्क का उपयोग के साथ साथ साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित किया जाना है। पर्यटन केंद्रो में आने वाले पर्यटकों द्वारा  कोविड 19 के प्रोटोकॉल का पालन,पर्यटन स्थल को साफ और स्वच्छ रखना है पर्यटकों के द्वारा दायित्वों का निर्वाह नहीं करने के कारण स्थानीय प्रशासन के द्वारा लोंगों को जागरूक करने का दायित्व निभाया जा रहा है। दरभा जनपद पंचायत अंतर्गत आने वाले पर्यटन केंद्र तीरथगढ़ में बुधवार को डिप्टी कलेक्टर सह सीईओ जनपद दरभा कौशल तेंदुलकर के नेतृत्व में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, प्लास्टिक बैन के लिए जागरूकता अभियान किया गया।

 

28-12-2020
अप्रशिक्षित डॉक्टरों के इलाज से बिगड़े केस यहां लाए जाते हैं, जिन्हें बचा नहीं पा रहे हैं : डॉ सुंदरानी

रायपुर/बेमेतरा। कोविड 19 की संक्रमण दर अभी कम है लेकिन आई सी यू में मौतें अधिक हो रही हैं। इससे चिकित्सक भी चिंतित हैं क्योंकि उनके हर संभव प्रयास के बाद भी कुछ मरीज नहीं बच पा रहे हैं। मेडिकल काॅलेज हाॅस्पीटल रायपुर के क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ ओ पी सुंदरानी ने बताया कि अभी ग्रामीण क्षेत्रों से ऐसे बहुत केस आ रहे हैं जिनकी उम्र 60 से अधिक है और वहीं अप्रशिक्षित प्रैक्टिशनर से इलाज कराना शुरू करते हैं और जब तकलीफ बहुत बढ़ जाती है तभी शासकीय स्वास्थ्य केन्द्र लाते हैं और कई मामलों में मरीज आईसीयू में भी स्टेबल नहीं हो पाते हैं। डॉ सुंदरानी ने कहा कि घर के युवा सदस्यों को कोविड अनुकूल व्यवहार करना चाहिए जैसे मास्क लगाना, भीड़ से बचना आदि अन्यथा वे यदि संक्रमित हो गए तो उनकी तबीयत ठीक हो सकती है लेकिन बुजुर्गों को इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते हैं। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों को यदि मामूली सर्दी, बुखार, शरीर में दर्द, थकान, भूख न लगना, उल्टी दस्त आदि लक्षण दिखे तो तुरंत किसी चिकित्सक से ही जांच करानी चाहिए। जल्दी जांच और इलाज से मरीज के स्वस्थ होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। अभी दमा और सांस की तकलीफ वाले मरीजों को अत्यधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता है। उन्हें ठंड से बचना चाहिए।

 

25-12-2020
कोविड 19 के टीकाकरण के लिए हुई कार्यशाला

रायपुर। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र धरसींवा क्षेत्र के शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल परसतराई में कोविड 19 के टीकाकरण को लेकर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया । कार्यशाला में क्षेत्र के समस्त स्वास्थ्य पर्यवेक्षक, आरएचओ महिला एवं पुरुष एएनएम सम्मिलित हुई। इस दौरान डॉ.विकास तिवारी द्वारा क्षेत्र में कोविड 19 टीकाकरण तैयारियों से टीम को अवगत कराया गया। कार्यशाला में जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.अनिल परसाई, एएसओ दिलीप कुमार बंजारे, बीएमओ एवं बीपीएम उपस्थित रहे। कोविड.19 वैक्सीनेशन की जानकारी प्रतिभागियों को पीपीटी के माध्यम से दी गई। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.अनिल परसाई ने बताया, कोविड 19 टीकाकरण की तैयारी को लेकर भारत सरकार से प्राप्त गाइडलाइन के तहत विशेष प्रशिक्षण दिया गया है। साथ ही वैक्सीनेशन कराने वाले स्थान पर मौजूद रहने वाले स्टाफ को वैक्सीनेशन रूम में पालन की जाने वाली गाइडलाइन के साथ साथ ऑब्जरवेशन रूम में की जाने वाली गतिविधियों के बारे में भी विस्तार से बताया गया और समस्त प्रतिभागियों की समझ को विकसित किया गया साथ ही समस्त गतिविधियों का आयोजन शारीरिक दूरी के साथ.साथ भारत सरकार की गाइडलाइन के तहत किया गया। उन्होंने कहा, कोविड 19 टीकाकरण को लेकर विभाग की ओर से तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। कोविड टीका के रखरखाव को लेकर सभी आवश्यक तैयारी लगभग पूरी कर ली गयी है। जिले में कोविड 19 टीकाकरण की तैयारी अपने अंतिम चरण में है। जिला स्तर से लेकर विकासखण्ड स्तर तक टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया है। प्रथम चरण में निजी व सरकारी स्वास्थ्य कर्मियों को टीकाकरण किया जाना है।

 

21-12-2020
89 वर्षीय सेवानिवृत्त न्यायाधीश रामकुमार शर्मा ने परास्त किया कोरोना को,बेमेतरा कोविड सेंटर की शानदार उपलब्धि

रायपुर /बेमेतरा। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण से पूरा देश व विदेश प्रभावित है। इससे बचने के लिए हरसंभव उपाय किये जा रहे है। बेमेतरा जिले मे 89 वर्षीय सीनियर सिटीजन ने कोरोना वायरस को किया परास्त सेवानिवृत्त न्यायाधीश रामकुमार शर्मा उम्र 89 वर्ष ने 5 दिसम्बर 2020 को कोविड-19 एंटीजन टेस्ट बेमेतरा में कराया। इसमें पॉजिटिव पाए जाने उपरांत उन्हें कोविड केयर सेन्टर बेमेतरा में इलाज के लिए भर्ती किया गया। लगातार चिकित्सकीय देखरेख में नियमों का पालन करते हुए इलाज चला व 14 दिसम्बर 2020 को इलाज उपरांत नेगेटिव आने पर उन्हें डिस्चार्ज किया गया। वो अभी पूर्णतः स्वास्थ्य है। इस उम्र में कोविड-19 को शिकस्त देना उनके व चिकित्सकों,जिसने इलाज किया बेमेतरा कोविड केयर सेन्टर का उपलब्धि है।

26-11-2020
Breaking: प्रदेश में आज मिले 1753 नए कोरोना संक्रमित, राजधानी में 200 से अधिक मिले मरीज, सुकमा में शून्य

रायपुर। कोविड 19 ठंड में सक्रिय नहीं हो सके इसके लिए शासन और प्रशासन सभी आवश्यक कदम उठा रहा है। गुरुवार को प्रदेश में कोरोना के 1753 नए संक्रमितों की पहचान हुई। रात 8 बजे जारी मेडिकल के अनुसार कोविड अस्पताल से 105 और होम आइसोलेशन से 1447 मरीज ठीक हुए हैं। प्रदेश में कोरोना और अन्य बीमीरियों से आज 17 मौत हुई। पूर्व में 1 मौत की जानकारी स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली है। प्रदेश में कुल सक्रिय संक्रमितों की संख्या 23957 है। राजधानी रायपुर में आज कोरोना के 219 मरीज मिले हैं। वहीं सुकमा से एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है।दुर्ग से आज 169, राजनांदगांव से 136, बालोद से 100, बेमेतरा से 48, कबीरधाम से 39, रायपुर से 219, धमतरी से 53, बलौदा बाजार से 79, महासमुंद से 59, गरियाबंद से 13, बिलासपुर से 149, रायगढ़ से 167, कोरबा से 120, जांजगीर चांपा से 60, मुंगेली से 17, गौरेला पेंड्रा मरवाही से 7, सरगुजा से 70, कोरिया से 33 सूरजपुर से 40, बलरामपुर से 47, जशपुर से 7, बस्तर से 24, कोंडागांव से 31, दंतेवाड़ा से 36, कांकेर से 15, नारायणपुर से 1, बीजापुर से 11, अन्य राज्य से तीन और सुकमा से आज एक भी मरीज नहीं मिला है। मेडिकल बुलेटिन देखने के लिए क्लिक करें 

24-11-2020
मेला-मड़ई में कोविड 19 से बचाव के लिए जिला दण्डाधिकारी ने जारी किए निर्देश

धमतरी। दीपावली त्यौहार के बाद ग्रामीण अंचलों में प्राचीन परम्परा अनुसार मेला/मड़ई का आयोजन किया जाता है। लाॅकडाउन खत्म होने के बाद कोविड 19 से बचाव के निर्देशों का सही ढंग से पालन नहीं करने के कारण कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है। कोरोना काल में भी मेला-मड़ई का आयोजन किया जाता है, तो उसके लिए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी जयप्रकाश मौर्य ने कोविड 19 से बचाव के मद्देनजर आवश्यक दिशा-निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करने के निर्देश दिए हैं। जारी निर्देशों के तहत मेला/मड़ई में बुजुर्ग व्यक्ति, गर्भवती माताएं, छोटे बच्चे, सर्दी-खांसी, बुखार, बीपी, शुगर एवं गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्ति शामिल नहीं होगा। जिस गांव में मेला-मड़ई हो रहा है, उस गांव में अन्य गांव के व्यक्ति नहीं आए, यह प्रयास किया जाए, क्योंकि लापरवाही के कारण कोरोना संक्रमण फिर से बढ़ रहा है, किन्तु इसमें विवाद की स्थिति निर्मित नहीं हो तथा किसी की धार्मिक भावना आहत नहीं हो। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए तथा मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकलें।

अनुविभागीय दण्डाधिकारी की अध्यक्षता में मेला समिति बैठक आयोजित करेगी, जिसके बाद ही मेला की अनुमति परिस्थितियों एवं शर्तों के अधीन प्रदान की जाएगी। मेला-मड़ई स्थल में दो-तीन जगहों पर लाउडस्पीकर लगाया जाए, जिसमें कोविड 19 से बचाव के निर्देशों का उद्घोषणा किया जाए। जिस गांव में मेला/मड़ई हो रहा है, वहां स्वास्थ्य विभाग की टीम एंटीजन कीट तथा अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ उपस्थित रहेंगे और संबंधित थाना प्रभारी नियमित रूप से पेट्रोलिंग करेंगे। दुकानों में साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए,इसकी जवाबदारी गांव वालों तथा आयोजन समिति की होगी। मेला-मड़ई के बाद गांव में दवाई (सैनिटाइज) का छिड़काव किया जाए। कलेक्टर ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए मेला-मड़ई का आयोजन प्रतीकात्मक रूप से किया जा सकता है,जिससे धार्मिक आस्था भी बनी रहे तथा अनावश्यक भीड़ से भी बचा जा सके। परम्परा अनुसार देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना करके भी मेला-मड़ई आयोजित किया जा सकता है, जिसमें अन्य व्यक्तियों (भीड़) की आवश्यकता नहीं होगी। कोविड 19 से बचाव के सभी शर्तों का अनिवार्य रूप से पालन करने के निर्देश कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी ने दिए हैं।

 

27-10-2020
बोल्टू के बोल माध्यम से चल रही है मोहल्ला क्लास पढ़ई तुंहर द्वार के जरिए बच्चों को पढ़ाई से जोड़े रखी है भूपेश सरकार

रायपुर/बेमेतरा। कोविड 19 के कारण बंद पढ़ाई के बीच बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने पढ़ई तुंहर दुआर अंतर्गत मोहल्ला क्लास में बोल्टू के बोल आदि माध्यमों से क्लास संचालित किया जा रहा है और बच्चों को शिक्षा दिया जा रहा है। कोविड-19 के निर्देशानुसार आडियो के माध्यम से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। बोल्टू के बोल में बेमेतरा जिले के कुल 46 शिक्षकों का योगदान 141 कुल हाट बाजार, 353 लोगों को कुल सामग्री भेजे गए एवं 2672 कुल सामग्री लोगों को भेजे गए हैं। इस प्रकार बोल्टू के बोल के माध्यम से अध्यापन कार्य में बेमेतरा जिला पूरे छत्तीसगढ़ में दूसरे स्थान पर है। जो एक गौरव की बात है। कुछ दिनों में यह प्रयास प्रथम आने का रहेगा। इस प्रकार शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार विभिन्न माध्यमों का उपयोग कर बच्चों को अध्यापन कार्य कराया जा रहा है।

26-10-2020
कोविड 19 का दूसरा संक्रमण तेजी से फैल रहा है अब अत्याधिक सावधानी बरतने का समय

रायपुर/बेमेतरा। कोरोना महामारी ने पूरे विश्व के परिद्दय को एक पटल पर लाकर खड़ा कर दिया है। कोई भी देश अब आइसोलेशन में नही है, एक देश में होने वाली घटनाओं का असर दूसरे देशों पर भी पड़ रहा है। जैसे कोरोना वायरस चीन से होते हुए पूरे विश्व में फैल गया और यह अभी समाप्त नही हुआ है। इसकी रफ्तार कुछ कम हुई है लेकिन यदि हम सतर्क नहीं रहे तो यह फिर से उसी रफ्तार से फैल सकता है। जैसा कि अभी यूरोप में हो रहा है।यूरोप में कोविड 19 का दूसरा संक्रमण फैल रहा है। वहां अब 10 दिनों में ही केस दुगुने हो रहे हैं। जर्मनी में 24 घंटे में 10 हजार केस सामने आए।  विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी चेतावनी दी है कि अभी भी अत्यधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। यूरोप में कई देशों जैसे इटली, आयरलैंड,ग्रीस, बेल्जियम, पोलैड, जर्मनी में फिर से लॉक डाउन लगाया जा रहा है या प्रतिबंध बढ़ाए जा रहे हैं।

इन सबसे हमें सबक लेना चाहिए क्योंकि केस कम होने की जानकारी मिलते ही लोग अब कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन नही कर रहे। मास्क नही लगा रहें, दो गज की दूरी नही अपना रहें। त्योहारों में खरीददारी के समय भीड़ हो रही है। दुकान वाले भी मास्क नही लगा रहें। इस लापरवाही के कारण केस बढ़ने के साथ ही, हो सकता है दोबारा यूरोप की तरह लॉकडाउन करना पड़े। इसलिए अभी समझदारी से ही कोविड प्रोटोकाल का पालन करना होगा। विशेषज्ञ भी बार-बार ठंड और प्रदूषण में बीमारी बढ़ने की आशंका जता ही रहे हैं। केरल राज्य का उदाहरण भी सबके सामने हैं जहां ओणम त्योहार के बाद संक्रमण तेजी से फैला। इसलिए शरद पूर्णिमा, दीवाली ,ईद ,छठ पर्व, गुरुनानक जयंती, सतर्क रह कर मनाएं, खुशियां बांटे, संक्रमण नहीं ।

22-10-2020
बिना मास्क लगाए घूम रहे लोगों से वसूला गया अर्थदंड

राजनांदगांव। कोविड 19 की रोकथाम के जिला प्रशासन ने अभियान चलाकर नियमों का उल्लंघन करने वालों से जुर्माना वसूला। गुरुवार को पुलिस थाना बोरतलाव अन्तर्गत जिला पुलिस बल, राजस्व विभाग एवं ग्राम पंचायत बोरतलाव ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए विशेष अभियान चलाया। चेकिंग कार्यवाही में बिना मास्क लगाए घूमने वालों व दुकानदारों पर चालानी कार्यवाही की गई है। इसमें कुल 38 लोगों से 3800 रुपये समन शुल्क वसूला गया। थाना प्रभारी ने बताया कि नवरात्रि समाप्त होने के बाद कोविड-19 के रोकथाम के लिए कार्यवाही जारी रहेगी।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804