GLIBS
24-11-2020
एक दिसंबर से धान खरीदी के लिए सरगुजा जिले में तैयारी पूरी

अंबिकापुर। प्रदेश में एक दिसंबर से धान की खरीदी शुरू हो जाएगी। इसके लिए सरगुजा जिले में धान खरीदी समितियों ने तैयारी कर ली है। कोरोना संक्रमण की वजह से इस वर्ष धान खरीदी में काफी देरी हुई है। प्रदेश सरकार का कहना है कि केंद्र सरकार की ओर से समय पर बारदाना उपलब्ध नहीं कराया गया, जिस वजह से धान खरीदी में देरी हुई है। लेकिन बारदाने की कमी के बीच सूबे की सरकार ने एक दिसंबर से धान खरीदी करने का फैसला लिया है। ऐसे में एक सप्ताह से भी कम समय बचा हुआ है। वहीं सरगुजा जिले में धान खरीदी समितियों ने तैयारियां कर ली है। धान खरीदी समितियों को पीडीएस के बारादान उपलब्ध कराया है। बेमौसम बारिश की आंशका को देखते हुए समितियों ने त्रिपाल की व्यवस्था की है। ताकि बारिश की वजह से धान को नुकसान न पहुंचे। वहीं कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए टोकन सिस्टम के जरिए धान की खरीदी की जाएगी। इसके अलावा धान खरीदी केंद्रों में सैनिटाइजर और मास्क की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। बता दें कि इस वर्ष पंजीकृत किसानों की संख्या में वृद्धि हुई है।

22-11-2020
चल रही थी पार्टी, खत्म हुई शराब, महिला सहित 9 लोगों ने पी लिया सैनिटाइजर, 7 की मौत

नई दिल्ली। पार्टी में शराब खत्म होने के बाद लोगों ने सैनिटाइजर पी लिया। कोरोना संक्रमण के प्रकोप के बीच रूस के एक गांव में हैंड सैनिटाइजर पीने से 7 लोगों की मौत हो गई। वहीं, दो लोग कोमा में हैं और इन्हें आईसीयू में रखा गया है। घटना रूस के याकुटिया प्रांत के जिले टैटिंस्की के टोमटोर गांव की है। रिपोर्ट के अनुसार शराब खत्म होने के बाद पार्टी में शामिल 9 लोगों ने सैनिटाइजर पी लिया था। सैनिटाइजर में करीब 69 प्रतिशत मेथनॉल था,जिसका इस्तेमाल महामारी के दौर में हाथ साफ करने के लिए हो रहा है। घटना में पहले तीन लोगों की मौत हुई। इसमें 41 साल की महिला सहित 27 और 59 साल के दो पुरुष शामिल हैं। इसके बाद 6 अन्य लोगों को आनन-फानन में एयरक्राफ्ट के जरिए प्रांत की राजधानी याकुत्सक ले जाया गया। यहां तीन और लोगों की मौत अस्पताल में हो गई। इस दौरान एक की भी मौत हो गई। क्षेत्र के एक जांच अधिकारी के अनुसार सैनिटाइजर पीने से इनके शरीर में जहर फैल गया था। इस बीच पूरे मामले की जांच भी शुरू हो गई है और आपराधिक केस दर्ज किया गया है। रूस की सरकार लगातार पिछले दिनों में लोगों से सैनिटाइजर नहीं पीने के निर्देश जारी करती रही है।

 

 

19-11-2020
अरुण वोरा और धीरज बाकलीवाल ने देखी तालाबों की व्यवस्था,पार्षदों को दिए मास्क और सैनिटाइजर

दुर्ग। नगर निगम सीमा क्षेत्र के विभिन्न तालाबों में होने वाली छठ पूजा की तैयारी का आज विधायक अरुण वोरा और महापौर धीरज बाकलीवाल ने पुजेरी तालाब, कसारीडीह तालाब, माता तालाब पहुंचकर निरीक्षण किया। इस दौरान तालाबों की साफ-सफाई और व्यवस्था में जुटे पार्षद अरुण सिंह, शिवेन्द्र परिहार आदि को विधायक और महापौर ने छठ पूजा स्थल पर सोशल डिस्टेंस बनाने के साथ ही यहां आने वाले प्रत्येक लोगों को मास्क पहनाकर आने और सैनिटाइजर लगाकर प्रवेश करने के लिए मास्क और सैनिटाइजर वितरित किये। उन्होनें कहा कोरोना संक्रमण का खतरा अभी टला नहीं हैं एहतियात बरतना आवश्यक है। धार्मिक पर्व छठ पूजा से लोगों की आस्था जुड़ा हुआ है। अतः छठ पूजा के साथ ही संक्रमण से बचाव भी जरुरी है। सभी वार्ड जनप्रतिनिधि अपने-अपने वार्ड के तालाबों में वेदी निर्माण कराकर सुरक्षित रुप से पूजा अर्चना कराकर त्यौहार को मनायें। उन्होनें छठ मइया से प्रार्थना कर शहर की सुख समृद्धि की मंगल कामना किए। इस दौरान एमआईसी प्रभारी अब्दुल गनी, स्वास्थ्य प्रभारी हमीद खोखर, देवेश मिश्रा, स्वास्थ्य अधिकारी दुर्गेश गुप्ता व अन्य उपस्थित थे।


 

18-11-2020
जिला व पुलिस प्रशासन ने किया शहर में फ्लैग मार्च, लोगों से की गाइडलाइन पालन करने की अपील

राजनांदगांव। ठंड बढ़ने के साथ ही कोरोना का प्रकोप बढ़ने की आशंका को देखते हुए जिला व पुलिस प्रशासन ने संयुक्त रूप से शहर में फ्लैग मार्च किया। इसमें लोगों को मास्क पहनने,सैनिटाइजर का उपयोग करने तथा सुरक्षित दूरी बनाए रखने की अपील की। फ्लैग मार्च में ज़िलाधीश टोपेश्वर वर्मा,पुलिस अधीक्षक डी.श्रवण,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुरेशा चौबे, नगर पुलिस अधीक्षक मणिशंकर चंद्रा, कोतवाली प्रभारी वीरेंद्र चतुर्वेदी सहित सभी थानों के प्रभारी व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे। अधिकारियों ने स्वास्थ्य विभाग से जारी गाइडपालन के पालन करने की अपील आमजनता से की। इस दौरान बिना मास्क के घूम रहे कुछ लोगों का चालान भी किया गया।

 

22-10-2020
रंगोली बनाकर आयोडीन अल्पता निवारण का दिया संदेश

रायपुर। आयोडीन अल्पता निवारण के प्रति जागरुक करने के लिए मितानिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहयिका के साथ किशोरियों ने मिलकर रंगोली बनाकर आयोडीन अल्पता निवारण का संदेश दिया। साथ ही स्वस्थ जीवन के लिए जनसामान्य को साफ-सफाई, स्वच्छता और सुरक्षित पेयजल के बारे में भी जागरूक किया। गुढ़ियारी सेक्टर की पर्यवेक्षक रीता चौधरी ने बताया, गुढ़ियारी सेक्टर के आंगनबाड़ी केंद्र शुक्रवारी बाजार की कार्यकर्ता जया सिन्हा सहायिका सरिता श्रीवास्तव, मितानिन गायत्री साहू और किशोरी बालिका हर्षिता सिन्हा, मधु बघेल ने विश्वआयोडीन अल्पता दिवस पर रंगोली बनाकर आयोडीन की कमी से होने वाली समस्या के प्रति लोगों को जागरूक किया। साथ ही केंद्र पर मौजूद किशोरियों को आयोडीन की कमी से होने वाली समस्याओं के बारे में भी बताया गया। जैसे आयोडीन की कमी से नवजात शिशु के शरीर व दिमाग की वृद्धि व विकास में हमेशा के लिए रूकावट आ सकती है। छोटे बच्चों, नौजवानों और गर्भवती महिलाओं के लिए आयोडीन क्यों बहुत जरूरी है। आयोडीन मन को शांति प्रदान करती है, तनाव कम करती है, मस्तिष्क को सतर्क रखती है और बाल, नाखून, दांत और त्वचा को उत्तम स्थिति में रखने में मदद करता है। आयोडीन शरीर और मस्तिष्क दोनों की सही वृद्धि, विकास व संचालन के लिए आवश्यक है। 

पर्यवेक्षक चौधरी ने कहा, महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पोषण अभियान के तहत लोगों में जागरूकता लाने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए आंगनबाडी कार्यकर्ताओं और सहयिकाओं के माध्यम से लोगों में साफ-सफाई और उचित खान-पान की जानकारी दी जा रही है साथ ही यह भी बताया जा रहा कि कोरोना संक्रमण काल में साफ-सफाई शारीरिक दूरी और सैनिटाइज़र का उपयोग से न सिर्फ बीमारियों से बचा जा सकता है, बल्कि सेहत के लिए भी यह जरूरी है। इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएं गृह भेंट के माध्यम से और आंगनबाड़ियों में लोगों को हाथों की साफ-सफाई रखने और गंदे हाथों और पानी से होने वाले संक्रामक बीमारियों के प्रति भी जागरूक कर रही हैं। कम से कम 20 सेकण्ड तक साबुन से कैसे हाथों को अच्छी तरह साफ किया जाए भी बताया जा रहा है। हाथों को धोने के बाद साफ कपड़े से कैसे पोछा जाना चाहिए। बच्चों की साफ-सफाई, खाना-खाने से पूर्व और शौच के बाद बच्चों में हाथ साबुन से धोने की आदत को व्यवाहरिक बनाने पर लोगों को बताया जा रहा है ।कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जा रही है।

16-10-2020
Video: कोरोना संकट: चंडी माता के दरबार में इस नवरात्रि नहीं होगी श्रद्धालुओं की भीड़...  

महासमुन्द। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते इस वर्ष महासमुन्द जिले के बागबाहरा ब्लॉक के ग्राम घुंचापाली स्थित मां चंडी मंदिर दरबार में श्रद्धालुओं की भीड़ नहीं लगेगी। राज्य शासन और जिला प्रशासन के आदेशानुसार चंडी मंदिर के समिति प्रबंधन ने 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले कुवार नवरात्रि के लिए मंदिर परिसर के आगे लगने वाले मेले के आयोजन को बंद कर दिया है। छत्तीसगढ़ प्रदेश सहित अन्य राज्यों से आने वाले श्रद्धालु इस वर्ष शायद ही माता चंड़ी के दर्शन कर पाएंगे। पिछले 7 महीने के लॉक डाउन और कोरोना के चलते श्रद्धालुओं का आना जाना यहां कम हो गया है और कई लोग बेरोजगार हो गये है। कोरोना के चलते लगातार मंदिर में श्रध्दालुओं की संख्या में कमी आई है। मंदिर परिसर में पहुंचने वाले भालू भी श्रद्धालुओं के ना पहुंचने से बड़े शांत हो गये है। माता चंडी मंदिर के खूबसूरती और तब बड़ जाती है जब यहां पहुंचने वाले भालू सैकड़ो के भीड़ में मंदिर परिसर में घूम-घूम कर श्रद्धालुओं के हाथ से प्रसाद खाते है। यह नाजारा देखने ही सैकड़ों लोग चंड़ी मंदिर पहुंचते थे। चंडी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष नीलकंठ चन्द्राकर ने जानकारी दी है कि इस वर्ष दूर दराज और अन्य प्रांत से पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को यहां आने से मना करा दिया गया है ताकि मंदिर परिसर में भीड़ ना बड़े। मंदिर परिसर में इस वर्ष आसपास के जो श्रद्धालु माता के दर्शन के लिए पहुंचेगें उन्हें तभी माता के दर्शन करने का अवसर मिल सकेगा जब वह मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करेंगे। साथ ही मंदिर परिसर में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंसिंग और फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

ट्रस्टी इस बात का ध्यान रखेगें के मंदिर में भीड़ ना हो। इसके लिए ट्रस्ट के कर्मचारी श्रद्धालुओं के मंदिर परिसर में पहुंचने तक और नियमों का पालन कराने के लिए ध्यान रखेंगे। मंदिर परिसर में हर साल की तरह इस वर्ष लाखों लोगों के लिए जो भंडारे की व्यवस्था की जा रही थी उस भंडारे को भी बंद कर दिया गया है। श्रद्धालुओं के रूकने के लिए जो स्थान है उसे भी बंद रखा जायेगा। इस वर्ष की नवरात्रि में माता के हवन पूजन और विशेष आरती में बाहर से आने वाले श्रद्धालु भाग नहीं ले सकेंगे। पूरे नवरात्रि तक माता की विधि विधान से पूजा अर्चना की जायेगी।  बागबाहरा के घुचापाली में स्थित मां चंडी पहाड़ो के बीच विराजमान है। यहां की सुन्दरता देखते ही बनती है। ऊंचे पहाड़ और यहां की हरयाली अति सुन्दर है। मां चंडी मंदिर पहुंचने से पहले इन पहाड़ों के बीच बने रास्ते से होकर आपको गुजरना होता है। चैत्र नवरात्रि में इस क्षेत्र में इतनी हरियाली होती है कि आसपास का नजारा श्रद्धालुओं को अपनी तरफ सम्मोहित करता है। पहाड़ों के ऊपर विराजमान मां चंडी की प्रतिमा लगभग साढ़े 27 फीट है। माता चंड़ी मंदिर में वैसे तो 12 माह श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहा है। नवरात्रि के वक्त यहां लाखों की तादात में लोग अपने परिवार सहित पहुंचते है। नवरात्रि के वक्त यहां भंडारा होता है इस भंडारे में रोजाना लगभग 10 से 12 हजार लोग भोजन करते है। इस भोजन कक्ष में लगभग एक साथ 12 सौ लोग भोजन कर सकते हैं। लेकिन इस भंडारे के आयोजन को इस वर्ष नहीं किया जा रहा है।

16-10-2020
वर्ल्ड हैण्ड वॉश डे पर सरपंच ने बांटे सैनिटाइजर

रायपुर\दुर्ग। जिले में विश्व हाथ धुलाई दिवस (वर्ल्ड हैण्ड वॉश डे) का आयोजन किया था। वर्ल्ड हैण्ड वॉश डे पर सरपंच ने क्षेत्र वासियों को सैनिटाइजर दिया गया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य स्वच्छ, स्वस्थ एवं बेहतर भविष्य के प्रति जागरूक करना था। यह कार्यक्रम स्वास्थ्य, शिक्षा, पंचायती राज तथा महिला एवं बाल विकास विभाग ने आंगनबाड़ी केंद्रों में मनाया था। पाटन क्षेत्र के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में विश्व हाथ धुलाई दिवस मनाया गया था। इस कार्यक्रम का थीम में हाथो को स्वच्छ रखने पर था। हाथ की स्वच्छता हमारे स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का ही एक विशेष भाग है क्योंकि सिर्फ साबुन से अच्छी तरह हाथ धोने से ही कई तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है। बिमारी कई माध्यमों के जरिए से हमारे शरीर में फैलते हैं। उनमें से एक हमारे हाथ भी बीमारी का एक बड़ा जरिया हैं, जिसकी वजह से सबसे ज्यादा बच्चों में संक्रमण व गंभीर बीमारियों जैसे डायरिया, निमोनिया आदि का खतरा बना रहता है।

ग्राम डिडगा में विश्व हाथ धुलाई दिवस पर कार्यकर्ता द्रोपती साहू,मितानिन जमुना वर्मा, स्वसहायता समूह की महिला अध्यक्ष गायत्री यादव व अन्य महिलाएं उपस्थित रहीं। इसी तरह ग्राम सांतरा 1, कार्यकर्ता मीना, मितानिन, पंच, समूह की महिलाएं उपस्थित रहीं। इस दिन सभी को हाथ धोने के स्टेप के बारे में बताया गया और साथ ही बच्चों को प्रतिदिन भोजन से पहले साबुन से हाथ धोने की सीख दी गई। महिला पर्यवेक्षक चित्रलेखा साहू ने बताया सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में हाथ धुलाई के लिए पर्याप्त पानी, साबुन, बाल्टी, जग आदि की व्यवस्था की गई तथा इस स्वच्छता अभियान में सबकी भागीदारी भी सुनिश्चित की।

ग्राम पंचायत असोगा में सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सैनिटाइजर सरपंच अशोक रिंगवानी द्वारा विश्व हाथ धुलाई दिवस के मौके पर वितरित किया गया। सरपंच अशोक रिंगवानी ने कहा इस समय विश्व व्यापी कोविड-19 जैसी संक्रामक महामारी का पूरा देश सामना कर रहा है। ऐसी दशा में इस साल विश्व हाथ धुलाई दिवस की थीम “सभी के लिए स्वच्छ हाथ” निर्धारित की गई है। ऐसे में साबुन से हाथ धोने की प्रथा पर विस्तृत रूप से कार्य करने की जरूरत है। ताकि हम अपने वर्तमान एवं भावी पीढ़ी को स्वच्छ, स्वस्थ एवं बेहतर भविष्य के प्रति सचेत कर सकें। सरपंच रिंगवानी ने कहा शत्– प्रतिशत स्कूलों व आंगनबाड़ी केन्द्रों पर शुद्ध पेयजल की आपूर्ति की व्यवस्था की जाएगी। हाथ धुलाई से संबंधित विभिन्न प्रकार की शैक्षिक एवं रोचक संदेश वीडियो सन्देश,आडियो विद्यार्थियों, अभिभावकों एवं शिक्षकों के वाटसएप ग्रुप व सोशल मिडिया में भेजा जाए ताकि हाथ धुलाई के महत्व के प्रति लोगों में विशेष जागरूकता, सजगता लाई जा सके।

02-10-2020
Video:  विकास उपाध्याय ने दिव्यांग बालिकाओं को दिया मास्क-सैनिटाइजर और भाप मशीन,जागरूक रहने की अपील

रायपुर। संसदीय सचिव व रायपुर पश्चिम विधानसभा विधायक विकास उपाध्याय ने शुक्रवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को जयंती पर सादर नमन कर उनका स्मरण किया। विकास उपाध्याय ने प्रदेशवासियों को बधाई दी। उन्होंने अपने विधानसभा के महाराष्ट्र मंडल, समता कॉलोनी में दिव्यांग बालिकाओं को कोरोना काल में सुरक्षित रहने के लिए मास्क,सैनिटाइजर और भाप मशीन का वितरण किया। साथ ही कोरोना संक्रमण से बचने के लिए बार बार हाथ धोने,मास्क पहनने और फिजिकल डिस्टेनसिंग का पालन करने के लिए जागरूक किया। विधायक उपाध्याय ने कहा कि जिस प्रकार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री ने अपने जीवनकाल में नि:सहाय लोगों की सहायता और सेवाभाव का पालन करते हुए अपना जीवन व्यतीत किया, हम भी उनके बताए गए मार्गों का अनुसरण करते हुए आज उनको याद कर रहे हैं। कोरोना के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए आज इन महापुरुषों के जयंती पर महाराष्ट्र मंडल में दिव्यांग बालिकाओं को कोरोना से बचने के लिए जागरूक किया गया। कार्यक्रम में विकास उपाध्याय के साथ हरीश साहू, बसंत तिवारी,विजय खंडेलवाल, मधुसूदन खंडेलवाल,विकास शर्मा व अन्य उपस्थित थे।

 

28-09-2020
महापौर,सभापति ने किया इंदिरा मार्केट में सैनिटाइजर का छिड़काव

दुर्ग। कोरोना संक्रमण को देखते हुए नगर निगम दुर्ग द्वारा इंदिरा मार्केट क्षेत्र में सैनिटाइजर मशीन से पुराना बस स्टैंड  से लेकर बाजार क्षेत्र स्टेशन रोड को सैनिटाइज किया गया। इस मौके सभापति राजेश यादव,स्वास्थ्य प्रभारी हमीद खोखर, राजस्व एव बाजार विभाग प्रभारी ऋषभ जैन, विद्युत विभाग प्रभारी भोला महोबिया,शिक्षा विभाग प्रभारी मनदीप सिंग भाटिया,पार्षद विजेंद्र भारद्वाज,संदीप वोरा,गुड्डू यादव,स्वस्थ्य अधिकारी दुर्गेश गुप्ता, कर्मशाला अधीक्षक बीरेन्द्र ठाकुर,मेनसिंग मांडवी,राजेन्द्र सर्राटे एवं अन्य उपस्थित थे। इस संबंध में महापौर धीरज बाकलीवाल ने बताया शहर में लगातार कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है। इसे देखते हुए निगम दुर्ग द्वारा शहर के समस्त बाजारों जहां अधिक संख्या में भीड़ हो होती है। इसके अलावा प्रमुख मार्गो और गलियों में भी जाकर मशीन से क्षेत्र को सैनिटाइज किया जाएगा। शहर की आम जनता को संक्रमण से बचाने जिला प्रशासन एव नगर पालिक निगम दुर्ग हर संभव प्रयास कर रही है।उन्होनें कहा संक्रमण से बचाव के लिए स्वयं को आगे आना होगा, इसके लिए वे सैनिटाइज का उपयोग बार-बार करें, बाहर से आने के बाद हाथ अवश्य धोएं,अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने काढ़ा,दूध में हल्दी डालकर अवश्य पीएं, सोशल डिस्टेंस का पालन करे, सामाजिक दूरियाॅ बनाकर रखें, और मास्क अवश्य लगाएं।

 

20-09-2020
Video: पुलिस ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए निकाली जागरूकता रैली

दुर्ग। जिला पुलिस ने रविवार को कोरोना वायरस से बचाव के लिए जागरूकता रैली निकाली। इसमें एसपी सहित आला अधिकारी शामिल हुए। रैली का मकसद लोगों को कोरोना वायरस से लिए बचाव के लिए संदेश देना था। इस अवसर पर दुर्ग एसपी प्रशांत ठाकुर ने कहा कि कोरोना महामारी से बचने के लिए सबसे बड़े हथियार हैं मास्क व सैनिटाइजर,जिसका उपयोग जनता को ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। इसी संदेश के साथ हम यह रैली निकाल रहे हैं ताकि लोगों में जागरूकता फैल सके। रैली शहर के विभिन्न चौक चौराहों से होते हुए वापस एसपी कार्यालय पर समाप्त हुई।  रैली का आयोजन रोज दुर्ग डिवीजन के तीनों जोनों में लॉक डाउन के दौरान किया जाएगा।  

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804