GLIBS
07-08-2020
कोरोना से संघर्ष किसी के लिए भी अच्छा अनुभव नहीं लेकिन अस्पताल की देखभाल, सेवा और व्यवस्थित इलाज याद रहेगा

रायपुर। कोरोना को मात देकर माना कोविड अस्पताल से हाल ही में डिस्चार्ज हुए शहर के दो युवाओं ने वहां कोविड-19 से अपने संघर्ष के अनुभव साझा किए हैं। दोनों युवाओं ने अस्पताल की व्यवस्था और वहां मरीजों की सेवा में लगे स्टॉफ की खुले दिल से सराहना की है। उन्होंने अच्छी सुविधाओं, इलाज, देखभाल और लगातार मनोबल बढ़ाने के लिए अस्पताल प्रबंधन, डॉक्टरों व नर्सों के साथ ही भोजन देने वालों, सफाई कर्मियों तथा एंबुलेंस कर्मियों को तहेदिल से धन्यवाद दिया है। कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए ये दोनों प्लाज्मा दान के लिए भी तैयार हैं। मौदहापारा थाने में पदस्थ निरीक्षक यदुमणि सिदार माना अस्पताल से 28 जुलाई को डिस्चार्ज हुए हैं। अभी वे दस दिनों के होम आइसोलेशन में हैं। कोरोना से अपनी लड़ाई का अनुभव साझा करते हुए वे कहते हैं कि जब कोरोना पाजिटिव आने की खबर मिली तो वे घबरा गए थे। एक पल के लिए तो यकीन भी नहीं हुआ क्योंकि उनमें कोरोना संक्रमण के कोई लक्षण नहीं थे। ड्यूटी के दौरान उन्होंने खुद को संक्रमण से बचाने पूरी सावधानी बरती थी। अस्पताल में भर्ती होने के साथ ही सकारात्मक माहौल मिलने लगा। परिजनों, दोस्तों और मेडिकल क्षेत्र से जुड़े परिचितों से बातचीत ने भी उनका हौसला बढ़ाया। यूं तो कोरोना से संघर्ष किसी के लिए भी अच्छा अनुभव नहीं है, लेकिन अस्पताल की देखभाल, सेवा और व्यवस्थित इलाज जिंदगी भर याद रहेगा।

अस्पताल में इलाज के दौरान के अपने अनुभव के बारे में सिदार कहते हैं कि वहां सारी चीजें बहुत व्यवस्थित थीं। समय पर दवाईयां, नाश्ता और खाना मिलता था। साफ-सफाई भी अच्छी थी। डॉक्टरों व नर्सों के साथ ही बाकी स्टॉफ का भी व्यवहार बेहद सहयोगात्मक, दोस्ताना और मनोबल बढ़ाने वाला था। इतनी अच्छी देखभाल और सेवा के लिए मैं आजीवन उन सबका शुक्रगुजार रहूंगा। 19 जुलाई को भर्ती होने के बाद दस दिनों के इलाज के बाद मुझे 28 जुलाई को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। अभी मैं दस दिनों के होम-आइसोलेशन में हूं। इसके पूरा होते ही मैं ड्यूटी ज्वाइन कर लूंगा। माना कोविड अस्पताल में इलाज के बाद गुढ़ियारी के विक्रांत पाण्डेय 6 अगस्त को डिस्चार्ज हुए हैं। एक निजी कंपनी में सहायक प्रबंधक पाण्डेय को वहां 29 जुलाई को भर्ती किया गया था। अस्पताल में इलाज के अपने अनुभव साझा करते हुए वे कहते हैं – “पहले दिन से ही मेरा अच्छा इलाज और देखभाल की गई। अस्पताल का माहौल बेहद सकारात्मक था। अच्छी व्यवस्था के साथ ही वहां ड्यूटी पर तैनात सभी अधिकारियों, कर्मचारियों और मेडिकल स्टॉफ का व्यवहार अच्छा था। मैं अस्पताल में मरीजों की सेवा और उपचार कर रहे सभी लोगों को नमन करता हूं जो संक्रमण के खतरों के बीच अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे हैं। पीपीई किट की भीषण गर्मी झेलते अस्पताल में भर्ती हर मरीज को कोरोना मुक्त करने में लगे हैं। पाण्डेय कहते हैं कि “कोरोना महामारी के इस दौर में डॉक्टरों और मेडिकल टीमों की सेवा भुलाई नहीं जा सकती। संक्रमण के खतरों के बीच भी उनका जज्बा काबिले-तारीफ है। ईश्वर को किसी ने नहीं देखा है। वे भी पीपीई किट में छिपे इन लोगों जैसे ही होंगे।“ वे कहते हैं कोविड-19 पीड़ितों के इलाज में किसी भी तरह की सहायता के लिए वे हमेशा तैयार हैं। इस काम से उन्हें बेहद खुशी होगी।

 

06-08-2020
जिला में मिले दो कोरोना पॉजिटिव,एक शहर तो दूसरा धमतरी जेल से

धमतरी। जिला में दो कोरोना संक्रमित मरीज मिलने की पुष्टि की गई है। जिला अस्पताल के ट्रू नॉट लैब में टेस्ट किए गए सैम्पल में दो पॉजिटिव मिले हैं,जिसमें से एक धमतरी जेल में बंद विचाराधीन बंदी है और दूसरा आमापारा निवासी बुजुर्ग है। मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डीके तुर्रे ने बताया कि तबीयत खराब होने के कारण कैदी को 27 जुलाई को रायपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, 4 अगस्त को वापस आने के बाद उसका सैंपल लिया गया था,जिसकी पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। दूसरा मरीज आमापारा निवासी बुजुर्ग है, कुछ दिनों पहले अपनी पत्नी के साथ घर आया था। बुजुर्ग का घर रायपुर में भी है। रायपुर में उसके परिवार के लोग पॉजिटिव पाए गए हैं उसी के आधार पर यहां सैंपल लिया गया था,जो कि पॉजिटिव आया है।दोनों को कोविड-19 अस्पताल में भर्ती कराने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

 

06-08-2020
कोरोना संक्रमित मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए टास्क फोर्स गठित की अम्बिकापुर कलेक्टर ने

रायपुर/अम्बिकापुर। कलेक्टर संजीव कुमार झा की ओर से स्वास्थ मंत्रालय के दिशा निर्देशानुसार प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कोरोना संक्रमित मृतक के पार्थिव शरीर के सुचारू प्रबंधन एवं अविलंब निपटान कराने स्पेशल टास्क फोर्स का गठन किया गया है। जारी आदेशानुसार टास्क फोर्स में नायब तहसीलदार किशोर वर्मा को मजिस्ट्रियल ड्यूटी और कोतवाली थाना प्रभारी भारद्वाज सिंह, मणिपुर चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक ओमप्रकाश यादव सहित कोतवाली थाना एवं मणिपुर चौकी से एक-एक आरक्षक को अन्य प्रशासनिक जिम्मेदारी दी गई है। उल्लेखनीय है कि कोरोना संदिग्ध और पॉजिटिव मरीजों के पार्थिव शरीर को उनके रिश्तेदारों को सुपुर्द करने जारी निर्देशानुसार मृतक के संबंधी अथवा रिश्तेदारों कि ओर से अंतिम संस्कार की प्रक्रिया जिला प्रशासन की देख-रेख में संपन्न कराया जाएगा।

 

05-08-2020
देश में अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 19 लाख के पार

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 52,508 नए मामले सामने आए और 857 लोगों की मौत हुई। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 52,508 नए मामले सामने आए हैं और 857 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 19,08,254 हो गई है, जिनमें से 5,86,244 सक्रिय मामले हैं, 12,82,215 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 39,795 लोगों की मौत हो चुकी है।

03-08-2020
सांसद कार्ति चिदंबरम पाए गए कोरोना संक्रमित,ट्वीट कर दी जानकारी,हुए होम क्वारंटाइन

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम के बेटे और सांसद कार्ति चिदंबरम ने कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। कार्ति ने सोमवार सुबह ट्वीट करके यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वह होम क्वारंटाइन में चले गए हैं। कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने ट्वीट किया, 'मैं अभी कोरोना पॉजिटिव पाया गया हूं। मुझे हल्के लक्षण हैं, जिसके बाद मैं होम क्वारंटाइन में हूं। मैं उन सबसे मेडिकल प्रोटोकॉल फॉलो करने की अपील करता हूं, जो हाल ही में मेरे संपर्क में आए हैं।' इससे पहले रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

शाह कोरोना पॉजिटिव पाए जाने वाले पहले केंद्रीय मंत्री हैं। उन्हें गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि मैं कोरोना पॉजिटिव पाया गया हूं। हालांकि, मैं ठीक हूं, लेकिन डॉक्टरों की सलाह पर अस्पताल में भर्ती हुआ हूं। हाल ही में मेरे संपर्क में आए सभी लोग अपने आप को क्वारंटाइन कर लें।

03-08-2020
कैट सीजी चैप्टर ने जिला प्रशासन के सहयोग से कोरोना संक्रमितों तक पहुंचाई रखी

रायपुर। कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी नेतृत्व में कैट सीजी चैप्टर ने कोरोना संक्रमितों तक राखियां पहुंचाई। कैट ने अपने राष्ट्रीय अभियान ‘‘भारतीय सामान -हमारा अभिमान‘‘ के तहत कल्पतरू बिहरा महिला समूह से 3000 राखी बनवाकर जिला प्रशासन रायपुर के अधिकारी गौरव कुमार सिंह सीईओ जिला पंचायत रायपुर के माध्यम से कोरोना मरीजों को राखी बांटी गई। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा कि देश भर में चलाए जा रहे अपने चीनी वस्तुओं के बहिष्कार अभियान के अंतर्गत इस वर्ष राखी त्यौहार को भारतीय राखी के रूप में मनाए जाने का आव्हान किया गया है। इसके तहत देश भर में कैट ने महिला उद्यमियों और महिला समूह के सहयोग लोकल समान का उपयोग करते हुए राखियां बनवाई। 

कैट ने इस बार चीनी राखी का विरोध करते हुए रक्षा बंधन मानने की ठानी है। कोरोना संक्रमितों तक पहुंचाई गई राखियों के साथ, उन्हें स्वास्थ्य लाभ, स्वस्थ्य और सुरक्षित जीवन की शुभकामनाओं के साथ चिकित्सकों, स्वास्थ्य कर्मियों और प्रशासनिक व्यवस्था में लगे सभी कर्मियों का सहयोग करने, निर्देशों का पालन करने की अपील की गई। कोरोना से स्वस्थ्य होने के बाद भी निरंतर सावधानी बरतनें और अपने और परिवार का ध्यान रखने की अपील की गई। 
पारवानी ने कहा कि, कैट के राष्ट्रीय अभियान को प्रदेश सरकार के कुटीर उघोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से महिला समूहों को राखी बनाने के लिए प्रेरित किया गया। कैट के इस अभियान से प्रदेश भर में व्यापारियों से लोकल सामान को ही बेचा जाने को प्राथमिकता और मजबूती मिली।

बाजारों में इस बार चीनी राखी की बजाय लोकल सामान से बनी राखी की मांग बढ़ी। कैट के आव्हान के कारण इस बार राखी के त्यौहार पर चीन को 4 हजार करोड़ रुपए की राखी के कारोबार का बड़ा झटका लगा। हर साल प्रदेश में लगभग 60 से 70 करोड़ की राखी चीन से आयात की जाती थी। प्रदेश में इस बार इसका पूरा विरोध किया गया। चीन से कोई राखी नहीं मंगाई गई। चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अपने बड़े अभियान के तहत कैट प्रदेश भर में इस बार राखी के पर्व को भारतीय राखी के रूप में मनाने के इस अभियान को बड़ी सफलता मिली।

02-08-2020
जिले में मिले 10 कोरोना संक्रमित मरीज, संख्या हुई 400 के पार

बलौदाबाजार। जिले में कोरोना के 10 मरीज़ मिले हैं। इसमें 5 मरीज बलौदाबाजार नगर के हैं। बलौदाबाजार विकासखण्ड के अंतर्गत ग्राम कोकड़ी से 1 एवं 1 पनगांव से संक्रमित मिला हैं। पलारी विकासखण्ड के अंतर्गत ग्राम बलौदी,चुचूरूंगपुर और भाटापारा विकासखण्ड के अंतर्गत ग्राम टेहका में 1-1 मरीज मिले हैं। इन सभी के संक्रमित होने की पुष्टि जिला प्रशासन ने की है। जिला मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ.खेमराज सोनवानी ने बताया की बलौदाबाजार के मरीजों का इलाज होम आइसोलेशन में ही रखकर किया जायेगा।1 मरीज को रायपुर कोविड हॉस्पिटल में एवं अन्य बाकी मरीजों को जिला कोविड हॉस्पिटल में लाकर इलाज किया जायेगा। इनके लिए एम्बुलेंस रवाना कर दी गई है। जिले में कोरोना संक्रमित मरीज़ों की संख्या बढ़कर 404 तक पहुंच गई है। इनमें से इलाज़ के बाद 325 मरीज़ स्वस्थ हो गए हैं। इस प्रकार एक्टिव मरीजों की संख्या 77 गई हैं। 

02-08-2020
दो बीएसएफ के जवान व एक युवती कोरोना संक्रमित

कांकेर। जिले के दुर्गूकोंदल विकासखंड में बीएसएफ के दो और जवानों के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। दोनों जवान बिहार और महाराष्ट्र से छुट्टी से कैम्प लौटे थे, जिन्हें क्वारेंटाइन में रखा गया था। 17 जवानों का सैंपल लिया गया था,जिसमें 2 जवान संक्रमित पाए गए हैं।दुर्गूकोंदल की युवती की भी जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इसकी पुष्टि खंड चिकित्सा अधिकारी मनोज किशोरे ने की है।

 

02-08-2020
तमिलनाडु के राज्‍यपाल बनवारीलाल पुरोहित हुए कोरोना संक्रमित, पाए गए हल्के लक्षण

चेन्‍नई। तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं। इससे पहले रविवार दोपहर वो अस्पताल पहुंचे। बता दें कि राजभवन के 84 कर्मचारी कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए थे। उसके बाद से पुरोहित को आइसोलेट किया गया था। चेन्नई के कावेरी अस्पताल ने रविवार को यह जानकारी दी। राज्यपाल को घर में ही पृथकवास में रहने की सलाह दी गई है,जहां अस्पताल के डॉक्टरों की टीम उनके स्वास्थ्य की निगरानी करेगी। रविवार सुबह ही उन्हें अस्पताल ले जाया गया था,जिसके कुछ घंटों बाद ही उनके कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई। कावेरी अस्पताल के एक अध‍िकारी ने कहा कि राज्यपाल की हालत स्थिर है और वो एसिम्टोमैटिक हैं और उनमें बेहद हल्के लक्षण हैं। बता दें कि तमिलनाडु में 2 लाख 51 हजार से ज्यादा संक्रमितों की संख्या है और अब तक 4 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में 1 लाख 90 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं और 56 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं। 

01-08-2020
एक सदस्य के कोरोना संक्रमित पाए जाने पर जांजगीर जा रहे परिवार को बोड़ला में रोका

कवर्धा। भोपाल से जांजगीर वापस हो रहे एक ही परिवार के 11 सदस्यों को बोड़ला में रोका गया। परिवार शादी के लिए जांजगीर से भोपाल गया हुआ था,जहाँ एक सदस्य की हार्टअटैक से मृत्यु हो गई। इसके बाद परिवार अपने गृह निवास जांजगीर वापस हो रहे थे,जिनमें से एक सदस्य कोरोना से संक्रमित पाया गया है। इसके चलते शव और परिवार को बोड़ला प्रशासन ने बोड़ला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रोक दिया।यहां परिवारवाले जिला प्रशासन कबीरधाम और जांजगीर कलेक्टर से मदद की गुहार लगा रहे हैं। मगर परिवार के एक सदस्य की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के चलते जांजगीर जाने से उन्हें रोका जा रहा है।बोड़ला थाना प्रभारी संतराम सोनी का कहना है कि कोरोना के चपेट में आने के चलते इन्हे यहीं रोका गया है। जिला प्रशासन कबीरधाम और जांजगीर कलेक्टर के बीच जो भी निर्णय लिए जाएंगे उस हिसाब ही पुलिस कार्रवाई करेगी।

अभी फिलहाल इन्हें यहीं बोड़ला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रखा गया है।पूरे मामले में जांजगीर कलेक्टर यशवंत कुमार का कहना है उनको जांजगीर आने की अनुमति नहीं दी जा सकती। अगर उनको दाह संस्कार का कार्यक्रम करना है तो परिवार वाले कवर्धा या भोपाल जहाँ परिवार वाले गए हुए थे वहां जाकर मृत शव का दाह संस्कार कर सकते हैं। कलेक्टर का यह भी कहना है कि कोरोना पॉजिटिव होने कि जानकारी के बावजूद इन्होंने लापरवाही कि है और पॉजिटिव मरीज को साथ लेकर चल रहे हैं। पॉजिटिव मरीज के प्राइमरी कांटेक्ट में परिवार के अन्य सभी सदस्य भी आए हुए। इससे कि जांजगीर में दाह संस्कार करेंगे तो स्वाभाविक बात यहाँ पॉजिटिव सदस्यों के प्राइमरी कांटेक्ट में आये हुए लोगों से अन्य लोगों को भी खतरा होने कि संभावनाएं है। इससे उन्हें जहाँ है वहीँ दाह संस्कार कर देनी चाहिए।

01-08-2020
कोरोना संक्रमण की रोकथाम के नाम पर सरकार सिर्फ ड्रामेबाजी कर जनस्वास्थ्य के साथ कर रही खिलवाड़ : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार तेजी से हो रहे इजाफे पर चिंता व्यक्त की है। प्रदेश प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि कांग्रेस सरकार शुरू से इस महामारी को लेकर लापरवाह रही है। घर-घर तक पहुँच रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के नाम पर सिर्फ ड्रामेबाजी कर जनस्वास्थ्य के साथ क्रूर खिलवाड़ कर रही है। सुंदरानी ने कहा कि अब बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के लिए अनलॉक के दौरान लोगों द्वारा सावधानी और बचाव के उपाय नहीं अपनाने की बात कहकर मुख्यमंत्री बघेल अपनी विफलता का ठीकरा लोगों के सिर फोड़ने पर आमादा हैं। भाजपा प्रवक्ता ने सवाल किया कि कांग्रेस के नेताओं और सैंपल देकर कायदा-कानून ताक पर रख घूम रहे कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों से जो संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ रहा है, मुख्यमंत्री इस पर संज्ञान कब लेंगे?

सुंदरानी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार की ओर से घोषित सख़्त लॉक डाउन पूरी तरह ध्वस्त हो चुका है और सरकार को यह सूझ ही नहीं रहा है कि इस संक्रमण की रोकथाम के लिए किस तरह के उपाय किए जाएँ? उन्होंने कहा कि अफसरशाही पूरे प्रदेश में कोरोना के नाम पर अव्यावहारिक फैसले लेकर अपना राज चला रहे हैं, वहीं नित-नए फैसलों के चलते बाजार में जो हुजूम उमड़ रहा है, उससे संक्रमण फैलने की बढ़ती आशंका के लिए प्रदेश सरकार अपनी जिम्मेदारी से पल्ला कैसे झाड़ सकती है? यह स्थिति प्रदेश सरकार की नेतृत्वहीनता और भटकन को रेखांकित कर रही है। प्रदेश में अब भी टेस्टिंग लैब की कमी के चलते जाँच का काम धीमी गति से चल रहा है, क्वारेंटाइन सेंटर्स के बाद अब कोविड-19 सेंटर्स भी बदइंतजामी और बदहाली के चलते नरकीय यंत्रणा के केंद्र बन चुके हैं, जमीनी सच यह भी है कि प्रदेश में अब संदेही लोगों की जांच के लिये सैंपल भी नहीं लिए जा रहे हैं, जिसके चलते परिस्थितियां और चिंताजनक बनती जा रही हैं। तो, प्रदेश सरकार क्या अपनी इस नाकामी के लिए भी शर्म महसूस नहीं करेगी?

01-08-2020
प्रदेश में जिलेवार कल देर रात तक मिले कोरोना मरीजों की संख्या...

रायपुर। प्रदेश में बीते कल कुल 336 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं,309 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है और 3 कोरोना संक्रमित की मौत हो गई।

जिलेवार ये आंकड़े : रायपुर-184, कोंडागांव-23, दुर्ग-19, राजनांदगांव-31, महासमुंद-9, कोरबा-6, बलरामपुर-4, बस्तर-4, बलौदाबाजार-4, बिलासपुर-7, जांजगीर-2, बालोद-2, कोरिया-2, दंतेवाड़ा-1, जशपुर-1, सूरजपुर-1, सरगुजा-1, गरियाबंद-1 और कांकेर में 1 मिले है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804