GLIBS
19-06-2021
एम्स प्रमुख ने कहा, अगले छह से आठ सप्ताह में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना

नई दिल्ली। कोरोना की संभावित तीसरी लहर 6 से 8 हफ्तों में आ सकती है। एम्स प्रमुख डॉ.रणदीप गुलेरिया ने कहा कि अगले छह से आठ सप्ताह में भारत में तीसरी कोविड लहर की संभावना है। डॉ.गुलेरिया ने बताया कि जैसा कि हमने अनलॉक करना शुरू कर दिया है, फिर से कोविड-उपयुक्त व्यवहार की कमी देखने को मिल रही है। पहली और दूसरी लहर के बीच जो हुआ उससे हमने सीखा नहीं है। फिर से भीड़ बढ़ रही है और लोग भारी संख्या में इकट्ठा हो रहे हैं। 

 

19-06-2021
Breaking : कोरोना की रफ्तार थमने के बाद अनलॉक हुए कई राज्य, गृह मंत्रालय ने जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली/रायपुर। देश में कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद एक ​बार फिर से राज्यों में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो गई है। दोबारा केस बढ़ने का खतरा फिर से मंडरा रहा है। इस बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एडवाइजरी जारी किया है। इसमें कोरोना से जुड़ी गाइडलाइंस के सख्ती से पालन करने की बात कही गई है। बता दें कि गृह मंत्रालय के सेक्रेटरी अजय भल्ला ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के चीफ सेक्रेटरी को लेटर लिखकर निर्देश दिया है कि लॉकडाउन खोलते समय कोविड अनुकूल व्यवहार, टेस्टिंग-ट्रैकिंग-इलाज और टीकाकरण के लिए रणनीति अपनाना बहुत जरूरी है।

18-06-2021
कांग्रेस-भाजपा के नेता कोरोना नियमों को भुलाकर कर रहे प्रदर्शन, प्रशासन नहीं कर रहा कार्रवाई

धमतरी। कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए पूरे देश और प्रदेश में कई नियम लागू किया गया गया है,जिसे कड़ाई से पालन करने और करवाने के आदेश भी दिए गए है। लेकिन सवाल उठ रहे कि ये नियम क्या सिर्फ आम लोगों के लिए ही बनाए गए है। जहां एक तरफ भाजपा पूरे प्रदेश में भूपेश सरकार के खिलाफ सड़क में उतरकर प्रदर्शन कर रही है तो वही कांग्रेस भी बढ़ती महंगाई और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के 15 साल के कार्यकाल को लेकर प्रदर्शन कर रही है। इन दोनों पार्टियों द्वारा कोरोना नियमों को भुलाकर सिर्फ एक दूसरे पर आरोप लगाया जा रहा है। साथ ही दोनों पार्टियां खुलेआम प्रशासन द्वारा बनाए गए नियमों का उल्लंघन करती दिख रही है। ज्ञात हो कि हाल ही में प्रदेश कोरोना की दूसरी लहर और लॉक डाउन से उबर है। हाल में कुछ दिनों से संक्रमण के फैलाव को नियंत्रित किया गया है, जिसमें डॉक्टर, प्रशासन, पुलिस और नगर निगम अमला का अहम योगदान है। दोनों पार्टियों द्वारा किये कराए पर पानी फेरा जा रहा है, वही अगर प्रशासन की बात करें तो उनके द्वारा बनाए गए नियमों को अगर आम आदमी तोड़ता है तो उसके उपर कार्रवाई कर दी जाती है लेकिन इन दोनों पार्टी पर आखिर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है, नियम क्या सिर्फ आमलोगों के लिए ही है। बता दें कि कोरोना संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है, अगर ऐसे ही इन दोनों पार्टियों द्वारा नियमों को तोड़ा जाएगा तो कोरोना संक्रमण का फैलाव फिर तेज़ी से बढ़ सकता है। 

18-06-2021
Breaking: छत्तीसगढ़ में घट रहा कोरोना संक्रमण, आज मिले 509 संक्रमित, 7 की मौत

रायपुर। छत्तीसगढ़ में आज 509 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। वही 1122 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किए गए। जबकि 7 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई। देखे मेडिकल बुलेटिन

18-06-2021
राहत: जिले में कमजोर हुआ कोरोना, स्वस्थ हुए 65 से अधिक, संक्रतिम मिले 20 से कम

धमतरी। जिले में 24 घंटे के अंदर 16 कोरोना संक्रमित मरीज की पहचान हुई है। जिले में शुक्रवार को मिले संक्रमितों में से धमतरी ग्रामीण से 6, कुरूद ब्लाक से 1 , नगरी से 4, धमतरी शहर से 3 और मगरलोड से 2 संक्रमित मरीज मिले है,वही गुरुवार की रात को धमतरी ग्रामीण से 0, कुरूद ब्लाक से 0 , नगरी से 0 , धमतरी शहर से 0 और मगरलोड से 0 पहचान हुई है। जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डीके तुर्रे ने बताया कि शुक्रवार को धमतरी जिले से 16 कोरोना पॉजिटिव मरीज की पहचान हुई है,वही गुरुवार की रात कोई संक्रमित मरीज़ की पहचान नहीं हुई है। जिले में अब तक कोरोना मृतकों की संख्या 552 हो चुकी है। अब तक मिले कुल संक्रमितों की संख्या 26587 हो चुकी है,जिसमें से एक्टिव केस की संख्या 231 है। शुक्रवार को 67 संक्रमितों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज दिया गया,अब तक कुल 25804 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

 

18-06-2021
कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों की सुरक्षा के लिए कलेक्टर के निर्देश पर किए जा रहे सघन उपाय

दुर्ग। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका यदि बनती है और बच्चे इससे संक्रमित होते हैं तो ऐसी स्थिति से निपटने के लिए जिला प्रशासन द्वारा पुख्ता तैयारियाँ की जा रही हैं। कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के निर्देश पर इससे जुड़े टास्क फोर्स के अधिकारी इस पर गहन कार्ययोजना पर कार्य कर रहे हैं। इसके अंतर्गत बच्चों के लिए मेडिकल सुविधाओं को मजबूत करना तो शामिल है ही, यह कोशिश की जा रही है कि ऐसी स्थिति ही न बने कि कोरोना संक्रमण से बच्चे गंभीर रूप से संक्रमित हो। इसके लिए बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की दिशा में विशेष काम किया जा रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा गृह भेंट के माध्यम से परिजनों को इसके लिए पोषक आहार के महत्व के बारे में बताया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में वृहद स्तर पर शिविर का आयोजन किया जा रहा है।


कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने इस संदर्भ में कुपोषित व बार-बार बीमार पड़ने वाले बच्चों को विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए उन्होंने स्वास्थ्य विभाग, मितानिन और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को  आपस में समन्वय स्थापित करने के लिए कहा है। इसके परिपालन में आज महिला बाल विकास विभाग परियोजना के अंतर्गत पाटन के ऐसे 23 बच्चों की स्वास्थ्य जांच, बाल संदर्भ शिविर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गाड़ाडीह में करवाई गई। वर्तमान में क्योंकि बच्चों के लिए कोविड-19 की वैक्सीन ट्रायल स्टेज में है, इसलिए यह बहुत आवश्यक है कि बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान दिया जाए। इसके लिए उनके पोषण और अन्य वैक्सीनेशन प्रोग्राम को सुचारू रूप से संचालित किया जाना आवश्यक है। कलेक्टर डाॅ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने नीचे अमले से जानकारी इकट्ठा करने के निर्देश दिए गए हैं।स्वास्थ्य विभाग को रुग्ण और सिकल सेल जैसे बीमारियों से ग्रसित बच्चों की लिस्ट बनाने के लिए निर्देशित किया गया है। ऐसे बच्चे जिनके पालको ने कोविड-19 की वैक्सीन ले ली है और जिन्होनें नहीं ली है, दोनों की अलग-अलग सूची तैयार करने के लिए कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग को स्क्रीनिंग एवं सैंपलिंग पर विशेष जोर देने के लिए कहा गया है।

 

18-06-2021
भिलाई स्टील प्लांट ने संकट के समय की 33 हजार टन से ज्यादा ऑक्सीजन की आपूर्ति

रायपुर। कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहे देश को ऑक्सीजन की सप्लाई करने में भिलाई स्टील प्लांट ने सराहनीय भूमिका निभाई है। देश के कोने-कोने में ऑक्सीजन सप्लाई करने में भिलाई स्टील प्लांट ने कोई कसर नहीं छोड़ी। भिलाई इस्पात संयंत्र ने अगस्त 2020 से लेकर 15 जून तक 15165 ऑक्सीजन सिलेंडर्स की आपूर्ति कर चुका है। इसमें बीएसपी के मुख्य चिकित्सालय को 10,417 ऑक्सीजन सिलेंडर्स, दुर्ग जिला प्रशासन को 2,295 ऑक्सीजन सिलेंडर्स और मध्य प्रदेश को 2,453 ऑक्सीजन सिलेंडर्स की आपूर्ति की गई। भिलाई इस्पात संयंत्र ने पूरे देश में अगस्त, 2020 से लेकर 15 जून, 2021 तक 33,681 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित की है। बता दें कि 29 मई 2021 को भिलाई इस्पात संयंत्र से पहली बार आईएसओ कन्टेनर में कुल 73 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन भरकर तमिलनाडु भेजा गया था।

18-06-2021
देश में कम हुए केस, 24 घंटे में मिले 62 हजार 480 संक्रमित, 1587 की मौत

नई दिल्ली/रायपुर। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 62 हजार 480 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि इस दौरान 1587 संक्रमितों की मौत हुई। देश में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 2 करोड़ 97 लाख 62 हजार 793 हो गई हैं। वहीं अब तक देश में 3 लाख 83 हजार 490 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

17-06-2021
Breaking: राजधानी रायपुर में आज नहीं हुई एक भी मौत, सिर्फ 13 नए कोरोना मरीजों की पहचान 

रायपुर। राजधानी रायपुर के लिए शुभ संकेत है कि कोरोना कमजोर हो रहा है। राजधानी में संक्रमण की रफ्तार काफी कम हो चुकी है। बड़ी राहत की बात है कि गुरुवार को एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है। आज सिर्फ 13 ही नए मरीज मिले हैं। 17 मरीजों को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज किया गया है। 21 मरीजों ने होम आइसोलेशन में कोरोना को हराया है।

17-06-2021
Breaking:  छत्तीसगढ़ में 45 हजार से अधिक सैंपलों की जांच में मिले केवल 590 कोरोना मरीज, 23 जिलों में मौत नहीं  

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पॉजिटिविटी दर लगातार घट रही है। 17 जून को प्रदेश में पॉजिटिविटी दर 1.2 प्रतिशत है। प्रदेशभर में हुए 45774 सैंपलों की जांच में केवल 590 व्यक्ति कोरोना संक्रमित मिले हैं। गुरुवार को 1027 मरीज स्वस्थ हुए हैं। केवल 7 ही मरीजों की मौत हुई है। 23 जिलों में आज एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है।

17-06-2021
डब्ल्यूएचओ-एम्स के सर्वेक्षण का खुलासा,कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को खतरा नहीं

नई दिल्ली। डब्ल्यूएचओ-एम्स के सर्वेक्षण के अनुसार कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को ज्यादा खतरा नहीं है। कोरोना वायरस के सीरो सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है कि बच्चों में सीरो पॉजिटिविटी रेट वयस्कों की अपेक्षा बहुत ज्यादा है। रिपोर्ट के अनुसार यह सीरो सर्वे पांच राज्यों में आयोजित की गई थी और इसमें सैंपल साइज दस हजार का था। थर्ड वेव के खतरे के बीच एक अच्छी खबर यह है कि जल्दी ही बच्चों के लिए चार वैक्सीन उपलब्ध हो सकती है। इसमें दो वैक्सीन भारत बायोटेक की है, जिसमें से एक नोजल स्प्रे है। तीसरा वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का है, जिसका ट्रॉयल जुलाई से शुरू होगा और चौथा वैक्सीन जाइडस कैडिला का हो सकता है। वहीं महाराष्ट्र के कोरोना टास्क फोर्स ने यह रिपोर्ट दी है कि देश में जल्दी ही कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो जायेगी। टास्क फोर्स की रिपोर्ट में यह कहा गया है कि इस बार दो से चार सप्ताह के बीच कोरोना का थर्ड वेव आ सकती है। हालांकि इस रिपोर्ट में भी यह कहा गया है कि बच्चों पर कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा नहीं है यह निम्नमध्यम वर्ग के लोगों को ज्यादा चपेट में लेगा। गौरतलब है कि आईसीएमआर और एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने भी कई बार कहा है कि इस बात के कोई प्रमाण नहीं मिलते हैं कि कोरोना के थर्ड वेव में बच्चों पर असर ज्यादा होगा। पहली और दूसरी लहर में भी बच्चे संक्रमित हुए हैं लेकिन उनमें वायरस का प्रभाव ज्यादा नहीं था और उनमें संक्रमण कम था, जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल लेकर जाने की जरूरत नहीं थी।

 

17-06-2021
भूपेश बघेल ने 18 जिलों में दी 5.220 करोड़ रुपए की सौगात,घोषणाओं के साथ अनेक स्वीकृतियां भी दे रहे मुख्यमंत्री

रायपुर। कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार धीमी पड़ने के साथ ही छत्तीसगढ़ में विकास-कार्यों में तेजी आ गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हर रोज वर्चुअल-कार्यक्रम के माध्यम से विभिन्न जिलों में नए विकास कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण कर रहे हैं। अब तक 9 वर्चुअल कार्यक्रमों के माध्यम से वे 18 जिलों में 5 हजार 220 करोड़ रुपए से अधिक के विकास कार्यों की सौगात दे चुके हैं। 18 जून को मुख्यमंत्री  बघेल कोरबा जिले में 111 करोड़ रुपए और जांजगीर जिले में 122 करोड़ 96 लाख रुपए का लोकार्पण और भूमिपूजन करेंगे। इन वर्चुअल कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री बघेल महत्वपूर्ण कार्यों की घोषणाएं करने के साथ-साथ स्वीकृतियां भी दे रहे हैं।  

वर्चुअल भूमिपूजन और लोकार्पण कार्यक्रमों की शुरुआत 8 जून से हुई। पहले दिन मुख्यमंत्री बघेल ने बालोद जिले में लगभग 400 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। इसी दिन दुर्ग जिले को 287 करोड़ 87 लाख रुपए के नए कार्यों की सौगात उन्होंने दी। 9 जून को महासमुंद जिले को 270 करोड़ रुपए और बलौदाबाजार-भाटापारा जिले को लगभग 295 करोड़ रुपए की सौगात दी गई। 10 जून को कबीरधाम जिले को लगभग 225 करोड़ रुपए, गरियाबंद जिले को 358 करोड़ रुपए, 11 जून को राजनांदगांव जिले को 556 करोड़ रुपए, धमतरी जिले को 271 करोड़ 51 लाख रुपए, 12 जून को मुंगेली जिले को 276 करोड़ 12 लाख रुपए, बेमेतरा जिले को 172 करोड़ 65 लाख रुपए, 13 जून को गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले को 120 करोड़ 09 लाख रुपए, रायपुर जिले को 561 करोड़ 32 लाख रुपए के नये विकास कार्यों की सौगात मिली। 

14 जून को रायगढ़ जिले में 308 करोड़ 31 लाख रुपए, जशपुर जिले में 283 करोड़ 70 लाख रुपए, 15 जून को सरगुजा जिले में 247 करोड़ 91 लाख रुपए, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में 76 करोड़ 52 लाख रुपए, 16 जून को सूरजपुर जिले में 244 करोड़ रुपए और कोरिया जिले में 216 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया गया। इसी दौरान सुकमा और बीजापुर जिले के लिए हुए एक अतिरिक्त वर्चुअल कार्यक्रम में 50 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और शुभारंभ किया गया है।

इन 9 दिनों में मुख्यमंत्री बघेल ने जिलों में अनेक महत्वपूर्ण कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन के साथ-साथ महत्वपूर्ण घोषणाएं भी की हैं। उत्तर छत्तीसगढ़ में हवाई सुविधाओं की शुरुआत के लिए एक और कदम बढाते हुए उन्होंने अंबिकापुर के मां महामाया एयरपोर्ट के उन्नयन कार्य का भूमिपूजन किया। कोरिया जिले के मनेंद्रगढ़ में नए औद्योगिक क्षेत्र का उन्होंने लोकार्पण किया। बालोद की जल आवर्धन योजना की पाइप लाइन विस्तार के लिए उन्होंने एक करोड़ रुपए की स्वीकृति दी है। बलौदाबाजार जिले के ग्राम पाहांदा-लिमाही-रायपुर मार्ग तक पुल सहित पक्की सड़क निर्माण के लिए 6 करोड़ रुपए, सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 20 लाख रुपए की स्वीकृति उन्होंने दी। 

मुख्यमंत्री बघेल ने साजा में 50 बिस्तर वाले मातृ शिशु अस्पताल खोलने की घोषणा की है।  ग्रामीणों की मांग पर उन्होंने जगरगुंडा में 30 बिस्तरों के अस्पताल की स्वीकृति की घोषणा की। इसी तरह उन्होंने बीजापुर जिले के गंगालूर क्षेत्र में लाल पानी की समस्या से प्रभावित 10 ग्राम पंचायतों गंगालूर, बुरजी, गोंगला, पुसनार, पीडिया, तोडका, गमपुर, कैका, रेड्डी और पालनार को इस समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए 5 करोड़ रुपए की लागत से वहां सिल्टेशन फिल्ट्रेशन स्ट्रक्चर और सोलर ड्यूल पम्प की स्थापना की घोषणा की। इस प्लांट की स्थापना से इस क्षेत्र के 6 हजार परिवारों के लगभग 20 हजार लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध हो सकेगा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804