GLIBS
07-08-2020
आरक्षक पाया गया कोरोना पॉजिटिव, लिया जा रहा है स्टाफ को सैंपल

जांजगीर चाम्पा। जांजगीर एसपी ऑफिस का आरक्षक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि आरक्षक 31 जुलाई से अवकाश पर था। मधुलिका सिंह ने कहा कि आरक्षक के पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे स्टाफ का सैंपल लिया जा रहा है। इसके अलावा कार्यालय को भी सैनिटाइज किया जा रहा है। 

 

07-08-2020
झुरानवागांव के एक किलोमीटर परिधि को कंटेनमेंट एवं अतिरिक्त दो किलोमीटर दायरे को बफर जोन किया गया घोषित

धमतरी। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी जयप्रकाश मौर्य ने धमतरी विकासखण्ड के ग्राम झुरानवागांव के एक किलोमीटर परिधि को कंटेनमेंट और अतिरिक्त दो किलोमीटर के दायरे को बफर जोन घोषित किया है। मिली जानकारी के मुताबिक वर्तमान में वैश्विक स्तर पर फैले कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए युद्धस्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। इसके तहत जिले के संदिग्ध मरीजों का सैंपल जांच के लिए प्रेषित किया गया,जिसमें ग्राम झुरानवागांव में पांच पाॅजीटिव मरीज पाए गए। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा छत्तीसगढ़ शासन द्वारा समय-समय पर जारी आदेश एवं मार्गदर्शक मानक प्रचालन प्रक्रियाओं के परिपालन में कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव और रोकथाम को ध्यान में रख जिला दण्डाधिकारी द्वारा ग्राम झुरानवागांव के महावीर चौक वार्ड क्रमांक 5 से यादव किराना स्टोर्स यादवपारा झुरानवागांव के एक किलोमीटर के परिधि को कन्टेनमेंट एवं अतिरिक्त दो किलोमीटर के दायरे को बफर जोन घोषित किया गया है।


दिए गए आदेश अनुसार उक्त चिन्हांकित क्षेत्र के तहत सभी दुकानें एवं अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। प्रभारी अधिकारी द्वारा कंटेनमेंट जोन में घर पहुंच सेवा के जरिए आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जाएगी। कंटेनमेंट जोन के तहत मनरेगा कार्यों पर प्रतिबंध रहेगा। कंटेनमेंट जोन के तहत कोई भी व्यक्ति तालाब में नहीं नहाएगा। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर सभी प्रकार के वाहनों का आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। कंटेनमेंट जोन की निगरानी के लिए लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जाएगी। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा संबंधित क्षेत्र में स्वास्थ्य की निगरानी एवं निर्देश अनुसार सैंपल इत्यादि जांच के लिए लिया जाना सुनिश्चित किया जाएगा। कम्युनिटी सर्विलेंस टीम द्वारा पाॅजीटिव प्रकरण के वर्तमान निवास स्थल से चारों दिशा में 50-50 घरों पर एक्टिव सर्विलेंस कर सर्दी, खांसी, बुखार एवं सांस लेने में तकलीफ वाले व्यक्तियों की सूची मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को प्रेषित किया जाएगा। जिला दण्डाधिकारी ने कंटेनमेंट जोन में आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने प्रभारी अधिकारी नियुक्त किए हैं। इनमें मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत धमतरी, नायब तहसीलदार धमतरी, मेडिकल आफिसर शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र इतवारी बाजार धमतरी, परियोजना अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग धमतरी, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी और सब इंजीनियर लोक निर्माण विभाग शामिल हैं। 

 

04-08-2020
लाॅक डाउन का उल्लंघन के एक हजार आठ सौ से अधिक प्रकरण बने

कोरबा। कोरोना संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए जिले के नगरीय निकाय क्षेत्रों में जारी लाॅक डाउन के दौरान शासकीय निर्देशों और कोविड प्रोटोकाॅल के उल्लंघन पर अब तक एक हजार 866 प्रकरणों में तीन लाख 65 हजार 770 रूपए का जुर्माना वसूला गया है। कलेक्टर किरण कौशल के निर्देशों के बाद लाॅक डाउन का पालन सुनिश्चित करने के लिए निरीक्षण दलो और लाॅजिस्टिक टीमों की कार्रवाईयां आज भी पांचोे नगरीय निकाय क्षेत्रों में जारी रही। बुधवार को कार्रवाई में पांचों नगरीय निकायों में 82 प्रकरणों मे 10 हजार 800 रूपए का जुर्माना लाॅकडाउन का उल्लंघन करने वाले लोगों पर लगाया गया। सभी नगरीय निकाय क्षेत्रों में आज भी बिना मास्क के सड़कों पर निकलने वाले पर जुर्माना लगाया गया। खरीदी बिक्री के समय कोविड प्रोटोकाॅल का पालन नहीं करने और सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वाले लोगों पर भी कार्रवाई की गई। लाॅक डाउन की निर्धारित अवधि मे तय समय पर दुकाने बंद नही करने या निर्धारित समय के बाद भी दुकानों से सामान बेचने वाले दुकानदारों के विरूद्ध भी प्रशासन ने जुर्माने की कार्रवाई की। जिले में अब तक एक हजार 409 लोगों के विरूद्ध बिना मास्क लगाए घरों से बाहर घूमने पर एक लाख 35 हजार 970 रूपए का जुर्माना वसूला गया है।

अब तक लाॅकडाउन का पालन कराने के लिए जिले की पेट्रोलिंग टीमों ने 13 प्रकरणों में 15 हजार 600 रूपए जुर्माना वसूला है। लाॅकडाउन की अवधि में अब तक सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने पर 309 प्रकरणों में एक लाख 800 रूपए जुर्माना वसूला गया है। नगरीय निकायों के दलों ने लाॅकडाउन का पालन नहीं करने पर अब तक 135 प्रकरण दर्ज किए है, जिनमें एक लाख 13 हजार 350 रूपए जुर्माना लगाया गया है। आज नगर पालिका परिषद दीपका क्षेत्र में 6 लोगों से बिना मास्क के घूमने पर एक हजार 600 रूपए अर्थदण्ड वसूला गया। अपने चेहरे को बिना ढके घूमने से कोविड प्रोटोकाॅल का उल्लंघन करने पर कोरबा नगर निगम क्षेत्र में आज 45 लोगों से तीन हजार 800 रूपए, कटघोरा नगर पालिका परिषद क्षेत्र में 6 लोगों से 600 रूपए और नगर पंचायत छुरीकला में 7 लोगो से 700 रूपए और नगर पंचायत पाली 2 लोगो से 200 रूपए जुर्माने के रूप में  वसूले गए। आज जिले के पांचो नगरीय निकाय क्षेत्रों में सोशल डिस्टेंसिंग के प्रोटोकाॅल का पालन नहीं करने पर 15 लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की गई और उन पर 2 हजार 900 रूपए जुर्माना लगाया गया। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने के सर्वाधिक प्रकरण आज नगर निगम कोरबा क्षेत्र में सामने आए। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने के विरूद्ध नगर पालिका कटघोरा में 5 लोगों से 500 रूपए और नगर निगम कोरबा क्षेत्र में 10 लोगों से 2 हजार 400 रूपए जुर्माने के रूप में वसूले गए। आज लाॅकडाउन की शर्तों और प्रतिबंधों का उल्लंघन करने पर नगर निगम कोरबा क्षेत्र में 1 प्रकरणों मे 1 हजार रूपए जुर्माना वसूला गया है।

 

04-08-2020
मगरलोड में 1 कोरोना पॉजिटिव की पहचान

धमतरी। जिले के मगरलोड ब्लॉक में एक कोरोना पॉजिटिव युवक की पुष्टि हुई है। युवक ग्राम मेघा का निवासी है। कल सोमवार को भी ग्राम भोथा व राजपुर में कोरोना पॉजिटिव मिले थे। वहीं आज मेघा का एक युवक पॉजिटिव पाया गया है। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. विजय फूलमाली ने बताया कि धमतरी लैब में टू-नॉट मशीन से की गई जांच में युवक के पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। सम्पर्क व ट्रैवल हिस्ट्री भी निकाली जाएगी। पश्चात प्रायमरी सम्पर्क में आने वाले सभी का सैम्पल लिया जाएगा। जिले में अब कोरोना पॉजिटिव कुल केस 44 हो गए है, जिसमे एक्टिव 11 तथा 32 स्वस्थ होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए, वहीं पूर्व में एक बुजुर्ग की मौत हो चुकी है।

 

02-08-2020
Breaking : छत्तीसगढ़ के इस महापौर की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में बढ़ते कोरोना संक्रमण ने राजनेताओं को भी अपनी चपेट में लेना शुरु कर दिया है। भाजपा कांग्रेस अलग अलग नेताओं के बाद अब भिलाई महापौर और विधायक देवेन्द्र यादव भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। देवेन्द्र यादव ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। उन्होंने लिखा कि पिछले कुछ दिनो से अस्वस्थ महसूस होने पे होम आइसोलेशन पे था। आज कोविड 19 रैपिड टेस्ट में मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है।किसी को भी चिंतित होने की जरूरत नहीं है,पिछले दिनों में किसी से भी सम्पर्क में नहीं आया हूँ। सभी को रक्षाबंधन की शुभकामनाएँ जल्द स्वस्थ होकर आपके बीच वापस आऊँगा।

01-08-2020
कोरोना संक्रमण की रोकथाम के नाम पर सरकार सिर्फ ड्रामेबाजी कर जनस्वास्थ्य के साथ कर रही खिलवाड़ : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार तेजी से हो रहे इजाफे पर चिंता व्यक्त की है। प्रदेश प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि कांग्रेस सरकार शुरू से इस महामारी को लेकर लापरवाह रही है। घर-घर तक पहुँच रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के नाम पर सिर्फ ड्रामेबाजी कर जनस्वास्थ्य के साथ क्रूर खिलवाड़ कर रही है। सुंदरानी ने कहा कि अब बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के लिए अनलॉक के दौरान लोगों द्वारा सावधानी और बचाव के उपाय नहीं अपनाने की बात कहकर मुख्यमंत्री बघेल अपनी विफलता का ठीकरा लोगों के सिर फोड़ने पर आमादा हैं। भाजपा प्रवक्ता ने सवाल किया कि कांग्रेस के नेताओं और सैंपल देकर कायदा-कानून ताक पर रख घूम रहे कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों से जो संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ रहा है, मुख्यमंत्री इस पर संज्ञान कब लेंगे?

सुंदरानी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार की ओर से घोषित सख़्त लॉक डाउन पूरी तरह ध्वस्त हो चुका है और सरकार को यह सूझ ही नहीं रहा है कि इस संक्रमण की रोकथाम के लिए किस तरह के उपाय किए जाएँ? उन्होंने कहा कि अफसरशाही पूरे प्रदेश में कोरोना के नाम पर अव्यावहारिक फैसले लेकर अपना राज चला रहे हैं, वहीं नित-नए फैसलों के चलते बाजार में जो हुजूम उमड़ रहा है, उससे संक्रमण फैलने की बढ़ती आशंका के लिए प्रदेश सरकार अपनी जिम्मेदारी से पल्ला कैसे झाड़ सकती है? यह स्थिति प्रदेश सरकार की नेतृत्वहीनता और भटकन को रेखांकित कर रही है। प्रदेश में अब भी टेस्टिंग लैब की कमी के चलते जाँच का काम धीमी गति से चल रहा है, क्वारेंटाइन सेंटर्स के बाद अब कोविड-19 सेंटर्स भी बदइंतजामी और बदहाली के चलते नरकीय यंत्रणा के केंद्र बन चुके हैं, जमीनी सच यह भी है कि प्रदेश में अब संदेही लोगों की जांच के लिये सैंपल भी नहीं लिए जा रहे हैं, जिसके चलते परिस्थितियां और चिंताजनक बनती जा रही हैं। तो, प्रदेश सरकार क्या अपनी इस नाकामी के लिए भी शर्म महसूस नहीं करेगी?

27-07-2020
750 से अधिक बिस्तर का कोविड केयर सेंटर की तैयारी अंतिम स्थिति में, जल्द रखे जाएंगे कोविड मरीज

भिलाई। कचांदुर स्थित चंदूलाल चंद्राकर मेमोरियल मेडिकल कालेज में जल्द ही कोरोना से संक्रमित बिना लक्षण वाले मरीजों का इलाज आरंभ हो जाएगा। इसकी तैयारियां अंतिम चरण में है। कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे एवं निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी ने मेडिकल कालेज हास्पिटल का निरीक्षण किया। वे लगभग तीन घंटे सेंटर में रहे और उन्होंने कोविड केयर सेंटर से जुड़ी हुई अधोसंरचनाओं का अवलोकन किया। तैयारियों से उन्होंने संतुष्टि जताई। उन्होंने हास्पिटल के संपूर्ण वार्डों का बारीकी से निरीक्षण किया। उन्होंने वार्डों में वेंटीलेशन की सुविधा से लेकर खिड़की, दरवाजे, टायलेट और बेड आदि की व्यवस्था का जायजा लिया। साथ ही उन्होंने हर वार्ड में हैंड सैनिटाइजर और हैंडवाश रखने की उचित व्यवस्था के निर्देश भी दिये। कलेक्टर ने कैंपस में कोरोना वारियर्स की सुरक्षा के लिए इंतजाम भी देखे। इसके लिए उन्होंने पीपीई किट की उपलब्धता एवं कोविड वारियर्स की संक्रमण से सुरक्षा के लिए अन्य आवश्यक उपायों का अवलोकन किया। भिलाई आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी के निर्देश पर निगम अमला संपूर्ण तैयारियों में जुटा हुआ है स्वयं निगम आयुक्त कैंपस मे उपस्थित रहकर व्यवस्था संभाले हुए हैं। महापौर व भिलाई नगर विधायक देवेन्द्र यादव ने जिले में कोरोना के संक्रमण को ध्यान को रखते हुए सीसीएम मेडिकल कालेज को कोविड केयर सेंटर बनाए जाने को लेकर पहल की थी। कलेक्टर के निर्देश पर निगम प्रशासन की टीम पिछले तीन दिन से कचांदुर स्थित सीसीएम मेडिकल काॅलेज को कोविड केयर सेंटर बनाने की दिशा में कार्य कर रही है। वार्ड की साफ-सफाई से लेकर अन्य कार्य को पूरा करने में जुटी हुई है ताकि मेडिकल काॅलेज को पूर्ण रूप से कोविड हास्पिटल के रूप में तब्दील किया जा सके और यहां भर्ती होने वाले मरीजों को किसी भी प्रकार से परेशानी का सामना न करना पड़े।

750 से अधिक बेड की होगी व्यवस्था

सीएचएमओ ने बताया कि मेडिकल काॅलेज परिसर में सिर्फ कोरोना से संक्रमित बिना लक्षणों वाले मरीजों को भर्ती कर इलाज किया जाएगा। मेडिकल काॅलेज तीन मंजिला है। जहां कुल 22 वार्ड है। इस कैंपस में और भी रिक्त अन्य कमरों का उपयोग किया जाएगा।

मेडिकल काॅलेज कैंपस की सीसीटीवी से होगी निगरानी

मेडिकल कॉलेज कैंपस सीसीटीवी से लैस होगा। प्रवेश द्वार से लेकर वार्डों के गतिविधियों की सीसीटीवी कैमरे से मानिटरिंग किया जाएगा। चिकित्सकों की टीम कैमरे के माध्यम से 24 घंटे भर्ती मरीजों पर नजर रखेंगे। निगम प्रशासन ने चिकित्सकों की सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए हाॅस्टल में चिकित्सकों के ठहरने की व्यवस्था भी किया गया है। डॉफिंग एरिया भी हुई निर्मित चिकित्सकों के लिए डॉफिंग एरिया तैयार किया गया है, जहां पर प्रवेश एवं निकास के दौरान पीपीई किट इत्यादि सुरक्षात्मक तरीके से अपना सकेंगे।

 

22-07-2020
कोरोना संक्रमितों को चुटकुले और गाने सुनाकर उनका भय दूर कर देते हैं एम्बुलेंस के पायलेट                                                                                                        

रायपुर/नारायणपुर। देश में कोरोना संक्रमितों के बढ़ते ग्राफ से न सिर्फ लोगों की चिंता बढ़ा रही है, बल्कि आसपास डर का वातावरण भी बना रहा है। इस माहौल के बीच कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो कोरोना संक्रमितों के बेहद करीब रहकर भी उनसे डरने की बजाए उनका हौसला बढ़ाते हैं। जिला चिकित्सालय नारायणपुर के एम्बुलेंस पायलेट (ड्राइवर) राजेश माने उन कोरोना वारियर्स में शामिल हैं, जिन्होंने पॉजटिव पाए गए हर मरीज के पास सबसे पहले पहुंचकर उन्हें अस्पताल पहुंचाया। ये शख्स नारायणपुर जिले के 25-30 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को घर से कोविड केयर सेंटर पहुंचा चुके हैं। एम्बुलेंस के पायलेट राजेश माने और उनके सहकर्मियों ने बताया कि अस्पताल जाते समय कोरोना संक्रमित व्यक्ति अत्यधिक भयभीत रहता है। हम एंबुलेंस में उनसे सकारात्मक चर्चा कर उनके डर को दूर करने का प्रयास करते हैं। कोरोना मरीजों को बताते हैं कि अब तक कोरोना के सभी मरीज स्वस्थ होकर घर लौट आए हैं। उन्होंने बताया कि जब वे एक बार एक व्यक्ति को अस्पताल लेकर आ रहे थे,जो मेरे से कम उम्र का व्यक्ति था और बहुत डरा हुआ था। मैंने बड़े भाई की तरह उसे स्नेह दिया और भरोसा दिलाया कि तुम कुछ ही दिन में स्वस्थ होकर घर लौटोगे। मैने उसे गाने, कहानियां सुनाकर उसका ध्यान बंटाया और चुटकुले सुनाकर उसे हंसाया भी।
एहतियात के साथ निभा रहे अपनी जिम्मेदारी

पायलट राजेश ने बताया कि जब हम पहले कोरोना संक्रमित मरीज को लेने उसके घर पहुंचते है, तब हमें भी मन में थोड़ा डर रहता है, लेकिन पूरी एहतियात के साथ अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं। संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ने लगा तो चुनौती और भी बढ़ गयी हैं। गर्मी में पीपीई किट पहनकर ड्यूटी करने से कभी-कभी चक्कर व डिहाइड्रेशन की समस्या होती है। लेकिन हम यह संकल्प ले चुके हैं, कि इस अप्रत्याशित कोरोना काल में ईश्वर ने हमें सेवा का जो अवसर दिया है उसे जिम्मेदारी व समर्पण के साथ पूरा करेंगे।

कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा का रखें ध्यान

पायलट राजेश ने बताया कि जब हम कोरोना संक्रमित मरीज को एम्बुलेंस में लेकर कोविड केयर सेंटर ले जाते हैं, तो इस दौरान उनसे बातचीत भी करते हैं। बातचीत में कोरोना संक्रमित मरीजों बताते है कि कोरोना से बचने के लिए सुरक्षा रखना बहुत जरूरी है। अपने बचाव के लिए मास्क का उपयोग, हाथों को साबुन या सेनेटाइजर से समय-समय पर साफ-करना, सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए। इसके साथ ही शासन द्वारा कोविड-19 को लेकर जारी की गयी एडवाइजरी का भी पालन अनिवार्य रूप से करना चाहिए। हम लोगों ने इसमें लापरवाही बरती, इसीलिए हम लोग कोरोना से संक्रमित हो गये हैं। माने ने बताया कि मरीज को ले जाने से पहले सुरक्षा के सभी उपाय किये जाते हैं। जिसमें पीपीई पहनना, दस्ताने, मास्क, शू-कवर आदि शामिल होता है। कोविड केयर सेंटर पहुंचने के बाद वहां एम्बुलेंस को पूरी तरह से सैनिटाइज भी किया जाता है। उन्होंने बताया कि स्वयं और मरीजों के पीने के लिए गर्म पानी भी रखते हैं।

19-07-2020
प्रदेश सरकार की लापरवाही के कारण छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण चरम पर पहुँच रहा है : विष्णुदेव साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में शनिवार को हुई बैठक कोरोना संक्रमण की स्थिति, रोकथाम और सुरक्षा उपायों पर चर्चा को महज दिखावा बताया है। साय ने कहा कि यदि प्रदेश सरकार पहले से ही सचेत रहती तो हालात इतने बेकाबू नहीं होते। प्रदेश सरकार की लापरवाही के कारण छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण चरम पर पहुँच रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार और कांग्रेस एक तरफ संसदीय सचिवों, निगम-मंडलों में नियुक्तियाँ करने की राजनीति में मस्त है जबकि प्रदेश की जनता कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण त्रस्त है। साय ने प्रदेश के क्वारेंटाइन सेंटर्स में बदइंतजामी और बदहाली का आरोप लगाकर कहा कि संवेदनहीनता और अमानवीयता के चलते कोरोना वॉरियर्स में हताशा चरम तक पहुँचने पर भी प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है। राज्य सरकार की शनिवार को हुई बैठक सबकुछ लुटाकर होश में आने जैसा है। प्रदेश सरकार अब कोरोना की जाँच के लिए टेक्नीशियन व एनएमए आदि रिक्त पदों की भर्ती के जो निर्देश जारी किए हैं, यह काम तो उसे दिसंबर में कर लेना था। यदि यह काम तब हो जाता तो आज कोरोना के खिलाफ जंग में आसानी होती।

लेकिन प्रदेश सरकार तब सियासी नौटंकियों में मस्त रही और आज जब हालात हाथ से बाहर हो गए हैं, तब उन्हें यह सब याद आया है। राजनीतिक प्रतिशोध और सत्तावादी अहंकार में डूबी प्रदेश सरकार पिछले तीन माह से भाजपा की चेतावनियों और सलाहों को भी अनसुना करती रही और अब जाकर कोरोना के उपचार के लिए बेड बढ़ाने की चिंता हुई है। साय ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के खतरनाक विस्फोटक स्तर पर पहुँचने के बाद भी प्रदेश सरकार पूरी तरह लापरवाही का परिचय दे रही है। कोरोना के नाम पर पैसों की कमी का रोना रोती सरकार सियासी नौटंकियों में सरकारी धन पानी की तरह बहा रही है, पर कोरोना वॉरियर्स (सफाई कर्मियों) का वेतन काटकर उन्हें भी हताश करके उनका मनोबल, उत्साह तोड़ने का काम कर रही है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804