GLIBS
08-02-2020
रवींद्र जडेजा ने तोड़ा धोनी और कपिल देव का रिकॉर्ड...

नई दिल्ली। न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में रवींद्र जडेजा ने अर्धशतक लगाकर एमएस धोनी और कपिल देव का रिकॉर्ड तोड़ा है। रवींद्र जडेजा ने शनिवार को हुए वन डे मैच में 73 गेंदों में दो चौके और एक छक्के की मदद से 55 रन बनाकर आउट हुए। नंबर 7 पर बल्लेबाजी करते हुए यह 7वां अर्धशतक है। इसके साथ ही उन्होंने एमएस धोनी और कपिलदेव के अर्धशतक का रिकॉर्ड तोड़ दिया। दोनों खिलाड़ियों ने नंबर 7 पर बल्लेबाजी करते हुए 6-6 अर्धशतक लगाए थे।
रवींद्र जडेजा ने एक समय नवदीप सैनी के साथ मिलकर 76 रनों की साझेदारी करते हुए मैच को कांटे का बना दिया था, लेकिन न्यूजीलैंड के लिए पहला मैच खेल रहे काइल जैमीसन ने सैनी को 45वें ओवर में आउट करके न्यूजीलैंड को फिर मैच में लौटाया। भारत को आखिरी दो ओवर में 23 रन चाहिए थे, लेकिन जडेजा 49वें ओवर में जेम्स नीशम की गेंद पर कोलिन डि ग्रांडहोम को कैच दे बैठे।

 

13-01-2020
फटे ग्लव्स और टूटे बैट से खेलती थी शेफाली,  अब खेलेगी भारत के लिए  

नई दिल्ली। महज 15 साल 285 दिन की उम्र में अर्धशतक जड़ अपने आदर्श मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड भंग करने वाली हरियाणा के रोहतक की शेफाली वर्मा ने महिला टी-20 विश्व कप टीम में जगह बनाई है। इतना ही नहीं शेफाली को रविवार को बीसीसीआई ने सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय पदार्पण के लिए सम्मानित भी किया। कभी फटे ग्लव्स और टूटे बैट से खेलने वाली शेफाली की दो माह के अंदर की यह स्वप्निल उड़ान अपने पीछे संघर्ष की ऐसी गाथा छुपाई हुई है, जो हर किसी के लिए प्रेरणास्रोत बन सकती है।तीन साल पहले की बात है। शेफाली के पिता संजीव वर्मा के पास बेटी के फटे ग्लव्स और कई जगह से चटक चुके बैट की जगह नए ग्लव्स और बैट खरीदने तक के पैसे नहीं थे। इसके बावजूद बिना किसी  शिकायत के शेफाली ने बैट पर तार चढ़वाकर और ग्लव्स को छिपाकर खेलना जारी रखा। धोखा मिलने से कंगाली की स्थिति में आ चुके संजीव ने उधार पैसा लेकर बेटी को नए ग्लव्स और बैट दिलाया। आज बेटी की सफलता पर वह नाज करते नहीं थकते।

पेशे से ज्वेलर संजीव ने बताया कि 2016 में उनका धंधा चौपट हो गया था। उन्हें एक व्यक्ति ने दिल्ली एयरपोर्ट पर नौकरी लगाने का झांसा दिया। इसके लिए उन्होंने पत्नी के गहने तक बेच दिए। यह वही समय था जब शेफाली लड़कों के साथ खेलकर इलाके में नाम बना चुकी थी। नौकरी नहीं मिली और सब कुछ चला गया। वह अवसाद में चले गए, लेकिन शेफाली ने कुछ नहीं बोला। वह फटे ग्लव्स और टूटे बैट से खेलती रही। वह जब संभले तब उन्होंने शेफाली का बैट और ग्लव्स देखा। इसके बाद उन्होंने उधार पैसा लेकर उसे ये दोनों चीजें दिलाईं।

भाई की जगह खेलकर बनी मैन ऑफ द मैच

संजीव बताते हैं कि शेफाली साढ़े दस साल की थी। उस दौरान उनके बेटे साहिल को पानीपत में अंडर-12 का टूर्नामेंट खेलने जाना था, लेकिन वह बीमार पड़ गया। वह शेफाली को पानीपत ले गए और साहिल बनाकर उसे खिलाया। वहां उसने लड़कों के मैच में मैन ऑफ द मैच का अवार्ड हासिल किया। वह आज भी लड़कों के साथ ही प्रैक्टिस करती है। संजीव खुद भी क्रिकेटर थे लेकिन ऊंचे स्तर पर नहीं खेल पाए। वह खुद शेफाली को सुबह प्रैक्टिस कराते हैं। उसके बाद वह पूर्व रणजी क्रिकेटर अश्वनी कुमार की अकादमी में जाती है। वह खुद तो क्रिकेटर नहीं बन पाए लेकिन बेटी ने उनका यह सपना पूरा कर दिया।

सचिन के आशीर्वाद की तमन्ना

संजीव कहते हैं कि रोहतक में सचिन को खेलते देख शेफाली क्रिकेटर बनी। सचिन का यह अंतिम रणजी ट्रॉफी मैच था। शेफाली सचिन को अपना रोल मॉडल मानती है। अब यही दुआ करता हूं कि ऑस्ट्रेलिया में विश्व कप के लिए जाने से पहले सचिन एक बार उसके सिर पर हाथ रख आशीर्वाद दे दें तो वह सफल हो जाएगी। शेफाली की अब तक सचिन से मुलाकात नहीं हुई है। वह यह भी बताते हैं कि शेफाली बिल्कुल भी नहीं डरती है। उसके लिए बल्लेबाजी का मतलब गेंद पर आक्रामक प्रहार करना है।

 

10-11-2019
महिला क्रिकेट: टी20 में शेफाली और स्मृति का अर्धशतक, भारत ने वेस्टइंडीज को दी करारी मात

 नई दिल्ली। शेफाली वर्मा (73) और स्मृति मंधाना (67) की सलामी जोड़ी की अर्धशतकीय पारियों की बदौलत भारतीय महिला टीम ने यहां पहले टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैच में मेजबान वेस्टइंडीज पर 84 रन की आसान जीत हासिल की। शेफाली और मंधाना ने पहले विकेट के लिये रिकार्ड 143 रन की साझेदारी निभाई, जिससे भारत ने शनिवार को यहां डेरेन सैमी राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में निर्धारित 20 ओवर में चार विकेट पर 185 रन का स्कोर खड़ा किया। इसके बाद भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज को नौ विकेट पर 101 रन ही बनाने दिये और जीत हासिल की। तेज गेंदबाज शिखा पांडे, राधा यादव और पूनम यादव की स्पिन जोड़ी ने दो दो विकेट हासिल किये जबकि दीप्ति शर्मा और पूजा वस्त्राकर को एक एक विकेट मिला। बल्लेबाजी का न्यौता मिलने के बाद भारत के लिये अपना पांचवां टी20 खेल रही शेफाली ने अपने पहले अंतरराष्ट्रीय अर्धशतक के लिये छह चौके और चार छक्के जड़े। मंधाना ने भी इस युवा खिलाड़ी का अच्छा साथ निभाया और अपनी 46 गेंद की पारी में 11 चौके जमाये,जिससे भारत ने 10 ओवर में बिना विकेट गंवाये 102 रन बना लिये थे। इन दोनों ने भारत के लिये टी 20 में किसी भी विकेट के लिये सर्वोच्च भागीदारी का रिकार्ड भी बनाया। इन दोनों ने 2013 में थिरूष कामिनी और पूनम राउत के बांग्लादेश के खिलाफ 130 रन की साझेदारी के रिकार्ड को पछाड़ा।  
शेफाली के 16वें ओवर में आउट होने के बाद कप्तान हरमनप्रीत कौर ने 13 गेंद में 21 रन बनाये जबकि वेदा कृष्णमूर्ति ने सात गेंद में 15 रन बनाकर भारत को चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाने में मदद की। मेजबान टीम के लिये शकीरा सेलमान और अनीसा मोहम्मद ने दो दो विकेट हासिल किये। इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज की टीम के लिये कोई बड़ी साझेदारी नहीं बनी,जिसमें केवल शर्मेन कैम्पबेल ही 34 गेंद में 33 रन बनाकर शीर्ष स्कोरर रहीं। सलामी बल्लेबाज हेली मैथ्यूज (13) और नताशा मैकलीन (शून्य) के जल्दी आउट होने के बाद कैम्पबेल ने पारी को बढ़ाने का प्रयास किया लेकिन वेस्टइंडीज ने दूसरे छोर पर विकेट गंवाना जारी रखा।  कैम्पबेल भी तेजी से नहीं खेल पायीं और 34 गेंद में केवल दो चौके और एक छक्का ही लगा सकीं।  वेस्टइंडीज ने 14.1 ओवर तक 86 रन पर छह विकेट खो दिये थे। इसके बाद निचला क्रम चरमरा गया, जिससे भारत ने पांच मैचों की श्रृंखला में 1-0 से बढ़त हासिल कर ली। 

09-10-2019
महिला क्रिकेट: भारत की दक्षिण अफ्रीका पर शानदार जीत, प्रिया का डेब्यू मैच में अर्धशतक

नई दिल्ली। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज का पहला मुकाबला वडोदरा में खेला गया। दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग की। भारतीय गेंदबाजों ने मेहमान टीम को महज 164 के स्कोर पर समेट दिया। भारत की ओर से गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने सबसे अधिक तीन विकेट झटके। एकता बिष्ट, शिखा पांडे और पूनम यादव ने दो-दो विकेट लिए। दक्षिण अफ्रीका की ओर से लाउरा वोल्वार्ट ने सबसे अधिक 39 रन बनाए। बाकी बल्लेबाज 25 की रनसंख्या भी नहीं छू सके। अपना पहला वनडे मैच खेल रहीं ओपनर प्रिया पूनिया और जेमिमाह रोड्रिगेज ने पहले विकेट के लिए 83 रन की साझेदारी कर भारत को बेहतरीन शुरुआत दी। इस स्कोर पर जेमिमाह (55) आउट हो गईं। उन्होंने 65 गेंदों की अपनी पारी में सात चौके जमाए। जेमिमाह भले ही अर्धशतक पूरा करने के बाद जल्दी आउट हो गई हों, लेकिन प्रिया पूनिया ने अपना विकेट अंत तक नहीं गंवाया। वे 124 गेंद पर 75 रन बनाकर नाबाद रहीं। 23 वर्षीय प्रिया का यह पहला वनडे मैच भी था। इस तरह वे अपने डेब्यू मैच में ही फिफ्टी लगाने वाली बल्लेबाज बन गईं। प्रिया को ओपनिंग का मौका स्मृति मंधाना की गैरमौजूदगी के कारण मिला. मंधाना चोट की वजह से टीम से बाहर हैं। प्रिया पूनिया ने जेमिमाह के आउट होने के बाद पूनम राउत और कप्तान मिताली राज के साथ मिलकर टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया। पूनम राउत 16 रन बनाकर आउट हो गईं। इसके बाद प्रिया और मिताली ने 37 रन की नाबाद साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई। प्रिया ने अपनी पारी में आठ चौके लगाए। उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। भारत ने यह मैच 41.4 ओवर में जीता। सीरीज का दूसरा मैच शुक्रवार को खेला जाएगा।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804