GLIBS
12-12-2019
ईओडब्ल्यू ने कंसोल ग्रुप के खिलाफ किया मामला दर्ज

रायपुर। छत्तीसगढ़ की जानी मानी पीआर कंपनी कंसोल ग्रुप के खिलाफ ईओडब्ल्यू में शिकायत दर्ज की गई है। सूत्रों की माने तो पीआर कंपनी कंसोल और जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। आर्थिक अपराध अन्वेषण विंग में दर्ज शिकायत के अनुसार जनसंपर्क अधिकारियों ने 2016-2018 के बीच सरकारी योजनाओं के प्रचार के लिए टेंडर जारी किया था। लेकिन ठेके की शर्तों में बदलाव कर कंसोल ग्रुप को करोड़ों का लाभ पहुंचाने का आरोप है। एफआईआर में कंसोल ग्रुप का नाम उल्लेखित किया गया है।

30-09-2019
कांग्रेस सरकार की गौठान योजना पूरी तरह फेल : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने प्रदेश सरकार की आदर्श गौठान योजना की विफलता पर तंज कसा है। उपासने ने कहा कि प्रदेश सरकार आदर्श गौठानों का एक तरफ  ढोल पीट रही है, वहीं दूसरी तरफ ढोल की पोल यह है कि अब गौठानों में ही मवेशियों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो रही है। इतना ही नहीं, इन गौठानों में चारा-पानी का पक्का इंतजाम तक नहीं हो रहा है, जिससे मवेशी भूख-प्यास से बेचैन होकर दम तोड़ रहे हैं। सड़कों पर घूमते आवारा मवेशियों की सुरक्षा आदि के प्रति भी जिम्मेदार लोग लापरवाह हैं। उपासने ने कहा कि हाल के दिनों में लगातार इस तरह की आ रही खबरें प्रदेश सरकार की लुंज-पुंज कार्यप्रणाली की तस्दीक कर रही हैं। दुर्ग के गौठानों में चारा-पानी नहीं होने के कारण 72 मवेशियों को तीन दिन में छोड़ दिया गया। बलौदाबाजार-कसडोल क्षेत्र में बलौदा ग्राम में भी भूख-प्यास से बेहाल 11 मवेशियों की मौत हो गई। इन मवेशियों को यहां मुक्तिधाम की चारदीवारी में कैद रखा गया था। यहां बारिश से बचने के लिए भी कोई इंतजाम नहीं था। दो सौ मवेशियों में 11 की मौत और दो की गंभीर दशा सरकारी योजना के दावों की धज्जियां उड़ा रही हैं। इधर राजधानी के करीब सड़कों पर आठ और मवेशियों की हादसों में जान गई है। उपासने ने बिलासपुर संभाग के मस्तूरी ब्लॉक के ग्राम लोहरसी में गौठान में चारा-पानी के अभाव में 22 मवेशियों की मौत का जिक्र करते हुए चिरमिरी समेत प्रदेश के सभी शहरों-नगरों और सड़कों पर घूमते आवारा मवेशियों की समस्या को भी प्रदेश सरकार की सबसे बड़ी विफलता बताया है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि एक तरफ  प्रदेशभर में मवेशियों की सुरक्षा के दावे करने वाली प्रदेश सरकार इस मोर्चे पर लज्जाजनक विफलता की परिचायक बनी हुई है, वहीं इस समस्या के समाधान और मवेशियों की पक्की सुरिक्षत व्यवस्था करने के बजाय प्रदेश सरकार महज बड़ी-बड़ी बातें करके प्रदेश को भरमाने में लगी है। उन्होंने  प्रदेश सरकार राजनीतिक स्वांग से उबरकर संवेदनापूर्ण कार्य करने की मांग की है।
 

 

27-09-2019
एक ही परिवार के 11 लोगों ने आपस में 23 बार रचाई शादी, आखिर क्यों, क्या है वजह ?

चीन। चीन में शादी और तलाक से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसके बारे में जिसने भी सुना, वो हैरान रह गया। दरअसल, यहां एक ही परिवार के 11 लोगों ने आपस में ही 23 बार शादी रचा ली, लेकिन फिर दो हफ्ते के अंदर ही सबने एक-दूसरे को तलाक भी दे दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकारी योजना पाने के लिए परिवार के लोगों ने एक-दूसरे से शादी रचाई। इसकी शुरुआत तब हुई जब झेजियांग प्रांत के लिशुई शहर के एक छोटे से गांव में रहने वाले पैन नाम के शख्स को सरकार की शहरी नवीनीकरण मुआवजा योजना के बारे में पता चला। इस योजना के मुताबिक, स्थानीय निवासियों को कम से कम 40 वर्ग मीटर का एक अपार्टमेंट देने की पेशकश की जा गई थी, चाहे उसके पास कोई संपत्ति हो या न हो।

पैन ने इस सरकारी योजना का लाभ उठाने के लिए एक योजना बनाई और अपनी पूर्व पत्नी से फिर से शादी कर ली, जिसे उसने साल 2011 में ही तलाक दे दिया था। इसके बाद सरकारी योजना के तहत उसे अपार्टमेंट मिल गया। फिर छह दिन बाद उसने अपनी पूर्व पत्नी को तलाक दे दिया। पैन के लालच की इंतहा ये हो गई कि अपार्टमेंट के लिए उसने अपनी साली और यहां तक कि अपनी बहन से भी शादी कर ली। कुछ समय बाद पैन के अन्य रिश्तेदार भी उसकी इस धोखाधड़ी में शामिल हो गए। यहां तक कि उसके पिता और मां ने भी शादी रचा ली। ऐसा करके उन्होंने गांव के निवासियों के रूप में अपना पंजीकरण कराया और फिर तलाक ले लिया, लेकिन आवास योजना के अधिकारियों को किसी तरह इस धोखाधड़ी की जानकारी मिल गई। अधिकारियों ने जांच की तो पाया कि जिन 11 लोगों ने शादी रचाई है, उनका पता एक ही है और फिर उनके संबंधों को भी खुलासा हुआ। इसके बाद सभी लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। फिलहाल चार लोगों को हिरासत में रखा गया है, जबकि अन्य लोगों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है।

04-05-2019
पखांजूर ईलाके के बैंकों में नगदी की कमी, सरकारी योजनाओं के हितग्राहियों के भुगतान हो रहा प्रभावित 

कांकेर। कांकेर जिले के पखांजूर ईलाके में बैंकों में नगदी की कमी होने की खबर सोशल मीडिया में लगातार वायरल के बाद राज्य सरकार के वित्त विभाग ने आरबीआई को पत्र लिखकर तत्काल नगदी उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। राज्य सरकार की ओर से भेजे पत्र में नागरिकों की समस्या का उल्लेख करते हुए लिखा गया है कि, पखांजूर ईलाके के बैंकों में करंसी की कमी हो गई है। इस कमी से स्थानीय लोग लेनदेन नहीं कर पा रहे हैं। वहां की सरकारी योजनाओं जैसे कि मनरेगा और सामाजिक सुरक्षा के हितग्राहियों के भुगतान भी प्रभावित हो रहा है।


 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804