GLIBS
10-06-2021
Breaking: गुंडागर्दी के मामले में विधानसभा युवक कांग्रेस अध्यक्ष और महासचिव निलंबित

रायपुर/बिलासपुर। विधानसभा युवक कांग्रेस अध्यक्ष शिवा नायडू और महासचिव ऋषि कश्यप को पार्टी ने निलंबित कर दिया  है। प्रदेश युवक कांग्रेस प्रभारी व युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई है। मामला दुकान कब्जा खाली कराने को लेकर गुंडागर्दी करने का है। बताया जा रहा है कि मामले में उपरोक्त दोनों युवा नेता शामिल थे, पिछले दिनों शहर के तारबाहर क्षेत्र में यह मारपीट की घटना हुई थी।

04-11-2020
Breaking : फर्जी टीआरपी के मामले में पत्रकार अर्णब गोस्वामी गिरफ्तार, गिरफ्तारी से पहले झड़प की भी खबरें

रायपुर। रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी से पहले अर्णब और मुंबई पुलिस में झड़प हुई जिसके फुटेज सामने आ रहे हैं। अर्णब ने मुंबई पुलिस पर गुंडागर्दी का आरोप लगाया है और यह भी कहा है कि उन्हें उनके परिवार से मिलने नहीं दिया गया उन्हें दवा भी लेने नहीं दी गई। बताया जाता है कि मुंबई पुलिस अर्णब को वैन से उनके घर से ले गई है। संभवत उन्हें आज कोर्ट में पेश कर दिया जाएगा। मुंबई पुलिस ने अर्णब को फर्जी टीआरपी के मामले में गिरफ्तार किया है ऐसा बताया जा रहा है।

12-10-2020
देवती कर्मा के बेटे के खिलाफ व्यापारियों ने थाने में की शिकायत

रायपुर/दंतेवाड़ा। भाजपा के पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष मनीष सुराना ने कांग्रेस विधायक देवती कर्मा के बेटे आशीष कर्मा पर गीदम के व्यापारियों से गाली-गलौज करते हुए अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया है। सोमवार को गीदम की सभी दुकाने बंद करने का आह्वान करते हुए समर्थन मांगा है। सुराना ने गीदम थाने में इस घटना को लेकर आवेदन भी दिया है। मनीष सुराना ने बताया कि विधायक देवती कर्मा के बेटे आशीष कर्मा वर्तमान में बस्तर जिले में डिप्टी कलेक्टर के पद पर पदस्थ हैं। सत्ता के नशे में चूर कांग्रेसी विधायक देवती कर्मा के बेटे के इसके पहले भी अभद्र व्यवहार का मामला सामने आया था। उन्होंने कहा कि इसका विरोध अभी नहीं किया गया तो भविष्य में इनकी गुंडागर्दी और भी बढ़ जाएगी। भाजपा संगठन इसका पुरजोर विरोध करता है और आने वाले भविष्य में ऐसी घटना ना हो इसके लिए आवाज उठाना आवश्यक हो गया है।

21-09-2020
 राज्यसभा के 8 सांसद एक सप्ताह के लिए निलंबित, विपक्ष ने दिया धरना

नई दिल्‍ली। राज्‍यसभा में रविवार को हुए हंगामे का असर सोमवार की कार्यवाही पर पड़ा। संसदीय कार्य राज्यमंत्री वी.मुरलीधरन विपक्ष के 8 सदस्‍यों को बाकी सत्र के लिए निलंबित करने का प्रस्‍ताव पेश किया। यह प्रस्‍ताव ध्‍वनिमत से पारित हो गया। निलंबित किए गए सदस्यों में तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और डोला सेन, कांगेस के राजीव सातव, सैयद नजीर हुसैन और रिपुन बोरा, आप के संजय सिंह, माकपा के केके रागेश और इलामारम करीम शामिल हैं। इसके बाद भी ये सांसद सदन से बाहर नहीं गए और हंगामा होता रहा। कई बार कार्रवाई स्‍थगित होने के बाद, आखिरकार सदन को मंगलवार तक के लिए स्‍थगित करना पड़ा। इसके बाद निलंबित किए सांसदों ने अपनी-अपनी पार्टी के अन्‍य सदस्‍यों के साथ गांधी प्रतिमा पर धरना दिया। वहीं, बीजेपी ने विपक्षी सांसदों के व्‍यवहार को 'गुंडागर्दी' करार दिया है।

अपने सांसदों के निलंबन से विपक्षी दल बेहद आक्रामक हो गए हैं। तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि ऐसी कार्यवाही सरकार की ‘‘निरंकुश मानसिकता’’ दर्शाती है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और पार्टी की मुखिया ममता बनर्जी ने भाजपा पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए कहा कि वह संसद और सड़क दोनों जगह ‘फासीवादी’ सरकार से लड़ेंगी। राज्यसभा में टीएमसी के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर रॉय ने उच्च सदन चलाने के तरीके पर सवाल उठाया। रॉय ने यह भी कहा कि ‘लोकतंत्र के इस मंदिर’ में इस कार्यवाही की सभी खेमों को निंदा करनी चाहिए।सोमवार सुबह जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने सांसदों को आइना दिखाने की कोशिश की। उन्‍होंने कहा, "एक दिन पहले उच्च सदन में कुछ विपक्षी सदस्यों का आचरण दुखद, अस्वीकार्य और निंदनीय है।"

10-05-2020
वरिष्ठ पत्रकार के घर के पास गुंडागर्दी करने वाले असामाजिक तत्वों को पुलिस ने धर दबोचा

बिलासपुर। शनिवार की रात को तालापारा विनोबा नगर रोड में रहने वाले वरिष्ठ पत्रकार कमल दुबे के साथ में असामाजिक तत्वों के द्वारा बिलावजह बदतमीजी की गई और उनका मोबाइल छीनने का प्रयास किया गया। यह दुस्साहस करने वाले असामाजिक तत्वों ने विगत एक माह से रात के समय पूरे क्षेत्र में हुल्लड़ और‌ हुडदंगई कर वहां रहने वाले नागरिकों की नाक में दम किया हुआ था। मना करने पर उल्टे ये तत्व स्थानीय नागरिकों के साथ गाली-गलौज और मारपीट पर उतारू हो जाते थे। शनिवार रात वरिष्ठ पत्रकार कमल दुबे ने रात्रि के समय हंगामा करने वाले इन तत्वों को मना किया तो उल्टे वे कमल दुबे पर ही आक्रामक से हो गए। उन्होंने न केवल कमल दुबे से गाली गलौज की। वरन उनके हाथ से मोबाइल भी छीनने का प्रयास किया। इस बात की जानकारी तत्काल सोशल मीडिया के जरिए पुलिस अधिकारियों को मिलने पर पुलिस महकमे ने तत्परता के साथ कार्रवाई की और इस क्षेत्र में लोगों के लिए सिरदर्द बन रहे असामाजिक तत्वों को धर दबोचा। 

29-02-2020
बारातियों की हरकत का दूल्हे ने भुगता खामियाजा, बिना दुल्हन के लौटी बारात, जाने क्या है पूरा मामला

रायपुर। शादी-बारात में आए हुए लोग अगर मस्ती मजाक न करे तो शादी में माहौल नहीं बनता, लेकिन जब मस्ती और मजाक हो जाए तो बाते बिगड़ने लगती है। ऐसा ही कुछ हुआ रजधानी रायपुर से लगे राजिम में यहां बारातियों ने मस्ती के मूड में ऐसी हरकत कर दी जिसका खामियाजा दूल्हे को भुगतना पड़ा। शुक्रवार को राजिम के सुरसाबांधा गांव में एक बारात आई, लड़की पक्ष वालों ने बारातियों का अच्छे से स्वागत किया। लेकिन मामला उस वक्त बिगड़ गया जब एक साथ कई लोगों ने नशे की हालात में लड़की के घरवालों से ही झगड़ा कर दिया।

इसके बाद मामला थमने के बजाए और बिगड़ गया। नशे में बाराती एक मत होकर गुंडागर्दी में उतर आए। विवाद इतना गहरा गया कि बारातियों ने दुल्हन के घरवालों की भी पिटाई कर दी। वहीं शादी घर में तोड़फोड़ भी कर दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची राजिम पुलिस ने मामले को शांत कराया, जिसके बाद स्थिति पुलिस के नियंत्रण में आई। भारी हंगामे के बाद दूल्हन के घर वालों ने शादी करने से मना कर दिया और बारात को वापस लौटा दिया। इस मामले में वधु पक्ष वालों ने बिना शादी के बारात को वापस भेजने के बाद बारातियों के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज करवाई है।

09-12-2019
फोन नहीं देने पर धमकी, मामला दर्ज  

रायपुर। जबरिया मोबाइल से किसी से बात करने के संबंध में आए दिन गुंडागर्दी होती रहती है इसी कड़ी में अनिल कुमार सिंह से युवकों द्वारा मोबाइल फोन काल करने के लिए मांगा गया। पीडि़त ने आरोपी को फोन नहीं दिया,जिसके चलते युवकों ने गाली गलौज कर पीड़ि़त को जान से मारने की धमकी दी। उक्त मामले में आवेदन पर पुलिस ने मामला दर्ज कर विवेचना प्रारंभ कर दी है।

25-11-2019
देवेंद्र यादव और शैलेश पांडेय की टिप्पणी के बाद गरमाया सदन, संसदीय कार्य मंत्री ने जताया खेद

रायपुर। विधानसभा में शीतकालीन सत्र के दौरान नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के भाषण के दौरान कांग्रेस सदस्य देवेंद्र यादव और शैलेष पांडेय की टिप्पणी को लेकर सदन गरमा उठा। विपक्षी सदस्यों ने दोनों विधायकों की टिप्पणी पर गहरी नाराजगी जताई। सदस्यों की नाराजगी को देखते हुए संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे को बीच में हस्तक्षेप करना पड़ा और उन्होंने खेद व्यक्त किया। बता दें कि धान खरीदी पर जब नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने अपनी बात रखनी शुरू की, तब विधायक देवेंद्र यादव ने टिप्पणी की। बीजेपी ने देवेन्द्र यादव के आचरण पर सवाल उठाते हुए कहा कि आसंदी की ओर से निंदा होनी चाहिए। बीजेपी ने यह भी आरोप लगाया गया कि सरकार के संरक्षण में नए सदस्य ऐसे आपत्तिजनक टिप्पणी का इस्तेमाल कर रहे हैं। अजय चन्द्राकर ने कहा कि यदि ये नई परंपरा बनाने की कोशिश की जा रही है तो नए सिरे से संसदीय शब्दावली बना दी जाए।

जेसीसीजे विधायक धर्मजीत सिंह ने नए सदस्यों के आचरण पर टिप्पणी की जिस पर देवेंद्र यादव ने उन्हें कहा कि बीजेपी की बी टीम बनकर काम नहीं करें, किसानों के मुद्दे पर बात रखें। इस पर धर्मजीत सिंह ने कहा कि अक्ल है तो अध्यक्ष से बात कीजिये। मुझसे नहीं। सदस्यों की टिप्पणी पर विपक्ष ने गहरी आपत्ति जताते हुए यह मांग की कि ऐसे सदस्य खेद जताए धरमलाल कौशिक ने कहा कि गुंडागर्दी जैसे शब्दों का यदि इस्तेमाल किया जाए और उस पर भी खेद ना हो, तो ये उचित नहीं है। कौशिक ने कहा कि मैं व्यक्तिगत तौर पर दुखी हूं। इसके बाद संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि सदन हमको और आपको मिलकर चलाना है। नेता प्रतिपक्ष भी जब स्पीकर थे, तब ऐसे हालात बने थे, तब आपने कहा था कि सदस्य की ओर से मैं खेद व्यक्त करता हूँ। उन्होंने आगे कहा कि आज संसदीय कार्यमंत्री की हैसियत से मैं खेद व्यक्त करता हूँ।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804