GLIBS
05-07-2020
छत्तीसगढ़ के 5 लाख प्रवासी मजदूरों के हित में भाजपा सांसद कब लिखेंगे प्रधानमंत्री को पत्र : मोहन मरकाम

रायपुर। गरीब कल्याण योजना में छत्तीसगढ़ को शामिल करने के लिए कांग्रेस के सांसदों ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। कोरबा लोकसभा सदस्य डॉ. ज्योत्सना चरणदास महंत, बस्तर लोकसभा सदस्य दीपक बैज, राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा और राज्यसभा सदस्य फूलोदेवी नेताम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर गरीब कल्याण योजना का लाभ छत्तीसगढ़ के 5 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों को भी देने की मांग की है। रविवार को राज्यसभा सदस्य केटीएस तुलसी ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने पूछा है कि मजदूरों-गरीबों की बड़ी बड़ी बात करने वाले भाजपाई छत्तीसगढ़ हित के इतने बड़े मुद्दे पर क्यों चुप हैं? क्या भाजपा सांसदों के लिए छत्तीसगढ़ के हित महत्वपूर्ण नहीं है? क्या छत्तीसगढ़ के 5 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों के हकों और हितों का भाजपा के सांसदों के लिए कोई महत्व नहीं है? मरकाम ने पूछा है कि भाजपा के सांसद बताएं कि छत्तीसगढ़ के 5 लाख प्रवासी मजदूरों को भी गरीब कल्याण योजना का लाभ पंहुचाने के लिए प्रधानमंत्री को पत्र कब लिखेंगे? मरकाम ने कहा है कि हर छोटे-छोटे मसलों में बयानबाजी की राजनीति कर रहे भाजपा के 9 लोकसभा सदस्यों की चुप्पी को पूरा छत्तीसगढ़ देख रहा है और समझ भी रहा है।

03-07-2020
फूलोदेवी नेताम ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, कहा-प्रदेश में सर्वाधिक गरीबी रेखा के नाम तो...

रायपुर। राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने गरीब कल्याण योजना में छत्तीसगढ़ को शामिल करने की मांग की है। उन्होंने लिखा है कि एनएसएसओ के आंकड़ों के आधार पर छत्तीसगढ़ में सबसे सर्वाधिक प्रतिशत में गरीबी रेखा के नाम है, तो अन्य राज्यों की तरह छत्तीसगढ़ राज्य को गरीब कल्याण योजना में शामिल करना चाहिए। सांसद नेताम ने एक बार फिर मांग को दोहराते हुए केन्द्र सरकार से इस विषय पर ध्यान देने का आग्रह किया है।

03-07-2020
लेह में गरजे मोदी, कहा-भारतीय जवानों ने दुनिया को दिखाई अपनी बहादुरी

दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को लद्दाख पहुंचकर जवानों से मुलाकात की। उन्होंने जवानों को संबोधित करके उनका हौसला बढ़ाया और चीन पर जमकर निशाना साधा। इस दौरान लेह में जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जवानों ने दुनिया को अपनी बहादुरी का नमूना दिखा दिया है। लद्दाख में चीनी हरकतों पर तंज सकते हुए मोदी ने कहा कि अब विस्तारवाद का जमाना चला गया है, विकासवाद का वक्त है। मोदी ने चीन को चेताया कि ऐसी ताकतें मिट जाया करती हैं। मोदी चीन को सुनाते हुए बोले कि विस्तारवाद का युग समाप्त हो चुका है और अब विकासवाद का है। तेजी से बदलते समय में विकासवाद ही प्रासंगिक है। विकासवाद के लिए असवर हैं यह ही विकास का आधार हैं। बीती शताब्दी में विस्तारवाद ने ही मानव जाति का विनाश किया। किसी पर विस्तारवाद की जिद सवार हो तो हमेशा वह विश्व शांति के सामने खतरा है। मोदी ने कहा कि इतिहास गवाह है कि ऐसी ताकतें मिट जाती हैं।  


पीएम मोदी ने कहा कि जब-जब वह राष्ट्र रक्षा से जुड़े फैसले के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहले दो माताओँ को याद करते हैं। पहली हमारी भारत माता, दूसरी वे वीर माताएं जिन्होंने सैनिकों को जन्म दिया। इसके बाद पीएम ने कहा कि जवानों के सुरक्षा उपकरणों और हथियारों की हरसंभव मदद की कोशिश सरकार कर रही है। मोदी बोले हम सशस्त्र बलों की जरूरतों पर पूरा ध्यान दे रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जवानों का उत्साह बढ़ाते हुए कहा कि उनकी भुजाएं चट्टान जैसी हैं। इसके बाद पीएम मोदी बोले कि दुश्मनों ने जवानों का जोश और गुस्सा देख लिया है। जवानों की तारीफ में मोदी ने कहा कि आपने जो वीरता हाल ही में दिखाई उससे विश्व में भारत की ताकत को लेकर एक संदेश गया है। मोदी ने आगे कहा कि आपके (जवानों) और आपके मजबूत संकल्प की वजह से ‘आत्मनिर्भर भारत’ बनने का हमारा (देश) संकल्प और मजबूत हुआ है। मोदी बोले, 'आपकी इच्छाशक्ति हिमालय की तरह मजबूत और अटल है, देश को आप पर गर्व है।

 

03-07-2020
सरोज पांडेय ने सांसद निधि से डेढ़ करोड़ के कार्यों का किया भूमिपूजन

भिलाई। राज्य सभा सांसद डॉ सरोज पाण्डेय ने रिसाली स्थित डीपीएस चौक पर भूमिपूजन किया। विश्व स्तरीय गार्डन निर्माण के लिए सांसद ने अपने निधी से डेढ़ करोड़ रुपए दिए है। इस दौरान सांसद ने कहा कि कोरोना काल में पूरे देश में कोई राजनीतिक पार्टी ने काम किया है वह सिर्फ भाजपा है। वर्चुअल रैली के माध्यम से हो या फिर प्रवासी मजदूरों के लिए व्यवस्थाएं बनाना की बात हो। इसके अलावा फील्ड में सक्रिय रहकर जरूरतमंद की मदद की गई। सरोज पाण्डेय ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक दिन भी अवकाश नहीं लिया बल्कि लगातार काम करते रहे।

प्रधानमंत्री ने स्वयं कार्य करते हुए इस बार बीजेपी के कार्यकर्ताओं को भी काम पर लगाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की कि देश के 80 करोड़ जनता को दिवाली और छठ पर्व तक निशुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाएगा। स्थिति में घोषणा का बेहद लाभ होगा । लोगों के पास रोजगार नहीं है यदि रोजगार है तो उन्हें वेतन नहीं मिल रहा है । परिवार के पालन पोषण के लिए कई दिक्कतों का सामान लोगों को करना पड़ रहा। इस घोषणा से 80 करोड़ लोगों को लाभ होगा। कार्यक्रम में भाजपा भिलाई अध्यक्ष सांवलाराम डाहरे, महामंत्री खिलावन साहू, विनित वाजपेयी, मारकंडेय तिवारी, राजू पाण्डेय, प्रताप शंकर यादव, अनिता कोसरे, कंचन सिंह, संध्या आचार्य आईटी सेल संतोष सिंह समेत अन्य शामिल थे।

02-07-2020
राज्यपाल ने कहा, युवा स्वरोजगार से जुड़े ताकि वे अपने पैरों पर खड़े होने के साथ दूसरों को भी रोजगार दे

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा कि आज जरूरत है युवा स्वरोजगार से जुड़े,इससे वे अपने पैरों पर खड़े होंगे और दूसरो को भी रोजगार देंगे। राज्यपाल ने ये बात उनसे मिलने आये राज्य कार्यालय के उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी एसएस त्रिभुवन से कही। राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर अभियान की शुरुआत की है। इसके लिए जरूरी है युवा स्वरोजगार से जुड़े। ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में महिलाएं भी स्वयंसहायता समहू बनाकर स्वयं का उद्यम शुरू कर सकते हैं। इससे महिलाएं जागरूक और सशक्त होंगी। इस कोरोना काल में बड़ी संख्या में श्रमिक प्रदेश में आए हैं। उन्हें खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग से संचालित योजना सहित अन्य योजनाओं से जोड़ा जाना चाहिए, ताकि वे अपना जीवनयापन कर सके। श्रमिकों और किसी भी व्यक्ति को स्वरोजगार का ऋण देने से पहले उन्हें संबंधित रोजगार का प्रशिक्षण देना चाहिए,जिससे तकनीकी रूप से दक्ष होने पर वह व्यक्ति योजना के तहत दिये जाने वाले सहयोग का सदुपयोग कर सकेगा।

राज्यपाल उइके ने कहा कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम सूक्ष्म, लघु और  मध्यम उद्यम मंत्रालय, भारत सरकार की एक अति महत्वपूर्ण योजना है, प्रदेश के बेरोजगार युवक-युवती इसका लाभ उठाएं। त्रिभुवन ने बताया कि इस कार्यक्रम के तहत इस योजना के तहत स्वयं के उद्यम शुरू करने के लिए 25 लाख तक का ऋण बैंक के माध्यम से उपलब्ध कराया जाता है, जिसमें 35 प्रतिशत तक सब्सिडी हितग्राही को प्राप्त होता है। एसटी—एससी एवं महिला वर्ग को ग्रामीण क्षेत्रों में 35 प्रतिशत और शहरी क्षेत्रों में 25 प्रतिशत तक छूट दी जाती है तथा 5 प्रतिशत तक स्वयं का अंशदान होता है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि 1 लाख पर एक व्यक्ति को रोजगार देना अनिवार्य होता है। इच्छुक युवक-युवतियां खादी ग्रामोद्योग के कार्यालय के संपर्क कर सकते हैं और इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। उन्होंने बताया कि हमारे कार्यालय का दूरभाष क्रमांक 07712886428 है और वेबसाइट www.pmegpeportal.gov.in है। इस अवसर पर राज्यपाल ने खादी और ग्रामोद्योग आयोग के निर्देशिका का विमोचन किया। आयोग की तरफ से राज्यपाल को कोसे की बनी शाल और साड़ी भेंट की गई।

 

30-06-2020
सामर्थ्य भारत के लिए सार्थक अभियान : कौशिक

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम दिए उद्बोधन पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना महामारी के खिलाफ जो फैसले ले रहे हैं,वह समाज जीवन में सबके हित में है। ऐसी परिस्थितियों में मानव कल्याण के चलाये जा रहे उनका हर प्रयास उनके संवेदनशील नेतृत्व को प्रदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब खाद्यान्न जैसे कई अभियानों के माध्यम से हर किसी की चिंता की जा रही है। यह सामर्थ्य भारत के लिए एक सार्थक अभियान है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक कहा कि समूचा देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ है। उनके द्वारा लिए गए हर फैसले सबके हित में है। हमें कोरोना के खिलाफ सजगता और बड़ी लड़ाई लड़नी है।

 

 

30-06-2020
Breaking : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार दीपावली तक

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित करते हुए बड़ी घोषणा की। उन्होंने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार नवंबर महीने के आखरी तक करने का ऐलान किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्षा ऋतु के दौरान और उसके बाद मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र में अधिक काम होता है। अन्य सेक्टरों में थोड़ी सुस्ती रहेगी। अब त्योहारों का समय भी शुरू होगा। ऐसे समय में आवश्यकता और खर्च अधिक होता है। अब नवंबर माह के आखरी तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज मिलेगा। 5 किलो गेंहू या चावल और 1 किलो चना दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश एक राष्ट्र एक राशन कार्ड की ओर आगे बढ़ रहा है।

 

30-06-2020
आत्मनिर्भर भारत के लिए दिन रात एक करेंगे, हम सब ‘लोकल के लिए वोकल’ होंगे : नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को राष्ट्र को संबोधित किए।  उन्होंने कहा कि कोराना से लड़ते-लड़ते हम अनलॉक-2 में प्रवेश कर चुके है। सर्दी, खांसी, बुखार के मौसम में प्रवेश कर चुके है। लॉकडाउन से भारत में मृत्यु दर में कमी आई है। दुनिया के दूसरे देशों की तुलना में भारत संभला हुआ है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौराना गंभीरता से सभी लोगों ने नियमों का पालन किया है। अभी भी सतर्कता की जरूरत है। कंटेनमेंट जोन में सावधानी की जरूरत ज्यादा है। उन्होंने कहा कि गांव का प्रधान हो या देश का प्रधानमंत्री हो कोई भी नियमों से बड़ा नहीं है। लॉक डाउन में हम मास्क को लेकर, सोशल डिस्टेंस को लेकर सतर्क थे। लॉक डाउन के दौरान नियमों का पालन किया। राज्य सरकारों को देश के नागरिकों को फिर से सतर्कता दिखाने की जरुरत है। केंटेंमेंट जोन को लेकर सावधानी आवश्यक है। इसके लिए लोगों को समझना होगा। एक देश के प्रधानमंत्री पर 13 हजार जुर्माना लगाया गया। इस तरह स्थानीय प्रशासन को कदम उठाना पड़ेगा। 

पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान देश की सर्वोच्च प्राथमिकता रही कि ऐसी स्थिति न आए कि किसी गरीब के घर में चूल्हा न जले। केंद्र सरकार हो, राज्य सरकारें हों, सिविल सोसायटी के लोग हों, सभी ने पूरा प्रयास किया कि इतने बड़े देश में हमारा कोई गरीब भाई-बहन भूखा न सोए। देश हो या व्यक्ति, समय पर फैसले लेने से, संवेदनशीलता से फैसले लेने से, किसी भी संकट का मुकाबला करने की शक्ति बढ़ जाती है। इसलिए, लॉकडाउन होते ही सरकार, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लेकर आई।
पीएम ने कहा कि, बीते तीन महीनों में 20 करोड़ गरीब परिवारों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपए जमा करवाए गए हैं। इस दौरान 9 करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं। एक और बड़ी बात है जिसने दुनिया को भी हैरान किया है, आश्चर्य में डुबो दिया है। वो ये कि कोरोना से लड़ते हुए भारत में, 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, यानि परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया गया। एक तरह से देखें तो, अमेरिका की कुल जनसंख्या से ढाई गुना अधिक लोगों को, ब्रिटेन की जनसंख्या से 12 गुना अधिक लोगों को, और यूरोपियन यूनियन की आबादी से लगभग दोगुने से ज्यादा लोगों को हमारी सरकार ने मुफ्त अनाज दिया।

पीएम मोदी ने कहा कि, साथियों, हमारे यहां वर्षा ऋतु के दौरान और उसके बाद मुख्य तौर पर एग्रीकल्चर सेक्टर में ही ज्यादा काम होता है। अन्य दूसरे सेक्टरों में थोड़ी सुस्ती रहती है। जुलाई से धीरे-धीरे त्योहारों का भी माहौल बनने लगता है। त्योहारों का ये समय, जरूरतें भी बढ़ाता है, खर्चे भी बढ़ाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए। प्रधानमंत्री ने कहा कि, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के इस विस्तार में 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च होंगे। अगर इसमें पिछले तीन महीने का खर्च भी जोड़ दें तो ये करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए हो जाता है। अब पूरे भारत के लिए एक राशन-कार्ड की व्यवस्था भी हो रही है यानि एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड। इसका सबसे बड़ा लाभ उन गरीब साथियों को मिलेगा, जो रोज़गार या दूसरी आवश्यकताओं के लिए अपना गाँव छोड़कर के कहीं और जाते हैं। पीएम ने कहा कि, आज गरीब को, ज़रूरतमंद को, सरकार अगर मुफ्त अनाज दे पा रही है तो इसका श्रेय दो वर्गों को जाता है। पहला- हमारे देश के मेहनती किसान, हमारे अन्नदाता। और दूसरा- हमारे देश के ईमानदार टैक्सपेयर। आपने ईमानदारी से टैक्स भरा है, अपना दायित्व निभाया है, इसलिए आज देश का गरीब, इतने बड़े संकट से मुकाबला कर पा रहा है। मैं आज हर गरीब के साथ ही, देश के हर किसान, हर टैक्सपेयर का ह्रदय से बहुत बहुत अभिनंदन करता हूं, उन्हें नमन करता हूं।

पीएम ने कहा कि, हम सारी एहतियात बरतते हुए आर्थिक गतिविधियों को और आगे बढ़ाएंगे। हम आत्मनिर्भर भारत के लिए दिन रात एक करेंगे। हम सब ‘लोकल के लिए वोकल’ होंगे। इसी संकल्प के साथ हम 130 करोड़ देशवासियों को मिलजुल कर के, संकल्प के साथ काम भी करना है, आगे भी बढ़ना है। फिर से एक बार मैं आप सब से प्रार्थना करता हूँ, आपके लिए भी प्रार्थना करता हूँ, आपसे आग्रह भी करता हूँ , आप सभी स्वस्थ रहिए, दो गज की दूरी का पालन करते रहिए, गमछा , फेस कवर, मास्क ये हमेशा उपयोग कीजिये, कोई लापरवाही मत बरतिए।

 

29-06-2020
नरेंद्र मोदी 30 जून को करेंगे राष्ट्र को संबोधित

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार (30 जून) शाम 4 बजे देश को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से बताया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार शाम 4 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे। बता दें कि मंगलवार को अनलॉक 1 की अवधि खत्म हो रही है। संभावना जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री मोदी चीन के मुद्दे और अनलाक को लेकर राष्ट्र को संबोधित तक सकते हैं। 

 

28-06-2020
अमित शाह ने किया राहुल गांधी को चैलेंज, कहा-चर्चा करनी है तो आइए,सन 1962 से आज दो-दो हाथ हो जाएं

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को कांग्रेस सांसद के 'सरेंडर मोदी' वाले बयान पर पलटवार किया है। शाह ने कहा, 'पार्लियामेंट होनी है, चर्चा करनी है तो आइए, करेंगे। सन 1962 से आज दो-दो हाथ हो जाएं। गृह मंत्री ने यह बात एक इंटरव्यू में कही। बता दें कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी लगातार मोदी सरकार पर सवाल उठा रहे हैं।बीते हफ्ते, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भारतीय भू्-भाग चीन को सौंपे जाने का आरोप लगाने के एक दिन बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उन पर तंज कसते हुए कहा था कि नरेंद्र मोदी वास्तव में ‘‘सरेंडर मोदी’’ हैं।बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने लद्दाख मामले पर बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कहा था कि न कोई हमारे क्षेत्र में घुसा और न ही किसी ने हमारी चौकी पर कब्जा किया है। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी की सर्वदलीय बैठक में दिए गए बयान को लेकर ट्वीट किया था, ‘‘प्रधानमंत्री ने चीनी आक्रामकता के आगे भारतीय भू-भाग चीन को सौंप दिया है।

अगर भूमि चीन की थी: तो हमारे सैनिक क्यों मारे गए? वे कहां मारे गए?'' लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर स्थिति के बारे में चर्चा करने के लिए शुक्रवार को हुई सर्वदलीय बैठक पर सरकार ने एक बयान में कहा, ‘शुरू में ही प्रधानमंत्री ने स्पष्ट किया था कि न तो वहां हमारी सीमा में कोई घुसा हुआ है, न ही हमारी कोई चौकी किसी दूसरे के कब्जे में है।’’पीएमओ ने स्पष्ट किया कि एलएसी के संबंध में मोदी की टिप्पणियों का आशय हमारे सशस्त्र बलों की वीरता के परिणामस्वरूप उत्पन्न स्थिति से था, जिन्होंने गलवान घाटी में अतिक्रमण की चीनी सैनिकों की कोशिश को विफल कर दिया। पूर्वी लद्दाख के अनेक क्षेत्रों में भारत और चीन की सीमाओं के बीच करीब छह हफ्ते से गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून की रात चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में एक कर्नल सहित 20 भारतीय सैन्य कर्मी शहीद हो गए थे, जिसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव बहुत बढ़ गया।

 

28-06-2020
चीन पर बोले पीएम मोदी, हम दोस्ती निभाना जानते हैं तो आंख में आंख डालकर जवाब देना भी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी रविवार को रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में चीन को करारा जवाब दिया। भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि भारत अगर मित्रता निभाना जानता है, तो आंख में आंख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है। पीएम मोदी ने चीन के साथ चल रहे विवाद को लेकर कहा कि लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला है। लद्दाख में भारत-चीन की सेनाओं के बीच हुई हिंसक झड़प को याद करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पड़ोसी देश ये बात बात जान ले कि अगर भारत, मित्रता निभाना जानता है तो आंख में आंख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है।

वहीं, प्रधानमंत्री ने लद्दाख की गलवां घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में शहीद हुए जवानों को याद किया। उन्होंने कहा कि लद्दाख में हमारे जो वीर जवान शहीद हुए हैं, उनके शौर्य को पूरा देश नमन कर रहा है, श्रद्धांजलि दे रहा है। पीएम ने कहा कि पूरा देश उनका कृतज्ञ है, उनके सामने नत-मस्तक है। इन साथियों के परिवारों की तरह ही, हर भारतीय, इन्हें खोने का दर्द भी अनुभव कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारत-माता की रक्षा के जिस संकल्प से हमारे जवानों ने बलिदान दिया है, उसी संकल्प को हमें भी जीवन का ध्येय बनाना है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा हर प्रयास इसी दिशा में होना चाहिए, जिससे सीमाओं की रक्षा के लिए देश की ताकत बढ़े, देश और अधिक सक्षम बने, देश आत्मनिर्भर बने। यही हमारे शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि भी होगी। 

पीएम ने कहा कि जिन परिवारों ने सीमा पर लड़ते हुए अपने बेटों को खो दिया, वे अभी भी अपने अन्य बच्चों को रक्षा बलों में भेजना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे देशवासियों की भावना और बलिदान आदरणीय है। गौरतलब है कि लद्दाख की गलवां घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। शहीद हुए जवानों में कर्नल रैंक के एक अधिकारी भी शामिल थे। वहीं, इस झड़प में चीन के भी 40 के करीब सैनिक हताहत हुए थे। इस घटना के बाद से ही वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव अपने चरम पर है। भारत ने सीमाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अब पूरे सेक्टर में एडवांस क्विक रिएक्शन वाला सरफेस-टू-एयर मिसाइल डिफेंस सिस्टम तैनात किया है, जो चीन के किसी भी फाइटर जेट को कुछ सेकंड में ही तबाह कर सकता है। इसके अलावा सीमा पर भारत ने होवित्जर तोपों, पैदल सेना के वाहनों और करीब 10 हजार अतिरिक्त सैनिकों की भी तैनाती की है। वायुसेना ने मल्टीरोल कॉम्बैट मिराज-2000, सुखोई-30 एमकेआई, मिग-29 और जगुआर जैसे लड़ाकू विमान तैनात किए हैं, जो नियमित रूप से आसमान में गश्त कर रहे हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804