GLIBS
29-03-2020
राहुल गांधी ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, मजदूरों के पलायन को लेकर की चिंता जाहिर

नई दिल्ली। कोरोना वायरस को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। तीन पन्नों के पत्र में राहुल ने लॉकडाउन का समर्थन किया है। पत्र में उन्होंने मजदूरों के पलायन को लेकर चिंता जाहिर की है। राहुल ने कहा कि हम सभी इस संकट के समय वायरस के खिलाफ सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदम में सहयोग देने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि भारत की परिस्थिति अलग है। हमें दूसरे देशों की लॉकडाउन रणनीति से इतर कदम उठाने होंगे। राहुल ने कहा कि हमारे देश में दिहाड़ी पर काम करने वाले गरीब लोगों की संख्या ज्यादा है इसलिए हम आर्थिक गतिविधियों को बंद नहीं कर सकते। पूरी तरह से आर्थिक बंदी के कारण कोविड-19 वायरस से होने वाली मृत्यु दर बढ़ जाएगी।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि वे 'राष्ट्रव्यापी देशबंदी का हमारे लोगों, हमारे समाज और हमारी अर्थव्यवस्था पर पड़े संभावित प्रभाव' पर दोबारा विचार करें। उन्होंने कहा कि 'अचानक हुई देशबंदी से दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हो गई' जिसके कारण बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर वापस जाने की कोशिश कर रहे हैं। राहुल ने पत्र में लिखा है कि हमारे यहां रोज की कमाई पर निर्भर रहने वाले गरीब लोगों की संख्या काफी ज्यादा है। इसलिए एकतरफा कार्रवाई करके सभी आर्थिक गतिविधियों को बंद नहीं कर सकते हैं। आर्थिक गतिविधियों को बंद कर देने से कोविड-19 की तबाही और बढ़ जाएगी।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह किया कि वे सामाजिक सुरक्षा जाल को मजबूत करें और गरीब मजदूरों की मदद और उन्हें आश्रय देने के लिए सार्वजनिक संसाधनों का उपयोग करें। उन्होंने सरकार द्वारा घोषित किए गए वित्तीय पैकेज को एक अच्छा पहला कदम बताते हुए उसके जल्द से क्रियान्वयन का आह्वान किया। उन्होंने वायरस के प्रभाव और आर्थिक बंदी से प्रमुख वित्तीय और रणनीतिक संस्थानों के आसपास रक्षात्मक दीवार स्थापित करने का सुझाव दिया। राहुल ने कहा कि हमारी प्राथमिकता बुजुर्गों और इस वायरस से ज्यादा खतरा झेल रहे कमजोर लोगों को बचाने और उन्हें आइसोलेट करने की होनी चाहिए। सरकार की तरफ से अचानक लॉकडाउन की घोषमा करने से दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हुई। हजारों प्रवासी मजदूर अपने किराए के घरों को छोड़ने को मजबूर हो गए हैं क्योंकि अब वे किराया नहीं दे सकते। इसलिए सरकार तुरंत कदम उठाए और उन्हें किराया देने के लिए रकम मुहैया कराए। लॉकडाउन की वजह से हजारों प्रवासी मजदूर पैदल अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं और अलग-अलग राज्यों की सीमाओं पर फंस गए हैं। हमें उनसे बात करके, उन्हें विश्वास में लेकर समय पर कदम उठाने की आवश्यकता है।

 

29-03-2020
प्रधानमंत्री मोदी का रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' ​हो रहा प्रसारित

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा की तरह इस रविवार यानि आज मन की बात कर रहे हैं। लेकिन इस बार यह वैश्विक महामारी कोरोना वायरस पर केंद्रित होगी। इस संबंध में प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके जानकारी दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट में कहा है कि मन की बात के नए एपिसोड को कोरोना वायरस महामारी पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी का रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' हर माह के आखिरी रविवार को प्रसारित किया जाता है। इसमें प्रधानमंत्री ताजा मामलों पर अपनी बात रखते हैं।

28-03-2020
कोरोना वायरस के कारण परेशान लोगों को राशन देने में जुटी एडीएचआर

रायपुर। एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स छत्तीसगढ़ इकाई ने कोरोना वायरस की महामारी के कारण हुए लॉक डाउन में जरूरतमंदों तक निशुल्क राशन 22 मार्च 2020 से पहुँचा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनता कर्फ्यू के एलान के तुरंत बाद एडीएचआर के प्रदेश अध्यक्ष पंकज चोपड़ा ने पूरे छत्तीसगढ़ के लिए हेल्प लाइन नंबर देकर संस्था की इस अनोखी पहल की शुरुआत की थी,जिसमे संस्था रोज कमाने खाने वाले जरूरतमंदों एवं ऐसे बुजुर्ग जिनके बच्चे बाहर रह रहे हो उनको निशुल्क राशन वितरण कर रही थी। 27 मार्च तक संस्था ने मात्रा रायपुर में ही लगभग 1100 परिवारों को मदद दी। साथ ही छत्तीसगढ़ के अन्य नगरों एवं गांवों में भी अपने कार्यकर्ताओं और मित्रो के द्वारा जरूरतमंदों की मदद की गई।
इसी कड़ी में आगे बढ़ते हुए आज प्रशासन के निवेदन पर संस्था ने प्रदेश अध्यक्ष पंकज चोपड़ा एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विकास पटवा के नेतृत्व में 1000 परिवारों के लिए 7-10 दिनों का राशन रायपुर नगर निगम सभापति प्रमोद दुबे की उपस्थिति में रायपुर स्मार्ट सिटी के जीएम आशीष मिश्रा के मार्फत प्रशासन को दिया। राशन में चावल, दाल, नमक, हल्दी दी जा रही है। इस दौरान एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स से प्रदेश अध्यक्ष पंकज चोपड़ा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विकास पटवा, प्रदेश उपाध्यक्ष इंदर जग्गी, प्रदेश महासचिव पंकज कुकरेजा, प्रदेश कोषाध्यक्ष अतुल अग्रवाल, महिला विंग की प्रदेश अध्यक्षा शिल्प नाहर, सचिव हरदीप कौर, सलाहकार अभय पारीक, विवेक साहू, अजय राठौड़, सुमीत गुप्ता, सुषमा समंतरॉय उपस्थित थे।
इसके अलावा संस्था ने सरकारी हॉस्पिटलों में दिनरात कार्यरत 100 सफाई कर्मियों को भी निशुल्क राशन, सेनिटाइजर, मास्क दिया। इस लॉक डाउन के चलते बेजुबान जानवर खासकर गाय एवं कुत्तों के लिए भी आहार की दिक्कत आ गयी है। संस्था ने सुंदर नगर निवासी आनंद मिश्र की मदद से अगले 5-7 दिनों तक सुंदर नगर के आस पास राह रहे बेजुबान जानवरो के लिए पका चावल की व्यवस्था करने का निर्णय लिया है। इससे लगभग रोजाना 400-500 जानवरों को भोजन देने की व्यवस्था की गई है। इस पूरी मुहिम में पूरे छत्तीसगढ़ से स्वेछा से सहयोग करने के लिए 100 से ज्यादा व्यक्ति आगे आकर संस्था को अलग अलग शहरों में मदद कर रहे हैं।

28-03-2020
सामाजिक नैतिकता को ताक में रखकर गांव में खेला जा रहा है क्रिकेट मैच

डोंगरगढ़। कोरोना वायरस जहां आज एक वैश्विक महामारी बन चुकी है,जिससे बचने का केवल एक मात्र उपाय लॉक डाउन है। इसको देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश को 21 दिन के लॉक डाउन की अपील की है। राजनांदगांव जिले में लॉक डाउन किया गया है साथ ही साथ धारा 144 लगाई गई है। जिले के अंतगर्त आने वाले ग्राम बेलगांव में स्थित स्कूल ग्राउंड में लॉक डाउन का खुलेआम उल्लंघन देखने को मिल रहा है। यहां ग्रामीणों द्वारा पिछले 2 दिनों से क्रिकेट मैच खेला जा रहा है। ऐसे में प्रश्न यह उठता है कि क्या यह केवल प्रशासन की ही जिम्मेदारी बनती है या आम नागरिक की भी की देश और प्रदेश और समाज के लिए कुछ नैतिक जिम्मेदारी निभाएं और समाज को इस महामारी से बचाव के लिए लॉक डाउन का पालन स्वयं होकर करे। 

27-03-2020
पीएम मोदी ने आरबीआई के फैसले को सराहा, कहा-कोरोना के संक्रमण से अर्थव्यवस्था को बचाएंगी रिजर्व बैंक की घोषणाएं

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रिजर्व बैंक की सराहना करते हुए शुक्रवार को कहा कि केंद्रीय बैंक ने कोरोना वायरस के संक्रमण से अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए बड़े कदम उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट किया इन घोषणाओं से बाजार में तरलता की स्थिति बेहतर होगी, कर्ज की ब्याज दरें कम होंगी तथा मध्यम वर्ग और कारोबारियों को मदद मिलेगी। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कई राहतों की घोषणा की। आरबीआई ने तीन महीने के लिए रेपो रेट में कटौती कर ईएमआई और घटने का रास्ता साफ कर दिया है। इस एलान के बाद पीएम मोदी ने आरबीआई की तरफ से उठाए गए कदमों पर पहली प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर आरबीआई के इस फैसले की तारीफ की है और इसे मजबूत कदम बताया है। उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ने कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था पर पड़ रहे असर को कम करने के लिए शुक्रवार को रेपो दर को 0.75 प्रतिशत घटाकर 4.4 प्रतिशत करने की अप्रत्याशित घोषणा की।

कोरोना वायरस से उत्पन्न आपदा के बीच रिजर्व बैंक ने भी मोर्चो संभाला है। केन्द्रीय बैंक ने शुक्रवार को अर्थव्यवस्था में नकदी की तंगी दूर करने और कर्ज सस्ता करने के लिए अपने फैरी नकदी कर्ज पर ब्याज की दर रेपो और बैंकों आरक्षित नकदी अनुपात (सीआरआर) में बड़ी कटौती जैसे कई उपायों की घोषणा की। केंद्रीय बैंक ने देश व्यापी बंदी के चलते कर्ज की किस्त चुकाने में दिक्कतों को देखते हुए बैंकों को सावधिक कर्ज की वसूली में तीन माह टालने की सहूलियत दी है। इसके साथ कार्यशील पूंजी पर ब्याज भुगतान पर भी तीन माह के लिए रोक लगाने की अनुमति दी गई है।

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने जमाकर्ताओं की चिंताओं को दूर करते हुए कहा कि देश की बैंक प्रणाली पूरी तरह सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि बैंक के शेयर भाव में कमी को जमा की सुरक्षा से जोड़ना गलत धारणा पर आधारित है। यस बैंक संकट और कोरोना वायरस महामारी के बाद बैंकों के शेयरों की कीमतें के नीचे आने के बाद दास ने यह बात कही। उन्होंने जमाकर्ताओं से यह भी आग्रह किया कि वे घबराकर बैंकों से पैसा नहीं निकाले।

 

 

26-03-2020
वैश्विक महामारी से निपटने के लिए डब्ल्यूएचओ को मजबूत करना जरूरी: नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट पर जी-20 बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वैश्विक महामारी से निपटने के लिए प्रभावी टीका विकसित करने के लिए डब्ल्यूएचओ को मजबूत करना जरूरी है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी ने इस बैठक में हिस्सा लिया। इस दौरान विदेश मंत्री एस.जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी मौजूद रहें। पीएम मोदी ने कहा कि वैश्विक समृद्धि और सहयोग के लिए हमारे दृष्टिकोण के केन्द्र बिंदु में आर्थिक लक्ष्यों के स्थान पर मानव को रखा जाए। उन्होंने मानव के विकास के लिए मेडिकल रिसर्च को स्वतंत्र रूप से और खुल कर साझा करने की अपील की। उन्होंने दुनिया भर में कहीं अधिक अनुकुल,प्रतिक्रियात्मक और सस्ती मानव स्वास्थ्य सुविधा प्रणाली का विकास करने की हिमायत की। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी से उपजी आर्थिक मुश्किलों से निपटने के लिए साथ मिलकर काम करना चाहिए।
वहीं विदेश मंत्रालय ने बताया कि पीएम मोदी महामारी के सामाजिक और आर्थिक पहलुओं को भी रखा। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के 90 फीसदी केस और 88 फीसदी मौत जी—20 देशों में ही हुई है, यहां तक कि वे दुनिया की जीडीपी का 80 फीसदी और आबादी का 60 फीसदी हिस्सा हैं। मंत्रालय ने कहा कि जी20 के नेताओं ने कोरोना वायरस को लेकर वैश्विक विकास, बाजार की स्थिरता और मजबूती के लिए उपलब्ध सभी नीतिगत विकल्पों के इस्तेमाल पर प्रतिबद्धता जाहिर की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मानव के विकास के लिए मेडिकल शोध को स्वतंत्र रूप से और खुल कर साझा करने की अपील की है।

 

26-03-2020
संकट के इस घड़ी में कांग्रेस सरकार के साथ : सोनिया गांधी

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख 21 दिन के लॉकडाउन को स्वागत योग्य कदम करार दिया है। साथ ही सोनिया गांधी ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अर्थव्यवस्था और स्वास्थ्य को लेकर कुछ सुझाव भी दिए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 21 दिनों के बंद का समर्थन करते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि 'न्यूनतम आय गारंटी योजना' यानी (न्याय) लागू करके आजीविका के संकट का सामना कर रहे मजदूरों एवं गरीबों के खातों में आर्थिक मदद भेजी जाए और किसानों एवं छोटे कारोबारियों को राहत देने के लिए कदम उठाए जाएं। प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सोनिया ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए इस संकट से निपटने के लिए पूरी तरह से सरकार के साथ खड़ी है।

उन्होंने कहा, 'कोरोना वायरस की महामारी ने लाखों लोगों का जीवन खतरे में डाल दिया है तथा पूरे देश में खासकर समाज के सबसे कमजोर वर्ग के लोगों की आजीविका एवं रोजमर्रा के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। कोरोना महामारी को रोकने व हराने के संघर्ष में पूरा देश संगठित होकर एक साथ खड़ा है।' कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने कहा, 'कोराना वायरस से लड़ने के लिए आपकी सरकार द्वारा घोषित '21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन' का हम समर्थन करते हैं। मैं विश्वास दिलाती हूं कि इस महामारी को रोकने के लिए उठाए गए हर कदम में हम सरकार को अपना पूरा सहयोग देंगे।' कांग्रेस अध्यक्ष ने आग्रह किया कि कोरोना वायरस से लड़ रहे चिकित्साकर्मियों के लिए एन-95 मास्क एवं दूसरे सभी स्वास्थ्य सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराए जाएं। उन्होंने कहा कि मजदूरों और गरीबों को राहत देने के लिए न्याय योजना लागू करके उनके खातों में सीधी आर्थिक मदद भेजी जाए।

 

25-03-2020
पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने वालों के लिए करुंगा प्रार्थना

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमित मामलों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को पीएम मोदी ने 21 दिन तक संपूर्ण लॉकडाउन का एलान किया है। आज यानि बुधवार को संपूर्ण लॉकडाउन का पहला दिन है, वहीं आज से चैत्र नवरात्रि भी शुरू हो गई, ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि वह कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने वाले लोगों के लिए प्रार्थना करेंगे। उन्होंने मेडिकल स्टाफ, पुलिस, मीडिया आदि का नाम लिया। उन्होंने कहा कि देशभर में इन दिनों त्योहार मनाए जाते थे। इस बार उन्हें पहले की तरह नहीं मनाया जाएगा लेकिन ये हमें संकट से निकलने का हौसला देंगे। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि आज से नवरात्रि शुरू हो रही है। वर्षों से मैं मां की आराधना करता आ रहा हूं। इस बार की साधना मैं मानवता की उपासना करने वाले सभी नर्स, डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ, पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मी, जो कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जुटे हैं के उत्तम स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं सिद्धि को समर्पित करता हूं।

25-03-2020
हिन्दू नववर्ष नवरात्रि गुड़ी पाड़वा का अनुष्ठान से नहीं अनुशासन से स्वागत, कोरोना के खिलाफ खड़ा हुआ देश

रायपुर। हिंदू नव वर्ष चैत्र नवरात्रि गुड़ी पड़वा का स्वागत देशवासियों ने अनुष्ठान से न कर आत्म अनुशासन से किया। न मंदिरों में भीड़ लगी न घण्टियों की गूंज सुनाई दी न आरती के बोल गूंजे न माता का जयकारा और ना ही शंखनाद, सारे देशवासियों ने धार्मिक अनुष्ठान की तुलना में आत्म अनुशासन को ज्यादा महत्व दिया। मंदिरों में लगने वाली भीड़ भी नजर नहीं आई। माता  की पूजा पाठ का काम पुजारियों ने शांति से किया। ना भीड़ भाड़ ना हो हल्ला ना शोर-शराबा। सारा देश ऐसा लग रहा है उठ खड़ा हुआ है कोरोना नामक राक्षस के वध के लिए।

नवरात्र की गहमागहमी जरूर नहीं दिखाई दे रही है लेकिन घरों में हो रहे पूजा-पाठ व अनुष्ठान निश्चित रूप से कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही जंग को और बल देंगे। और देश में लोगों ने मंदिरों में जाकर माता रानी का दर्शन करने के बजाय घरों से ही उनकी पूजा पाठ करने का फैसला लिया। और। वे ऐसा करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले का समर्थन तो कर ही रहे हैं खुद अपने और अपने परिवार की रक्षा के लिए इस महायज्ञ में अतुलनीय योगदान दे रहे हैं। देश में पहली बार नवरात्र नव वर्ष गुड़ी पड़वा का स्वागत इस तरह आत्म अनुशासन से हो रहा है।

24-03-2020
लॉक डाउन की स्थिति में आवश्यक सेवाएं रहेगी शुरू, देखें क्या खुला, क्या बंद रहेगा...

रायपुर। पूरे देश में लॉक डाउन की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। मंगलवार रात 12 बजे से 21 दिन यानि 14 अप्रैल तक कोई अपने घर से नहीं निकल सकेगा। इस दौरान क्या खुला रहेगा और क्या बंद इसको लेकर जनमानस में संशय है।
क्या-क्या रहेगा बंद
यातायात- रेल, विमा और बसें
विभाग- प्राइवेट और सरकारी दोनों,उद्योगिक इकाइयां,फैक्ट्रियां, वर्कशॉप, गोदाम, साप्ताहिक बाजार, मॉल, हॉल, जिम, स्पा, स्पोर्ट्स क्लब बंद, सभी रेस्टोरेंट, दुकानें बंद रहेंगी। इसके अलावा होटल, मोटल, धार्मिक स्थल, शिक्षण संस्थाएं- प्राइवेट व सरकारी दोनों भी नहीं खुलेगी।

क्या-क्या खुला रहेगा
पेट्रोल पंप,बैंक-एटीएम,बीमा कंपनी,प्रिंट एंव इलेक्ट्रोनिक मीडिया के कार्यालय, दवा की दुकानें,दूध की दुकानें, अस्पताल, खाने पीने के सामान,टेलीफोन सेवाएं, इंटरनेंट सेवाएं  अधिक जानकारी के लिए देखे केंद्रीय गाइड लाइन 

 

 

24-03-2020
देश बंद रहेगा लेकिन शेयर मार्केट खुला रहेगा

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना से बचाव और सतर्कता के कारण देश मेें लॉक डाउन का ऐलान किया। इसमें देश में बंद की स्थिति रहेगी और लोग घर से बाहर नहीं निकलेंगे। आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेगी पर अन्य व्यवसायी संगठन बंद रहेंगे। इस दौरान देश का शेयर बाजार खुला रहेगा। इसमें मुंबई स्थि​त बाम्बे स्टाक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में शेयरों का कारोबार होगा। बता दें कि शेयर बाजार का कार्य आनलाइन संचालित होता है। इधर मंंगलवार को शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला थम गया है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज बढ़त के साथ बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में भी निफ्टी बढ़त पर बंद हुआ।
 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804